home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

नई मां से नहीं कहनी चाहिए ये बातें, जान लें इनके बारे में

नई मां से नहीं कहनी चाहिए ये बातें, जान लें इनके बारे में

परिवार में पहली बार बच्चा आने से सभी लोग उत्साहित रहते हैं। नई मां खुश तो होती है लेकिन, कई जिम्मेदारियों के बीच एडजस्ट कर रही होती है। ऐसे में कई बार लोगों के सवाल भी उसे और परेशान कर देते हैं। जिन्हें सुनकर इरीटेशन तो होता ही है साथ ही इसका जवाब कैसे दिया जाए? ये समझ नहीं आता। कई बार लोग अनजाने में तो कभी जानबूझकर पहली बार बनी मां से ऐसे सवाल पूछते हैं। इस आर्टिकल में आपको कुछ ऐसे ही सवालों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो आपको नहीं पूछने चाहिए।

1. दूसरे बच्चा कब प्लान कर रहे हो?

पहली बार मां बनने वाली महिला की लाइफ में पहले ही चुनौतियां होती हैं। शायद ही वह खुद के लिए वक्त निकाल पाए। महिला के लिए गर्भधारण आसान नहीं है। इस स्थिति में यदि आप उससे दूसरे बच्चे की प्लानिंग के बारे में पूछेंगे तो उससे वो इरीटेट होगी। बेहतर होगा कि यह निर्णय उसी पर छोड़ें। जबरन इस तरह के सवाल ना करें।

2. मेटरनिटी लीव का एक्सपीरियंस कैसा रहा?

प्रेग्नेंसी के दौरान और डिलिवरी के बाद कुछ समय तक महिला को दफ्तर से छुटी मिलती है। छुट्टी मिलने का मतलब यह नहीं कि वह उस टाइम को एंजॉय करती है। मेटरनिटी लीव का ज्यादातर समय शिशु की देखभाल या सिजेरियन से उबरने में गुजारता है। ऐसे में आपको मेटरनिटी लीव के एक्सपीरियंस के बारे में न पूछें।

ये भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी के दौरान योग और व्यायाम किस हद तक है सही, जानें यहां

3. तुम थक जाती हो?

नई मां से बात करते वक्त आपको हमेशा सकारात्मक बातें करनी चाहिए। उससे कभी यह ना पूछें कि क्या तुम ऑफिस, घर और बच्चे को संभालते थक जाती हो? ये भी न कहे कि ”तुम थकी हुई लग रही हो”। इसकी बजाय आप यदि कुछ पॉजिटिव कहेंगे तो उसे अच्छा लगेगा। जैसे- तुम सब चीजों को अच्छी तरह मैनेज कर रही हो।

ये भी पढ़ें : डिलिवरी के बाद सूजन के कारण और इलाज

4. ‘क्या तुम ब्रेस्टफीडिंग करवा रही हो?’

कई बार महिलाएं की कुछ विशेष दवाइयां लेने की वजह से या कई बार ब्रेस्ट में दूध न बनने की वजह से स्तनपान (ब्रेस्टफीडिंग) नहीं करा पातीं। इस बात से कई माएं भावनात्मक रूप से परेशान भी रहती हैं। इस स्थिति में महिला से ब्रेस्टफीडिंग का सवाल पूछना उसे और परेशान कर सकता है।

5. अब सेक्स लाइफ कैसी है?

डिलिवरी के बाद महिलाओं का अधिकतर समय शिशु के साथ गुजरता है। इस अवधि में वे सेक्स के लिए उतना समय नहीं निकाल पातीं। इसके साथ ही उन्हें डिलिवरी के बाद होने वाले ब्लीडिंग पर काबू पाने में खासी मशक्कत करनी पड़ती है। ऐसे में यह सवाल उन्हें असमंजस में डाल सकता है।

6. क्या तुम्हारा बच्चा बहुत रोता है?

ज्यादातर नवजात शिशु रोते हैं। इनमें से कुछ ऐसे बच्चे होते हैं, जो कम रोते हैं। ऐसे में महिला से सवाल करना कि क्या तुम्हारा बच्चा रोता है? पूरी तरह से गलत होगा। इस तरह के सवाल से वह हर्ट भी हो सकती है।

ये भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी के दौरान सेक्स करना सही या गलत?

7. लड़का चाहिए था या लड़की?

अक्सर महिला के रिश्तेदार यह बाहरी लोग इस प्रकार का सवाल पूछ लेते हैं। हकीकत में इस प्रकार के सवालों का कोई तर्क नहीं बनता। कोई भी महिला अपनी मर्जी से शिशु का लिंग तय नहीं कर सकती। यह स्थिति आपके घर में भी हो सकती है। अचनाक से महिला के सामने इस प्रकार के सवाल पूछना उसे अचरज में डाल सकता है। इससे उसके दिल को चोट पहुंच सकती है।

8. जल्द से जल्द ठीक होने की कोशिश करो

सबसे अहम बात, नई मां के आसपास के लोग चाहते हैं कि शिशु के जन्म के बाद मां जल्दी से ठीक होकर अपने पुरानी दिनचर्या में वापस आ जाए। कुछ लोग जल्द-से-जल्द नई मां को अपने बच्चे की जिम्मेदारी संभालने के लिए कहते हैं। ऐसा नहीं कहना चाहिए क्योंकि मां बनी महिला अभी भी बहुत सारे बदलावों के साथ डील कर रही होती है। इसलिए, उसकी बॉडी को ठीक होने के लिए उचित समय दें, वरना बाद में महिला को कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं झेलनी पड़ सकती है।

9. अब जॉब करके क्या करोगी

बड़ी दुख की बात है कि बच्चा होने के बाद नई मां को सब लोग यही राय देते हैं कि अब उन्हें घर पर ही रहकर शिशु की देखभाल करना चाहिए। लेकिन, यह सलाह या निर्णय लेने का हक सिर्फ मां को ही होता है। शायद नई मां खुद भी यही सोच रही होगी कि अब मैं नौकरी न करके बच्चे की सही से देखभाल करूंगी लेकिन, नई मां को यह एहसास आपको नहीं कराना चाहिए।

10. ब्रेस्टफीडिंग से संबंधित सवालों की बौछार

कई न्यू मॉम नवजात शिशु को स्तनपान करवाती हैं तो कुछ नहीं करवातीं हैं। यह उनका अपना फैसला होता है, इसमें किसी तीसरे व्यक्ति को कुछ भी बोलना नहीं चाहिए। कई माएं मेडिकल संबंधी समस्या का सामना करती हैं जिसके चलते वह शिशु को ब्रेस्टफीडिंग नहीं करवा पाती हैं। इसलिए, नई मां से ऐसे सवाल नहीं करने चाहिए।

11. नवजात शिशु के वजन को लेकर बातें

नवजात शिशु का वजन कितना है? इसके पीछे कई कारण होते हैं। जरूरी नहीं है कि सभी बच्चों का जन्म वजन सामान ही हो। इसलिए, अगर कोई नवजात शिशु के वजन को लेकर टिप्पणी करता है, तो नई मां को अच्छा नहीं लगता है।

12. शिशु को काजल क्यों नहीं लगाती

यह काफी पुरानी परंपरा चलते आ रही है कि बुरी नजर से बचाने के लिए नवजात शिशु की आंखों में काजल लगाया जाता है। लेकिन, नई मां ने अगर अपने शिशु को काजल नहीं लगाया है तो कुछ लोग आपको यह सलाह देंगे कि बच्चे को काजल लगाया करो आंखें बड़ी होंगी, बच्चे को नजर नहीं लगती है। यह पूरी तरह से एक मिथक मात्र है। छोटे बच्चे की आंखों में काजल नहीं लगाना चाहिए, इससे उन्हें आंखों में एलर्जी होने की आशंका होती है।

अंत में हम यही कहेंगे कि आपको पहली बार मां बनने वाली महिला से नॉनसेंस बातें नहीं करनी हैं। कई बार इस प्रकार की बातें उसे हतोत्साहित कर सकती हैं। अगली बार किसी भी मां से इस प्रकार के सवाल करने से पहले इन बातों पर गौर जरूर करें। उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा। अगर आपके आस-पास भी कोई नई मां है तो उससे ऊपर बताए ये सवाल पूछने से बचें। आपको यह लेख कैसा लगा? हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। साथ ही अगर आपका इस विषय से संबंधित कोई भी सवाल या सुझाव है तो वो भी हमारे साथ शेयर करें।

 

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

https://www.cosmopolitan.com/lifestyle/a60997/dont-say-to-new-mom/

https://www.mombrite.com/things-not-to-say-to-a-new-mom/

https://www.thebump.com/a/worst-things-to-say-to-new-moms

https://lifestyle.howstuffworks.com/family/parenting/parenting-tips/10-things-not-to-say-to-new-mom.htm

लेखक की तस्वीर
Sunil Kumar द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 11/02/2020 को
Mayank Khandelwal के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x