सेकेंड बेबी की प्लानिंग करते समय ध्यान रखें ये बातें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट दिसम्बर 18, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

किसी भी महिला को पहली प्रेग्नेंसी के दौरान न तो प्रेग्नेंसी में होने वाले बदलावों के बारे में जानकारी होती है, और न ही बच्चे को संभालने की। सेकेंड बेबी की प्लानिंग के समय महिला इस बात को लेकर तैयार होती है कि उसे प्रेग्नेंसी और डिलिवरी के दौरान किस तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। सेकेंड प्रेग्नेंसी की प्लानिंग करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। हो सकता है कि आपको सबकुछ बहुत आसान लग रहा हो, लेकिन ये जरूरी नहीं है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि सेकेंड प्रेग्नेंसी के समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

यह भी पढ़ें : 5 फूड्स जो लेबर पेन को एक्साइट करने का काम करते हैं

सेकेंड बेबी की प्लानिंग के लिए बेस्ट टाइम क्या है?

सेकेंड बेबी की प्लानिंग के लिए बेस्ट टाइम क्या है? इस प्रश्न के लिए कोई एक उत्तर सही नहीं हो सकता है। फाइनेंशियल और पर्सनल प्रिफरेंस के बेस पर सेकेंड बेबी की प्लानिंग की जा सकती है। सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, ये बातें कुछ फैक्टर्स पर डिपेंड करती हैं।

यह भी पढ़ें : स्टिलबर्थ के खतरे को कैसे करें कम?

 1.  शारीरिक क्षमता

प्रेग्नेंसी के दौरान शरीर में बहुत से बदलाव होते हैं। अगर होने वाली महिला का शरीर इन बदलावों को सहने के लिए सक्षम होगा तो सेकेंड बेबी की प्लानिंग के बारे में सोचा जा सकता है। अगर महिला शारीरिक और मानसिक रूप से ठीक है तो सेकेंड बेबी की प्लानिंग कर सकती है।

2. बायोलॉजिकल क्लॉक

महिला में एक उम्र तक ही ऑव्युलेशन होता है। इसे बायोलॉजिकल क्लॉक कहते हैं। मोनोपॉज के बाद ऐसा नहीं होता है। सेकेंड बेबी की प्लानिंग करते समय आपको अपनी सही उम्र यानी 35 से कम उम्र में प्रयास करना चाहिए। 35 से ज्यादा की उम्र में महिलाओं को कंसीव करने में समस्या का सामना करना पड़ सकता है। अधिक उम्र में महिलाओं को कंसीव न कर पाने की स्थिति में आईवीएफ ट्रीटमेंट का सहारा लेना पड़ सकता है। उम्र बढ़ने के साथ ही एग की क्वालिटी भी खराब होने लगती है।

यह भी पढ़ें : तीसरी प्रेग्नेंसी के दौरान इन बातों का रखना चाहिए विशेष ख्याल

3. सेकेंड बेबी की प्लानिंग में मां के साथ पिता की उम्र भी रखती है मायने

जब भी आप दूसरे बच्चे की प्लानिंग कर रहे हो, आपके पार्टनर की एज का सही होना बहुत जरूरी है। एक स्टडी के मुताबिक पुरुष के स्पर्म की क्वालिटी 35 साल से अधिक हो जाने पर खराब होने लगती है। इस कारण से अधिक उम्र में जब पुरुष पिता बनने की कोशिश करते हैं तो उन्हें समस्या का सामना करना पड़ता है। जब महिला गर्भधारण नहीं कर पाती है तो ट्रीटमेंट का सहारा लेना पड़ता है। सेकेंड बेबी की प्लानिंग करते वक्त इस बात का ध्यान रखना भी उतना ही जरूरी है।

 4. सेकेंड बेबी की प्लानिंग के लिए फाइनेंशियल कंडिशन है महत्वपूर्ण

बच्चे की केयर से लेकर उसकी शिक्षा तक, सभी के लिए आर्थिक मजबूती होना जरूरी होता है। अगर आप और आपका पार्टनर दोनों ही काम करते हैं तो सेकेंड बेबी की प्लानिंग के बारे में सोचने से पहले मजबूत आर्थिक स्थिति होना बहुत जरूरी है। महिलाएं बच्चे के जन्म के बाद अक्सर अपनी जॉब को जारी नहीं रख पातीं। आपको एक बार ये चेक कर लेना चाहिए कि आपकी जॉब छूटने के बाद घर में किस तरह की समस्याएं हो सकती हैं। अगर स्थितियां ठीक हैं तो आप सेकेंड बेबी की प्लानिंग कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें : क्या 50 की उम्र में भी महिलाएं कर सकती हैं गर्भधारण?

5. सेकेंड बेबी की प्लानिंग में हो दोनों का मत

सेकेंड बेबी की प्लानिंग करते समय दोनों लोगों के मत समान होना बहुत जरूरी है। हो सकता है आपके पति बच्चा कुछ समय बाद चाहते हो, आप को जल्द ही दूसरे बच्चे की प्लानिंग करनी हो। आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि दूसरा बच्चे आने के बाद आप दोनों की जिम्मेदारी बहुत बढ़ जाएगी। हो सकता है कि आप तैयार हो, लेकिन आपके पति के पास इसके लिए समय की कमी हो। आप दोनों को आपस में बैठकर इस पर चर्चा करनी चाहिए। दूसरे बच्चे के लिए दोनों की सहमति बहुत जरूरी है।

यह भी पढ़ें : परिवार बढ़ाने के लिए उम्र क्यों मायने रखती है?

6. दो बच्चों के बीच अंतर

दो बच्चों के बीच दो से तीन साल का अंतर होना बहुत जरूरी है। अगर आपका पहला बच्चा सी-सेक्शन से हुआ है तो  इस बारे में अपने डॉक्टर से संपर्क जरूर करें। पहला बच्चा पैदा करने के बाद महिला के शरीर को पहले जैसी अवस्था में आने के लिए कुछ समय चाहिए होता है। अगर पहली प्रेग्नेंसी के दौरान किसी तरह की समस्या हुई है तो भी डॉक्टर की राय लेने के बाद ही दूसरी प्रेग्नेंसी प्लान करनी चाहिए।

7. सेकेंड बेबी की प्लानिंग करते वक्त इस बात का भी रखें ख्याल

दूसरे बच्चे की प्लानिंग कर रहे हैं तो आपको न्यू स्पेस की जरूरत भी पड़ सकती है। एक बच्चे के लिए अलग से एक रूम की जरूरत पड़ती है। दूसरे बच्चे के आने पर आपको अधिक स्पेस की जरूरत पड़ेगी। हो सकता है कि आपके पास इतना बड़ा स्पेस न हो। आपको थोड़ा सा समय लेकर इस बारे में सोचने की भी जरूरत है। कम स्पेस में घर का सामान और बच्चों का खेलना एक साथ नहीं हो पाता है।

यह भी पढ़ें : हमारे ऑव्युलेशन कैलक्युलेटर का उपयोग करके जानें अपने ऑव्युलेशन का सही समय

8. परिवार के सदस्यों का होना भी है जरूरी

छोटे बच्चे को संभालना जिम्मेदारी भरा काम है। अगर माता-पिता कामकाजी हैं तो बच्चे की परवरिश के लिए किसी अन्य सदस्य की जरूरत भी पड़ेगी। अगर आपके परिवार में सास-ससुर या माता-पिता आपका सहयोग कर सकते हैं तो ये आप दोनों के लिए बेहतर होगा। आप चाहे तो किसी परिचित को भी घर में रखने की व्यवस्था कर सकते हैं। दो बच्चों की जिम्मेदारी के साथ ऑफिस का काम करना पॉसिबल नहीं है। बेहतर होगा कि आप घर में किसी अन्य की व्यवस्था भी करें।

दूसरे बच्चे की प्लानिंग करते समय बेबी बॉय के बारे में विश कर रही हैं तो पति की अधिक उम्र इसमें रोड़ा बन सकती है। स्टडी से ये बात सामने आई है कि अधिक उम्र के पुरुष के अंदर x क्रोमोसोम अधिक होते हैं। इस कारण से लड़की पैदा होने की संभावना अधिक हो सकती है।

दूसरे बच्चे की जिम्मेदारी आसान काम नहीं है। पति-पत्नी की आपसी रजामंदी होना बहुत जरूरी है। सेकेंड बेबी की प्लानिंग से पहले एक बार अपने डॉक्टर से भी मिले। इस विषय में आपको कुछ भी पूछना हो तो कृपया अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सक सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें 

प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स के अलावा इन बातों का भी रखें ध्यान

इन सेक्स पुजिशन से कर सकते है प्रेंग्नेंसी को अवॉयड

 हेल्थ इंश्योरेंस से पर्याप्त स्पेस तक प्रेग्नेंसी के लिए जरूरी है इस तरह की फाइनेंशियल प्लानिंग

 प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले इंफेक्शन हो सकते हैं खतरनाक, न करें इग्नोर

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    सेकेंड प्रेग्नेंसी प्लानिंग में क्या होती है अलग बात?

    सेकेंड प्रेग्नेंसी की जानकारी in hindi. सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान महिला को पहले बच्चे की ओर भी ध्यान देना पड़ता है। Second Pregnancy में महिला का एक्सपीरियंस कुछ अलग हो सकता है।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 25, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    30 साल में होने जा रही हैं प्रेग्नेंट, तो जान लें ये बातें

    30 साल में प्रेग्नेंसी की जानकारी in hindi. कई कारणों के चलते 30 साल में प्रेग्नेंसी प्लानिंग आम हो गई है। बढ़ती उम्र महिला हो या पुरुष दोनों की फर्टिलिटी को कैसे प्रभावित करती है? आप भी pregnancy planning at the age of 30 कर रही हैं तो पढ़ें ये आर्टिकल।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 25, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    बच्चे का साइज कैसे बढ़ता है गर्भावस्था के दौरान?

    जानिए बच्चे का साइज कैसे बढ़ता है in hindi। गर्भावस्था के दौरान शिशु का विकास कैसे होता है? जानिए पहले हफ्ते से लेकर 40वें तक बच्चे का साइज। कैसे होता है गर्भ में Fetus Size का विकास?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
    के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
    प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 5, 2019 . 8 मिनट में पढ़ें

    दूसरे बच्चे की योजना बना रहीं है तो ऐसे करें खुद को तैयार

    दूसरे बच्चे की योजना के समय चेकअप, कंसीव करने का सही समय, हेल्थ इंश्योरेंस कवरेज, डबल स्ट्रोलर आदि बातों का ध्यान रखना चाहिए, जानें और

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 4, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    Pregnancy in Period- सेक्स के लिए सुरक्षित अवधि

    पीरियड सेक्स- क्या सेक्स के लिए सुरक्षित अवधि है?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
    प्रकाशित हुआ जून 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    महिला बांझपन-Female Infertility

    जानें महिला बांझपन के कारण, इलाज और बचने के उपाय

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
    प्रकाशित हुआ मई 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    prasav purva yoga, प्रसव-पूर्व योग

    प्रसव-पूर्व योग से दूर भगाएं प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली समस्याओं को

    के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
    प्रकाशित हुआ दिसम्बर 30, 2019 . 5 मिनट में पढ़ें
    सरोगेट मां

    क्या आप सरोगेसी और सरोगेट मां के बारे में जानते हैं ये बातें?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    प्रकाशित हुआ दिसम्बर 27, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें