home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

बेबी का वजन है कम, तो इन बातों को अपनाने से वजन बढ़ाने में मिलेगी मदद!

बेबी का वजन है कम, तो इन बातों को अपनाने से वजन बढ़ाने में मिलेगी मदद!

जन्म के बाद शिशु का वजन दो से तीन किलो होता है। प्रिमैच्योर बेबी का वजन कम भी हो सकता है। शिशु के जन्म के बाद उनका कुछ वेट कम होता है और फिर रिकवर भी हो जाता है। हम मां को गोलू मोलू (chubby cheeks) बच्चे पसंद आते हैं। अगर बच्चे का वजन जन्म के समय कम है, तो मां की चिंता बढ़ जाती है। मां के मन में हमेशा ये ख्याल आता है कि ऐसा क्या किया जाए, कि बेबी का वजन बढ़ जाए और वो भी दूसरे बच्चों की तरह हेल्दी हो जाए। एक बात का ध्यान रखें कि ब्रेस्टफीडिंग करने वाले बेबी का वजन जन्म के बाद छह से सात परसेंट तक कम हो सकता है वहीं फॉर्मुला मिल्क पीने वाले बच्चों का वजन तीन से चार प्रतिशत तक कम होता है। करीब दो हफ्तों बाद वजन बढ़ जाता है। बच्चों का वजन अगर ठीक है या फिर वो कमजोर नहीं है, तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। ब्रेस्टफीडिंग करने से बच्चे का वजन धीरे-धीरे बढ़ने लगता है। अगर आपके बेबी का वजन कम है, तो बेबी का वजन बढ़ाने के उपाय (Baby weight gain tips) अपनाएं जा सकते हैं। आज इस आर्टिकल में हम आपको इससे संबंधित जरूरी बातों के बारे में जानकारी देंगे।

और पढ़ें: इस तरह तैयार करें बेबी फर्स्ट एड किट, बच्चों की सुरक्षा करना होगा आसान!

बेबी का वजन बढ़ाने के उपाय (Baby weight gain tips)

बेबी का वजन बढ़ाने के उपाय

जन्म के बाद शिशुओं का वजन एक नहीं बल्कि कई कारणों से कम हो सकता है। प्रीमैच्योर बर्थ ( Premature birth), (Genetic disorders), एलर्जी (Allergies), क्रॉनिक डायरिया (Chronic diarrhoea) आदि के कारण शिशुओं का वजन कम हो सकता है। शिशु का वजन बढ़ाने के लिए मां को इन बातों पर ध्यान देने की जरूरत है, कि बच्चा जिस भी चीज का सेवन कर रहा है, उसे कितना पोषण प्राप्त हो रहा है। शिशु जन्म के शुरुआती छह माह केवल मां का दूध पीते हैं। ऐसे में मां को अपने खानपान पर भी ध्यान देने की जरूरत होती है। छह माह के बाद बच्चे हल्के ठोस आहार का सेवन शुरू कर देते हैं। आप उम्र के अनुसार शिशु की डायट में पौष्टिक आहार जोड़ सकती हैं।

जन्म के तीन माह बाद तक शिशु 1/2 से 1 इंच तक हर महीने बढ़ते हैं और प्रत्येक हफ्ते 140 से 200 ग्राम तक उनका वजन बढ़ता है। इस उम्र में बच्चे दो से तीन घंटे के अंतराल में ब्रेस्टफीड करते हैं। यानी 24 घंटे में आठ से 12 बार फीड करते हैं। उम्र बढ़ने के साथ ही बच्चे की फीडिंग टाइम में बदलाव होता है क्योंकि टमी बड़ा होने पर वो एक बार में ज्यादा फीड कर लेते हैं। अगर आपकी बच्चा दूध सही से नहीं पी रहा है या फिर उसका वजन नहीं बढ़ रहा है, तो इस बारे में डॉक्टर को जरूर बताना चाहिए। कुछ बच्चे दूध सही से नहीं पीते हैं, तो इस कारण से भी उनका वजन नहीं बढ़ता है। अगर बच्चा दूध पीने के बाद वॉमिट करता है या फिर फूड एलर्जी हो गई है, तो इस बारे में डॉक्टर को जरूर बताएं। जानिए बेबी का वजन बढ़ाने के उपाय (Baby weight gain tips) के बारे में।

और पढ़ें: बच्चे के लिए ढूंढ रहे हैं बेस्ट बेबी फूड ब्रांड्स, तो ये आर्टिकल कर सकता है मदद

बेबी का वजन बढ़ाने के उपाय: शुरुआत करें ब्रेस्टमिल्क से (Breast milk)

बेबी का वजन बढ़ाने के उपाय (Baby weight gain tips)की शुरुआत आपको ब्रेस्ट मिल्क (Breast milk) से करनी होगी। सभी शिशुओं को छह माह तक केवल मां का दूध देना चाहिए। मां का दूध बच्चे का वजन बढ़ाने में अहम भूमिका निभाता है। अगर मां दूध पिला रही है, तो मां को अपने खानपान पर विशेष ध्यान देने की जरूरत पड़ती है। इससे मिल्क सप्लाई में दिक्कत नहीं होती है और साथ ही मिल्क क्वालिटी भी बेहतर होती है। लैक्टेटिंग मदर्स को खाने में मसूर की दाल (Masur lentils), दूध, अलसी, चना, बादाम, व्होल ग्रेंस, मेथी लीव्स, मेथी के दाने (Fenugreek seeds), सौंफ, जीरा, फ्रेश वेजीटेबल्स, फ्रूट्स आदि का सेवन जरूर करना चाहिए। प्रोटीन रिच मील के साथ ही मां को खाने में गोंद के लड्डू आदि का सेवन जरूर करना चाहिए। लैक्टेटिंग मदर्स जो भी खाती हैं, वो पोषण सीधा बच्चों को ब्रेस्टमिल्क की हेल्प से मिलता है। यानी शिशु का वजन बढ़ाने के लिए मां को अपने खानपन पर ध्यान देने की भी जरूरत है।

और पढ़ें: ब्रेस्ट मिल्क हो सकता है बेबी एक्ने का असरदार इलाज, ऐसे करें उपयोग

छह माह के बाद दें हेल्दी सॉलिड फूड्स

बच्चे के छह माह का होने जाने के बाद पेरेंट्स को इस बात की खुशी होती है कि बच्चे को अब नया स्वाद चखने को मिलेगा और वो कुछ हेल्दी फूड्स भी खाएगा। ऐसे समय में आपको बेबी का वजन बढ़ाने के उपाय (Baby weight gain tips) में फूड्स का सलेक्शन अहम हो जाता है। छह माह के बाद आपको बच्चे के खाने में ऑलिव ऑयल ( Olive oil) और एवोकैडो (Avocado) शामिल करना चाहिए। अगर आप नॉन वेजीटेरियन हैं, तो बच्चे के खाने में मीट को भी शामिल कर सकते हैं। मीट को अच्छी तरह से पकाने के बाद ही बच्चे को खिलाएं। आप बच्चे को फुल फैट डेयरी प्रोडक्ट भी दे सकते हैं। आप सूप में चीज मिला सकते हैं या फिर राइस या पास्ता में चीज ग्रेड करके डाल सकते हैं। बच्चे को खाने में बनाना या केला, मटर आदि दें। एप्पल और ऑरेंज भी बच्चों के लिए हेल्दी फ्रूट्स माने जाते हैं लेकिन केला में अधिक कैलोरी होती है, जो वजन बढ़ाने में हेल्प करती है।

और पढ़ें: बेबी के लिए हेल्दी ड्रिंक्स का चुनाव करने में न हो कंफ्यूज, शामिल करें इन्हें

बेबी का वजन बढ़ाने के उपाय: स्वादिष्ट रेसिपी में शामिल करें हेल्दी फूड्स

बच्चों को छह माह के बाद दाल का पानी देना शुरू कर दिया जाता है। एक से दो साल के बीच के बच्चों को आप दाल की कुछ रेसिपी बनाकर दे सकती हैं, जो उनके स्वाद को बढ़ाने के साथ ही वजन बढ़ाने में भी अहम भूमिका निभाते हैं। उड़द की दाल में प्रोटीन के साथ ही फैटी एसिड होता है, जो ब्रेन डेवलपमेंट (Brain development) में अहम भूमिका निभाता है। आप एक से दो साल के बच्चों को इडली के साथ दाल या रसम दे सकते हैं। इसमें कुछ मात्रा में घी भी मिला दें। घी भी पौष्टिक होता है और वजन बढ़ाने में अहम भूमिका निभाता है। कोशिश करें घी घर में ही बनाएं। बच्चों को मैश आलू भी बहुत पसंद आती है। आप आलू में कुछ सब्जियां भी उबाल के मैश कर सकते हैं। अगर बच्चे को किसी सब्जी से समस्या है, तो उस सब्जी का इस्तेमाल न करें।

एक साल के बेबी को दें ड्राय फ्रूट्स

बेबी को आप एक साल के बाद ड्राय फ्रूट्स दे सकते हैं। बादाम का सेवन बच्चों के लिए लाभदायक होता है। आप बादाम को रात भर भिगोने के बाद पीस कर बच्चों को दे सकते हैं। ये एल्केलाइन होता है, जो बॉडी को हेल्दी रखने के साथ ही एनर्जेटिक भी रखता है। आप बच्चे को थोड़ी मात्रा में किशमिश भी दे सकते हैं। किशमिश को भी पानी में फुलाकर ही दें। जिन बच्चों के दांत आ जाते हैं, वो किशमिश को चबाकर खाना पसंद करते हैं। बेबी का वजन बढ़ाने के उपाय (Baby weight gain tips) में ड्राय फ्रूट्स जरूर शामिल करें।

और पढ़ें: टॉप 10 बेबी सीरियल्स की लिस्ट में कौन-कौन है शामिल?

किसी फूड से बच्चे को एलर्जी तो नहीं!

बेबी का वजन बढ़ाने के उपाय (Baby weight gain tips) में हमने आपको ऐसे उपाय बताएं हैं, जो आप बिना किसी परेशानी के अपना सकते हैं। अगर किसी गंभीर बीमारी के कारण बच्चे का वजन नहीं बढ़ पा रहा है, तो ऐसे में आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए और उसी के अनुसार बच्चे को खिलाना चाहिए। अगर बच्चे का वजन सही से खानपान के कारण नहीं बढ़ पा रहा है, तो आपको बच्चे के खाने को रोचक ढंग से बनाने की जरूरत है। बच्चे को अगर किसी फूड से एलर्जी है, तो उसका इस्तेमाल बिल्कुल न करें और जरूरत पड़ने पर डॉक्टर से भी पूछें।

हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार उपलब्ध नहीं कराता हैं। इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको बेबी का वजन बढ़ाने के उपाय (Baby weight gain tips) के संबंध में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्सर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

 Accessed on 19/8/2021

How much should I expect my baby to grow in the first year?
mayoclinic.org/healthy-lifestyle/infant-and-toddler-health/expert-answers/infant-growth/faq-20058037

How much and how often to feed infant formula.
https://www.cdc.gov/nutrition/infantandtoddlernutrition/formula-feeding/how-much-how-often.html

First AAP recommendations on iron supplementation include directive on universal screening.
aappublications.org/content/early/2010/10/05/aapnews.20101005-1

 Neonatal weight loss in breast and formula fed infants.
ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC1763225/pdf/v088p0F472.pdf

Picky eaters and what to do.
cdc.gov/nutrition/infantandtoddlernutrition/foods-and-drinks/picky-eaters.html

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 19/08/2021 को
और Admin Writer द्वारा फैक्ट चेक्ड
x