आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

चेहरे पर डार्क स्पॉट्स होने के क्या कारण हैं?

    चेहरे पर डार्क स्पॉट्स होने के क्या कारण हैं?

    चेहरे पर डार्क स्पॉट्स, कई लाेगों की समस्या होती है। यह हाइपरपिग्मेंटेशन के परिणामस्वरूप हो सकता है, जो त्वचा की एक सामान्य स्थिति है और यह तब होती है, जब आपकी त्वचा में बहुत अधिक मेलेनिन का उत्पादन होता है। हाइपरपिग्मेंटेशन सूरज के संपर्क में आने, स्किन डैमेज होने और बढ़ती उम्र आदि कारणों से हो सकती है। कई काले धब्बे हानिरहित होते हैं। तो इस आर्टिकल में जानते हैं चेहरे पर डार्क स्पॉट्स क्या हैं, साथ ही इसके कारणों और कुछ उपचार विकल्पों के बारे में :

    और पढ़ें: चेहरे से जुड़ी अनेक परेशानियों का इलाज हायल्यूरॉनिक एसिड डर्मल फिलर, जानें कैसे करता है काम

    चेहरे पर डार्क स्पॉट्स क्या हैं (what are dark spots on face)?

    डार्क स्पॉट, जिन्हें हाइपरपिग्मेंटेड मार्क्स के रूप में भी जाना जाता है, आमतौर पर त्वचा के पैच की तरह दिखते हैं, जो आसपास के क्षेत्र की तुलना में गहरे रंग के होते हैं। यह कालापन तब होता है, जब त्वचा पर मेलेनिन की मात्रा अधिक हो जाती है। इससे डार्क पिग्मेंटेशन, मेलिनकिरण और पैचेस जैसी समस्या हो सकती है। ये धब्बे चेहरे, हाथ, कंधे, पीठ और हाथों पर, कहीं भी हो सकते हैं, लेकिन चेहरे पर काले धब्बे आमतौर पर कई लोगों के लिए चिंता का कारण होते हैं।

    और पढ़ें : Hair Detox: हेयर डिटॉक्स क्या है? जानिए 5 आसान हेयर डिटॉक्स मेथड

    चेहरे पर डार्क स्पॉट्स होने के क्या कारण हैं (What are the causes of dark spots on face)?

    चेहरे पर काले धब्बे तब हो सकते हैं, जब त्वचा मेलेनिन का अधिक उत्पादन करती है। इसे हाइपरपिग्मेंटेशन के रूप में जाना जाता है। हाइपरपिग्मेंटेशन के परिणामस्वरूप विकसित हो सकता है:

    • उम्र बढ़ने के कारण
    • हाॅर्मोनल परिवर्तन, जैसे गर्भावस्था या रजोनिवृत्ति के दौरान
    • सूर्य की हानिकारक किरणों से प्रभावित होने पर

    त्वचा की क्षति भी पोस्ट-इंफ्लेमेटरी हाइपरपिग्मेंटेशन (PIH) का कारण बन सकती है। लोग निम्न कारणों से भी प्रभावित हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

    • मुहांसे
    • स्किन डैमेज होने पर
    • गलत हेयर रिमूवल प्रॉसेज अपनाने से
    • हार्ड कैमिकल वाले स्किन केयर प्रोडक्ट के इस्तेमाल से
    • सोरायसिस या अन्य स्किन कंडिशन के कारण

    चेहरे पर काले धब्बे होने का एकमात्र कारण हाइपरपिग्मेंटेशन नहीं है। इसके अलावा, किसी व्यक्ति के लिए डॉक्टर से बात करना महत्वपूर्ण है, यदि उनमें मौजूदा तिल या काले धब्बे में कोई परिवर्तन दिखाई देता है – विशेष रूप से बनावट, रंग और आकार में परिवर्तन।

    और पढ़ें: Dark spots: चेहरे पर डार्क स्पॉट्स के कारण क्या हैं? डार्क स्पॉट्स की समस्या है समस्या, तो करें ये उपाय

    पिग्मेंटेशन स्पॉट के प्रकार (Types of Pigmentation Spots)

    चेहरे पर डार्क स्पॉट्स का इलाज इसके प्रकार और स्थिति पर निर्भर करता है। हल्के मामलों में इसके घरेलू उपचार के लिए भी आपको पहले यह निर्धारित करना होगा कि आपको किस प्रकार के काले धब्बे हुए हैं। नीचे तीन प्रकार के काले धब्बे दिए गए हैं, जो आपमें देखने को मिल सकता है, जिनमें शामिल हैं:

    मेलास्मा (Melasma)

    मेलास्मा स्पॉट उन लोगों में सबसे आम है, जिनकी त्वचा का रंग गहरा होता है। मेलास्मा, एक विस्तारित रूप है और यह हल्के पीले से गहरे भूरे रंग के पैच की तरह नजर आ सकते हैं। इसके अलावा, छोटे धब्बों के बजाय, मेलास्मा धब्बे आपकी त्वचा के एक बड़े क्षेत्र को कवर कर सकते हैं।

    लेंटिगिन्स (Lentigins)

    सोलर लेंटिगिन्स आमतौर पर सूर्य के प्रकाश के अधिक संपर्क के कारण होते हैं। कठोर यूवी किरणें शरीर में कई जगह ब्लैक स्पॉट्स का कारण बन सकता है, जो एक पैच के रूप में दिखाई देता हैं। आप इस प्रकार के काले धब्बे ज्यादातर बच्चों के बजाय वयस्कों में देखने को मिलता है।

    पोस्ट-इंफ्लेमेटरी हाइपरपिग्मेंटेशन (Post-inflammatory hyperpigmentation)

    जैसा कि नाम से पता चलता है, पोस्ट-इंफ्लेमेटरी हाइपरपिग्मेंटेशन एक सूजन का परिणाम है। दिखने में, ये धब्बे अधिक धब्बों की तरह दिखाई देंगे, जिनका रंग गुलाबी से लाल या गहरे भूरे रंग तक होता है।

    और पढ़ें : प्रेग्नेंसी और मेनोपॉज : क्या मेनोपॉज के बाद मां बनने का सपना हो सकता है

    चेहरे पर काले धब्बे कैसे हटाएं (How to remove dark spots on face) ?

    चेहरे पर डार्क स्पॉट्स प्रकृति में स्थायी नहीं होते हैं और क्रीम, कॉस्मेटिक ट्रीटमेंट, जीवनशैली में बदलाव आदि का उपयोग करके आसानी से हटाए जा सकते हैं। यहां कुछ प्रभावी डार्क स्पॉट के उपचार बताए गए हैं, जो त्वचा विशेषज्ञों द्वारा किए जा सकते हैं:

    लेजर ट्रीटमेंट (Laser treatment)

    चेहरे से डार्क स्पॉट्स को हटाने के लिए लेजर उपचार प्रभावी है। इस उपचार में, त्वचा से वर्णक के कणों को हटाने के लिए प्रभावित क्षेत्र पर प्रकाश की किरण को केंद्रित किया जाता है। स्पॉट के आकार के साथ-साथ शरीर के हिस्से के आधार पर, स्पाॅट्स रिमूवल को पूरी तरह से हटाने के लिए 4-6 सेशन लग सकता है।

    केमिकल पील्स (Chemical peels)

    केमिकल पील ट्रीटमेंट में, केमिकल सॉल्यूशंस के कॉम्बिनेशन को त्चचा के प्रभावित हिस्से पर लगाया जाता है। ये कैमिकल त्वचा की बाहरी परतों को हटाने में मदद करते हैं, जिससे चेहरे के डार्क स्पाॅट्स को दूर होने में मदद मिलती है। यह काले धब्बे हटाने के साथ-साथ आपकी त्वचा को क्लीयर और ग्लोइंग भी करता है।

    और पढ़ें : Prevent Pimples: जानिए पिंपल से बचाव के 3 स्टेप और 5 घरेलू उपाय

    माइक्रोडर्माब्रेशन (Microdermabrasion)

    कैमिकल पीलिंग(Chemical peeling) की तरह, माइक्रोडर्माब्रेशन भी एक एक्सफोलिएशन उपचार है, जो मृत त्वचा कोशिकाओं को हटाने में सहायता करता है। यह उपचार उन लोगों के लिए ज्यादा अच्छा है, जिनमें हाइपरपिग्मेंटेशन की हल्की समस्या होती है।माइक्रोडर्माब्रेशन के फायदों में से एक यह भी है कि आपकी त्वचा के ऊतकों को कोई नुकसान नहीं होता है, क्योंकि यह एक नॉन-इनवैसिव प्रक्रिया है।

    और पढ़ें : मुहांसे कम न कर दें आपके चेहरे की रौनक, इन तरीकों से पाएं एक्ने फ्री स्किन

    काले धब्बों के लिए सामयिक उपचार (Topical Treatments for Dark Spots)

    ऐसे कई ओवर-द-काउंटर (OTC) उत्पाद हैं, जो काले धब्बों को कम करने में मदद कर सकते हैं। उनमें आम तौर पर एक्टिव तत्व शामिल होंगे, जैसे:

    • कोजिक एसिड
    • रेटिनोइड्स
    • कैमिकल एक्सफोलिएंट्स
    • विटामिन सी
    • एजेलिक एसिड

    नोट: कोई भी दवा या सामाग्री के इस्तेमाल से पहले एक बार डाॅक्टर की सलाह जरूर लें।

    और पढ़ें : विटामिन सी सीरम (Vitamin C Serum) स्किन टोन इवन करने और सन डैमेज से बचाने में करता है मदद!

    चेहरे के काले धब्बे के बचाव के लिए इन बातों का भी रखें ध्यान

    चेहरे के डार्क स्पॉट्स को रोकने के लिए आप इन बातों का भी रखें ध्यान:

    • कोशिश करें कि ज्यादा धूप में न निकलें और यह सुनिश्चित करें कि बाहर निकलने से पहले आप हमेशा एसपीएफ 30 या इससे ज्यादा वाले सनस्क्रीन का इस्तेमाल किया हो।
    • अपनी त्वचा के प्रकार के अनुसार ही माइल्ड स्किन केयर प्रोडक्ट का इस्तेमाल करें।
    • त्वचा देखभाल और कॉस्मेटिक उत्पादों पर ध्यान दें, जो आप वर्तमान में उपयोग कर रहे हैं। किसी भी प्रकार के उत्पाद से एलर्जी होने पर उसे फिर से इस्तेमाल न करें।
    • विटामिन सी को अपने डायट में शामिल करें, क्योंकि यह आपकी त्वचा की मलिनकिरण को कम करने में मदद कर सकता है।
    • स्किन के लिए हायजीन का पूरा ध्यान रखें।

    और पढ़ें :Best Vitamin C serum: जानिए बेस्ट विटामिन सी सीरम के फायदे और किन बातों को रखकर चुने सीरम!

    कई मामलों में, चेहरे पर हाइपरपिग्मेंटेशन समय के साथ अपने आप ठीक हो जाता है। यह ओटीसी और कुछ घरेलू उपचार अपनाकर इसका इलाज किया जा सकता। किसी भी प्रकार की स्किन कंडिशन होने पर त्वचा विशेषज्ञ किसी व्यक्ति की त्वचा के प्रकार और टोन और उनके हाइपरपिग्मेंटेशन के कारण के आधार पर सर्वोत्तम तरीकों पर सलाह दे सकते हैं। आपके चेहरे पर डार्क स्पॉट्स क्यों हैं और आपको किन उपचारों की जरूरी है, इस बारे में अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से बात करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Mechanisms of action and clinical applications. Accessed 16 June, 2022
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5605218/

    Chemical peels: FAQs Accessed 16 June, 2022
    https://www.aad.org/public/cosmetic/younger-looking/chemical-peels-faqs

    An evaluation of the human risks from its carcinogenic and mutagenic properties Accessed 16 June, 2022
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/18027166/

    Melasma: Diagnosis and treatment Accessed 16 June, 2022
    https://www.aad.org/public/diseases/a-z/melasma-treatment

    Post-inflammatory hyperpigmentation Accessed 16 June, 2022
    https://skinofcolorsociety.org/dermatology-education/post-inflammatory-hyperpigmentation-pih/

     

    लेखक की तस्वीर badge
    Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 20/06/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: