home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

अद्भुत गुणों से भरपूर है अदरक (Ginger), जानिए अदरक के फायदे

अद्भुत गुणों से भरपूर है अदरक (Ginger), जानिए अदरक के फायदे

‘अदरक वाली चाय’ नाम सुनते ही ताजगी का एहसास होता है, ऐसे अदरक के कई सारे फायदे है। यह ज्यादातर खाद्य पदार्थ होने के साथ-साथ आयुर्वेदिक औषधि भी है। इसका उपयोग खाने के स्वाद को बेहतर बनाने और कई बीमारियों के इलाज के लिए भी किया जाता है। यही कारण है कि आयुर्वेद में अदरक का खास महत्व है। इस लेख द्वारा हम आपको अदरक के फायदों के बारे में बताएंगे –

और पढ़ें – Acetaminophen : एसिटामिनोफेन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

अदरक से मिल सकती है जी मिचलाने में राहत

जब आपको मितली आ रही हो या लगे कि उलटी आने वाली है तो ऐसे में अदरक आपको बहुत फायदा पहुंचा सकता है। एक चमच अदरक के रस में एक चमच नींबू का रस मिला कर पीने से कुछ ही समय में मतली की समस्या दूर हो जाती है। इसका इस्तेमाल गर्भवस्था के शुरुआती दिनों में मॉर्निंग सिकनेस से राहत प्राप्त करने में भी किया जाता है। माइग्रेन के सिरदर्द में जी मचलना और मितली आना बहुत आम है, ऐसे में यह माइग्रेन के लक्षणों से रहत दिलाने में भी मदद करता है।

और पढ़ें – पालक से शिमला मिर्च तक 8 हरी सब्जियों के फायदों के साथ जानें किन-किन बीमारियों से बचाती हैं ये

वजन घटाने में मदद करती है अदरक

अक्सर लोग वजन कम करने के दौरान अदरक का उपयोग करते हैं। इसे फैट बर्नर (fat burner) माना जाता है। अध्ययन के अनुसार कि यह उच्च वसा वाले आहार पर चूहों के मोटापे को दबा देता है। और एक अन्य अध्ययन में दिए गए स्रोत में पाया गया कि जो पुरुष खाने के बाद एक गर्म अदरक पेय पीते थे, वे लंबे समय तक अधिक भरे हुए महसूस करते थे। संतुलित रक्त शर्करा भी आपको अधिक खाने से रोक सकता है।

और पढ़ें – गणेश चतुर्थी 2020 : गणेश चतुर्थी को लेकर सरकार ने जारी किए ये गाइडलाइन, जानें क्या नहीं करना होगा

अदरक से मिल सकती है जुखाम-बुखार से राहत

सदियों से इसका का इस्तेमाल सर्दी-जुखाम के वायरल इंफेक्शन से बचाव के लिए किया जाता है। इसे चाय के द्वारा लिया जा सकता है जिससे शरीर को गर्मी मिलेगी और पसीने के जरिए हानिकारक तत्व शरीर से बाहर निकल में मदद होगी। यह डायफोरेटिक है, जिसका अर्थ है कि यह पसीना को बढ़ावा देता है, शरीर को भीतर से गर्म करने के लिए काम करता है।

और पढ़ें – इन पारसी क्यूजीन के बिना अधूरा है नवरोज फेस्टिवल, आप भी करें ट्राई स्वादिष्ट पारसी रेसिपीज

गठिया के दर्द में आराम

इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होने के कारण यह जोड़ों के दर्द को कम करने में मदद करता है। दर्द कम करने के लिए अदरक खाया जा सकता है या दर्द की जगह इसका लेप बनाकर भी लगाया जा सकता है। इसका लेप बनाने के लिए, उसे पीस लें और उसे हल्दी में मिला कर दिन में दो बार लगाएं। कुछ ही दिनों में फर्क महसूस होने लगेगा।

और पढ़ें – रूमेटाइड आर्थराइटिस का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानें प्राकृतिक औषधियों के बारे में

पाचन को बेहतर बनाए

यह पाचन प्रक्रिया को बेहतर बनाने का काम करता है। यह पेट फूलने, कब्ज, गैस, एसीडिटी जैसी समस्याओं को ठीक करने में भी सहायक है। जिन लोगों को पेट से संबंधित समस्याएं होती हैं उन्हें रोजाना सुबह खाली पेट अदरक का सेवन करना चाहिए। यह पाचन तंत्र के माध्यम से गतिशीलता बढ़ाने के लिए, एंजाइम ट्रिप्सिन और अग्नाशयी लाइपेस पर लाभकारी होता है

और पढ़ें – अल्सरेटिव कोलाइटिस रोगी के डाइट प्लान में क्या बदलाव करने चाहिए?

पीरियड क्रैम्प्स से आराम

जैसा कि आप जान चुके हैं कि यह औषधीय गुणों से भरपूर है, यही कारण है कि यह मासिक धर्म में भी बहुत आराम दे सकता है। एक स्टडी द्वारा पता चलता है, कि अदरक पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द और खिंचाव से राहत दिलाने में मदद करता है। इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण, प्राकृतिक दर्द निवारक का काम करते हैं।

और पढ़ें – थायराइड डाइट प्लान अपनाकर पाएं हेल्दी लाइफस्टाइल, बीमारी से रहे दूर

इम्यूनिटी स्तर को बढ़ाए

अगर आपके शरीर में बीमारी से लड़ने की क्षमता कम है, तो अपनी डायट में अदरक को शामिल कर सकते है। यह आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है और शरीर को बीमारियों से लड़ने में मदद करता है। इसमें एंटीवायरल गुण होते हैं जिसके कारण यह सर्दी-जुखाम जैसी बीमारियों से बच सकते है।

और पढ़ें – क्यों बादाम को भिगोकर खाने की दी जाती है सलाह? जानें भीगे हुए बादाम के फायदे

दिल की सेहत के लिए है फायदेमंद

दिल से जुड़ी समस्याएं जैसे खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने, ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने और खून को थक्कों में बदलने से रोकने लिए अदरक बड़ा फायदेमंद साबित होता है। इसके अलावा दिल की कई और बीमारियों से बचने के लिए भी अदरक काफी हद तक मदद करता है।

और पढ़ें – जानें ऐसी 7 न्यूट्रिशन मिस्टेक जिनकी वजह से वेट लॉस डायट प्लान पर फिर रहा है पानी

मांसपेशियों के दर्द को कम कर सकती है अदरक

एक्सरसाइज के बाद मांसपेशियों में होने वाले दर्द में भी अदरक प्रभावी रूप से असरदार हो सकती है। एक अध्ययन में सामने आया है कि 11 दिनों के लिए प्रति दिन 2 ग्राम अदरक का सेवन, कोहनी के व्यायाम करने वाले लोगों में मांसपेशियों के दर्द को काफी कम कर देता है। अदरक का तत्काल प्रभाव नहीं होता है, लेकिन यह मांसपेशियों में दर्द की दिन-प्रतिदिन की प्रगति को कम करने में प्रभावी हो सकता है।

और पढ़ें – लॉकडाउन में आप भी तो नहीं पी रहे ज्यादा चाय और कॉफी, कितने बड़े हैं नुकसान?

अदरक कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कर सकता है कम

एलडीएल लिपोप्रोटीन जिसे बेड कोलेस्ट्रॉल के रूप में भी जाना जाता है हृदय रोग के जोखिम को बढ़ाता है। आपके द्वारा खाए जाने वाले खाद्य पदार्थ एलडीएल के स्तर पर एक मजबूत प्रभाव डाल सकते हैं। उच्च कोलेस्ट्रॉल वाले 85 व्यक्तियों के 45 दिन तक किए गए एक अध्ययन में, 3 ग्राम अदरक पाउडर ने अधिकांश कोलेस्ट्रॉल में काफी कटौती की। इसके अलावा हाइपोथायरॉइड चूहों पर किए गए एक अध्ययन में भी इसी तरह के मामले निष्कर्ष सामने आए हैं, जहां अदरक ने एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को कम हद तक कोलेस्ट्रॉल कम करने वाली दवा एटोरवास्टेटिन के समान है। दोनों अध्ययनों से कुल कोलेस्ट्रॉल और रक्त ट्राइग्लिसराइड्स में कमी भी देखी गई।

और पढ़ें – क्या आप लॉकडाउन के दौरान नमक का अधिक सेवन करने लगे हैं? तो हो जाएं सावधान

अदरक में मौजूद पदार्थ कैंसर को रोकने में मदद कर सकता है

कैंसर एक बहुत ही गंभीर बीमारी है जो असामान्य कोशिकाओं के अनियंत्रित विकास के कारण होती है। अदरक के अर्क का कैंसर के कई रूपों के लिए वैकल्पिक उपचार के रूप में अध्ययन किया गया है। एंटी-कैंसर गुणों को 6-जिंजरॉल के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है, एक पदार्थ जो कच्ची अदरक में बड़ी मात्रा में पाया जाता है। 30 व्यक्तियों के एक अध्ययन में प्रति दिन 2 ग्राम अदरक के अर्क ने कोलन कैंसर के अणुओं को कम कर दिया।

और पढ़ें – गर्मी के लिए प्रोटीन शेक बनाने के ये आसान तरीके जल्दी सीखें,टेस्टी भी हेल्दी भी

अदरक के साइड इफक्ट्स

आमतौर पर अदरक के सेवन से निम्नलिखित साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं

दिन में 5 ग्राम से अधिक अदरक का सेवन करने से दुष्प्रभावों की संभावना बढ़ जाती है। बेहद दुर्लभ मामलों में रक्तस्राव जैसे लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं। यदि आपको ब्लीडिंग डिसऑर्डर है तो इसे अधिक सावधानी के साथ खाएं। इसके साथ ही अपने डॉक्टर को भी अपनी हर्बल दवाओं के बारे में जरूर बताएं।

और पढ़ें – कोरोना वायरस डायट प्लान : लॉकडाउन और क्वारंटीन के दौरान क्या खाएं और क्या न खाएं?

यदि आप रोजाना किसी दवा का सेवन करते हैं तो जिंजर सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह ले लें। जिंजर सप्लीमेंट ब्लड थिनर दवाओं और डायबिटीज व हाई ब्लड प्रेशर की दवा के साथ इंटरैक्ट कर सकते हैं।

अदरक के इन फायदों को जानने के बाद उम्मीद है कि आप अदरक को अपनी रोजाना के आहार में शामिल करेंगे और इसके गुणों का लाभ उठाएंगे।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Ginger for nausea: Does it work? – https://www.mayoclinic.org/tests-procedures/chemotherapy/expert-answers/ginger-for-nausea/faq-20057891 – accessed on 03/02/2020

Antiallergic potential on RBL-2H3 cells of some phenolic constituents of Zingiber officinale (ginger)/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/19271742/Accessed on 28/08/2020

Ginger (Zingiber officinale) reduces muscle pain caused by eccentric exercise/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/20418184/Accessed on 28/08/2020

[6]-Gingerol suppresses colon cancer growth by targeting leukotriene A4 hydrolase/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/19531649/Accessed on 28/08/2020

Effect of Two Ginger Varieties on Arginase Activity in Hypercholesterolemic Rats/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/27079229/Accessed on 28/08/2020

लेखक की तस्वीर
Dr. Pooja Bhardwaj के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Mubasshera Usmani द्वारा लिखित
अपडेटेड 03/07/2019
x