अपनी डायट में शामिल करें ये 7 चीजें, वायरल इंफेक्शन से रहेंगे कोसों दूर

Medically reviewed by | By

Update Date मार्च 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

बदलते मौसम के साथ वायरल इंफेक्शन होना आम बात है। ये इंफेक्शन आपकी रोजाना की दिनचर्या के साथ-साथ आपके काम को भी प्रभावित कर सकते हैं। इन इंफेक्शंस के कारण गले में खराश, सर्दी-जुकाम, डायरिया, छाती में इन्फेक्शन, गले में इंफेक्शन, निमोनिया या तेज बुखार हो सकता है। मौसम के बदलते मिजाज के बीच अगर आपको ऐसी समस्याएं हो रही हैं, तो आप वायरल इंफेक्शन का शिकार हो सकते हैं। इन दिनों बदलते मौसम में वायरल इंफेक्शन सबसे आम समस्या है लेकिन, इसमें बरती गई लापरवाही भारी पड़ सकती है। ऐसे में जिन दिक्कतों को आप महज सर्दी-जुकाम या छोटी-मोटी एलर्जी समझकर दरकिनार कर देते हैं, उन्हें पहचानकर सही समय पर इलाज करवाना जरूरी है।

क्यों होता है वायरल इंफेक्शन?

आमतौर पर मौसम में बदलाव के कारण वायरस अधिक सक्रिय हो जाते हैं। ये इतने अधिक छोटे हैं कि इन्हें पहचानना बहुत कठिन होता है। हमारे शरीर में मौजूद एंटीबॉडी प्रोटींस भी कई बार इन्हें पहचान नहीं पाते, क्योंकि ये तेजी से अपनी संरचना बदल लेते हैं। ये तेजी से शरीर, खासतौर पर नाक, गले, फेफड़े और सीने में प्रवेश कर सकते हैं और कुछ ही घंटों में शरीर को संक्रमित करने में सक्षम होते हैं।

मौसमी सब्जियों को करें डायट में शामिल

मौसम में होने वाले बदलाव के साथ होने वाली परेशानियों का उपाय भी इसी में छिपा है। वायरल इंफेक्शन से बचने के लिए मौसमी सब्जियों को अपनी डायट में शामिल करें। यही कारण है कि पालक सर्दी के मौसम में आता है। ये प्राकृतिक रूप से गर्म होता है। न्यूट्रिएंट्स से भरपूर साग का सेवन करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता अधिक होती है। इसमें फाइटोन्यूट्रिएंट्स शामिल होते हैं, जो सर्दी में होने वाले कोल्ड, फीवर और फ्लू से रक्षा प्रदान करता है। आप वायरल इंफेक्शन से बचने के लिए नीचे बताई गई चीजों का सेवन कर सकते हैं :

शहद और अदरक (Honey and Ginger)

सर्दी में बहुत सारे लोगों को अदरक वाली चाय की क्रेविंग होती रहती है लेकिन, क्या आपने कभी ऐसा सोचा है कि ठंड के मौसम में हमारे शरीर को अदरक की जरूरत होती है। अदरक में एंटी-इंफ्लमेटरी गुण होते हैं, जो कोल्ड और फ्लू से बचाने के साथ-साथ गले में खराश और सांस लेने में हो रही दिक्कत से भी राहत दिलाते हैं। वायरल इंफेक्शन से बचने के लिए बेहतरीन नुस्खा है।

ये भी पढ़ें: चीज खाते हैं तो हो जाएं सावधान, बढ़ सकता है ब्रेस्ट कैंसर का खतरा

तुलसी और काली मिर्च (Basil and Black pepper)

तुलसी हमारे शरीर में इम्यूनिटी बढ़ाती है। अस्थमा और आर्थराइटिस के लक्षण को दूर करने में ये मददगार है। इसके साथ ही, ये कोल्ड और कफ से भी निजात दिलाती है। मौसम के बदलने पर होने वाली स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतें जैसे बुखार, डायरिया, आर्थराइटिस, उल्टी, एसिड बनना, कार्डिएक डिसऑर्डर, कमर में दर्द और स्किन संबंधित परेशानी सभी से ये राहत दिलाती है। काली मिर्च में एंटी-बैक्टीरियल और एंटीबायॉटिक गुण होते हैं, जो इम्यूनिटी को बूस्ट करने का काम करते हैं।

हल्दी (Turmeric)

एक गिलास गर्म पानी में चुटकी भर हल्दी मिलाकर रोजाना सुबह पिएं। अपने दिन की शुरुआत ही इसी ड्रिंक से करें। ये ड्रिंक आपके लिवर के लिए बेहद फायदेमंद है। ये लिवर में मौजूद टॉक्सिंस को बाहर करने में मदद करती है। इसमें एंटीवायरल और एंटी-बैक्टीरियल प्रोपर्टीज होती हैं, जो शरीर को हर तरह के इंफेक्शन से लड़ने में सक्षम बनाती है और वायरल इंफेक्शन से बचाव करती है।

ये भी पढ़ें: इस तरह नींद करती है कैंसर से उबरने में मदद

आंवला (Amla)

आंवले का सेवन गुणकारी होता है। आयुर्वेद में भी इसका वर्णन किया गया है। इसमें प्रचुर मात्रा में विटामिन-सी पाया जाता है। सर्दियों में इसे डायट में शामिल करना अच्छा होता है। ये इम्यूनिटी को बढ़ाने के साथ डाइजेशन में भी सुधार करता है। इससे वायरल इंफेक्शन से भी बचाव होता है।

लहसुन ( Garlic)

भोजन का स्वाद बढ़ाने के साथ-साथ लहसुन हमारे स्वास्थ्य के लिए भी वरदान समान होता है। इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल प्रॉपर्टीज हमें कई बीमारियों से सुरक्षा कवच प्रदान करती हैं। जो लोग लहसुन का सेवन करते हैं, उनमें मौसमी बीमारियों के होने का खतरा कम होता है। इसके लिए रोजाना खाली पेट लहसुन की दो कलियों का सेवन करें।

यह भी पढ़ें: पेरेंट्स का बच्चों के साथ सोना बढाता है उनकी इम्यूनिटी

सिट्रस (Citrus)

डायट में हरी सब्जिया, बेल मिर्च और सिट्रस फल जैसे संतरा और ग्रेपफ्रूट को शामिल करें। ये सभी विटामिन-सी से भरपूर होते हैं। ये शरीर में हिस्टामाइन को निष्क्रिय कर देता है। बता दें, हिस्टामाइन के कारण एलर्जी होती है और यह प्राकृतिक इंफ्लेमेशन का उत्पादन करता है।

नट्स का सेवन करें (Nuts)

चिप्स की जगह स्नैक्स में नट्स और बीजों का सेवन करें। ये विटामिन-ई और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं जो जुकाम सहित श्वसन संक्रमण से लड़ने में कारगर है।

ब्रोकली (Broccoli)

ब्रोकली विटामिन और मिनरल्स से भरपूर होती है। इसमें विटामिन-ए, विटामिन-सी, विटामिन-ई के साथ कई एंटीऑक्सीडेंट शामिल होते हैं। वायरल इंफेक्शन से बचने के लिए यह आपकी सेहत के लिए वरदान समान है।

योगर्ट (Yoghurt)

योगर्ट आपके इम्यून सिस्टम को दुरुस्त रखने के साथ कई बीमारियों से लड़ने में मदद करता है। कोशिश करें फ्लेवर योगर्ट की जगह प्लेन योगर्ट को डायट में शामिल करें। आप प्लेन योगर्ट में फलों या शहद को मिलाकर फ्लेवर बना सकते हैं।

ग्रीन टी (Green Tea)

ग्रीन टी फ्लेवोनॉयड से भरपूर होती है। इसके अलावा इसमें एमिनो एसिड एल थिएनाइन होते हैं जो कीटाणुओं से लड़ने में मदद करते हैं।

पपीता (Papaya)

पपीता विटामिन-सी से भरपूर होता है। इसमें डायजेस्टिव एंजाइम पापाइन होता है जिसमें एंटी-इन्फलामेटरी गुण होते हैं। पपीते पोटेशियम, विटामिन-बी और फोलेट का अच्छा स्त्रोत है जो हमारी ओवरऑल हेल्थ के लिए बेहद फायदेमंद है।

मौसम के बदलने पर अक्सर वायरल बुखार और संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा होता है। ये वो समय होता है जब वायरस कुछ ज्यादा ही सक्रिय हो जाते हैं और हमारे शरीर को संक्रमित कर सकते हैं। ऐसे में हमने ऊपर कुछ चीजों के बारे में बताया हैं जिन्हें आप अपनी डायट में शामिल कर इससे बच सकते हैं। हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में वायरल इंफेक्शन से बचने के लिए डायट में करने वाले बदलाव के बारे में बताया है। यदि आपका इससे जुड़ा कोई अन्य सवाल है तो आप हमसे कमेंट कर पूछ सकते हैं। आपको यह लेख कैसा लगा यह भी आप हमें कमेंट कर बता सकते हैं।

और पढ़ें:

क्या टमाटर के भर्ते से बढ़ सकती है पुरुष की फर्टिलिटी?

वायरलेस ऑब्जर्व थेरिपी की मदद से टीबी का इलाज हुआ आसान

Sore Throat: गले में दर्द से छुटकारा दिलाएंगे ये घरेलू उपाय

नाक से खून किन वजहों से निकलता है, कैसे करें बचाव?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    लिवर साफ करने के उपाय: हल्दी से लहसुन तक ये नैचुरल चीजें लिवर की सफाई में कर सकती हैं मदद

    लिवर साफ करने के उपाय अपनाकर आप कई सारी समस्याओं से बच सकते हैं। अच्छी नींद, खाने में हल्दी का प्रयोग, एंटीऑक्सीडेंट फूड आदि आपके लिवर को स्वस्थ्य रखेगा।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Bhawana Awasthi
    हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन मार्च 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    प्रेग्नेंसी में उल्टी के उपचार के लिए अपनाएं ये 8 उपाय

    प्रेग्नेंसी में उल्टी के उपचार की जानकारी in hindi. प्रेग्नेंसी में उल्टी के उपचार के लिए कुछ घरेलू उपाय अपनाए जा सकते हैं। आइए जानते हैं उनके बारे में। Vomiting during pregnancy के कारण क्या हैं?

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Nidhi Sinha
    प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी जनवरी 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Viral pharyngitis: वायरल फैरिन्जाइटिस (ग्रसनीशोथ) क्या है?

    वायरल फैरिन्जाइटिस इंफेक्शन के कारण, लक्षण और उपचार, viral pharyngitis treatment in hindi, वायरल फैरिन्जाइटिस के बारे में in hindi...

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z दिसम्बर 24, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    Laryngitis: लेरिन्जाइटिस क्या है?

    लेरिन्जाइटिस क्या है? Types of Laryngitis in Hindi, लेरिन्जाइटिस के लक्षण, Laryngitis Symptoms in Hindi, Laryngitis sympotms in hindi

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Anu Sharma
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z दिसम्बर 19, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें