home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Finger infection : फिंगर इंफेक्शन क्या है?

परिचय|लक्षण|कारण|जोखिम|उपचार|घरेलू उपाय
Finger infection : फिंगर इंफेक्शन क्या है?

परिचय

फिंगर इंफेक्शन क्या है?

हाथ हमारे शरीर का वो हिस्सा है जिनके बिना हम कुछ भी करने में असमर्थ होते हैं। फिंगर इंफेक्शन एक सामान्य समस्या है लेकिन इसके होने से कोई भी काम करने में परेशानी हो सकती है। इंफेक्शन कम से लेकर बदतर तक हो सकता है।

अधिकतर मामलों में फिंगर इंफेक्शन कम होता है और आसानी से इनका उपचार हो सकता है। अगर आपको अपनी उंगलियों में इंफेक्शन के लक्षणों दिखाई देते हैं जैसे सूजन, लालिमा, मवाद जमना, दर्द आदि तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं और इसका उपचार कराएं। इनका सही से उपचार न कराया जाए तो यह स्थायी अपंगता का कारण भी बन सकता है जिससे आप अपनी उंगलियों को भी खो सकते हैं।

फिंगर इंफेक्शन के कुछ प्रकार इस तरह से हैं:

पेरोनिसिया

पेरोनिसिया त्वचा का सबसे सामान्य इंफेक्शन है जो उंगलियों और अंगूठे के
नाखूनों के आसपास होता है। बैक्टीरिया या यीस्ट का एक प्रकार (जिसे कैंडिडा कहा जाता है) इस इंफेक्शन का कारण है। इस समस्या का एक अन्य कारण अपने नाखूनों को काटना या चबाना है लेकिन अधिकतर यह समस्या गीले में या केमिकल की उपस्थिति में काम करने के कारण होती है।

फेलॉन

फेलॉन उंगली के टिप का एक संक्रमण है। यह संक्रमण उंगलियों के टिप के पैड और उनसे जुड़े नरम ऊतकों से जुड़ा होता है।

और पढ़ें : Thyroid Ultrasound: थायरॉइड अल्ट्रासाउंड क्या है?

हर्पेटिक व्हाइटलो

हर्पेटिक व्हाइटलो फिंगरटिप के भाग में वायरस के कारण होने वाला इंफेक्शन है। यह भी उंगलियों में होने वाला बहुत सामान्य वायरल इंफेक्शन है। इस संक्रमण का अक्सर पेरोनिसिया या फेलॉन के रूप में गलत निदान किया जाता है।

कोशिका शोथ (Cellulitis)

यह त्वचा और मुख्य ऊतक का संक्रमण है। यह इंफेक्शन अधिकतर सतह पर होता है और इसमें हाथ या उंगली की गहरी सरंचनाएं शामिल नहीं होती।

संक्रामक फ्लेक्सर टेनोसाईनोवाइटिस

यह संक्रमण टेंडन शीथ्स में होता है जो हाथ को फ्लेक्स करने या बंद करने के जिम्मेदार होते हैं। यह डीप स्पेस इंफेक्शन है।

डीप स्पेस इंफेक्शन

यह हाथ और उंगलियों का संक्रमण है। इसमें टेंडॉन्स, ब्लड वेसल्स और मसल्स भी शामिल होते हैं। इस इंफेक्शन में एक या अधिक संरचनाएं शामिल हो सकती हैं।

और पढ़ें : Mallet finger : मैलेट फिंगर क्या है?

लक्षण

फिंगर इंफेक्शन के लक्षण क्या हैं?

जैसे हर तरह के इंफेक्शन के अलग-अलग कारण और प्रकार हो सकते हैं, वैसे ही लक्षण भी अलग हो सकते हैं। जो इस प्रकार हैं:

पेरोनिसिया

पेरोनिसिया के लक्षण हैं उंगली के नाखूनों के चारों तरह लालिमा और सूजन होना। इसके साथ ही प्रभावित स्थान पर मवाद जमा हो सकता है। यह मवाद तरल के रूप में घाव से बाहर भी आ सकता है। यह हिस्सा कठोर और छूने पर दर्दभरा हो सकता है।

फेलॉन

फेलॉन के लक्षण हैं सूजे हुए और दर्द भरे फिंगरटिप। इसमें सूजन कई दिनों तरह रह सकती है। छूने पर इन जख्मों में दर्द होता है। यह हिस्सा अधिकतर लाल होता है इसमें मवाद भी देखा जा सकता है। सूजन हुआ भाग नरम होगा। कुछ दिनों के बाद सूजन जारी रहती है तो यह कठोर हो जाता है।

हर्पेटिक व्हाइटलो

हर्पेटिक व्हाइटलो के लक्षणों में लालिमा और प्रभावित स्थान का कठोर होना शामिल है। इस हिस्से में जलन और खुजली हो सकती है। प्रभावित स्थान पर एक या कई जख्म हो सकते हैं। कई लोगों को इस स्थिति में हल्का बुखार हो सकता है। इसके साथ ही उस स्थान में टेंडर लिम्फ नोड्स बन सकते हैं।

कोशिका शोथ

इसके लक्षण भी प्रभावित क्षेत्र में लालिमा और जलन हो सकती है। यह भाग थोड़ा सुजा हुआ और कठोर हो सकता है। यह आमतौर पर एक सतह पर होने वाला संक्रमण है जिसमे गहरी सरंचनाएं शामिल नहीं होती। इस संक्रमण में उंगलियों और हाथ को हिलाना कठिन या दर्दनाक नहीं होता। अगर दर्द होता है तो यह डीप स्पेस इंफेक्शन की तरफ इशारा हो सकता है।

संक्रामक फ्लेक्सर टेनोसाईनोवाइटिस

संक्रामक फ्लेक्सर टेनोसाईनोवाइटिस के चार बड़े लक्षण होते हैं जिन्हे कनवेल कार्डिनल लक्षण कहा जाता है। यह इस प्रकार हैं:

  • इसका पहला लक्षण है उंगली के फ्लेक्सर या हथेली की तरफ का कोमल होना। इसमें दर्द उंगली में टेंडन के ऊपर होता है।
  • दूसरा है पूरी उंगली में एक समान दर्द होना।
  • तीसरा लक्षण है उंगली को सीधा करने में दर्द होना।
  • चौथा है उंगली का थोड़ा मुड़ी हुई स्थिति में होना।

डीप स्पेस इंफेक्शन

डीप स्पेस इंफेक्शन उंगलियों के वेब स्पेस में होता है। डीप स्पेस इंफेक्शन के लक्षणों में दर्द और सूजन शामिल है। यह भाग छूने में लाल और जलन भरा हो सकता है। जैसे-जैसे फोड़ा बड़ा होता जाता है, उंगलियां बढ़ते हुए दबाव के कारण थोड़ी फैल सकती हैं।

कारण

फिंगर इंफेक्शन कारण क्या है?

इंफेक्शन का मुख्य कारण होता है बैक्टीरिया। फिंगर इंफेक्शन का भी यह कारण है। यह इंफेक्शन किसी चोट लगने से हो सकता है। जानवरों के काटने, घाव आदि के कारण भी यह हो सकता है। हर एक इंफेक्शन के कारण इस प्रकार हो सकते हैं।

फेलॉन

फेलॉन इंफेक्शन घाव के फटने से होता है जैसे उंगली की टॉप को किसी पिन से फाड़ देना। स्टेफिलोकोकल और स्ट्रेप्टोकोकल जीव अक्सर संक्रमण का स्रोत होते हैं। पंचर घाव से यह जीवाणु त्वचा की गहरी परतों में जा सकते हैं।

कोशिका शोथ

कोशिका शोथ का कारण भी बैक्टीरिया ही हैं। बैक्टीरिया खुले घाव के माध्यम से त्वचा की निचली परत में जा सकते हैं। संक्रमण रक्तप्रवाह के माध्यम से हाथों और उंगलियों के अन्य भागों में फैल सकता है।

पेरोनिसिया

यह इंफेक्शन उसी बैक्टीरिया से होता है जो फेलॉन इंफेक्शन का कारण होते हैं। हालांकि, बहुत कम मामलों में फंगस भी इसका कारण बन सकते हैं। इंफेक्शन आसपास के भागों में भी फैल सकता है। नाखूनों को काटना, खाना या छेड़ना भी पेरोनिसिया का कारण बन सकता है।

हर्पेटिक व्हाइटलो

हर्पीस सिम्पलेक्स वायरस I या II हर्पेटिक व्हाइटलो का जिम्मेदार होते हैं। यह वही वायरस है जो ओरल या जननांग दाद के प्रकोप का कारण बनता है। डॉक्टर, डेंटिस्ट या अन्य मेडिकल से जुड़े लोगों को यह इंफेक्शन होने की संभावना अधिक होती है।

और पढ़ें : Cerebrospinal Fluid Test : सीएसएफ टेस्ट (CSF Test) क्या है?

डीप स्पेस इंफेक्शन

डीप स्पेस इंफेक्शन का कारण गहरा पंचर घाव या कट है जिससे बैक्टीरिया हाथ और उंगलियों के गहरे टिश्यूस तक पहुंच जाते हैं। जिन लोगों की इम्युनिटी कमजोर है या जिन्हे डायबिटीज है इन्हे यह इंफेक्शन होने की संभावना अधिक होती है।

संक्रामक फ्लेक्सर टेनोसाईनोवाइटिस

यह बैक्टीरियल संक्रमण आमतौर पर पेनेट्रेटिंग ट्रामा का परिणाम है जिसके कारण बैक्टीरिया गहरी संरचनाओं और टेंडन शीथ्स में चले जाते हैं और जो टेंडॉन्स और संबंधित शीथ के साथ फैल सकते हैं।

और पढ़ें : क्या आप जानती है आपका हैंडबैग टॉयलेट से ज्यादा गंदा है?

जोखिम

फिंगर इंफेक्शन के जोखिम क्या है?

फिंगर इंफेक्शन के कई जोखिम हो सकते हैं, जैसे:

  • पंक्चर घाव
  • गहरे कट
  • खुला हुआ घाव
  • पेनेट्रेटिंग ट्रामा
  • पिकिंग हैंगनेल
  • नाख़ून खाना
  • एग्रेसिव मैनीक्योर या क्युटिकल ट्रिंमिंग

इन लोगों को फिंगर इंफेक्शन होने का जोखिम अधिक होता है, जैसे:

  • डायबिटीज से पीड़ित लोग
  • कमजोर इम्युनिटी वाले लोग
  • डेंटिस्ट, फिजिशियन, नर्सेस आदि
  • जो लोग ऐसा काम करते हैं, जिनमे उनके हाथ पानी के सम्पर्क में अधिक रहते हैं

और पढ़ें : Trigger finger : ट्रिगर फिंगर क्या है ?

उपचार

फिंगर इंफेक्शन का उपचार क्या है?

डॉक्टर सबसे पहले रोगी से फिंगर इंफेक्शन के लक्षण और कारणों के बारे में पूछते हैं। इसके साथ ही डॉक्टर यह भी जानना चाहेंगे कि यह फिंगर इंफेक्शन कैसे शुरू हुआ। इसके साथ ही रोगी की नाखूनों को काटने की आदतों या हर्पीस वायरस आदि के बारे में भी जाना जाएगा। इन सब सवालों से इस रोग के उपचार में मदद मिलती है।

फिंगर इंफेक्शन के दौरान होने वाले घाव को सुखाने और ठीक करने के लिए एंटीबायोटिक्स दी जाती हैं। हर तरह के फिंगर इंफेक्शन के लिए उपचार भी अलग हो सकता है।

पेरोनिसिया

पेरोनिसिया के उपचार के लिए मवाद को सुखाया जाता है। यह कई तरीकों से किया जा सकता है। मवाद को निकालने के लिए चीरा लगाने के लिए स्कल्पेल का प्रयोग किया जाता है। अगर इंफेक्शन बड़ा है, तो नाख़ून का कुछ भाग भी काटा जा सकता है। इस प्रक्रिया के लिए एनेस्थीसिया भी दिया जा सकता है। इसके साथ ही रोगी को ओरल एंटीबायोटिक दिया जाता है। रोगी को घाव को घरेलू उपाय से ठीक किया जाता है।

फेलॉन

फेलॉन के उपचार के लिए चीरा लगा कर मवाद को निकाला जाता है, क्योंकि फिंगरटिप पैड के नीचे कई कम्पार्टमेंट बन जाते हैं। इसके लिए घाव में एक इंस्ट्रूमेंट डाला जाता है। इस इंफेक्शन में भी एंटीबायोटिक आवश्यक है। घाव को तब डॉक्टर द्वारा निर्धारित विशिष्ट घरेलू देखभाल की आवश्यकता होगी।

हर्पेटिक व्हाइटलो

इस समस्या में एंटीवायरल दवाईयां जैसे ऐसीक्लोविर लाभदायक होती हैं। दर्द दूर करने वाली दवाईयों का भी प्रयोग किया जाता है। सेकेंडरी बैक्टीरियल इंफेक्शन को रोकने और शरीर और दूसरे लोगों को इससे बचाने के लिए घाव को बहुत सुरक्षा करने की आवश्यकता होती है। इसमें चीरा लगाने और ड्रेनेज की सलाह नहीं दी जाती, और यदि ऐसा किया जाता है, तो इस फिंगर इंफेक्शन को ठीक होने में देरी हो सकती है।

और पढ़ें : जीन टेस्ट क्या है और इस टेस्ट को क्यों करवाना चाहिए?

कोशिका शोथ

यह इंफेक्शन सतही है, और इसके लिए ओरल एंटीबायोटिक दवाएं पर्याप्त हैं। अगर यह समस्या उंगलियों के अधिक भाग में है या रोगी की इम्युनिटी कमजोर है, तो उसका IV एंटीबायोटिक दवाओं के साथ अस्पताल में इलाज किया जा सकता है।

संक्रामक फ्लेक्सर टेनोसाईनोवाइटिस

यह एक आपातकालीन स्थिति है जिसमे सर्जरी की जाती है। इसमें जल्दी उपचार, अस्पताल में एडमिट होना और IV एंटीबायोटिक्स के साथ उपचार की आवश्यकता पड़ सकती है। इसमें सभी इन्फेक्टेड मेटेरियल और मवाद को बाहर निकालने की जरूरत है। सर्जरी के बाद कई दिनों तक IV एंटीबायोटिक्स और ओरल एंटीबायोटिक्स दी जा सकती है।

डीप स्पेस इन्फेक्शन्स

संक्रामक फ्लेक्सर टेनोसिनोवाइटिस की तरह, इसके लिए आपातकालीन देखभाल की आवश्यकता हो सकती है। अगर इंफेक्शन हल्का है तो केवल एंटीबायोटिक्स दी जाती हैं। लेकिन यह अगर गंभीर है तो IV एंटीबायोटिक्स की सलाह दी जाती है। अक्सर इन घावों में चीरा लगाना और ड्रेनेज की आवश्यकता होती है, जिसके बाद एंटीबायोटिक दवाओं का कोर्स पूरा करना अनिवार्य होता है।

और पढ़ें : Nephrotic syndrome: नेफ्रोटिक सिंड्रोम क्या है?

घरेलू उपाय

फिंगर इंफेक्शन के इलाज का घरेलू उपाय क्या है?

  • फिंगर इंफेक्शन गंभीर हो सकता है और इससे उंगली या प्रभावित भाग को काटा जा सकता है। ऐसे में घरेलू उपाय इंफेक्शन को कम करने में मदद कर सकते हैं:
  • अगर फिंगर इंफेक्शन हल्का है तो इसका घर में पूरी तरह से ख्याल रखना चाहिए। इससे वो जल्दी ठीक हो जाता है।
  • फिंगर इंफेक्शन से बचने के लिए साफ़-सफाई का खास ध्यान रखें। कीटाणुओं से बचने के लिए अपने हाथों को हमेशा धोते रहें।
  • नाखूनों को न चबाएं।
  • एंटीबायोटिक या दर्द दूर करने वाली दवाईयों को डॉक्टर की सलाह के बिना न लें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Anu sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 20/03/2021 को
डॉ. पूजा दाफळ के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x