आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

निप्पल फिशर्स (Nipple Fissures) क्यों होते हैं इनसे कैसे बचें?

    निप्पल फिशर्स (Nipple Fissures) क्यों होते हैं इनसे कैसे बचें?

    निप्पल फिशर्स (Nipple Fissures) निप्पल और एरोला पर होने वाले पेनफुल क्रैक्स हैं। ये आमतौर पर प्रेग्नेंसी के दौरान या ब्रेस्टफीडिंग के समय होते हैं, लेकिन कई एथलीट्स में फ्रिक्शन की वजह से भी हो जाते हैं। जो लोग निप्पल फिशर्स का सामना करते हैं उन्हें उनकी देखभाल बहुत ध्यान से करनी चाहिए क्योंकि संभावनाएं कि वह एरिया इंफेक्टेड हो जाए। कुछ ट्रीटमेंट कई मामलों में राहत प्रदान कर सकते हैं। वहीं कई मामलों में डॉक्टर की मदद की जरूरत पड़ सकती है। निप्पल फिशर्स को होने से रोकना इनके लक्षण और कॉप्लिकेशन्स को कम करने में मदद करता है। एंटीसेप्टिक क्रीम इन्हें हील करने में मदद करती हैं।

    निप्पल फिशर्स होने के कारण क्या हैं? (Causes of nipple fissure)

    निप्पल फिशर्स होने के कई कारण हो सकते हैं। जो निम्न प्रकार हैं।

    और पढ़ें: Skin Blemishes: स्किन ब्लेमिशेस क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और बचाव!

    प्रेग्नेंसी और ब्रेस्टफीडिंग (Pregnancy and breast-feeding)

    गर्भावस्था के दौरान हॉर्मोनल चेंजेस के कारण स्तन अधिक भरे हुए महसूस हो सकते हैं। अतिरिक्त परिपूर्णता त्वचा को खींच सकती है और एरोला और निप्पल में जलन पैदा कर सकती है, जिससे दरारें पड़ सकती हैं। जिन महिलाओं को स्तनपान कराने में समस्या होती है, उनमें भी निप्पल के फटने की समस्या हो सकती है। यदि बच्चा ठीक से लैच नहीं होता है, तो वह निप्पल और एरोला की संवेदनशील त्वचा पर बहुत अधिक दवाब डाल सकते हैं। इससे अनावश्यक जलन हो सकती है।

    निप्पल फिशर्स थ्रश का लक्षण हो सकता है, जो एक फंगल संक्रमण है। जबकि निप्पल फिशर्स अक्सर ड्राय क्रैक्स होते हैं, इन लक्षणों के लिए बहुत अधिक नमी भी जिम्मेदार हो सकती है। यह बहुत लंबे समय तक स्तनपान कराने या निप्पल के लंबे समय तक नम रहने के कारण हो सकता है। जिसके कारण लीकेज, गीले नर्सिंग पैड या बहुत अधिक मलहम लगाना हो सकता है। जबकि गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं में निप्पल फिशर्स अक्सर होते हैं, लेकिन ये कभी भी किसी भी महिला को प्रभावित कर सकते हैं।

    फ्रिक्शन (Friction)

    बहुत ज्यादा फ्रिक्शन निप्पल एरिया को इर्रिटेट कर सकता है। उदाहरण के लिए बहुत लंबे समय तक दौड़ने वाले लोगों में जॉगर्स निप्पल (Jogger’s nipple) या रनर्स निप्पल (Runner’s nipple) की परेशानी देखी जाती है। ढीली शर्ट या खराब फिटिंग वाली ब्रा की वजह से होने वाले घर्षण की वजह से निप्पल की संवदेनशील त्वचा में दरारें आ सकती हैं। यहां तक कि ब्लीडिंग भी हो सकती है। कुछ फैब्रिक्स अधिक नुकसान पहुंचाते हैं जिनमें नायलॉन, सिंटेथिक फाइबर्स शामिल हैं।

    और पढ़ें: Face Wash For Oily Skin: ऑयली स्किन के लिए कौन-से फेसवॉश का किया जा सकता है इस्तेमाल?

    एलर्जिक रिएक्शन (Allergic reaction)

    किसी चीज से एलर्जिक रिएक्शन के कारण भी निप्पल फट सकते हैं। ये एलर्जेंस प्रोडक्ट्स में मौजूद रसायन या सुगंध हो सकते हैं जैसे:

    • कपड़े धोने का साबुन
    • कपडे को मुलायम करने वाला
    • शैम्पू या कंडीशनर
    • साबुन या शॉवर जेल
    • लोशन या मॉश्चराइजर
    • परफ्यूम

    यदि किसी उत्पाद को लगाने के बाद जलन और निप्पल में दरारें पड़ जाती हैं, तो संभव है कि उस व्यक्ति की त्वचा उस उत्पाद में मौजूद रसायनों या सुगंध के प्रति संवेदनशील हो। लक्षणों को वापस आने से रोकने के लिए त्वचा विशेषज्ञ मदद कर सकते हैं।

    निप्पल फिशर्स के लक्षण (Nipple fissures Symptoms)

    कारण के आधार पर निप्पल फिशर्स एक या दोनों निप्पल्स में हो सकते हैं। इसके लक्षण व्यक्ति के हिसाब से अलग होते हैं, लेकिन आम लक्षणों में निप्पल और एरोला के पास फटी हुई दर्दनाक स्किन होती है। इसके साथ ही निम्न लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं।

    निप्पल फिशर्स के लिए होम ट्रीटमेंट्स (Nipple fissures home treatments)

    निप्पल फिशर्स के लिए होम ट्रीटमेंट्स (Nipple fissures home treatments)

    बहुत से लोगों ने अनुभव किया है कि प्रभावित निप्पल और आसपास की त्वचा को प्राकृतिक तेल या मॉश्चराइजर से थोड़ा नम रखना ट्रीटमेंट के लिए एक आवश्यक पहला कदम है। लैनोलिन, पेपरमिंट ऑयल और डेक्सपैंथेनॉल क्रीम सभी का स्तनपान कराने वाली महिलाओं में निप्पल ट्रॉमा पर समान प्रभाव पड़ा। हालांकि, कुछ लोग चिंतित हैं कि किसी भी निप्पल क्रीम का उपयोग प्राकृतिक वातावरण को प्रभावित कर सकता है जहां नवजात शिशु स्तनपान करते हैं।

    यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि बहुत अधिक नमी लक्षणों को और खराब कर सकती है। स्तनपान कराने वाली महिलाओं को नॉन ब्रीदेबल ब्रा पैड से बचना चाहिए, क्योंकि वे निप्पल के आसपास बहुत अधिक नमी रख सकते हैं।

    और पढ़ें: स्किन का रंग अगर पड़ गया है ब्लू, तो यह हो सकता है पेरीफेरल सायनोसिस का लक्षण!

    इस बात का भी रखें ध्यान

    गर्भावस्था के दौरान, निपल्स के आसपास की ग्रंथियां एक प्राकृतिक तेल का स्राव करती हैं जो बैक्टीरिया को दूर रखता है। इस एरिया को धोते समय, महिलाओं को केवल साफ पानी का उपयोग करना चाहिए जो इस प्राकृतिक प्रोटेक्शन को नुकसान नहीं पहुंचाता। स्तनपान कराने वाली महिलाओं को अपने निपल्स को गर्म पानी से स्नान करने और बच्चे को दूध पिलाने के बाद किसी भी जलन को शांत करने में मदद करने के लिए गर्म सेक लगाने से राहत मिल सकती है। प्रत्येक दूध पिलाने या पंप करने से पहले थोड़ा दूध निपल्स में रगड़ना भी जलन को शांत कर सकता है।

    गर्भावस्था के दौरान, निपल्स के आसपास की ग्रंथियां एक प्राकृतिक तेल का स्राव करती हैं जो बैक्टीरिया को चिकनाई और हतोत्साहित करता है। इस क्षेत्र को धोते समय, महिलाओं को केवल साफ पानी का उपयोग करना चाहिए जो इस प्राकृतिक सुरक्षा को दूर नहीं करता है।

    और पढ़ें: Sunburn On Dark Skin: जानिए डार्क स्किन पर सनबर्न के बारे में यहां!

    निप्पल फिशर्स से जुड़े कॉप्लिकेशन्स (Nipple fissures complications)

    यदि लक्षणों का इलाज नहीं किया जाता है, तो निप्पल फिशर्स और अधिक गंभीर जटिलताएं पैदा कर सकते हैं, जैसे कि सूजन या संक्रमण। स्तन संक्रमण के कारण फोड़े हो सकते हैं, जिसके लिए एंटीबायोटिक्स, लैकरेशन (Laceration) और ड्रेनेज (Drainage) की आवश्यकता हो सकती है।

    निप्पल थ्रस एक ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाओं में एक संभावित कॉम्प्लिकेशन है। थ्रस का सामना कर रहे बेबीज अपने जर्म्स को मुंह के जरिए ब्रेस्ट मिल्क में ट्रांसफर कर देते हैं। कैंडिडा यीस्ट जो थ्रश का कारण बनता है, दूध नलिकाओं के भीतर गर्म, अंधेरे वातावरण में पनप सकता है, जिससे संभवतः संक्रमण हो सकता है। कई महिलाओं से पता चलता है कि दूध पिलाने के बाद गर्म पानी से निप्पल को साफ करने से अतिरिक्त दूध को हटाने में मदद मिल सकती है जो कीटाणुओं का घर हो सकता है।

    स्तनपान कराने वाली महिलाओं में निप्पल थ्रश एक संभावित जटिलता है। थ्रश वाले बच्चे अपने मुंह से कीटाणुओं को स्तन के दूध में पारित कर सकते हैं। कैंडिडा खमीर जो थ्रश का कारण बनता है, दूध नलिकाओं के भीतर गर्म, अंधेरे वातावरण में पनप सकता है, जिससे संभवतः संक्रमण हो सकता है। कई महिलाओं को पता चलता है कि दूध पिलाने के बाद गर्म पानी में निप्पल को साफ करने से अतिरिक्त दूध को हटाने में मदद मिल सकती है जो कीटाणुओं का घर हो सकता है।

    उम्मीद करते हैं कि आपको निप्पल फिशर्स से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Effects of menthol essence and breast milk on the improvement of nipple fissures in breastfeeding women/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4214021/ Accessed on 28/04/2022

    Nipple fissures/https://my.clevelandclinic.org/health/diseases/22605-nipple-fissure/Accessed on 28/04/2022

    Breast infection/https://medlineplus.gov/ency/article/001490.htm/Accessed on 28/04/2022

    Breastfeeding – mastitis and other nipple and breast problems/
    https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/healthyliving/breastfeeding-mastitis-and-other-nipple-and-breast-problems/Accessed on 28/04/2022

    Paget’s disease of the breast/
    https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/pagets-disease-of-the-breast/symptoms-causes/syc-20351079/Accessed on 28/04/2022

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 29/04/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: