फैमिली प्लानिंग करने से पहले हर कपल को ध्यान देनी चाहिए ये बातें

    फैमिली प्लानिंग करने से पहले हर कपल को ध्यान देनी चाहिए ये बातें

    शादी के कुछ सालों बाद अधिकतर कपल फैमिली प्लानिंग करते हैं। हालांकि, घर में एक नया मेहमान आए इससे पहले कई जरूरी बातों का ध्यान रखना होता है। ज्यादातर कपल बच्चे की प्लानिंग करने से पहले सिर्फ आर्थिक स्थिति के बारे में ही विचार करते हैं। लेकिन, बेबी प्लानिंग के लिए सिर्फ आर्थिक जरूरत ही सब कुछ नहीं होती है। फैमिली प्लानिंग करने से पहले कपल को किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, यह जानने के लिए हैलो स्वास्थ्य की टीम ने मुंबई की रहने वाली मंजू यादव से बात की। मंजू यादव दो बच्चे की मां है। उनकी मानें तो बच्चा पहला हो या दूसरा, हर बार की प्लानिंग में कुछ बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है। आज हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में हम आपको फैमिली प्लानिंग के टिप्स देंगे, जो आपके काम आएंगे। फैमिली प्लानिंग के टिप्स से आपको समझ में आएगा कि अपने परिवार को कैसे बढ़ाना है।

    और पढ़ेंः वर्ल्ड सेक्शुअल हेल्थ डे पर सेफ सेक्स के लिए अपनाएं ये 6 ट्रिक्स

    फैमिली प्लानिंग के टिप्स – इन 6 बातों का रखें ख्याल (Family Planning tips)

    1.फैमिली प्लानिंग के टिप्स में महिला की फिटनेस है जरूरी (To be Parent’s Fitness)

    फैमिली प्लानिंग के टिप्स देते हुए मंजू का कहना है “अगर बच्चा स्वस्थ्य चाहिए, तो जच्चे का स्वास्थ्य ज्यादा अहमियत रखता है। बच्चे की प्लानिंग करने से पहले महिला और पुरुष दोनों के अपने स्वास्थ्य की जांच करवानी चाहिए। अगर उन्हें किसी तरह की स्वास्थ्य समस्या है, तो अपने डॉक्टर से इसके बारे में भी बात करनी चाहिए जिसके कारण उनकी प्रेग्नेंसी में किस तरह की दिकक्तें आ सकती हैं। साथ ही, प्रेग्नेंसी के दौरान भी महिलाओं में थायरॉइड रोग और हीमोग्लोबिन की समस्या भी काफी आम मानी जाती है, जिसके बारे में भी उन्हें सतर्क रहना चाहिए।”

    2.फैमिली प्लानिंग के टिप्स में मानसिक स्वास्थ्य पर भी दें ध्यान (Mentally Preparation)

    फैमिली प्लानिंग करने के लिए आपको मानसिक रूप से भी पूरी तरह तैयार होना पड़ेगा। इसके साथ ही शारीरिक रूप से भी तंदुरुस्त रहने की जरूरत होती है। नई मां बनने की योजना कर रही महिला शारीरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य से भी तंदुरुस्त होनी चाहिए है। उन्हें बच्चा कब चाहिए, कैसे चाहिए इन जैसे सवालों को लेकर वो पूरी तरह से संतुष्ट होनी चाहिए। ताकि, बाद में उसे अपने इस फैसले को लेकर कोई तनाव न हो।

    [mc4wp_form id=”183492″]

    और पढ़ें : एसटीडी के बारे में सही जानकारी ही बचा सकती है आपको यौन रोगों से

    3.फाइनेंशियल प्लानिंग भी है जरूरी (Financial Planning)

    फैमिली प्लानिंग के टिप्स देते हुए मंजू कहती हैं, “मेरी प्रेग्नेंसी के दौरान मेरी सेहत और तरह-तरह के टेस्ट करवाने पड़े थे। इस दौरान हमें डॉक्टर की फीस से लेकर सभी दवाओं के बजट का भी काफी ख्याल रखना पड़ा था। इसलिए, बच्चे की प्लानिंग करने से पहले एक बार अपनी आर्थिक स्थिति पर भी जरूर ध्यान दें। क्योंकि, इन नौ महीनों में मां और उसके गर्भ में पल रहे बच्चे की सेहर पूरी तरह से डॉक्टर की देखरेख में ही होनी चाहिए, जिसमें समय के साथ-साथ पैसा भी काफी खर्च हो सकता है।”

    4.परिवार की सलाह पर भी करें गौर (Family Advice)

    फैमिली प्लानिंग के टिप्स में एक बात जिम्मेदारी की भी आती है। ऐसा नहीं कि बच्चे की पूरी जिम्मेदारी सिर्फ मां और पिता के कंधों पर ही होती है। बल्कि, परिवार के बड़े सदस्यों जैसे माता-पिता और सास-ससुर के कंधों पर भी नए मेहमान की जिम्मेदारियां आती है। इसलिए, अपनी बेबी प्लानिंग की योजना में एक बार उनकी राय भी जरूर शामिल करें।

    5.फैमिली प्लानिंग के टिप्स – प्री-वेडिंग ही नहीं, प्री-बेबी फोटोशूट भी करवाएं (Pre-Baby Shoot)

    प्रेग्नेंसी का हर दिन खास होता है। उस हर दिन के एहसास को दोबारा नहीं पाया जा सकता है। इसलिए, बच्चे के जन्म से पहले बेबी बंप की यादें रखनी भी जरूरी हैं। तो प्रेग्नेंसी के 7वें, 8वें या 9वें महीने में बेबी बंप के साथ फोटोशूट करवाएं। यही नहीं, आप और आपके पति साथ में फोटोशूट करा सकते हैं।

    इस बारे में दिल्ली की रहने वाली यामिनी से हमने बात की। यामिनी 31 साल की महिला हैं और दो साल के बच्चे की मां हैं। यामिनी ने बताया कि जब वो फैमिली प्लानिंग करने की सोच रही थीं, तो उन्हें इसके लिए तरीकबन तीन से चार महीने लगे थे खुद को मानसिक रूप से तैयार करने के लिए। उन्होंने फैमिली प्लानिंग करने के लिए अपने पति से भी खुलकर बात की। दोनों की रजामंदी और भविष्य की पूरी योजना बनाते हुए अपनी फैमिली प्लानिंग की और आज वो एक प्यारे से बच्चे की मां हैं।

    और पढ़ें : जानें पॉजिटिव पेरेंटिंग के कुछ खास टिप्स

    6.फैमिली प्लानिंग के टिप्स – नए मेहमान के लिए शॉपिंग टाइम (Shopping Time for New member)

    आप अपने लिए तो हर बार शॉपिंग करती होंगी। लेकिन इस बार फैमिली प्लानिंग करने के दौरान आप अपने लिए शॉपिंग न करें। बल्कि, अपने आने वाले नए मेहमान के लिए ढेर सारी शॉपिंग करें। नए मेहमान की जरूरतें क्या होंगी, इसका पूरा ध्यान आपको ही रखना होगा। इस बारे में आप उन सभी महिलाओं की सलाह ले सकती हैं जो खुद मां बन चुकी हैं। उन्हें पता होगा कि इस दौरान किस किस चीज की जरूरत पड़ सकती है। आप उनकी सलाह के अनुसार जरूरी सामान की शॉपिंग कर सकती हैं और आने वाले समय को और आसान बना सकती हैं। आने वाले बच्चे के लिए अपनी शॉपिंग की लिस्ट में आप इन चीजों को शामिल कर सकती हैं :

    • बच्चे के लिए पालना खरीद सकती हैं
    • बच्चे के लिए बिस्तर खरीद सकती हैं
    • बच्चे की देखभाल के लिए जरूरी चीजें जैसे, मसाज के लिए तेल और अन्य सामान।

    कोशिश करें कि इस दौरान आप बच्चे के कपड़े न खरीदें। आपको नहीं पता होगा कि आने वाला बच्चा लड़का होगा या लड़की। इसलिए बच्चे के जन्म से पहले ही कपड़े खरीद लेना समझदारी का सौदा नहीं है। हां.. आप कुछ कॉमन कपड़े ले सकते हैं जो नवजात शिशु को पहनाए जा सकें।

    और पढ़ें : कहीं आप तो नहीं हैं हेलीकॉप्टर पेरेंट्स?

    फैमिली प्लानिंग में किस तरह रहना चाहिए सतर्क?

    अगर इन सभी बातों का ध्यान रखते हुए आपने बच्चे की प्लानिंग कर ली हैं, तो जरा इन बातों को लेकर भी सतर्क हो जाइएः

    • बच्चे के लिए सिर्फ कॉटन के ही कपड़े खरीदें। क्योंकि, दूसरे तरह के फैब्रिक से बच्चे की त्वचा पर एलर्जी हो सकती है।
    • ऐसे कपड़े जिनमें चेन, बटन या हुक लगें हो उन्हें न खरीदें। क्योंकि, ये बच्चे को चुभ सकते हैं।

    साथ ही, बच्चे की मालिश कैसे करते हैं, उसे दूध कैसे पिलाते है, दूध पिलाने के बाद बच्चे को डकार दिलाना जरूरी होता है, इसके तरीके भी अपने बड़े-बुजुर्गों से जरूर सीखें। साथ ही अगर जरूरत पड़े तो आप इन सब कामों को सीखने के लिए किसी एक्सपर्ट से भी बात कर सकती हैं। उम्मीद है आपको इस आर्टिकल में फैमिली प्लानिंग के टिप्स मिल गए होंगे। अगर आपको इससे जुड़े कुछ और सवालों के जवाब चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. हेमाक्षी जत्तानी

    डेंटिस्ट्री · Consultant Orthodontist


    Ankita mishra द्वारा लिखित · अपडेटेड 13/07/2020

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement