home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

मुहांसे कम न कर दें आपके चेहरे की रौनक, इन तरीकों से पाएं एक्ने फ्री स्किन

मुहांसे कम न कर दें आपके चेहरे की रौनक, इन तरीकों से पाएं एक्ने फ्री स्किन

सुन्दर और ग्लोइंग स्किन की इच्छा किसे नहीं होती? हर कोई अपने चेहरे की सुंदरता को बढ़ाने या बरकरार रखने के लिए हर संभव कोशिश करता है। अगर हम चेहरे की तुलना चांद से करते हैं, तो जरा सोचें चांद में दाग किसे कहते होंगे? जी हां! आपका अंदाजा बिल्कुल सही है। चांद के समान हमारे चेहरे के दाग हैं, मुहांसे जिन्हें एक्ने भी कहा जाता है। यह सामान्य त्वचा की स्थिति है और हर कोई व्यक्ति जीवन में कभी न कभी इस समस्या से गुजरता ही है। जानिए मुहांसों के बारे में विस्तार से। इन्हें दूर करने के कुछ घरेलू उपायों के बारे में जानना न भूलें।

मुहांसे क्या होते हैं? (What are Acne)

जैसा की पहले ही बताया गया है कि यह एक नार्मल स्किन कंडीशन है और अधिकतर यह समस्या युवावस्था के दौरान होती है। वैसे, यह समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है। युवावस्था में सिबेसियस ग्लैंड्स एक्टिवेट (Sebaceous Glands) होते हैं, जो इस समस्या का कारण बनते हैं। मुहांसे की समस्या घातक नहीं होती लेकिन इससे त्वचा में दाग पड़ सकते हैं। मुहांसों के लिए कई प्रभावी उपचार भी मौजूद हैं। इनका उपचार एक्ने के प्रकार पर निर्भर करता है। आइए, जानें कौन-कौन से हैं इनके प्रकार:

यह भी पढ़ें: क्या ल्यूकोप्लाकिया (Leukoplakia) या मुंह में सफेद दाग हो सकता है ओरल कैंसर?

मुहांसे कितनी तरह के हो सकते हैं? (Types of Acne)

वैसे तो 80 प्रतिशत मामलों में मुहांसे किशोरावस्था में प्रभावित करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि एक्ने यानी मुहांसे भी कई प्रकार के हो सकते हैं और इनका उपचार भी इनके प्रकार के अनुसार किया जाता है। जानिए मुहांसे के प्रकारों के बारे में:

वाइटहेड्स (whitehead)

मुहांसों का सबसे सामान्य प्रकार है वाइटहेड्स, जो त्वचा पर सफेद या त्वचा के ही रंग के उभार होते हैं। ये तेल के साथ भरे हेयर फॉलिकल्स, बैक्टीरिया या डेड स्किन सेल्स के कारण हो सकते हैं। इनसे बचने या छुटकारा पाने के लिए अपने चेहरे को पानी और अच्छे साबुन के साथ धो सकते हैं

ब्लैकहेड्स (Blackheads)

ब्लैकहेड्स भी वाइटहेड्स की तरह ही होते हैं, लेकिन यह काले होते हैं। इस तरह की त्वचा की स्थिति के कारण हमारे पोर्स मिट्टी, बैक्टीरिया या डेड सेल्स से ब्लॉक हो जाते हैं। इनका उपचार भी वाइटहेड्स की तरह ही संभव है। त्वचा की साफ-सफाई का ध्यान रखें और दवाई का प्रयोग करें।

पैप्युल्स (Papule)

आपने अपनी त्वचा पर छोटे, सख्त, लाल और गुलाबी दानों को अनुभव किया होगा, जो कई बार बहुत ज्यादा सख्त और दर्दभरे भी हो सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि त्वचा को होने वाला यह घाव त्वचा की सतह के नीचे तेल, बैक्टीरिया या डेड स्किन सेल्स के निर्माण के कारण सूजन और संक्रमण हो सकता है। अगर आपको यह समस्या है तो आप त्वचा पर कोई अच्छा सा लोशन लगाएं। अधिक समस्या होने पर डॉक्टर की सलाह लें।

Acne

पस्ट्यूल्स (Pustules)

जो मुहांसे पस यानी पीले रंग के तरल से भरे होते हैं उन्हें पस्ट्यूल्स कहा जाता है। यह देखने में वाइट हेड्स की तरह ही होते हैं, लेकिन यह अधिक दर्दभरे हो सकते हैं। इन्हें दबाना नहीं चाहिए क्योंकि ऐसा करने से संक्रमण हो सकता है। इनका उपचार मुहांसों की दवा से किया जाता है, जिनका प्रयोग डॉक्टर की सलाह के बाद करना चाहिए।

नॉड्यूल (Nodules)

अगर आप अपनी त्वचा या चेहरे पर बड़े, सख्त, लाल या त्वचा के रंग की गांठे देखते हैं तो यह नॉड्यूल हो सकते हैं। यह स्थिति गंभीर हो सकती है। यह नॉड्यूल क्लॉग्ड पोर्स में इन्फेक्शन या इर्रिटेशन के कारण होते हैं। इनका उपचार डॉक्टर की सलाह के बिना नहीं करना चाहिए। इनके लिए डॉक्टर आपको एंटीबायोटिक या अन्य दवाईयां दे सकते हैं।

सिस्ट्स (Cysts)

सिस्टिक एक्ने होना भी सामान्य है। आप बड़े, दर्दनाक, पस से भरे, फोड़े के समान इन सिस्ट्स को आपके चेहरे या आपके शरीर के अन्य हिस्सों पर नोटिस कर सकते हैं। इनसे दाग-धब्बे होने कर खतरा अधिक होता है, इसलिए इन्हें फोड़ने की कोशिश न करें। इसका उपचार डॉक्टर से कराना एक अच्छा विचार है। इसके उपचार में पस को सुखाना, स्टेरॉयड इंजेक्शन, एंटीबायोटिक आदि शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: क्या है सिस्टिक एक्ने (Cystic acne) दूर करने का घरेलू इलाज?

मुहांसों के लक्षण क्या हैं? (Symptoms of Acne)

मुहांसों के लक्षण इस बात पर निर्भर करते हैं कि स्थिति कितनी गंभीर है या आपको कौन से प्रकार के मुहांसे हैं। जैसे वाइटहेड्स देखने में सफेद या स्किन रंग के होते हैं जबकि ब्लैकहैड काले होते हैं। लेकिन इनके कुछ लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं:

  • बंद क्लॉग्ड पोर्स वाइटहेड्स होते हैं (Closed Clogged Pores are Whiteheads)
  • खुले क्लॉग्ड पोर्स ब्लैकहेड्स होते हैं (Open Clogged Pores are Blackheads)
  • पैप्युल्स छोटे और नरम होते हैं (Small red, Tender Bumps are Papules)
  • पैप्युल्स होने पर उनके सिरे पर पस होती है (Papules are with Pus at their Tips)
  • नॉड्यूल त्वचा के नीचे बड़े, सख्त और दर्दनाक लम्पस होते हैं (Large, Solid, Painful lumps Under the Skin are Nodules)
  • मुहांसे आमतौर पर चेहरे, माथे, छाती, ऊपरी पीठ या कंधे पर होते हैं (Acne usually appears on the Face, Forehead, Chest, Upper Back and Shoulders)

मुहांसे किन कारणों से हो सकते हैं? (Causes of Acne)

मुहांसे वो लाल और उभरे हुए दाग होते हैं। यह तब होते हैं, जब ब्लॉक हेयर फॉलिकल्स सूजन या बैक्टीरिया से संक्रमित हो जाते हैं। इसके मुख्य कारण इस प्रकार हैं:

  • त्वचा में अधिक आयल (Sebum) के कारण (Due to Access Oil in Skin)
  • आयल और डेड स्किन सेल्स के साथ हेयर फॉलिकल्स का क्लॉग्ड होना (Hair Follicles Clogged by Oil and Dead Skin Cells)
  • बैक्टीरिया (Bacteria)
  • सूजन (Inflammation)
  • हार्मोन्स चेंज (Hormones change), तनाव (Depression) और आपका आहार (Diet) भी इस समस्या को बढ़ा सकते हैं।

मुहांसों से जुड़े रिस्क फैक्टर्स कौन से हैं? (Acne Risk Factors)

मुहांसों को एक आम समस्या माना जाता है, जो किसी को भी हो सकती है। आमतौर पर मुहांसे खुद हो ठीक भी हो जाते हैं ,लेकिन कुछ परिस्थितियां इस समस्या के जोखिम को बढ़ा सकती हैं। जैसे

  • उम्र (Age): किशोरों को मुहांसों की समस्या अधिक होती है।
  • हार्मोन्स में बदलाव (Hormonal Change) : कुछ स्थितियां जैसे यौवन या गर्भावस्था में भी इस समस्या की संभावना बढ़ जाती है।
  • फॅमिली हिस्ट्री (Family History) : जेनेटिक्स भी मुहांसे होने में मुख्य भूमिका निभाते हैं। अगर आपके माता-पिता को मुहांसे हैं तो आपको भी यह हो सकते हैं।
  • ऑयली चीजों का प्रयोग (Use of Oily Products): अगर आप ऑयली लोशन या क्रीम का प्रयोग करते हैं, तो भी आपको मुहांसे होने का खतरा अधिक होता है।

योग और स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारी के लिए क्लिक करें

किन स्थितियों में डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए?

अगर आप मुहांसों की समस्या से पीड़ित हैं और घरेलू उपचार आपके किसी काम नहीं आ रहे हैं। तो यह संकेत है कि आपको डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। अगर आपको लगातार और गंभीर मुहांसे हो रहे हैं, तो भी डॉक्टर की सलाह जरूरी है। कुछ लोशन, क्लीनज़र या अन्य उत्पाद त्वचा के गंभीर रिएक्शन का कारण बन सकते हैं। हालांकि, यह रिएक्शन दुर्लभ हैं और उनसे कोई समस्या नहीं होती है। लेकिन, अगर आप इन लक्षणों का अनुभव करें तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं और उपचार कराएं।

  • बेहोशी (Faintness)
  • सांस लेने में समस्या (Difficulty in Breathing)
  • आंख, चेहरे, होंठ या जीभ में सूजन (Swelling of the Eyes, Face, Lips or Tongue)
  • गले में कसाव (Tightness of the Throat)

किस तरह से होता है मुहांसों का निदान? (Diagnosis of Acne)

मुहांसों का निदान करने के लिए डॉक्टर आपकी त्वचा की जांच करेंगे। वो आपसे फैमिली हिस्ट्री, तनाव या अन्य रिस्क फैक्टर्स के बारे में भी पूछ सकते हैं। महिलाओं और टीनएज लड़कियों को उनके मेंस्ट्रुअल सायकिल के बारे में भी पूछा जा सकता है। कई बार अचानक मुहांसे होना किसी अन्य समस्या की निशानी भी हो सकता है, जिसमे तुरंत उपचार की जरूरत होती है। मुहांसों का निदान उनकी गंभीरता के अनुसार भी किया जा सकता है।

मुहांसे कितने गंभीर हो सकते हैं:

  • त्वचा विशेषज्ञों के अनुसार मुहांसे सामान्य से लेकर बहुत अधिक गंभीर हो सकते हैं। मुहांसों को गंभीरता में मामले में चार भागों में बांटा गया है। जैसे
  • हल्के(Mild): अधिकतर वाइटहेड्स, ब्लैकहेड्स और कुछ पैप्युल्स और पस्ट्यूल्स गंभीर नहीं होते।
  • मॉडरेट (Moderate): कुछ पैप्युल्स (Papule) और पस्ट्यूल्स (Pustules) को गंभीरता के मामले में मॉडरेट लेवल पर रखा गया है जो अधिकतर चेहरे पर होते हैं ।
  • गंभीर (Sever): कई पैप्युल्स, पस्ट्यूल्स और कभी-कभी सूजन पैदा करने वाले नॉड्यूल को भी गंभीर माना जाता है। जिनसे आपको पीठ या छाती भी प्रभावित हो सकती है।
  • बहुत अधिक गंभीर (Access sever): इस श्रेणी में कई बड़े, दर्दभरे और सूजन वाले पस्ट्यूल्स और नॉड्यूल को रखा जाता है।

मुहांसों का उपचार किस तरह से है संभव? (Treatment of Acne)

जैसे की आप जानते ही हैं कि मुहांसों का उपचार उसकी गंभीरता के अनुसार किया जाता है। तो ऐसे में इनके उपचार के तरीके इस प्रकार हैं।

सामान्य मुंहासों का उपचार (Normal Acne Treatment)

  • सामान्य मुहांसों के उपचार के लिए कई स्टेरॉइडल (Steroidal) और नॉन-स्टेरॉयडल (Non-Steroidal) क्रीम और जेल बाजार में मौजूद हैं, जिनसे अच्छे से इनका उपचार हो सकता है।
  • सामान्य मुहांसों को आप ओवर-द-काउंटर दवाईयों जैसे जेल, साबुन, क्रीम, लोशन आदि ठीक कर सकते हैं
  • सेंसिटिव त्वचा के लिए भी कई क्रीम और लोशन मौजूद हैं। ओवर-द -काउंटर मिलने वाली क्रीम में यह एक्टिव इंग्रेडिएंट्स हो सकते हैं जो, त्वचा के लिए लाभदायक हैं:

1) रेसोरिसिनॉल (Resorcinol)

2) बेंज़ोयल पेरोक्साइड (Benzoyl Peroxide)

3) सैलिसिलिक एसिड (Salicylic acid)

4) सल्फर (Sulfur)

5) रेटिन-ए (Retin-A)

6) एज़ेलिक एसिड (Azelaic acid)

यह भी पढ़ें: विटिलिगो: सफेद दाग के रोगियों के लिए डायट प्लान

मॉडरेट या गंभीर मुंहासों का उपचार (Moderate or Severe Acne Treatment)

मॉडरेट या गंभीर मुंहासों का उपचार स्किन स्पेशलिस्ट से कराना चाहिए। वो आपको कुछ क्रीम या जेल दे सकते हैं। इसके साथ ही आपको ओरल या टोपिकल एंटीबायोटिक की भी जरूरत हो सकती है। इन मुहांसों का उपचार इन तरीकों से किया जाता है :

  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड इंजेक्शन (Corticosteroid Injection)
  • ओरल एंटीबायोटिक्स (Oral Antibiotics)
  • टोपिकल एंटीमाइक्रोबियल (Topical Antimicrobials)
  • इसोट्रेटिनॉइन (Isotretinoin)
  • लाइट थेरेपी (Light therapy)
  • केमिकल पील (Chemical peel)
  • ड्रेनेज और एक्सट्रैक्शन (Drainage and Extraction)

मुहांसे

मुहांसों के लिए होम रेमेडीज आ सकती हैं आपके काम (Home Remedies for Acne)

अगर आपको मुहांसे हैं तो सही से त्वचा की देखभाल करना और उपचार कराना जरूरी है। लेकिन कुछ स्थितियों में कुछ होम रेमेडीज को अपनाने से आपको न केवल मुहांसों से छुटकारा मिल सकता है बल्कि आपकी त्वचा और भी निखर सकती है। जानिए कौन सी होम रेमेडीज हैं आपके काम की:

  • टी ट्री आयल (Tea Tree Oil) : टी ट्री आयल में सूजन से खिलाफ लड़ने के गुण होते हैं और यह मुहांसों के खिलाफ लड़ने का अच्छा तरीका है। इसे बस अपने मुंहासों में लगा कर कुछ देर रखना है। इससे आपको अच्छे परिणाम मिलेंगे।
  • नीम (Neem) : नीम स्वास्थ्य और त्वचा के लिए किसी चमत्कार से कम नहीं है। इसमें एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं। नीम का हल्दी और चंदन पाउडर के साथ पेस्ट बनाएं और त्वचा पर कुछ देर लगा कर रखें। इससे आपकी त्वचा मुहांसों से राहत पा सकती हैं।
  • हल्दी (Turmeric) : हल्दी को भी त्वचा के लिए बेहतरीन माना जाता है। हल्दी का गुलाब जल या सादे पानी के साथ पेस्ट बना कर प्रभावित स्थान पर लगाएं। सूखने के बाद इसे धो दे। कुछ दिन यह उपाय आपके लिए फायदेमंद साबित होगा।
  • दालचीनी (Cinnamon) : दालचीनी का शहद के साथ पेस्ट बनाएं और रात को सोते हुए प्रभावित जगह पर लगाएं। सुबह उठ कर इसे धो दें। आप बदलाव महसूस करेंगे। सिर्फ शहद का प्रयोग करने से भी आपको अच्छे परिणाम मिलेंगे।
  • एलोवेरा (Aloe Vera) : एलोवेरा में मुहांसे की जलन दूर करने, उसे हील करने और इन्फेक्शन से लड़ने के सभी गुण होते हैं। मुहांसे दूर करने में यह तरीका भी आपके लिए सहायक साबित हो सकता है। मुहांसे पर आप ताजे एलोवेरा को ऐसे ही लगा सकते हैं। इसके अलावा एलोवेरा जेल भी बाजार में मौजूद है।

यह भी पढ़ें: जानें चेहरे के दाग धब्बे होने के कारण और बेदाग त्वचा पाने के घरेलू उपाय

मुहांसों के बारे में कौन से हैं मिथक और कौन से हैं तथ्य? (What are the Myths and Facts about Acne)

जैसा की आप जानते ही हैं कि मुहांसे एक सामान्य समस्या है। लेकिन जिनके बारे में ऐसे कई मिथक और तथ्य हैं, जिनके बारे में आपको जानकारी होनी चाहिए। क्योंकि, सही जानकारी इनसे बचने और इनके उपचार में आपकी मदद कर सकती है। जानिए ऐसे ही कुछ मिथक और तथ्यों के बारे में:

क्या चॉकलेट और ग्रीसी चीजों से मुंहासों की समस्या बढ़ती है?

यह बिलकुल गलत है। चॉकलेट और ग्रीसी चीजों को खाने से मुहांसों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता।

मुहांसे केवल युवावस्था में ही होते हैं?

यह सही नहीं है, क्योंकि मुहांसे किसी भी उम्र में हो सकते हैं। लेकिन, इनका एक कारण एंड्रोजेंस नाम के हॉर्मोन्स होते हैं जो युवावस्था में अधिक बनते हैं। इसलिए युवावस्था में मुहांसे अधिक होते हैं।

क्या त्वचा के गंदे होने पर मुहांसे होते हैं?

मुहांसे त्वचा के गंदे होने से नहीं होते। बल्कि, अगर आप अपनी त्वचा को जोर से रगड़ते हैं या हार्श साबुन या केमिकल का प्रयोग करते हैं। तो यह समस्या बदतर हो सकती है।

क्या कुछ खास आहार मुहांसों का कारण है?

खाद्य पदार्थ मुहांसों का कारण है या नहीं, यह एक बहस का विषय है। क्योंकि कुछ खाद्य पदार्थ इस समस्या को बढ़ा सकते हैं। लेकिन, इनके बारे में कोई सुबूत मौजूद नहीं है। हालांकि संतुलित और पौष्टिक आहार जैसे फल और सब्जियों, विटामिन सी युक्त आहार आदि से सूजन की समस्या से छुटकारा मिलता है।

मुहांसे

मुहांसे होने पर किन बातों का रखें ध्यान? (Prevention of Acne)

मुहांसे किसी को भी कभी भी हो सकते हैं। इसलिए इनसे घबराने की जरूरत नहीं है। अगर आपको मुंहासों की समस्या है और आप उससे राहत पाना चाहते हैं या अपनी स्किन को अच्छा बनाना चाहते हैं। तो इन तरीकों को आप अपनाएं:

  • अपने चेहरे को बार-बार साफ पानी से धोएं। खासतौर पर अगर आपको पसीना आया हो या आप बाहर से आएं हों। इसे अपनी आदत बना लें।
  • चेहरे पर क्लींजर या अन्य किसी उत्पाद को लगाने के लिए अपनी फिंगरटिप्स का प्रयोग करें। त्वचा को रगड़ने से बचें।
  • अपने स्किन को अच्छे से ट्रीट करें। ऐसे उत्पादों का प्रयोग करें जो एल्कोहॉल फ्री हों। ऐसे उत्पादों का प्रयोग न करें, जिनसे त्वचा को नुकसान हो।
  • त्वचा की स्क्रबिंग से त्वचा बदतर हो सकती है, इसलिए त्वचा को स्क्रब करने से बचे।
  • मुहांसों को प्राकृतिक तरीकों से ठीक होने दें। मुहांसों पर बार-बार हाथ न लगाएं न ही उन्हें फोड़ें।

Quiz: क्विज में छिपे हैं पिंपल्स से जुड़े कुछ सवालों के जवाब, क्या आप जानते हैं?

  • पौष्टिक और संतुलित आहार का सेवन करें, जैसे फल सब्जियां, साबुत अनाज आदि। जंक फूड, तले भूनें, अधिक मीठे या मसालेदार आहार को खाने से बचें। इससे समस्या बढ़ सकती है।
  • अगर आप अपने शरीर में पानी की कमी नहीं होने देंगे, तो आपको मुहांसों की समस्या से जल्दी छुटकारा मिलेगा। इसलिए अधिक पानी पीएं।
  • सूरज की हानिकारक किरणें मुहांसों की समस्या को बढ़ा सकती हैं। इसलिए, सूरज की किरणों के संपर्क में कम आएं। बाहर जाते हुए चेहरे और त्वचा को कवर कर के रखें।
  • स्ट्रेस के कारण मुहांसे तो नहीं होते, लेकिन इससे समस्या बढ़ सकती है। इसलिए, अगर आप मुहांसों से बचना चाहते हैं तो पहले तनाव से बचने के उपाय करें। इसके लिए व्यायाम करें, योगा और मैडिटेशन करें, सही नींद लें। अधिक समस्या होने पर डॉक्टर की राय लें।

यह भी पढ़ें: चेहरे से कील मुंहासों को हटाने के घरेलू उपाय

अपनी स्किन का ध्यान रखने से ही आप मुहांसे यानी एक्ने की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। अगर आपकी त्वचा ऑयली है तो आपको अधिक ध्यान रखने की जरूरत है। आमतौर पर मुहांसे स्वयं ही ठीक हो जाते हैं। लेकिन अगर आपको अधिक या बार-बार मुहांसे हो रहे हों और यह परेशानी का कारण बन रहे हों तो डॉक्टर से सही उपचार कराना जरूरी है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
AnuSharma द्वारा लिखित
अपडेटेड 2 weeks ago
x