प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली के कारणों के बारे में जानिए यहां....

    प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली के कारणों के बारे में जानिए यहां....

    प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली (Itchy Belly During Pregnancy) क्या है? यदि आप पहली बार प्रेग्नेंट हुई हैं, तो आने वाले समय में आप में कई तरह के लक्षण नजर आ सकते हैं। प्रेग्नेंसी के दौरान हाेने वाले कई तरह के लक्षणाें के बारे में आपने पहले से ही सुना होगा, जिनमें शामिल हैं मॉर्निंग सिकनेस, वजन बढ़ना, पैरों में सूजन… शायद मूड स्विंग भी। आपने जिस चीज के बारे में नहीं सुना होगा वह है, पेट में खुजली होना। गर्भावस्था के दौरान आप ईचिंग प्रॉब्लम महसूस कर सकते हैं, कुछ में ये समस्या बहुत अधिक होती है और उससे कहीं अधिक आम है। जानिए प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली (Itchy Belly During Pregnancy) क्या है?

    और पढ़ें: Itchy Scalp: खोपड़ी में खुजली की समस्या क्यों होती हैं, जानिए इससे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी!

    प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली के क्या कारण हैं (What are the causes of itching in belly tummy during pregnancy)?

    प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली के क्या कारण है, सभी में इसके अलग-अलग कारण देखने को मिल सकते हैं। प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं के शरीर में कई तरह के हॉर्मोनल बदलाव देखने को मिलते हैं, जिसकेे कारण उनमें अलग-अलग तरह लक्षण देखने को मिलते हैं। तो यहां जानते हैं प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली के क्या कारण हैं:

    त्वचा में खिंचाव होना (Skin stretching)

    प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली त्वचा के खिचाव की वजह से भी हो सकती है। प्रेग्नेंसी की बढ़ती स्टेज के साथ पेट का आकार भी बढ़ने लगता है,जिसे हम बैली टमी कहते हैं। जैसे-जैसे पेट का आकार बढ़ता है, उसी के साथ पेट की त्वचा में खिचाव भी बढ़ता जाता है। कई बार आप अपने पेट में लाल या गुलाबी धारियों वाली स्ट्रेच मार्क का भी अनुभव कर सकते हैं। क्योंकि आपकी त्वचा आपके बढ़ते गर्भाशय को समायोजित करने के लिए फैलती है। गर्भावस्था के दौरान स्तनों, जांघों और नितंबों पर खिंचाव के निशान भी आम हैं।हैवी-ड्यूटी स्ट्रेचिंग आपके नाभि के आसपास की पतली त्वचा को भी खींच सकती है। इससे इसमें खुजली हो सकती है, या जलन या दर्द भी हो सकता है।

    और पढ़ें: मोमोज एफ: क्या सच में फायदेमंद है यह ऑइंटमेंट, स्किन प्रॉब्लम्स को दूर करने में?

    शुष्क त्वचा (Dry skin)

    प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली के कारणों में रूखी त्वचा भी शामिल है। रूखी त्वचा भी शरीर पर कहीं भी खुजली वाली त्वचा का एक आम कारण है, जिसमें आपका बढ़ता हुआ पेट भी शामिल है। कई गर्भवती महिलाओं में हाॅर्मोन परिवर्तन के परिणामस्वरूप शुष्क त्वचा का अनुभव करते हैं जिससे त्वचा कुछ नमी और इलेस्टेसिटी खो देती है। आप त्वचा के कुछ फ्लेकिंग भी देख सकते हैं।

    प्रुरिटिक आर्टिकेरियल पेप्युल्स और प्लाक ऑफ प्रेग्नेंसी (Pruritic urticarial papules and plaques of pregnancy)

    प्रुरिटिक आर्टिकेरियल पेप्युल्स और प्लाक के कारण प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली एक गंभीर स्थिति है। प्रुरिटिक अर्टिकेरियल पैपुल्स और प्लाक ऑफ प्रेग्नेंसी (PUPPP) – जिसे अक्सर प्रेग्नेंसी रैश या प्रेग्नेंसी का इरिथेमा कहा जाता है। गर्भावस्था के बाद के महीनों में आपकी त्वचा पर छोटे लाल धक्कों और पित्ती जैसे रैशेज विकसित करने का कारण बनता है। धक्कों के कारण आपके पेट पर पैच या प्लेक बन सकते हैं जो बहुत खुजली करते हैं। प्लाक आपकी जांघों और नितंबों पर भी फैल सकता है।PUPPP 160 में से 1 गर्भधारण को प्रभावित करता है, शोध से पता चलता है कि यह पहली गर्भधारण की तीसरी तिमाही में या प्रसव के ठीक बाद होना सबसे आम है।

    और पढ़ें: स्किनी बच्चा किन कारणों से पैदा होता है, क्या पतले बच्चे को लेकर आप भी हैं परेशान?

    पेम्फिगॉइड जेस्टेशन (Pemphigoid Gestations)

    यह गर्भावस्था से संबंधित ऑटोइम्यून डिसऑर्डर की स्थित है, जोकि बहुत दुर्लभ है – प्रत्येक 40,000 से 50,000 गर्भधारण में से लगभग 1 को प्रभावित करता है। लेकिन यदि किसी में होता है, तो यह निराशाजनक हो सकता है। यह आपके पेट और धड़ पर बहुत खुजलीदार दाने का कारण बनता है। पेम्फिगॉइड जेस्टेशनिस गर्भावस्था के दौरान किसी भी समय शुरु हो सकता है, लेकिन दूसरी या तीसरी तिमाही में इसकी संभावना अधिक बढ़ जाती है। इसमें आपके धड़ पर रेड क्लॉट की तरह हो जाते हैं, जो अन्य क्षेत्रों में फैल सकता है, और बहुत से लोग में प्रभावित क्षेत्रों में द्रव से भरे फफोले भी विकसित हो सकते हैं। यह स्थिति इसलिए होती है क्योंकि ऑटोएंटिबॉडी, जिन्हें इम्युनोग्लोबुलिन टाइप जी (आईजीजी) ऑटोएंटिबॉडी के रूप में जाना जाता है। प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली इस कारण भी हो सकती है।

    और पढ़ें: वल्वर लाइकेन स्क्लेरोसस के कारण क्या बढ़ जाती है स्किन कैंसर की संभावना?

    गर्भावस्था के इंट्राहेपेटिक कोलेस्टेसिस (Intrahepatic cholestasis of pregnancy)

    गर्भावस्था के कोलेस्टेसिस की शुरुआत आमतौर पर हाथों और पैरों में अत्यधिक खुजली से होती है, लेकिन खुजली आपके पेट सहित आपके शरीर के अन्य हिस्सों में भी फैल सकती है।खुजली के अलावा, कोलेस्टेसिस के अन्य संकेतों में त्वचा का पीला रंग, या पीलिया, आंखों का सफेद भाग या श्लेष्मा में झिल्ली शामिल हैं। आपके रक्त में पित्त के स्तर को कम करने के लिए डॉक्टर आपको यरसोडाॅयल (Ursodiol) नामक दवा की आवश्यकता हो सकती है। ऐसे में आपके डॉक्टर संभावित जटिलताओं या प्रारंभिक श्रम के संकेतों के लिए आपके बच्चे की बारीकी से निगरानी करेंगे। प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली का कारण यह भी है।

    और पढ़ें: मोह्स सर्जरी: स्किन कैंसर को रिमूव करने के लिए कितनी असरदार है यह सर्जरी?

    प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली : उपाय (Itching in belly tummy during pregnancy: Remedy)

    प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली के कारणों के बारे में आपने जाना यहां। इसके होने पर कुछ उपाय हैं जिन्हें आप आजमा सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

    • मॉइस्चराइजर का इस्तेमाल करें। रूखी त्वचा (Dry Skin) से होने वाली खुजली से राहत पाने के लिए अपने पूरे पेट पर मेडिकेटेड मॉइस्चराइज़र की एक मोटी परत लगाएं। नहाने या शॉवर के ठीक बाद आपकी त्वचा पर लोशन हल्के हाथों से लगाना चाहिए।
    • गुनगुने पानी से स्नान करें। गर्म पानी त्वचा को शुष्क करने के लिए जाना जाता है, लेकिन गुनगुने पानी का वैसा प्रभाव नहीं होगा। एक माइल्ड क्लीन्जर का उपयोग करें, जो आपकी त्वचा का रूखी नहीं होने देगा।
    • ओट्स बाथ लें। विशेषज्ञकर अक्सर एक्जिमा के इलाज के लिए गुनगुने पानी के साथ बाथटब में थोड़ा सा कोलाइडल ओट्स डालने का सुझाव दिया जाता है। यह प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली को कम करने में भी मदद कर सकता है। नहाने वाले पानी में ओट्स डालें, फिर 10 से 15 मिनट के लिए भिगो दें।
    • कूल कंप्रेस भी उपाय है। यह आपकी खुजली वाली त्वचा की परेशानी को कम करने के लिए कूल कंप्रेस कर सकते हैं।
    • सामयिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स का चुनाव। जैसे ओवर-द-काउंटर उत्पाद जैसे हाइड्रोकार्टिसोन कुछ खुजली को कम कर सकते हैं। अपने पेट पर एक सामयिक स्टेरॉयड क्रीम लगाने से पहले अपने चिकित्सक से संपर्क करें।
    • एंटीहिस्टामाइन की सलाह भी डॉक्टर दे सकते हैं। यह एक ओरल एंटीहिस्टामाइन है, जोकि खुजली के कारकों को अस्थायी रूप से कम करने का काम करती है, लेकिन किसी भी नई दवा के साथ, सुनिश्चित करें कि आपका डॉक्टर पहले संपर्क जरूर करें।

    और पढ़ें: बेबी का वजन है कम, तो इन बातों को अपनाने से वजन बढ़ाने में मिलेगी मदद!

    प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली के कारणों और उपायों के बारे में आपने जाना यहां। गर्भावस्था के दौरान पेट में खुजली हाेने के कई अन्य कारण भी हो सकते हैं। इसके हल्के मामलों में घर पर ही कुछ आसान घरेलू उपायों से राहत पायी जा सकती है। लेकिन गंभीर मामलों में आपको घरेलू उपायों से पहले तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। आपकी समस्या गंभीर है या नहीं, यह डॉक्टर आपकी स्थिति और लक्षणों की जांच के आधार पर तय करेंगे। गर्भावस्था के कोलेस्टेसिस जैसी अधिक गंभीर स्थिति का इलाज भी बहुत जरूरी है। प्रेग्नेंसी के दौरान टमी में खुजली के इलाज के बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र
    लेखक की तस्वीर badge
    Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 25/01/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड