Kidney Stones: गुर्दे की पथरी (किडनी स्टोन) क्या है? जानें इसके कारण , लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

मूल बातें जानिए

किडनी स्टोन (Kidney Stones) क्या है?

किडनी स्टोन या गुर्दे की पथरी, हार्ड डिपॉजिट है, जो कि पेशाब में पाए जाने वाले तत्वों से किडनी में बनता है। इस प्रक्रिया को नेफ्रोलिथियासिस (nephrolithiasis) कहा जाता है। गुर्दे की पथरी छोटी या कई इंच तक बड़ी हो सकती है। बड़े स्टोन उन ट्यूब या नली को भर देते है, जिनके द्वारा यूरिन किडनी से होकर ब्लैडर में जाता है । इन बड़े स्टोन को स्टैग्नोर्न कहा जाता है।

गुर्दे की पथरी (Kidney Stones) कितनी आम है?

गुर्दे की पथरी का होना एक आम बात है। यह 40 साल से अधिक उम्र के रोगियों को प्रभावित कर सकता है। इसके होने का कारण पता करके इसे जड़ से खत्म किया जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए अपने चिकित्सक से बात करें।

और पढ़ें : Stone Root: स्टोन रूट क्या है?

जानिए इसके लक्षण

गुर्दे की पथरी (Kidney Stones) के लक्षण क्या हैं?

लगभग एक तिहाई लोगों में किडनी स्टोन होता है लेकिन, आधे से कम लोगों में ही इसके लक्षण पाए जाते हैं। बिना लक्षणों के भी पथरी की समस्या हो सकती है, जैसे संक्रमण और मूत्र प्रवाह में दिक्कत। मूत्रवाहिनी में जो स्टोन अटक या फस जाते हैं, वहीं लक्षणों का कारण बनते हैं।

सबसे आम लक्षण गंभीर दर्द (मूत्र शूल) हैं, जो रह रह कर उभर जाता है, जो आमतौर पर पीठ (फ्लैंक) से होकर निचले पेट तक दुखता रहता है। अन्य सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:

यदि स्टोन संक्रमण के कारण बनता है, तो दूसरे लक्षण भी दिख सकते हैं जैसे,

कुछ दूसरे लक्षण भी हो सकते हैं, जो लिस्टेड न हो। यदि आपको किसी लक्षण के विषय में कोई चिंता है, तो अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

मुझे अपने डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

यदि आप बताई गई कुछ स्थितियों से गुजर रहे हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए:

  • गंभीर उल्टी, गंभीर दर्द और उठने-बैठने में दिक्कत
  • मतली और उल्टी के साथ दर्द
  • बुखार और ठंड लगना
  • पेशाब में खून
  • पेशाब करने में कठिनाई।

और पढ़ें : Male urinary incontinence: पुरुषों में यूरिनरी इनकॉन्टिनेंट क्या है?

जानिए इसके कारण

किडनी स्टोन (Kidney Stones) का कारण क्या है?

यूरिन में कैल्शियम, यूरिक एसिड, सिस्टीन, या स्ट्रूवाइट (फॉस्फेट, मैग्नीशियम और अमोनियम का मिश्रण) की अधिक मात्रा में होने के कारण स्टोन बन सकते हैं। ऐसे आहार जिनमें प्रोटीन की मात्रा ज्यादा है और बहुत कम पानी पीने से पथरी होने का खतरा बढ़ जाता है। लगभग 85% गुर्दे की पथरी कैल्शियम से बनती है। यूरिक एसिड की पथरी ज्यादा होती है, यदि गाउट मौजूद हो तो। स्ट्रूवाइट स्टोन की माजूदगी से अक्सर इंफेक्शन स्टोन का खतरा रहता है।

जानिए रिस्क फैक्टर

कौन-से रिस्क फैक्टर किडनी स्टोन के होने का कारण बनते हैं?

गुर्दे की पथरी (Kidney Stones) के कई रिस्क फैक्टर हैं, जैसे:

  • पारिवारिक या व्यक्तिगत इतिहास।
  • डिहाइड्रेशन
  • प्रोटीन, सोडियम और चीनी से भरपूर आहार का सेवन करने से आपको गुर्दे की पथरी का खतरा बढ़ सकता है।
  • मोटापा।
  • पाचन संबंधी बीमारियां और सर्जरी। गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी, सूजन आंत्र रोग या पुराने दस्त से पाचन प्रक्रिया में बदलाव हो सकते हैं। ये बीमारिया आपके यूरिन में कैल्शियम और पानी सोखने की क्रिया को प्रभावित करती हैं। यही कारण है कि आपके मूत्र में स्टोन बनाने वाले पदार्थ का स्तर बढ़ जाता है।
  • अन्य मेडिकल कंडिशन : गुर्दे की पथरी के जोखिम को बढ़ाने वाली बीमारिया जैसे रेनल ट्यूबलर एसिडोसिस, सिस्टिनुरिया, हायपरथायरॉइडिज्म। साथ ही कुछ दवाएं और कुछ यूरिन ट्रैक में संक्रमण शामिल हैं।

दी गई जानकारी को किसी भी चिकित्सकीय सलाह के रूप में न समझें। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

और पढ़ें : Gallbladder Stones: पित्ताशय की पथरी क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

निदान और उपचार को समझें

गुर्दे की पथरी (Kidney Stones) का निदान कैसे किया जाता है?

  • किडनी स्टोन का उपचार कई चीजों पर निर्भर करता है, जैसे कि आकार, स्टोन की संख्या, वे कहां पर हैं और इंफेक्शन तो नहीं है आदि। अधिकांश स्टोन बिना डॉक्टरी सलाह के ही शरीर से बाहर निकल जाते हैं। एक छोटे-से स्टोन को बाहर निकालने का सबसे सरल तरीका है कि आप खूब पानी पीजिए, स्टोन खुद-ब-खुद बाहर निकल जाएगा। दर्द से राहत देने में दवा आपकी मदद कर सकती है। एंटीबायोटिक्स संक्रमण के लिए दिया जाता है।
  • स्टोन, जो खुद से मूत्र के रास्ते से नहीं निकलते हैं, उन्हें किसी यूरोलॉजिस्ट की मदद से हटाने की आवश्यकता हो सकती है। यूरोलॉजिस्ट यूरिन सिस्टम को समझने में एक माहिर डॉक्टर होते हैं। स्टोन को हटाने के लिए यूरोलॉजिस्ट एक लंबे, पतले उपकरण यूरेट्रोस्कोप का इस्तेमाल कर सकता है।
  • कभी-कभी, स्टोन को छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ने और उन्हें मूत्र के रास्ते बाहर करने के लिए शॉक वेव या तरंगों का उपयोग किया जाता है। इस उपचार को एक्सट्रॉस्पोरियल शॉक वेव लिथोट्रिप्सी कहा जाता है।
  • कभी-कभी, स्टोन को हटाने के लिए, सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है जैसे, पर्क्यूटेनियस नेफ्रोलिथोटॉमी

डायट लेते समय इन बातों का रखें ध्यान

  • किडनी स्टोन होने पर इलाज के साथ ही अपनी डायट में भी परिवर्तन करें। खाने में एनिमल प्रोटीन की कम मात्रा ही शामिल करें। प्रोटीन की अधिक मात्रा यूरिक एसिड को बढ़ाती है, जो पेशेंट के लिए सही नहीं है।
  • कुछ फूड पथरी बनने के लिए जिम्मेदार होते हैं जैसे कि पालक, चुकंदर, टमाटर, कुछ ड्राई फ्रूट्स आदि का सेवन न करें या फिर सीमित मात्रा में ही करें।
  •   आप तरल पदार्थों का सेवन ज्यादा करें लेकिन एक बार आप डॉक्टर से पूछें कि आपको किडनी स्टोन की समस्या के दौरान किन फूड, फल और सब्जियों को इग्नोर करना चाहिए।

गुर्दे की पथरी का इलाज कैसे किया जाता है?

किडनी स्टोन के इलाज के दौरान डॉक्टर मेडिकल हिस्ट्री, फिजिकल टेस्ट के साथ यूरिन टेस्ट करता है। आपको पेट के एक्स-रे या अल्ट्रासाउंड कराने की जरूरत हो सकती है। टेस्ट कैल्शियम, सिस्टीन और स्ट्रूवाइट स्टोन के होने की जानकारी देंगे । एक्स-रे यूरिक एसिड स्टोन साथ छोटे स्टोन का पता नहीं लगा पता। यूरिन ट्रैक में स्टोन को डायग्नोस या उसका निदान करने में सीटी स्कैन कारगर साबित होता है। ये आपको उन लक्षणों के बारे में भी जानकारी देता है, जो किडनी स्टोन का कारण बनती है।

रेयर केस ही हैं जिनके निदान में दिक्कत आती है। ऐसे केस में निदान, एक विशेष एक्स-रे आईवीपी द्वारा किया जा सकता है। इस टेस्ट में यूरिन ट्रैक को एक डाई की मदद से आउटलाइन करके स्टोन का पता लगाया जाता है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें : Bladder-stone: ब्लैडर स्टोन क्या है?

जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार

जीवनशैली में बदलाव या घरेलू उपचार, जो मुझे गुर्दे की पथरी (Kidney Stones) को मैनेज करने में मदद कर सकते हैं?

नीचे बताई गई जीवनशैली और घरेलू उपचार आपको गुर्दे की पथरी से निपटने में मदद कर सकते हैं :

  • अपनी सभी जरूरी दवाएं लें।
  • खाने-पीने से जुड़ी हुई डॉक्टरी सलाह का पालन करें।
  • दिन में कम से कम दो से तीन लीटर तरल पदार्थ पिएं।
  • अगर आपको दिक्कत महसूस हो रही है, तो अपने डॉक्टर को कॉल करें।

उपरोक्त दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अगर आपके कोई प्रश्न हैं, तो उसके बेहतर समाधान के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Neopeptine: निओपेपटीन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जानिए नेओपेपटिन (Neopeptine) की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितनी खुराक लें, नेओपेपटिन डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 15, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Cyra D: सायरा डी क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जानिए सायरा डी (Cyra D) की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितनी खुराक लें, सायरा डी, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 4, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

क्या प्रेग्नेंसी में प्रॉन्स खाना सुरक्षित है?

प्रेग्नेंसी में प्रॉन्स खाना क्या सुरक्षित है, प्रेग्नेंसी में प्रॉन्स कैसे खाना चाहिए, क्या गर्भावस्था में झींगा खा सकते हैं, eating prawns in pregnancy

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

बच्चों में टाइफाइड के लक्षण को पहचानें, खतरनाक हो सकता है यह बुखार

बच्चों में टाइफाइड के लक्षण क्या हैं? मियादी बुखार के कारण क्या हैं? बच्चों में टाइफाइड का इलाज कैसे किया जाता है? टाइफाइड की वैक्सीन

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग मई 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

पेट में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज-Ayurvedic treatment for stomach pain

पेट में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ जून 30, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अकोशियामाइड /Acotiamide

Acotiamide: अकोशियामाइड क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ जून 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
पथरी का आयुर्वेदिक इलाज

पथरी का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानें कौन सी जड़ी-बूटी होगी असरदार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जून 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
Cyclopam Syrup - साइक्लोपाम सिरप

Cyclopam Syrup: साइक्लोपाम सिरप क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ जून 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें