कॉफी पीने का सही तरीका अपनाएं और इससे से होने वाले नुकसानों को भूल जाएं

    कॉफी पीने का सही तरीका अपनाएं और इससे से होने वाले नुकसानों को भूल जाएं

    हम में से अधिकतर लोगों की सुबह कॉफी या चाय से शुरू होती है। यह एक आदत की तरह है यानी अगर सुबह आपने एक कप कॉफी नहीं पी, तो पूरा दिन सुस्ती और और निराशा में गुजरेगा। कॉफी भी एक तरह की नहीं होती, कोई बटर कॉफी पीना पसंद करता हैं तो कोई बिना दूध वाली काली कॉफी, कोई चीनी के साथ तो कोई बिना चीनी के। कई अध्ययनों से यह साबित हो चुका है कि कॉफी पीना हमारे शरीर के लिए लाभदायक है क्योंकि इसमें पर्याप्त मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं। हालांकि अधिक मात्रा में कॉफी पीना सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है। लेकिन अगर आप कॉफी पीने का सही तरीका जान जाएंगे, तो यह आपके लिए बहुत लाभदायक सिद्ध हो सकता है। जानिए कॉफी संबंधी कुछ ऐसी ही बातों के बारे में जो हमारे शरीर को मजबूत और सेहतमंद बनाने में लाभदायक हैं।

    यह है कॉफी पीने का सही तरीका

    1) ऑर्गेनिक कॉफी चुनें

    आजकल ऑर्गेनिक का जमाना है। ऑर्गेनिक फूड में ऑर्गेनिक कॉफी का नाम भी जुड़ चुका है। पारंपरिक कॉफी में भारी मात्रा में कीटनाशक पाया जाता है। लेकिन आपको ऑर्गेनिक कॉफी भी किसी भी स्टोर में आसानी से मिल जाएगी। आप इसे ट्राई कर सकते हैं। हालांकि फ्लेवर्ड कॉफी से दूर ही रहें क्योंकि इसमें भी आर्टिफिशियल स्वाद के लिए कई हानिकारक तत्वों को मिलाया जाता है। कॉफी पीने का सही तरीका जानने और ऑर्गेनिक कॉफी पीना आपके स्वास्थ्य और शरीर के लिए बेहद लाभदायक है।

    यह भी पढ़ें : ब्लू टी (Blue Tea) है हर मर्ज का इलाज

    2) कॉफी पीने का सही तरीका है कि चीनी कम कर दें

    चीनी एक ऐसी चीज है जो आजकल आधुनिक आहार का सबसे हानिकारक हिस्सा है। चीनी को छोड़ना हम में से अधिकतर लोगों के लिए बहुत मुश्किल है। खासतौर पर बिना चीनी के कॉफी पीना हमारे लिए लगभग असंभव सा है। लेकिन अपनी कॉफी में चीनी की मात्रा को कम करके आप अपने शरीर को मजबूत बना सकते हैं। अगर आप चीनी को पूरी तरह से नहीं छोड़ पा रहे तो इसकी मात्रा कम कर दें या धीरे-धीरे इसे छोड़ें। कॉफी पीने का सही तरीका तभी साबित होगा जब आप अपनी कॉफी में चीनी का इस्तेमाल खत्म कर देगें या यह सिर्फ न के बराबर ही रह जाएगा।

    3) दोपहर दो बजे के बाद कॉफी न पीएं

    कॉफी एक उत्तेजक पेय है और इसके लोकप्रिय होने का यह भी बड़ा कारण है। इस पेय का सबसे बड़ा दुष्प्रभाव यह है कि इससे हमारी नींद पर बुरा प्रभाव पड़ता है। आप सुबह दो से तीन कप कॉफी पी सकते हैं लेकिन दोपहर दो से तीन बजे के बाद कॉफी पीने से बचें। अगर आपको पहले से ही नींद संबंधी समस्या है या नींद कम आती है तो आपको हर हाल में इस पर अमल करना चाहिए। अगर आपकी नींद पूरी होगी तो ही आप स्वस्थ रह सकते हैं। कॉफी कब पीनी है यह भी जानना कॉफी पीने के सही तरीका हो सकता है।

    4) अपनी कॉफी में दालचीनी या कोकोआ डालें

    अपनी कॉफी में कोकोआ डालने से आपके ड्रिंक में एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा बढ़ेगी। लेकिन इसका फायदा तभी होगा जब आपकी कॉफी में चीनी की मात्रा कम होगी। ऐसा ही दालचीनी के साथ भी है। ऐसे में दालचीनी के साथ कॉफी पीने का सही तरीका तब ही जब आप इस कॉफी में चीनी का इस्तेमाल न करें। दालचीनी में थर्मोजेनिक और एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो न केवल स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है बल्कि दालचीनी कॉफी के स्वाद को भी बढ़ाती है।

    5) कम कॉफी पीएं

    कॉफी का अधिक सेवन करने से बचें। कॉफी पीने का सही तरीका है कि खाली पेट इसका सेवन कभी भी न करें। अगर आपने कुछ नहीं खाया है और आप कॉफी पीते हैं तो इससे पेट संबंधी परेशानियां जैसे हार्टबर्न या अपच जैसी समस्याएं हो सकती है। यही नहीं, इससे तनाव भी हो सकता है। इसलिए कॉफी पीने से पहले या साथ में कुछ न कुछ जरूर खाएं। हो सके तो दिन में केवल एक या दो बार ही कॉफी पीएं। कुछ लोग दिन में कई कप कॉफी पीना पसंद करते हैं लेकिन यह हानिकारक है। धीरे-धीरे अपनी अधिक कॉफी पीने की आदत को कम करें। हो सके तो खाने के बाद कॉफी पीएं इससे आपके शरीर को कोई नुकसान नहीं होगा ।

    यह भी पढ़ें : क्या ग्रीन-टी या कॉफी थायरॉइड पेशेंट्स के लिए फायदेमंद हो सकती है?

    6) कॉफी पीने का सही तरीका है कि कॉफी बींस से खुद कॉफी बनाएं

    कॉफी बींस टूटने या पीसने के बाद जब ऑक्सीजन और नमी के संपर्क में आती है तो यह खराब और स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो जाती है। इस प्रक्रिया को देखना है तो एक सेब को काट कर कुछ देर ऐसे ही रहने दें और नोटिस करें कि वो कितनी जल्दी खराब होता है। ऐसा ही कॉफी बींस के साथ भी होता है। इससे आपके शरीर को नुकसान हो सकता है। लेकिन इस समस्या से बचने के लिए आप स्वयं कोकोआ बींस खरीदें और उन्हें खुद पीस कर अपनी कॉफी का मजा लें।

    7) फिल्टर पानी का प्रयोग करें

    जब हम कॉफी बनाते हैं तो पानी को उबालते हैं। हम इस बात का ध्यान नहीं रखते कि यह पानी फिल्टर है या नहीं। हालांकि पानी कोई भी हो कॉफी का स्वाद नहीं बदलता लेकिन अगर पानी फिल्टर नहीं होगा तो जिन पाइप्स से यह पानी आ रहा है वहां की गंदगी और अन्य अशुद्धियां इस पानी में अवश्य शामिल हो जाएंगी। इसलिए कॉफी बनाने के लिए हमेशा साफ और फिल्टर पानी का ही प्रयोग करें।

    8) बादाम दूध को चुनें

    आमतौर पर हम गाय या भैंस आदि के दूध से कॉफी बनाते हैं लेकिन इतना दूध पीने से आपको गैस या पेट की अन्य समस्याएं हो सकती हैं। यही नहीं आपका वजन भी बढ़ सकता है। इसलिए कॉफी पीने का सही तरीका है कि आप डेयरी विकल्पों की जगह बादाम का दूध चुनें। अगर आप काली कॉफी पीते हैं तो यह सबसे बेहतर है।

    यह भी पढ़ें : जानिए ग्रीन कॉफी (Green Coffee) के फायदे

    आजकल खाने को लेकर लोग बहुत अधिक जागरूक हो गए हैं। आपको भी लोग अक्सर यह सलाह देते होंगे कि इस चीज को खाने से शरीर को यह हानि हो सकती है या इस चीज को पीने से आपको यह लाभ हो सकते हैं । कुछ मामलों में ऐसा होता है, लेकिन हर बार यह सही हो ऐसा नहीं है। ऐसे में जरूरी है कि आप वही खाएं जो आपका मन करता है। इन चीजों की चिंता करने से आपके शरीर को अधिक हानि होगी। इसलिए चिंता छोड़ कर सिर्फ अपनी कॉफी का पूरा मजा लें। बस यह याद रखें कि कॉफी (coffee) पीने का तरीका अपनाकर आप चिंतामुक्त हो सकते हैं।

    और पढ़ें :

    कॉफी (coffee) अगर है पहली पसंद : जानें इसके फायदे और नुकसान

    कॉफी का पहला कप करता है दिमाग में 5 बदलाव

    अगर आप पीते हैं ज्यादा कॉफी तो हो सकती हैं खतरनाक बीमारियां

    Jaundice : क्या होता है पीलिया ? जाने इसके कारण लक्षण और उपाय

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. हेमाक्षी जत्तानी

    डेंटिस्ट्री · Consultant Orthodontist


    Anu sharma द्वारा लिखित · अपडेटेड 30/12/2019

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement