Reye’s syndrome: रेये सिंड्रोम क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

परिचय

रेये सिंड्रोम क्या है ?

रेये सिंड्रोम (Reye’s syndrome) को रेये-जॉनसन सिंड्रोम भी कहा जाता है। रेये सिंड्रोम बहुत ही कम होने वाला विकार है, यह दुर्लभ विकार लिवर और मस्तिष्क को नुकसान पहुचाता है। अगर रेये सिंड्रोम का समय रहते इलाज नही करवाया जाए तो यह स्थायी मस्तिष्क की चोट या मौत का कारण बन सकता है। रेये सिंड्रोम तेजी से बढ़ने वाली एन्सेफेलोपैथी है जो 20 से 40 प्रतिशत प्रभावित लोगों की मृत्यु का कारण बनता है। वैसे तो रेये सिंड्रोम किसी भी उम्र में हो सकता है, लेकिन रेये सिंड्रोम के ज्यादातर मामले बच्चों में देखे गए है। रेये सिंड्रोम अधिकतर उन बच्चों को होता है, जिन्हें हाल ही में वायरल संक्रमण जैसे कि चिकनपॉक्स या फ्लू हुआ है। जब बच्चों में चिकनपॉक्स या फ्लू के संक्रमण का इलाज करने के लिए एस्पिरिन दवाई दी जाती है तो रेये सिंड्रोम का जोखिम बढ़ जाता है। चिकनपॉक्स और फ्लू दोनों ही ऐसे वायरल संक्रमण है जिसमें सिर दर्द होता है जब सिरदर्द को ठीक करने के लिए एस्पिरिन दी जाती है तो रेये सिंड्रोम होने का जोखिम बढ़ जाता है।

यह भी पढे़ं:  शॉग्रेंस सिंड्रोम क्या है और इससे कैसे बच सकते हैं?

लक्षण

रेये सिंड्रोम के लक्षण क्या है?

रेये सिंड्रोम क्या है जानने के बाद जानिए रेये सिंड्रोम के लक्षण। रेये सिंड्रोम (Reye’s syndrome) से पीड़ित बच्चे के खून में ग्लूकोज का स्तर गिर जाता है, साथ ही उसके खून में अमोनिया (ammonia) और अम्लता (acidity) का स्तर बढ़ जाता है। उस समय लीवर में सूजन भी आ जाती है और फैट भी जमा होने की संभावना होती है। इस सिंड्रोम के कारण दिमाग में सूजन भी हो सकती है, जिससे दौरे और चेतना (consciousness) में कमी हो सकती है। रेये सिंड्रोम के लक्षण आमतौर पर वायरल संक्रमण की शुरुआत के तीन से पांच दिन बाद दिखाई देने लग जाते हैं, जैसे फ्लू (इन्फ्लूएंजा) या चिकनपॉक्स या सांस में समस्या या श्वसन संक्रमण (respiratory infection) जैसे कि सर्दी।

यह भी पढ़ें- Ashermans Syndrome : एशरमेंस सिंड्रोम क्या है?

1.रेये सिंड्रोम के शुरूआती संकेत और लक्षण:-

2 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में रेये सिंड्रोम के लक्षणों में निम्न शामिल हो सकते है:

  • दस्त (Diarrhea)
  • तेजी से सांस लेने (Rapid breathing)

2.बड़े बच्चों और किशोरों में रेये सिंड्रोम शुरुआती लक्षण में निम्न शामिल है:

  • लगातार उल्टी होना।
  • नींद असामान्य हो जाना या सुस्ती होना।

इनके अलावा भी रेये सिंड्रोम के संकेत और लक्षण है। जैसे जैसे स्थिति आगे बढ़ती है, यदि इलाज न किया जाएं तो संकेत और लक्षण ज्यादा गंभीर हो जाते है, इनमें निम्न शामिल है।

  • चिड़चिड़ापन, आक्रामक या तर्कहीन व्यवहार
  • मतिभ्रम (hallucinations) होना
  • बाहों और पैरों में कमजोरी होना
  • स्ट्रोक होना
  • बहुत ज्यादा सुस्ती होना
  • चेतना (consciousness) में कमी या बेहोशी होना

यह भी पढ़ें: Treacher Collins syndrome : ट्रेचर कॉलिंस सिंड्रोम क्या है?

कारण

रेये सिंड्रोम के क्या कारण हैं? 

रेये सिंड्रोम क्या है जानने के बाद जानिए रेये सिंड्रोम के कारण। डॉक्टर्स ने अभी तक रेये सिंड्रोम (Reye’s syndrome) होने का कोई निश्चित कारण नहीं बताया है इसलिए रेये सिंड्रोम होने का कारण अब तक अज्ञात ही है। यह ज्यादातर उन बच्चों को होता है, जिन्हें फैटी एसिड ऑक्सीकरण विकार है। इस डिसऑर्डर में एंजाइम फैट यानी वसा को हजम करने में दिक्कत आती है। ओवर-द-काउंटर दवाइयों के कारण भी रेये सिंड्रोम की समस्या बढ़ सकती है। कुछ दवाइयां ऐसी भी है जो एस्पिरिन के विकल्प के तौर पर इस्तेमाल की जाती है, जैसे कि बिस्मथ सैलिसिलेट (Pepto-Bismol, Kaopectate), विंटरग्रीन के तेल वाले उत्पाद (ये आमतौर पर सामयिक दवाओं के तौर पर इस्तेमाल की जाती है), इन सभी चीजों को बच्चों को नहीं दिया जाता, इससे उन्हें वायरल संक्रमण होने की संभावना होती है। यदि बच्चे को चिकनपॉक्स का टीका लगाया गया है तो कई हफ्तों तक इन चीजों का इस्तेमाल नहीं किया जाता है। इसके अलावा पेंट थिनर्स या हर्बिसाइड्स जैसे कुछ रसायनों के संपर्क में आने से भी रेये सिंड्रोम को बढ़ने में मदद मिलती है।

यह भी पढ़ें– Cauda Equina Syndrome (CES): कॉडा इक्वाईना सिंड्रोम क्या है?

जोखिम

रेये सिंड्रोम के क्या खतरे हो सकते हैं? 

रेये सिंड्रोम क्या है जानने के बाद जानिए रेये सिंड्रोम के जोखिम। फैटी एसिड ऑक्सीकरण विकार होने वाले बच्चों को रेये सिंड्रोम का रिस्क सबसे ज्यादा होता है। इस विकार की जानकारी बच्चे के स्क्रीनिंग टेस्ट से पता चल जाती है। यह एक बुनियादी मेटाबॉलिक स्थिति होती है, जो वायरस के जरिये उजागर होती है। यदि बच्चे को वायरल संक्रमण है तो एस्पिरिन का इस्तेमाल बिलकुल न करें। आपको बता दें कि रेये सिंड्रोम बहुत ही दुलर्भ सिंड्रोम है, इसके बारे में जानकारी अभी भी सीमित है।

यह भी पढ़ें: Sick Sinus Syndrome : सिक साइनस सिंड्रोम क्या है?

जांच

रेये सिंड्रोम की जांच कैसे की जाती है? 

रेये सिंड्रोम क्या है जानने के बाद जानिए रेये सिंड्रोम की जांच कैसे की जाती है। जब किसी मरीज में रेये सिंड्रोम के लक्षण दिखाई देते है तो डॉक्टर उसकी जांच करके इलाज शुरू करते है। प्रयोगशाला में रेये सिंड्रोम का पता लगाने के लिए निम्न प्रयोग किए जाते है-

1.स्पाइनल टैप- डॉक्टर स्पाइनल टैप की सहायता से मिलने वाले लक्षणों और अन्य संकेतों की सहायता से इस बीमारी का पता लगा सकते हैं।

2.लिवर बायोप्सी- रेये सिंड्रोम की जांच के लिए लीवर की बायोप्सी की जाती है जिसके जरिए लीवर को प्रभावित करने वाले कारको का पता लगाया जाता है।

3.कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी स्कैन- रेये सिंड्रोम की जांच के लिए मस्तिष्क की छवियों को देखने के लिए और स्नायविक असामानताओं का मूल्यांकन किया जाता है।

4.स्किन बायोप्सी- रेये सिंड्रोम का पता लगाने के लिए स्किन की बायोप्सी भी की जाती है।

यह भी पढ़ें:  Cri du chat syndrome : क्री दू शात सिंड्रोम क्या है?

इलाज

रेये सिंड्रोम का इलाज कैसे किया जाता है? 

रेये सिंड्रोम क्या है जानने के बाद जानिए रेये सिंड्रोम का इलाज कैसे किया जाता है। रेये सिंड्रोम (Reye’s syndrome) गंभीर समस्या है, इसका इलाज जरूरी है। रेये सिंड्रोम होने पर अस्पताल में भर्ती कर इलाज किया जाता है। यदि स्थिति गंभीर हो जाएं तो आईसीयू में भर्ती कर इलाज किया जाता है। रेये सिंड्रोम का इलाज कर इसके लक्षण और जोखिम को कम किया जाने पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। इलाज के दौरान डॉक्टर इस बात का ध्यान रखते है कि बच्चा हाइड्रेटेड रहें, उसके शरीर में पानी की कमी न हो। साथ ही दिल, फेफड़े और लीवर को मॉनिटर किया जाता है।

यह भी पढ़ें: Cauda Equina Syndrome (CES): कॉडा इक्वाईना सिंड्रोम क्या है?

घरेूल उपाय

रेये सिंड्रोम से बचाव के लिए अपनाएं जाने वाले घरेलू उपाय? 

रेये सिंड्रोम के लक्षणों के आधार पर इसका इलाज शुरू किया जाता है। डॉक्टरों द्वारा रेये सिंड्रोम के इलाज में निम्न दवाएं दी जाती है-

  • ग्लूकोज मेटॉबॉलिज्म बढ़ाने के लिए इंसुलिन दिया जाता है।
  • दिमाग की सूजन को कम करने के लिए कोर्टिकोस्टेरोइड (corticosteroids) दी जाती है।
  • अतिरिक्त फ्लूड को हटाने के लिए यूरिन बढ़ाने वाली दवाई दी जाती है।
  • यदि रेये सिंड्रोम की वजह से हालत गंभीर हो जाये और बच्चे को सांस लेने में दिक्कत हो तो श्वास यंत्र (breathing machine) का इस्तेमाल किया जाता है।

यह भी पढ़ें: Horner syndrome : हॉर्नर सिंड्रोम क्या है?

यदि रेये सिंड्रोम का इलाज न करवाया जाएं तो दिमाग में क्षति (Brain Damage) होकर मौत भी हो सकती है। इसलिए लक्षणों के आधार पर डॉक्टर से तुरंत सलाह लेना जरूरी है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Mallory-Weiss Syndrome: मैलरी-वाइस सिंड्रोम क्या है?

जानिए मैलरी-वाइस सिंड्रोम क्या है in hindi. मैलरी-वाइस सिंड्रोम से कैसे बचें? Mallory-Weiss Syndrome होने पर जीवनशैली में क्या बदलाव करें?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Nidhi Sinha
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

किडनी कैंसर के क्या हैं लक्षण, जानिए क्या है इसका इलाज ?

किडनी कैंसर के शुरुआती लक्षण अक्सर पता नहीं चलते हैं। अगर आपको पेट के पिछले हिस्से में दर्द की समस्या है और साथ ही बुखार भी रहा है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। kidney cancer

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Bhawana Awasthi

Hay Fever: हे फीवर क्या है?

हे फीवर क्या है, जानिए इसके कारण, लक्षण और उपचार के बारे में, क्या हे फीवर और कॉमन कोल्ड एक ही है, hay fever kya होने पर क्या करें जानें in Hindi

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by sudhir Ginnore
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जनवरी 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Dust Exposure: धूल से होने वाली एलर्जी क्या है?

जानें धूल से होने वाली एलर्जी क्या है in Hindi , धुल से होने वाली एलर्जी के कारण, लक्षण और बचावए, जानिए धूल की एलर्जी से कैसे बचा जा सकता है। Dhool Se Allergy ka इजाल और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by sudhir Ginnore
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जनवरी 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

लिंग का टेढ़ापन (पेरोनी रोग)- Peyronies

Peyronies : लिंग का टेढ़ापन (पेरोनी रोग) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Ankita Mishra
Published on जून 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

एनीमिया और महिलाओं के बीच क्या संबंध है?

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by shalu
Published on मार्च 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
हृदय रोग - heart diseases

Tetralogy of Fallot: टेट्रालॉजी ऑफ फलो क्या है ?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by sudhir Ginnore
Published on मार्च 1, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
लेवेटर एनी सिंड्रोम-levator ani syndrome

Levator Ani Syndrome: लेवेटर एनी सिंड्रोम क्या है?

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Sunil Kumar
Published on फ़रवरी 28, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें