अगर सता रहा है डिलिवरी को लेकर डर, तो अपने डॉक्टर से पूछें ये सवाल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट मार्च 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

डिलिवरी को लेकर डर

Fears Before Delivery: हर गर्भवती महिला को डिलिवरी को लेकर डर सताता है। अक्सर प्रेग्नेंसी के दौरान मन में डिलिवरी की कठिनाइयों के ख्याल आने लगते हैं। एक नई जिंदगी का इस दुनिया में आने का पूर्वानुभव न हो तो मन में डर वाकई लाजमी है। इसके बावजूद डिलिवरी नॉर्मल हो ये हर महिला चाहती है, ताकि भविष्य में किसी तरह की परेशानी न हो। नॉर्मल डिलिवरी में लेबर पेन को लेकर भावी मां अनुभवी महिलाओं और डॉक्टर से बातचीत करती है, जिससे कि वो जान सकें कि उन्हें क्या करना चाहिए और क्या नहीं। महिलाओं में डिलिवरी को लेकर डर और नार्मल डिलिवरी से जुड़े कई भ्रम होते हैं। आज हम आपको डिलिवरी से जुड़े तथ्य बताने वाले हैं ताकि आप बिना किसी भ्रम और डर के प्रेग्नेंसी का खुशनुमा एहसास कर सकें। तो आइए जानते डिलिवरी को लेकर डर सताए तो क्या करें?

यह भी पढ़ें- डिलिवरी के बाद इन बातों का रखें ध्यान, कम हो जाएगा वजन

डिलिवरी को लेकर डर है तो ये सवाल डॉक्टर से पूछें –  What Should You Discuss Before Delivery

डिलिवरी को लेकर डर सता रहा है तो प्रेग्नेंसी के समय डॉक्टर के संपर्क में रहना जरुरी है, ताकि ये पता चल सके कि डिलिवरी नार्मल होगी या सिजेरियन होने की संभावना है। जैसा कि हम पहले ही कह चुके हैं कि ज्यादातर महिलाएं नॉर्मल डिलिवरी को चुनती है, लेकिन कई मामलों में डॉक्टर प्रेग्नेंट महिला को नॉर्मल डिलिवरी की संभावना कम ही बताते हैं, साथ ही कई सुझाव भी देते हैं, जिससे नॉर्मल डिलिवरी की मुश्किलें कम की जा सकें। प्रेग्नेंट महिला को डॉक्टर से डिलिवरी को लेकर निम्न सवाल पूछना चाहिए ताकि यदि मन में डिलिवरी को लेकर डर (Fears Before Delivery) हो तो वे दूर किए जा सकें। तो आइए जानते हैं कि डिलिवरी को लेकर डर सताए तो अपने डॉक्टर से कौन से सवाल पूछने चाहिए।

यह भी पढ़ें- प्रेग्नेंट लेडीज;. गर्भावस्था में पीठ दर्द होने पर इन घरेलू नुस्खों से मिलेगा आराम

सवाल -1  नॉर्मल डिलिवरी के दौरान क्या होगा?

सवाल -2 डॉक्टर से पूछें कि डिलिवरी के लिए अस्पताल कब जाना होगा?

सवाल -3 क्या होगा यदि मुझे गर्भावस्था के 40 सप्ताह बाद भी प्रसव पीड़ा नहीं होती है?

सवाल -4 नॉर्मल डिलिवरी में कितना दर्द (Labor pain) होगा?

सवाल -5 डिलिवरी के दौरान होने वाले दर्द को कम करने के लिए क्या किया जा सकता है?

सवाल -6 क्या मुझे दर्द से राहत के लिए दवा दी जाएगी?

सवाल -7  एक बार डिलिवरी का दर्द (Labor pain) शुरू होने के बाद डिलिवरी में कितना समय लगेगा?

सवाल -8 नॉर्मल डिलिवरी होने की संभावना कितनी हैं?

सवाल -9 नॉर्मल डिलिवरी करने के लिए किस तरह की एक्सरसाइज मदद कर सकती है?

सवाल -10 शिशु के लिए मुझे अपने साथ क्या लाने की आवश्यकता है?

सवाल -11 क्या मुझे बच्चे के लिए कपड़े लाने की जरूरत है?

सवाल -12  मैं बच्चे को कब स्तनपान करा सकती हूं? क्या होगा अगर मेरे ब्रेस्ट में पर्याप्त दूध प्रोड्यूस नहीं हुआ?

यह भी पढ़ें- एमनियॉटिक फ्लूइड क्या है? गर्भ में पल रहे शिशु के लिए के लिए ये कितना जरूरी है?

 नॉर्मल डिलिवरी की संभावना और डिलिवरी को लेकर डर को दूर करने के उपाय-

अगर आप गर्भवती हैं और आपको डिलिवरी को लेकर डर सता रहा है तो यहां पर हम आपको कुछ टिप्स देने जा रहे हैं जो न सिर्फ डिलिवरी को लेकर डर दूर करेंगे बल्कि नॉर्मल डिलिवरी की संभावना भी बढ़ाएंगे। तो आइए जानते हैं डिलिवरी को लेकर डर दूर करने के उपाय-

  • डिलिवरी को लेकर डर सता रहा है तो तनाव से दूर रहें और अच्छी किताबें पढ़ें ताकि ध्यान दूसरी बातों में लगाया जा सके।
  • बाहर का खाना खाने के बजाय घर का और सेहतमंद खाना खाएं। ताकि डिलिवरी तक हेल्दी रहा जा सके जिससे दूसरे खतरे कम ही रहें।
  • प्रेग्नेंसी में काम करने से दूर न भागें, लेकिन शुरू के महीने में ज्यादा मेहनत और चढ़ने-उतरने का काम न करें। अगर आप प्रेग्नेंसी के दौरान चलती-फिरती रहेंगी और हल्के-फुल्के काम करती रहेंगी तो नॉर्मल डिलिवरी होने के संभावना बढ़ जाएगी।
  • शरीर में पानी कम न होने दें, डॉक्टर के द्वारा बताई गई पानी की मात्रा नियमित तौर पर लेते रहें, इसके अलावा नारियल पानी का सेवन हफ्ते में दो बार करते रहें ताकि पानी की कमी न हो सके।
  • प्रेग्नेंसी में भारी वजन न उठाएं, भारी वजन उठाने से प्रसव पूर्व डिलिवरी या मिसकैरिज का खतरा रहता है।
  • गर्भावस्था के दौरान व्यायाम और मेडिटेशन जरूर करें ताकि शरीर एक्टिव रहें और मन शांत रहे।
  • डिलिवरी में होने वाले दर्द को लेकर ज्यादा न सोचें, ये दर्द सिर्फ कुछ पलों के लिए है, जो आपको मातृत्व सुख देगा।
  • कभी-कभी ज्यादा डरने और शॉक से लेबर जल्द शुरु हो जाता है, इसलिए ऐसी स्थितियों से खुद को दूर रखें।
  • अपने होने वाले बच्चे के बारे में सोचें ताकि नकारात्मकता से दूर रहा जा सके।

यह भी पढ़ें- भ्रूण के विकास में मदद करता है ईस्ट्रोजेन, जानें गर्भावस्था के प्रमुख हाॅर्मोन्स

डिलिवरी के लिए क्या पैक करें – What should pack for Normal Delivery

  • आप बर्थिंग बॉल (Birthing Ball) का इस्तेमाल कर सकती है, अस्पताल में पंप होते है, लेकिन जरूरी नहीं कि अस्पताल में मौजूद पंप आपके बैठने के लिए सही आकार में हो।
  • कई डॉक्टर लेबर पैन में मालिश की सलाह देते हैं, इसलिए अपने साथ तेल या लोशन रखें।
  • अपने पसंदीदा म्यूजिक  को सुनने का अरेजमेंट करके रखें। हो सकता है रिलैक्स होने के लिए आपको इसकी जरूरत पड़े।
  • पीने का पानी साथ रखें, ताकि आप खुद को हाइड्रेटेड रख सकें। ताजा फलों का जूस साथ में जरूर रखें, इससे आपको एनर्जी मिलेगी।
  • टॉयलेटरीज से जुड़े सामान साथ रखें।

यह भी पढ़ें- प्रेग्नेंसी के दौरान होता है टेलबोन पेन, जानिए इसके कारण और लक्षण

डिलिवरी के बाद इस्तेमाल करने के लिए क्या रखें – Things which can use for After Normal Delivery

  • ब्रेस्ट पंप : यदि स्तनों से दूध निकलने में परेशानी आई तो इसके इस्तेमाल से आप बच्चे को दूध पिला सकेगी।
  • दवाई और स्कार्फ: कई महिलाओं को डिलिवरी के बाद सिर दर्द की परेशानी होती है, ऐसे में दवाई और स्कार्फ काम आएगा।
  • नर्सिंग ब्रा: ब्रेस्ट फीडिंग के लिए कोई अच्छी ब्रा खरीदें ताकि बच्चे को दूध पिलाते समय आप कम्फर्टेबल हो।
  • सेनेटरी पेड: यदि आप कोई अलग सेनेटरी पेड इस्तेमाल करती है तो अपने साथ रखें, डिलिवरी के बाद खून एब्जॉर्ब करने के लिए अच्छी क्वालिटी के सेनेटरी पेड की जरूरत पड़ सकती है।
  • कपड़े: खुद के लिए और बच्चे के लिए एक जोड़ी कपड़े साथ रखें।

यह भी पढ़ें- प्रेग्नेंसी वेट कैलक्युलेटर

जब कोई महिला पहली बार प्रेग्नेंट होती है तो उसके मन डिलिवरी को लकर डर रहता है, ऐसे में आप डॉक्टर से जरूरी सलाह लेकर इस डर को दूर कर सकती हैं। हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सक सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

नॉर्मल डिलिवरी केयर में इन बातों का रखें विशेष ख्याल

नॉर्मल डिलिवरी और केयर.. प्रसव के बाद पोस्टपार्टम केयर या नॉर्मल डिलिवरी और केयर के लिए आपको किन बातों को ध्यान में रखना जरूरी है

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी जनवरी 19, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

ओवरड्यू डिलिवरी डेट के ये हो सकते हैं सामान्य कारण

ओवरड्यू डिलिवरी डेट in hindi. ओवरड्यू डिलिवरी डेट होने पर महिलाओं में एक डर बैठ जाता है कि अब डिलिवरी कैसे होगी? इस आर्टिकल में जानिए overdue delivery date के क्या कारण हो सकते हैं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी जनवरी 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

मोलर प्रेग्नेंसी क्या है? जानिए इसका इलाज और लक्षण

मोलर प्रेग्नेंसी के क्या कारण हैं और इसके लक्षण क्या हो सकते हैं? मोलर प्रेग्नेंसी किसी भी महिला के लिए डरावना अनुभव हो सकता है। इस आर्टिकल में जानिए इसके बारे में पूरी जानकारी।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar

प्रेग्नेंसी में स्किन प्रॉब्लम: गर्भवती महिलाएं जान लें इनके बारे में

प्रेग्नेंसी में स्किन प्रॉब्लम की जानकारी in hindi प्रेग्नेंसी में स्किन प्रॉब्लम हो जाए तो उससे कैसे बचें? महिलाओं को प्रेग्नेंसी में कई प्रकार की स्किन प्रॉब्लम्स होती हैं। जानिए उनका सामना कैसे करना है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar

Recommended for you

नॉर्मल और सिजेरियन डिलिवरी

नॉर्मल डिलिवरी और सिजेरियन डिलिवरी में क्या अंतर है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
प्रकाशित हुआ जनवरी 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
heal faster from a C-Section,सी सेक्शन के बाद देखभाल

सी सेक्शन के बाद देखभाल कैसे करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
प्रकाशित हुआ जनवरी 24, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
सरोगेट मां का ध्यान-take care of surrogate mother

सरोगेट मां का ध्यान रखना है जरूरी ताकि प्रेग्नेंसी में न आए कोई परेशानी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ जनवरी 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
डिलिवरी बैग चेकलिस्ट

डिलिवरी बैग चेकलिस्ट जिसे हर डैड टू बी को जानना चाहिए

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
प्रकाशित हुआ जनवरी 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें