home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

एक्टिनिक केराटोसिस का समय पर करें इलाज, नहीं तो हो सकता है कैंसर

परिचय|लक्षण|डॉक्टर को दिखाएं|कारण|इलाज|निवारण|जोखिम|जटिलताओं
एक्टिनिक केराटोसिस का समय पर करें इलाज, नहीं तो हो सकता है कैंसर

परिचय

एक्टिनिक केराटोसिस क्या है?

आमतौर पर बढ़ती उम्र के साथ कई बीमारियां पनपने लगती है जैसे हेल्थ और त्वचा से जुड़ी समस्या होने लगती है जिसे ज्यादातर लोग अंदेखा कर देते हैं। बढ़ती उम्र के उसी दौर में एक और समस्या शामिल है जिसे एक्टिनिक केराटोसिस ( actinic keratosis) कहते हैं। एक्टिनिक केराटोसिस बूढ़े लोगों में देखा जाता है। जैसे-जैसे आप बूढ़े होते हैं, आप अपने, हाथों या चेहरे पर दिखने वाले खुरदरे धब्बों को देखना शुरू कर सकते हैं। इन्हीं धब्बों को एक्टिनिक केराटोस कहा जाता है, लेकिन इन्हें आमतौर पर लोग सनस्पॉट या उम्र के धब्बे के रूप में जानते हैं।ज्यातर लोग एक्टिनिक केराटोसिस के लक्षण को देखकर भी अंदेखा कर देते हैं लेकिन ऐसा करना नहीं चाहिए इसका सही उपचार करवा लेना चाहिए।

-एक्टिनिक केराटोसिस आमतौर पर आपके उन क्षेत्रों में होते हैं, जो कई सालों तक सूर्य के तेज धूप को झेलकर क्षतिग्रस्त हो गए हैं। ये खासतौर पर तभी होते हैं जब आपको एक्टिनिक केराटोसिस (एके) होता है, जो त्वचा की एक बहुत सामान्य स्थिति है। शरीर के इन हिस्सों में इनके होने की संभावना अधिक होती है।

-एक्टिनिक केराटोसिस तब होता है जब केराटिनोसाइट्स आपकी त्वचा की कोशिकाएं असामान्य रूप से बढ़ने लगती हैं, जिससे आपकी त्वचा पपड़ीदार, फीकी पड़ जाती है। त्वचा पर पड़ी हुई पैच इनमें से किसी भी रंग के हो सकते हैं, नीचे देखें-

  • भूरा (brown)
  • ग्रे (gray)
  • टैन् (Tan)
  • गुलाबी (pink)

एक्टिनिक केराटोसिस किसी प्रकार का कैंसर नहीं है,लेकिन वे स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा (एससीसी) में बदल सकते हैं, लेकिन ऐसा होने की संभावना बहुत कम होती है। जब वे बिना इलाज के छोड़ दिए जाते हैं, तो लगभग 10 प्रतिशत तक एक्टिनिक केराटोस एससीसी में बदल सकते हैं। ये त्वचा कैंसर का दूसरा सबसे आम प्रकार है। इसलिए इसको बिना लेट किए इसका उपचार करवा लेना चाहिए।

लक्षण

एक्टिनिक केराटोसिस के लक्षण क्या हैं?

एक्टिनिक केराटोसिस के लक्षण जानना बेहद आसान है नीचे दिए हुए इन कारकों पर जानें नजर डालें क्या इनमें से कोई लक्षण आपके अंदर दिखाई दे रहें हैं।

-एक्टिनिक केराटोसिस मुख्य रूप से सूर्य के संपर्क में आने वाले क्षेत्रों पर पाए जाते हैं, जैसे कि आपका चेहरा, होंठ, कान, हाथ, प्रकोष्ठ, खोपड़ी और गर्दन।

-क्या आपकी त्वचा खुरदरी, सूखी या पपड़ीदार पैच, आमतौर पर व्यास में 1 इंच (2.5 सेंटीमीटर) से कम होती है।

-त्वचा की ऊपरी परत पर उभरे हुए पैच

-कुछ मामलों में एक कठोर, मस्सा वाली सतह

-गुलाबी रंग, लाल या भूरे रंग के रूप में विविध

-प्रभावित क्षेत्र में खुजली या जलन होना

और पढ़ें: स्किन कैंसर के 10 लक्षण, जिन्हें आप अनदेखा न करें

डॉक्टर को दिखाएं

डॉक्टर से कब मिलना चाहिए?

आपको बताएं गैर-कैंसर स्पॉट और कैंसर स्पॉट वाले लोगों के बीच अंतर करना मुश्किल हो सकता है। इसलिए ऐसे में डॉक्टर द्वारा परीक्षण करवाना सबसे बेहतर हो सकता है। अगर कोई स्पॉट या घाव ऐसा है जो ठीक नहीं हो पा रहा है तो बिना देरी किए आप डॉक्टर को दिखा सकते हैं

और पढ़ें: Parkinson Disease: पार्किंसंस रोग क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और उपचार

कारण

एक्टिनिक केराटोसिस के कारण क्या है?

एक्टिनिक केराटोसिस के कारण मुख्य रूप से सूर्य के प्रकाश में लंबे समय तक रहने के कारण होता है। एक्टिनिक केराटोसिस के कारण और भी कई हो सकते हैं इससे जुड़े हुए कुछ कारण नीचे लिखे गए हैं ध्यान से पढ़े।

  • आप लंबे समय तक सूरज के संपर्क में रहें हैं
  • 60 वर्ष से अधिक आयु के हैं
  • सनबर्न की समस्या वाली त्वचा
  • हल्के रंग की त्वचा और नीली आंखें
  • जीवन में पहले धूप की कालिमा का इतिहास रहा है

और पढें: GERD: गैस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स रोग (जीईआरडी) क्या है?

इलाज

एक्टिनिक केराटोसिस का इलाज क्या है?

एक्टिनिक केराटोसिस का इलाज कई तरीकों से किया जा सकता है लेकिन कई बार ऐसा भी होता है की एक्टिनिक केराटोसिस अपने आप ही गायब हो जाते हैं। लेकिन सूरज के ज्यादा संपर्क में आने से यह दोबारा भी हो सकता है। यह कह पाना बेहद मुश्किल होता है की कौन से घाव कैंसर का रुप ले सकते हैं या कौन से सामान्य है। एक्टिनिक केराटोस का इलाज इस प्रकार से किया जा सकता है।

दवाएं

यदि आपको एक्टिनिक केराटोस अधिक हैं, तो आपको एक्टिनिक केराटोस के इलाज के ऐसी दवा लेनी चाहिए जो उस पूरे एरिया का इलाज करें। इस दौरान लागू होने वाले कुछ प्रिस्क्रिप्शन इस प्रकार हो सकते हैं।ये क्रीम भी आपके शरीर में जलन का कारण बन सकती हैं।

  • इमीकिमॉड क्रीम (अलदारा, ज़ायकारा)
  • फ्लूरोरासिल क्रीम (कारैक, फ्लोरोप्लेक्स, एफ्यूडेक्स)
  • डिक्लोफेनाक जेल (वोल्टेरेन, सोलारेज़)
  • इंजेनॉल मेब्यूटेट जेल (पकाटो)

सर्जिकल और अन्य प्रक्रियाएं द्ववारा इलाज

ठंड (क्रायोथेरेपी)। लिक्यूइड नाइट्रोजन के साथ उन्हें फ्रीज करके एक्टिनिक केराटोस को हटाया जा सकता है। इस इलाज के दौरान आपका डॉक्टर प्रभावित त्वचा पर पदार्थ को लगाया है, इसके जरिए जैसे-जैसे आपकी त्वचा ठीक होती है, घाव बंद हो जाते हैं, और नई त्वचा नजर आने लगती है। क्रायोथेरेपी इसके लिए सबसे आम उपचार है।इसमें केवल कुछ मिनट लगते हैं। इसमें साइड इफेक्ट्स के रुप में इलाज की जगह पर फफोले, दाग, त्वचा में बदलाव, संक्रमण और त्वचा का काला पड़ना शामिल हो सकता है।

स्क्रैपिंग (इलाज)।बता दें एक्टिनिक केराटोस के इलाज प्रक्रिया में आपका सर्जन क्षतिग्रस्त कोशिकाओं को हटाने के लिए एकउपकरण का उपयोग करता है। इलेक्ट्रोसर्जरी द्वारा स्क्रैपिंग का पालन किया जा सकता है, जिसमें डॉक्टर इसमें प्रभावित ऊतक को काटकर निकालने और नष्ट करने के लिए एक एक उपकरण का उपयोग करता है। इसमें साइड इफेक्ट्स के रुप में संक्रमण, निशान और इलाज की जगह पर त्वचा के रंग में परिवर्तन हो सकता है।

फ़ोटोडायनॉमिक थेरेपी। एक्टिनिक केराटोस के इस इलाज प्रक्रिया में आपका डॉक्टर प्रभावित त्वचा पर एक प्रकाश-संवेदनशील रासायनिक सॉल्यूशन लगाता है और फिर इसपर एक स्पेशल लाइट डाली जाती है। जो एक्टिनिक केराटोसिस को नष्ट करने में सक्षम होता है। इसमें साइड इफेक्ट के रुप में आपकी त्वचा लालिमा, सूजन और जलन हो जाती है।

निवारण

एक्टिनिक केराटोस का निवारण क्या है?

एक्टिनिक केराटोस का रोकथाम करना बेहद आवश्यक है इससे पहले की यह स्थिति त्वचा कैंसर का रुप ले, आपको इसका इलाज करना जरुरी है। एक्टिनिक केराटोसिस का इलाज इन तरीकों से किया जा सकता है।

अपनी त्वचा को धूप से ऐसे बचाएं

अपना धूप में रहने का समय सीमित रखें, जैसा की हम सभी जानते हैं की सबसे ज्यादा धूप दोपहर में होती है तो कोशिश करें की उस वक्त आप घर पर ही रहें। इस वक्त निकलने से आप सबसे अधिक तेज प्रभाव आपकी त्वचा पर पड़ सकता है। जो एक्टिनिक केराटोज और त्वचा कैंसर के विकास के जोखिम को बढ़ा सकता है।

सनस्क्रीन का प्रयोग करें। यदि आप दिन के समय दोपहर में बाहर निकलते हैं तो ध्यान से सनस्क्रीन का उपयोग करके ही बाहर निकले। अमेरिकन एकेडमी ऑफ डर्मेटोलॉजी कम से कम 30 एसपीएफ के स्पेक्ट्रम, वाटर रेजिडेंट लोशन का उपयोग करने की सलाह देते है। जो अंग आपका ज्यादा खुला हुआ होता है उनपर खासतौर पर सनस्क्रीन लगाना चाहिए।इसके साथ-साथ अपने होठों लिप बाम का उपयोग करें।

चेहरे को छिपाना। सूरज से अपनी त्वचा को बचाने के लिए आप अपने चेहरे को अच्छी तरह से कसकर कवर कर सकते हैं। इसके अलावा ब्रॉड-ब्रिमेड टोपी पहन सकते हैं।

और पढ़ें: Kawasaki Disease: कावासाकी रोग क्या है?

जोखिम

एक्टिनिक केराटोज के जोखिम क्या हो सकते हैं?

बढ़ती उम्र के साथ किसी भी व्यक्ति को एक्टिनिक केराटोज हो सकते हैं।आपके लिए इसके जोखिम अधिक हो सकते हैं, जब आप इन कारकों के जुड़े होते हैं।

  • यदि आप 40 से अधिक उम्र के हैं
  • यदि आप सनी जगह में रहते हैं
  • यदि आप लगातार या तीव्र सूर्य के संपर्क में रहते हैं
  • यदि आपको अधिक सनबर्न हुआ है
  • यदि आपकी त्वचा लाल या गोरा बाल, और नीली या हल्के रंग की आंखें
  • यदि आप धूप के संपर्क में आने पर जमने या जलने की प्रवृत्ति
  • यदि आपका एक्टिनिक केराटोसिस या त्वचा कैंसर का इतिहास है
  • यदि आपकी कीमोथेरेपी, ल्यूकेमिया, एड्स या इंप्लांट दवाओं के कारण कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली है।

जटिलताओं

एक्टिनिक केराटोस की जटिलताएं क्या हैं?

यदि आपका इलाज जल्दी किया जाता है, तो आपकी त्वचा, त्वचा कैंसर में विकसित होने से पहले लगभग सभी एक्टिनिक केराटोस को साफ या हटाया जा सकता है। यदि यह बिना उपचार के ही छोड़ दिया जाता है, तो इनमें से कुछ स्पॉट स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा में बदल सकते हैं यह एक प्रकार का कैंसर है जो आमतौर पर जानलेवा नहीं होता है, समय रहते इसका इलाज होने पर यह ठीक हो सकता है। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
shalu द्वारा लिखित
अपडेटेड 10/04/2020
x