home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Grilinctus BM: ग्रिलिंक्टस बीएम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

फंक्शन |डोसेज |उपयोग |साइड इफेक्ट्स |सावधानी और चेतावनी| रिएक्शन | स्टोरेज
Grilinctus BM:  ग्रिलिंक्टस बीएम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

फंक्शन

ग्रिलिंक्टस बीएम (Grilinctus BM) कैसे काम करता है?

ग्रिलिंक्टस बीएम एक प्रकार का सिरप है। इसमें ब्रोमहिक्सीन नामक तत्व आठ एमजी से लेकर पांच एमएल और टरबुटालीन 2.5 एमजी से लेकर पांच एमएल तक पाया जाता है। ग्रिलिंक्टस बीएम सिरप इन दो तत्वों को मिलाकर तैयार किया जाता है।जिसका इलाज खांसी, ब्रोंकियल अस्थमा के कारण ब्रोंकोस्पैम, ब्रोंकाइटिस सहित ब्रोंकोपल्माेनरी डिसऑर्डर (bronchopulmonary disorders) से निजात पाने के लिए किया जाता है।

इस दवा को छह साल से कम उम्र के बच्चों को इस्तेमाल करने की सलाह नहीं दी जाती है। इसलिए जरूरी है कि यदि आप इस दवा का सेवन करते हैं जो सबसे पहले डॉक्टरी सलाह लें, नहीं तो आपकी सेहत पर इसका बुरा असर पड़ सकता है।

डोसेज

ग्रिलिंक्टस बीएम (Grilinctus BM) का सामान्य डोज क्या है?

वैसे तो यह दवा बच्चों, व्यस्क और बुजुर्गों की हाइट, वजन और हेल्थ कंडिशन को देखने के साथ मेंटल लेवल की जांच करने के बाद ही एक्सपर्ट देते हैं। एक व्यस्क इस दवा को आठ एमजी दिन में तीन बार या फिर पांच एमएल दिन में तीन बार ले सकता है। वहीं बुजुर्ग व्यक्ति भी आठ एमजी दिन में तीन बार या फिर पांच एमएल की खुराक दिन में तीन बार सेवन कर सकता है। बच्चों के लिए डॉक्टरी सलाह लें खास तौर पर पीडिएट्रिक से सलाह लेने के बाद खुराक दें।

ओवरडोज या आपात स्थिति में मुझे क्या करना चाहिए?

डॉक्टर के सुझाए डोज से यदि आप ज्यादा मात्रा में डोज का सेवन करते हैं तो जरूरी है कि जल्दी से जल्दी डॉक्टरी सलाह लें। इस परिस्थिति में आपको मेडिकल इमरजेंसी तक की जरूरत पड़ सकती है।

ग्रिलिंक्टस बीएम (Grilinctus BM) की खुराक मिस हो जाए तो क्या करूं?

यदि आप सिरप का सेवन करना भूल जाते हैं तो उस परिस्थिति में जरूरी है कि जितनी जल्दी आपको याद आए दवा का सेवन करें। वहीं यदि अगली खुराक का समय आ गया है तो यही सही यही रहेगा कि आने वाली खुराक का समय पर दवा का सेवन करें। डबल डोज न लें।

[mc4wp_form id=”183492″]

और पढ़ें : Volini Gel: वॉलिनी जेल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

उपयोग

ग्रिलिंक्टस बीएम (Grilinctus BM) का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए?

इस दवा का सेवन आप चाहें तो खाने के साथ या बिना भोजन के सिर्फ पानी के साथ ले कर सकते हैं। खाने के बाद यदि इसका सेवन करेंगे तो काफी फायदा पहुंचेगा और स्टमक संबंधी परेशानी भी नहीं होगी, लेकिन जरूरी है कि पहले डॉक्टरी सलाह ली जाए, उसके बाद ही दवा का सेवन शुरू करें।

खुराक संबंधी डॉक्टर के दिए दिशा-निर्देशों का पालन करना चाहिए। इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि डॉक्टर के द्वारा सुझाए गए डोज से न कम और न ही ज्यादा मात्रा में दवा का सेवन करना चाहिए। वहीं दवा के सेवन को लेकर रिएक्शन होता है या फिर स्थिति और गंभीर होती है तो जरूरी है कि जल्द से जल्द इमरजेंसी ट्रीटमेंट करवाना चाहिए। दवा को छोड़ने संबंधी निर्णय भी डॉक्टर से पूछकर ही करना चाहिए।

ओवरडोज या आपात स्थिति में मुझे क्या करना चाहिए?

डॉक्टर के सुझाए डोज से यदि आप ज्यादा मात्रा में डोज का सेवन करते हैं तो जरूरी है कि जितनी जल्दी से जल्दी आप डॉक्टरी सलाह लें। इस परिस्थिति में आपको मेडिकल इमरजेंसी तक की जरूरत पड़ सकती है।

अगर डोज मिस हो जाए तो मुझे क्या करना चाहिए?

अगर आप दवा लेना भूल जाते हैं तो जितनी जल्दी आपको याद आए दवा का सेवन कर लें। अगर अगली खुराक का समय हो गया है तो छूटी हुई खुराक को रहने दें और अभी की खुरका का सेवन करें। डबल डोज न लें।

और पढ़ें : Bandy Plus: बैंडी प्लस क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

साइड इफेक्ट्स

ग्रिलिंक्टस बीएम (Grilinctus BM) के क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

इस दवा का सेवन करने के कारण होने वाले मेजर और माइनर साइड इफेक्ट्स पर एक नजर

  • सिर दर्द
  • पसीना आना
  • मसल्स स्टिफनेस
  • झुनझुनी (Tingling)
  • घरबराहट (Palpitations)
  • सीने में दर्द और असहज महसूस करना
  • सांस लेने में तकलीफ
  • कफ
  • इचिंग-खुजली
  • सिर चकराना
  • जी मचलाना
  • डायरिया
  • रैशेज
  • चक्कर आना

सावधानी और चेतावनी

ग्रिलिंक्टस बीएम (Grilinctus BM) का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या जानना चाहिए?

इस दवा का सेवन करने से पहले आपको निम्न बातें जानना चाहिए।

  • एलर्जी होने पर ग्रिलिंक्टस बीएम (Grilinctus BM) का न करें इस्तेमाल : ऐसे मरीज जिनको टेरबुटालीन (terbutaline), ब्रोमहीक्सीन (bromhexine) सहित अन्य तत्व जो इस दवा में मौजूद होते हैं उनसे किसी को एलर्जी है तो ऐसे व्यक्ति को इस दवा का सेवन करने की सलाह नहीं दी जाती है।

क्या प्रेग्नेंसी के दौरान ग्रिलिंक्टस बीएम (Grilinctus BM) को लेना सुरक्षित है?

इस दवा का सेवन गर्भवती महिलाओं को कतई नहीं करना चाहिए। बेहद जरूरी मामलों में डॉक्टरी सलाह के बाद और उनकी निगरानी में ही इस दवा का सेवन किया जा सकता है। इसलिए जरूरी है कि इस दवा का सेवन करने के पूर्व उसके रिस्क व बेनिफिट्स के बारे में डॉक्टर से सलाह कर लेनी चाहिए।

क्या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान ग्रिलिंक्टस बीएम (Grilinctus BM) को लेना सुरक्षित है?

शिशु को दूध पिलाने वाली महिलाओं को इस दवा का सेवन करने की सलाह नहीं दी जाती है। बेहद जरूरी होने पर डॉक्टरी सलाह के बाद और उनकी निगरानी में ही इस दवा का सेवन किया जा सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि संभावनाएं रहती है कि कहीं इस दवा का सेवन करने से कोई साइड इफेक्ट हो। जरूरी है कि इस दवा का सेवन करने के पूर्व उसके रिस्क व बेनिफिट्स के बारे में डॉक्टर से सलाह कर लेना चाहिए।

  • ड्राइविंग और हैवी मशीनरी चलाने को लेकर : इस दवा का सेवन करने से लोगों को सिर चकराना, जैसे लक्षण महसूस हो सकते हैं। ऐसे में मरीज को सलाह दी जाती है कि वे दवा का सेवन करने के बाद गाड़ी न चलाए या फिर वे हैवी मशीन चलाते हैं तो उन्हें ऐसा नहीं करने की सलाह दी जाती है। ऐसा करना उनकी सेहत के लिए नुकसानदेह हो सकता है।
  • बच्चों के इस्तेमाल पर एक नजर : छह साल से कम उम्र के बच्चों को यह दवा नहीं दी जानी चाहिए। उनकी सुरक्षा को लेकर यह कदम उठाया जाता है। यदि वे सेवन कर लेते हैं तो उनकी तबियत खराब हो सकती है।

और पढ़ें : Naxdom: नैक्सडोम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

रिएक्शन

कौन-सी दवाइयां ग्रिलिंक्टस बीएम (Grilinctus BM) के साथ रिएक्शन कर सकती हैं?

हर दवा हर व्यक्ति पर अलग-अलग तरीके से रिएक्ट करती है। इस दवा को लेने से पहले भी इसके रिएक्शन को लेकर डॉक्टरी सलाह जरूर लेना चाहिए। ताकि उसके रिएक्शन से समय रहते बचा जा सके

इन दवाओं के साथ हो सकता है इंटरैक्शन

  • एससिटालोप्राम (Escitalopram)
  • प्रोप्रनोलोल (Propranolol)
  • फूरोसिमाइड (Furosemide)
  • एंटीबायटिक (Antibiotics)
  • क्लोजापीन (Clozapine)
  • कारवेडिलोल (Carvedilol)
  • एमिओडरोन (Amiodarone)
  • लेबेटालोल (Labetalol)
  • मॉक्सीफिलोक्सीन (Moxifloxacin)

क्या ग्रिलिंक्टस बीएम (Grilinctus BM) भोजन या एल्कोहॉल के साथ रिएक्शन करती है?

इस दवा का सेवन करने के साथ शराब का सेवन करने की सलाह डॉक्टर नहीं देते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि लोगों को दवा के साथ शराब का सेवन करने से कई प्रकार की समस्या हो सकती है। बता दें कि इस पर इतने ज्यादा शोध नहीं हुए हैं, जरूरी है कि आप नियमित तौत पर शराब का सेवन करते हैं तो जरूरी है कि इसको लेकर डॉक्टरी सलाह जरूर लें।

इन बीमारियों के साथ इस दवा का सेवन करने के हो सकता है रिएक्शन

  • कार्डियोवस्कुलर डिजीज
  • डायबिटीज
  • सीजर्स
  • हाइपोकेलिमिया

क्या ग्रिलिंक्टस बीएम (Grilinctus BM) स्वास्थ्य स्थितियों के साथ रिएक्शन कर सकती है?

यह दवा निम्न स्वास्थ्य स्थितियों के साथ रिएक्ट कर सकती है।

  • सीजर डिसऑर्डर (Siezure disorder) : ऐसे मरीज जिन्हें पहले सीजर डिसऑर्डर की बीमारी हुई हो उन्हें इस दवा का सेवन नहीं करने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि संभावनाएं रहती हैं कि कहीं इस दवा का सेवन करने से व्यक्ति को यह बीमारी फिर से न हो जाए। ऐसे में जरूरी है कि डॉक्टरी सलाह जरूर लें। वहीं बिना सलाह के किसी ने यह दवा ले ली है तो जरूरी है कि नेगेटिव लक्षण दिखने पर जल्द से जल्द डॉक्टरी सलाह लेना चाहिए। ऐसे में इस दवा के अलावा दूसरी दवा दवा मरीज को दी जाती है वो भी डॉक्टर के निर्देशानुसार।
  • ग्लूकोमा (Glaucoma) : ऐसे मरीज जो ग्लूकोमा की बीमारी से ग्रसित हैं या फिर जिनको पूर्व में यह बीमारी हुई हो, ऐसे लोगों को काफी सावधानीपूर्वक यह दवा दी जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह दवा देने से संभावनाएं बनती हैं कि कहीं मरीज की बीमारी और न बढ़ जाए। ऐसे में जरूरी है कि एक्सपर्ट मरीज की क्लीनिकल कंडीशन को ध्यान में रखते हुए डोज एडजस्टमेंट करें या फिर वैकल्पिक दवाओं को देकर उपचार करें।
  • हार्ट डिजीज : ऐसे मरीज जिन्हें हार्ट डिजीज है या फिर पूर्व में हार्ट डिजीज रहा है को काफी सावधानीपूर्वक यह दवा दी जाती है। बता दें कि ऐसे मरीजों में संभावनाएं रहती हैं कि इस दवा को देने के कारण उनकी तबियत खराब हो सकती है। वहीं समय-समय पर जरूरी है कि ऐसे मरीजों का लिवर फंक्शन टेस्ट भी करवाया जाए। इसके अलावा वाइटल साइन, इलेक्ट्रोलाइट लेवल की जांच की जाती है। मरीज की तबियत और अधिक न बिगड़े इसलिए यह क्लीनिकल इग्जामिनेशन जरूरी हो जाता है। ऐसे में जरूरी है कि एक्सपर्ट मरीज की क्लीनिकल कंडिशन को ध्यान में रखते हुए डोज एडजस्टमेंट करें या फिर इस दवा की वैकल्पिक दवाओं को देकर उपचार करें।
  • हाइपरथायरोडिज्म : ऐसे मरीज को जो हाइपरथायरॉडिज्म की बीमारी से ग्रसित होते हैं उनको यह दवा काफी सावधानीपूर्वक दी जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि संभावनाएं रहती हैं कि इस दवा को देने से कहीं मरीज के लक्षण और अधिक न बढ़ जाएं। इसके साथ ही समय-समय पर मरीज के थायराॅइड हार्मोन लेवल की जांच के साथ क्लीनिकल कंडिशन को ध्यान में रखते हुए डोज एडजस्टमेंट करें या फिर इस दवा की वैकल्पिक दवाओं को देकर उपचार करें।
  • गैस्ट्रिक अल्सरेशन (Gastric ulceration) : ऐसे मरीज जो गैस्ट्रिक अल्सरेशन सहित अन्य गेस्ट्रोइंटेस्टाइनल डिसऑर्डर से ग्रसित होते हैं उन लोगों को इस दवा का सेवन नहीं करने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि संभावनाएं रहती हैं कि कहीं इस दवा को देने से मरीज की तबियत और ज्यादा न बिगड़ जाए। वहीं यदि मरीज दवा का सेवन करता है तो जरूरी है कि नकारात्मक लक्षण दिखाई देने पर जल्द से जल्द डॉक्टरी सलाह लेना चाहिए। इस मामले में मरीज की क्लीनिकल कंडीशन को ध्यान में रखते हुए डोज एडजस्टमेंट करें या फिर इस दवा की वैकल्पिक दवाओं को देकर उपचार करें।
  • लिवर डिजीज : लिवर डिजीज से ग्रसित मरीजों को काफी सावधानी पूर्वक इस दवा को दिया जाता है। वह भी सिर्फ जरूरी केस में ही। ऐसा इसलिए है क्योंकि संभावनाएं रहती हैं कि कहीं उनकी तबियत और न बिगड़ जाए। वहीं यदि मरीज को यह दवा दी जा रही है तो समय -समय पर लिवर फंक्शन टेस्ट करवाना जरूरी हो जाता है। इसके अलावा जरूरी है कि मरीज की क्लीनिकल कंडीशन को देखते हुए डॉक्टर को दिखाने के बाद डोज एडजस्टमेंट के साथ इस दवा के बदले वैकल्पिक दवाओं को देना सुरक्षित होता है।
  • किडनी डिजीज : किडनी डिजीज से ग्रसित मरीजों को काफी सावधानीपूर्वक इस दवा को दिया जाता है। वह भी सिर्फ जरूरी केस में। ऐसा इसलिए है क्योंकि संभावनाएं रहती हैं कि कहीं उनकी तबियत और न बिगड़ जाए। वहीं यदि मरीज को यह दवा दी जा रही है तो समय-समय पर किडनी फंक्शन टेस्ट करवाना जरूरी हो जाता है। इसके अलावा जरूरी है कि मरीज की क्लीनिकल कंडीशन को देखते हुए डॉक्टर को दिखाने के बाद डोज एडजस्टमेंट के साथ इस दवा के बदले वैकल्पिक दवाओं को दिया जाए।

और पढ़ें : Mintop: मिनटॉप क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

स्टोरेज

ग्रिलिंक्टस बीएम (Grilinctus BM) को कैसे करूं स्टोर?

दवा को घर में सामान्य रूम टेंप्रेचर पर ही रखें। कोशिश करें कि इसे सूर्य कि किरणों से बचाकर रखें। 25 डिग्री तापमान दवा के लिए बेस्ट है, लेकिन फ्रिज में रखने की गलती कतई न करें। यदि आप ऐसा नहीं करते हैं तो यह दवा सामान्य रूप से काम नहीं कर पाएगी। इसके अलावा इसे बच्चों और पालतू जानवरों की पहुंच से दूर रखना चाहिए। एक्सपायरी होने के पहले ही दवा का सेवन करें, लंबे समय तक सेवन करना हो तो डॉक्टरी सलाह लें। इसे एयरटाइट कंटेनर में रखें। इतना ही नहीं दवा को डिस्मेंटल करने के लिए इसे फ्लश नहीं करना है। इससे पर्यावरण को नुकसान पहुंच सकता है। दवा एक्सपायरी हो जाए तो उसे कैसे डिस्पोज करना है इसको लेकर फॉर्मासिस्ट से सलाह लेनी चाहिए।

ग्रिलिंक्टस बीएम (Grilinctus BM) किस रूप में उपलब्ध है?

  • सिरप
  • टैबलेट

इस विषय पर अधिक जानकारी के लिए डाक्टरी सलाह लें। ।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Satish singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 30/08/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड