आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

सुन्न पड़ना और झुनझुनी होना (Numbness And Tingling): जानिए सुन्न पड़ने और झुनझुनी के 25 कारण और बचाव!

    सुन्न पड़ना और झुनझुनी होना (Numbness And Tingling): जानिए सुन्न पड़ने और झुनझुनी के 25 कारण और बचाव!

    सुन्न पड़ना और झुनझुनी होना (Numbness And Tingling) दोनों अलग-अलग स्थिति है, लेकिन एक तरह का एब्नॉर्मल सेंसेशन (Abnormal sensations) है जो शरीर के किसी भी हिस्से में जैसे उंगलियों, हाथ, बाजुओं या फिर पैरों में महसूस की जा सकती है। नंबनेस और टिंगलिंग की समस्या किसी को भी हो सकती है। ऐसे में नंबनेस और टिंगलिंग के कारण को समझेंगे और इस एब्नॉर्मल सेंसेशन से बचने की कोशिश करेंगे।

    और पढ़ें : PCOS, Acne, And Acne Treatment: पीसीओएस, एक्ने और एक्ने ट्रीटमेंट के बारे में समझें यहां!

    • नंबनेस और टिंगलिंग के कारण क्या-क्या हो सकते हैं?
    • कैसे करें केयर?
    • डॉक्टर से कब सलाह लेना है जरूरी?

    चलिए जानते हैं सुन्न पड़ना और झुनझुनी होना (Numbness And Tingling) दोनों से जुड़े सवालों का जवाब।

    और पढ़ें : Red Circle On the Skin: त्वचा पर लाल चकत्ते सिर्फ एक नहीं, बल्कि कई स्किन डिजीज की ओर इशारा कर सकते हैं!

    सुन्न पड़ना और झुनझुनी होना (Numbness And Tingling): नंबनेस और टिंगलिंग के कारण क्या-क्या हो सकते हैं?

    सुन्न पड़ना और झुनझुनी होना (Numbness And Tingling)

    नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information), यू.एस. डिपार्टमेंट ऑफ हेल्थ एंड ह्यूमन सर्विसेस (U.S. Department of Health and Human Services), मायो फाउंडेशन फॉर मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (Mayo Foundation for Medical Education and Research) जैसे कई अन्य रिसर्च रिपोर्ट्स के अनुसार सुन्न पड़ने और झुनझुनी होने के कारण इस प्रकार हैं। जैसे:

    1. नंबनेस और टिंगलिंग के कारण में सबसे आम कारण है एक ही अवस्था में ज्यादा समय तक बैठे या खड़े रहना।
    2. नर्व में किसी तरह की इंजरी होना।
    3. स्पाइन के नर्व पर प्रेशर पड़ना।
    4. बढ़े हुए ब्लड वेसेल्स, ट्यूमर, स्कार टिशू या इंफेक्शन की वजह से सुन्न पड़ना और झुनझुनी होना की समस्या हो सकती है।
    5. हर्पिस जोस्टर इंफेक्शन (Herpes zoster infection) की समस्या होना।
    6. एचआईवी/एड्स (HIV/AIDS), लेप्रोसी (Leprosy), सिफ्लिस (Syphilis) या ट्यूबरक्लोसिस (Tuberculosis) नंबनेस और टिंगलिंग के कारण हो सकते हैं।
    7. बॉडी में ब्लड सप्लाई ठीक तरह से ना होना या कम होना।
    8. शरीर में कैल्शियम (Calcium), पोटैशियम (Potassium) या सोडियम (Sodium) की कमी होना।
    9. बॉडी में विटामिन बी (Vitamins B) की कमी होना।
    10. कुछ विशेष दवाओं (Certain medicines) का सेवन करना।
    11. कुछ अवैध स्ट्रीट ड्रग्स (Illicit street drugs) का सेवन करना।
    12. कीमोथेरिपी ड्रग्स (Chemotherapy drugs) लेना।
    13. रेडिएशन थेरिपी (Radiation therapy) लेना।
    14. कीड़े-मकोड़ों का काटना।
    15. सीफूड टॉक्सिंस (Seafood toxins)।
    16. कॉनजेनाइटल कंडिशन Congenital conditions जिसका प्रभाव नर्व (Nerves) पर पड़ता हो।

    सुन्न पड़ना और झुनझुनी होना (Numbness And Tingling), यहां ऊपर बताई गई स्थितियों की वजह से हो सकती हैं। हालांकि इसके कुछ मेडिकल कारण यानी हेल्थ कंडिशन (Health Condition) की वजह से भी हो सकती है।

    और पढ़ें : Blind Pimple: ब्लाइंड पिंपल से छुटकारा पाने के लिए 7 घरेलू उपाय एवं 9 टिप्स कर सकते हैं फॉलो!

    नंबनेस और टिंगलिंग के मेडिकल कारण (Medical cause of Numbness And Tingling)

    17. कार्पल टनल सिंड्रोम (Carpal tunnel syndrome) की समस्या होना।
    18. डायबिटीज (Diabetes) की समस्या होना।
    19. माइग्रेन (Migraines) की समस्या होना।
    20. मल्टिपल स्क्लेरॉसिस (Multiple sclerosis) की समस्या होना।
    21. सीजर्स (Seizures) की समस्या होना।
    22. स्ट्रोक (Stroke) की समस्या होना।
    23. ट्रांस्जियेट इस्कैमिक अटैक (Transient ischemic attack) की समस्या होना।
    24. अंडर एक्टिव थायरॉइड (Underactive thyroid) की समस्या होना।
    25. ब्लड वेसेल्स के सिकुड़ने की समस्या होना।

    सुन्न पड़ना और झुनझुनी होना (Numbness And Tingling) प्रायः इन्हीं ऊपर बताये कारणों की से हो सकती है। इसलिए अगर आप किसी भी हेल्थ कंडिशन के शिकार हैं और सुन्न पड़ने या झुनझुनी की समस्या महसूस करते हैं तो डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

    सुन्न पड़ना और झुनझुनी होना (Numbness And Tingling): कैसे करें केयर?

    सुन्न पड़ने या झुनझुनी की समस्या होने पर निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें। जैसे:

    • सुन्न पड़ना और झुनझुनी होना महसूस हो तो डॉक्टर सबसे पहले इसके कारणों को समझते हैं और इसके लिए पेशेंट से इस बारे में पूछते हैं। अगर जरूरत पड़ती है तो कुछ एक्सरसाइज करने करने की सलाह देते हैं।
    • डायबिटीज की समस्या होने पर ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल करने की सलाह दी जाती है।
    • अगर शरीर में विटामिन की कमी हो, तो ऐसे में विटामिन सप्लिमेंट्स भी प्रिस्क्राइब की जाती है।
    • अगर आपको दवाओं के सेवन की वजह से नंबनेस या टिंगलिंग की समस्या हो रही है, तो ऐसी स्थिति में दवाओं का सेवन बंद ना करें और डॉक्टर से इस बारे में सलाह लें।

    इन बातों को ध्यान में रखकर नंबनेस या टिंगलिंग की समस्या से बचने में मदद मिल सकती है। हालांकि कुछ केसेस में डॉक्टर से सलाह लेना बेहद जरूरी है।

    और पढ़ें : Vitiligo On Black Skin: काली त्वचा पर विटिलिगो की समस्या क्या है? जानते विटिलिगो यानी सफेद दाग से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी!

    डॉक्टर से कब सलाह लेना है जरूरी? (Consult Doctor if-)

    नंबनेस या टिंगलिंग की समस्या के साथ ही अन्य लक्षण नजर आएं, तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। यह लक्षण इस प्रकार हैं:

    • कन्फ्यूजन, चक्कर आना और कोऑर्डिनेशन में समस्या
    • डिस्कलर्ड स्किन की समस्या
    • सिरदर्द की समस्या रहना
    • जी मिचलाना या उल्टी आना
    • छाती, पीठ, गर्दन, चेहरे या कंधे में दर्द रहना
    • कंधे, आर्म, हाथ या चेहरा में पैरालिसिस होना
    • चलने में समस्या होना
    • बैलेंस और कोऑर्डिनेशन में समस्या
    • स्पीच में समस्या होना
    • शरीर में सूजन खासतौर पर हाथों या पैरों में होना
    • सांस लेने या निगलने में समस्या होना
    • बोलने और किसी अन्य व्यक्ति को समझने में परेशानी होना

    ऐसी स्थिति में डॉक्टर से जरूर सलाह लें, जिससे आगे होने वाली परेशानियों से बचने में मदद मिल सके।

    नोट: नंबनेस या टिंगलिंग की समस्या बिना किसी कारण हो रही है, तो इसे भी इग्नोर नहीं करें, क्योंकि हो सकता है कि कोई बीमारी आपको अपना शिकार बनाना चाहती हो और किसी भी बीमारी का इलाज अगर शुरुआती स्टेज में हो जाए तो बीमारी को जल्द से जल्द करने में मदद मिल सकती है।

    और पढ़ें : हाइड्रोजन पेरोक्साइड और स्किन कंडिशन: क्यों स्किन के लिए हाइड्रोजन पेरोक्साइड का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए?

    हमें उम्मीद है कि इस आर्टिकल में शेयर की गई जानकारी से सुन्न पड़ना और झुनझुनी होना (Numbness And Tingling) और इससे अन्य जुड़ी जानकारी आपके लिए लाभकारी होंगी। सुन्न पड़ना और झुनझुनी होना (Numbness And Tingling) की समस्या अचानक हो सकती है। इसलिए तकलीफ सामान्य है, तो घरेलू उपायों से इलाज किया जा सकता है, लेकिन अगर स्थिति गंभीर है या नंबनेस और टिंगलिंग की समस्या लगातार बनी रहती है, तो ऐसे में डॉक्टर से जल्द से जल्द कंसल्ट करें। डॉक्टर बीमरी की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए मेडिसिन प्रिस्क्राइब कर सकते हैं। स्किन प्रॉब्लेम (Skin problem) से जुड़ी किसी भी जानकारी के लिए आप हैलो स्वास्थ्य के त्वचा संबंधी समस्याओं पर क्लीक करें।

    आयुर्वेदिक ब्यूटी रेमेडीज के बारे में जानें संपूर्ण जानकारी नीचे दिए इस वीडियो लिंक को क्लिक कर। आयुर्वेदिक ब्यूटी एक्सपर्ट पूजा नागदेव खास जानकारी साझा कर रहीं हैं आयुर्वेदिक ब्यूटी रेमेडीज की, जिससे आप आसानी से अपना सकती हैं और चेहरे पर एक्ने के दाने या अन्य दाग-धब्बों को दूर करने के उपाय।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Numbness and tingling/https://medlineplus.gov/ency/article/003206.htm/Accessed on 08/06/2022

    Numbness/https://www.mayoclinic.org/symptoms/numbness/basics/causes/sym-20050938/Accessed on 08/06/2022

    Paresthesia/https://www.ninds.nih.gov/health-information/disorders/paresthesia/Accessed on 08/06/2022

    Paresthesia information/https://www.ninds.nih.gov/Disorders/All-Disorders/Paresthesia-Information-Page/Accessed on 08/06/2022

    Behavior of Children Related to Numbness After Dental Local Anesthesia/https://clinicaltrials.gov/ct2/show/NCT00363207/Accessed on 08/06/2022

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 08/06/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: