home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

डायबिटीज में अधिक पसीना आना क्या सामान्य है? जानिए एक्सपर्ट से यहां.....

डायबिटीज में अधिक पसीना आना क्या सामान्य है? जानिए एक्सपर्ट से यहां.....

डायबिटीज एक एंडोक्राइन डिसऑर्डर है, जो हमारे शरीर के कई हिस्सों को प्रभावित करता है। इस वजह से, शरीर के आंतरिक तापमान को स्थिर बनाए रखना कठिन होता है, शरीर में होने वाली इस प्रक्रिया को थर्मोरेग्यूलेशन कहा जाता है। मधुमेह शरीर के तापमान को संतुलित करने वाली शरीर की प्राकृतिक क्षमता को समाप्त कर देता है। इसलिए कई डायबिटीज में अधिक पसीना (Diabetes and Excessive Sweating) आने की समस्या देखी जाती है। उच्च या निम्न रक्त शर्करा के स्तर से हायपरहाइड्रोसिस (अत्यधिक पसीना आना) या एनहाइड्रोसिस (पसीने की कमी) हो सकती है। हायपरहाइड्रोसिस, आमतौर पर मधुमेह वाले लोगों में अधिक अनुभव होता है। वैसे डायबिटीज में अधिक पसीना आने के कई और भी कारण हो सकते हैं। लेकिन शोध से पता चलता है कि मधुमेह वाले 84% लोगों को हायपोग्लाइसेमिक होने पर पसीने का अनुभव होता है। तो आइए जानें कि डायबिटीज में अधिक पसीना आना क्या है?

और पढ़ें: Diabetes Mood Swings: क्या डायबिटीज के कारण पड़ सकता है मेंटल हेल्थ पर बुरा असर?

डायबिटीज में अधिक पसीना आना (Diabetes and Excessive Sweating) कितना सामान्य है?

जैसा कि हमनें जाना कि डायबिटीज में हायपरहाइड्रोसिस के कारण लोगों में पसीना आने लगता है। मधुमेह के कारण पसीना आनके के पीछे तीन अलग-अलग समस्याएं हो सकती हैं:

  • होमोस्टैसिस
  • नाइट स्वेटिंग
  • हायपरहाइड्रोसिस

एड्रेनालाईन के कारण कम ग्लूकोज के प्रति-नियामक हाॅर्मोनल प्रतिक्रिया के हिस्से के रूप में अत्यधिक पसीना या हायपरहाइड्रोसिस का कारण बनता है। होमोस्टैसिस को बनाए रखने के लिए शरीर बहुत ही संकीर्ण हाॅर्मोनल रेंज के भीतर रहना जरूरी है। इसमें थर्मोरेग्यूलेशन बाधित हो जाता है और हायपरहाइड्रोसिस का खतरा बढ़ जाता है।

और पढ़ें: Diabetic mastopathy: डायबिटीज की बीमारी के कारण क्या स्तनों में पड़ जाती है गांठ?

डायबिटीज में अधिक पसीना क्या है?

जो लोग इंसुलिन या डायबिटीज की दवा लेते हैं उनके शरीर में कई बार ब्लड ग्लूकोज का लेवल कम हो जाता है, तो इस कारण भी कई बार उन्हें रात के समय बहुत अधिक पसीना आने लगता है। हालांकि एक बार जब ग्लूकोज लेवल सामान्य हो जाता है फिर पसीना आना रूक जाता है। पसीना आना मधुमेह मेलेटस की एक सामान्य स्थिति नहीं कह सकते हैं। कई बार लो शुगर कई गंभीर बीमारियों का कारण भी बन सकता है। इसके अलावा लंबे समय से चली आ रही मधुमेह की दवा के कारण भी डायबिटीज में अधिक पसीना आने का कारण देखा गया है। यह नेफ्रोपैथी, परिधीय न्यूरोपैथी और अन्य स्थितियों से जुड़ा होता है, जो हमारे ऑटोनमस सिस्टम को बाधित करता है।

इसके अलावा, रात में, शरीर दिन में आपके द्वारा खाए जाने वाले कार्बोहाइड्रेट से ऊर्जा को बदलने का काम इंसुलिन करता है। यदि शरीर को पर्याप्त कार्बोहाइड्रेट नहीं मिलता है, तो शरीर का थर्मोरेगुलेटरी सिस्टम गड़बड़ा सकता है।

रात के पसीने से बचने की बिस्तर पर जाने से पहले अपने लक्षणों की निगरानी करना है। यदि आपको बेड पर जाते ही अधिक पसीना आने लगे तो तो कार्बोहाइड्रेट का सेवन करके आपके निम्न रक्त शर्करा को जल्दी ठीक किया जाना चाहिए।

और पढ़ें: Huminsulin N: जानिए डायबिटीज पेशेंट के लिए ह्युमिनसुलिन एन के फायदे और नुकसान

डायबिटीज में अधिक पसीना आने का कारण

अत्यधिक पसीने का सबसे आम कारण, विशेष रूप से रात में, हायपोग्लाइसीमिया या लो शुगर लेवल है। रक्त शर्करा के स्तर में गिरावट होने पर एड्रेनालाईन का उत्पादन होता है, जिसके परिणामस्वरूप रक्त वाहिकाओं का संकुचन होने लगता है और पसीने की ग्रंथियां सक्रिय होती हैं।

निम्न रक्त शर्करा कई कारणों से हो सकता है, जिनमें शामिल हैं:

मधुमेह वाले लोगों में पसीना आना एक सामान्य लक्षण है, लेकिन यह शायद ही कभी अकेले होता है। इसके अलावा, अन्य कई लक्षण भी हो सकते हैं।

और पढ़ें: Gestational diabetes: जेस्टेशनल डायबिटीज के साथ रहना है कितना कठिन? इन बातों को न करें इग्नोर!

हायपोग्लाइसीमिया के लक्षणों

हाइपोग्लाइसीमिया के लक्षणों में ये शामिल हो सकते हैं:

  • ठंड लगना
  • चिड़चिड़ापन
  • उलझन
  • चक्कर आना या ऐसा महसूस होना जैसे कि आप बेहोश होने वाले हैं
  • भूख में की
  • मतली
  • पीला त्वचा का रंग (रक्त प्रवाह में कमी के कारण)
  • थकान
  • धुंधली, दोहरी या बिगड़ा हुआ दृष्टि
  • होठों, जीभ, या गालों में सुन्नपन या झुनझुनी
  • सिरदर्द
  • बुरे सपने आना या नींद के दौरान रोना
  • बरामदगी

और पढ़ें: नाव सेहत के साथ बालों के लिए है घातक, इसके कारण बदल सकता है बालों का रंग

निदान

अत्यधिक पसीना आना आपके लक्षणों और कभी-कभी कुछ नैदानिक ​​परीक्षणों के आधार पर एक नैदानिक ​​निदान है। इसके लिए आपको सही डायट का लेना बहुत जरूरी है, ताकि आपके शरीर में शुगर का लेवल कम न हो। मधुमेह में हायपोग्लाइसीमिया तब होता है, जब आपके रक्त शर्करा का स्तर 70 मिली / डीएल से नीचे होता है।

इसके उपचार में अन्य शामिल हो सकते हैं:

  • एल्युमिनियम क्लोराइड 15% से 25% या एंटीपर्सपिरेंट्स
  • पाल्मर/प्लांटर पसीने के लिए टैप वॉटर आयनटोफोरेसिस
  • पसीने से तर पसीने के लिए ग्लाइकोप्राइरोलेट
  • बोटुलिनम विष (बोटॉक्स) इंजेक्शन

और पढ़ें: डॉन फेनोमेनन या सोमोगी प्रभाव से कैसे बढ़ता है ब्लड शुगर लेवल, जानिए दोनों में क्या है अंतर

पसीने को नियंत्रित करने के लिए अन्य उपचारों में शामिल हैं:

  • एंटीकोलिनर्जिक दवाएं (जैसे, मेथेंथेलिनियम ब्रोमाइड)
  • ट्राइसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट्स (जैसे, एमिट्रिप्टिलाइन)
  • बीटा अवरोधक
  • कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स (जैसे, डिल्टियाजेम)

और पढ़ें: क्या ब्राउन शुगर से ज्यादा हेल्दी है स्टीविया? जानें स्टीविया के फायदे और नुकसान

डायबिटीज में अधिक पसीना आने के बारे में जाना आपने कि इसके क्या-क्या कारण हो सकते हैं। डायबिटीज एक बहुत की गंभीर समस्या है और इसमें अत्धिक पसीना आना कई बार इस बार बात का संकेत हो सकता है कि आपका शुगर लेवल काफी कम है, जो जानलेवा भी हो सकता है। ऐसे में डॉक्टर द्वारा बताय गए उपायों को तुंरत अपनाना चाहिए।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 27/07/2021 को
और Hello Swasthya Medical Panel द्वारा फैक्ट चेक्ड