बोन ग्राफ्टिंग (Bone Grafting) क्या है? जानिए इसके प्रकार और जोखिम

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट मई 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

बोन ग्राफ्टिंग एक सर्जिकल प्रक्रिया है जिसका उपयोग हड्डियों या जोड़ों की समस्याओं को ठीक करने के लिए किया जाता है। बोन ग्राफ्टिंग या बोन के ऊतकों का इंप्लाट, आघात या जोड़ों की समस्या से क्षतिग्रस्त हड्डियों को ठीक करने में फायदेमंद है। यह एक प्रत्यारोपण चारों ओर बढ़ती बोन के लिए भी उपयोगी है, जैसे घुटने का प्रतिस्थापन जहां बोन की हानि या फ्रैक्चर है। जहां हड्डी नहीं है बोन ग्राफ्ट की मदद से उस क्षेत्र को भर सकते हैं। यह संरचनात्मक स्थिरता प्रदान करने में मदद करता है।

बोन ग्राफ्टिंग में प्रयुक्त बोन आपके शरीर के दूसरे हिस्सों से ली जा सकती है या यह पूरी तरह से सिंथेटिक हो सकती है। यह एक ढांचा प्रदान कर सकता है, जहां शरीर द्वारा स्वीकार किए जाने पर नई, जीवित बोन विकसित हो सकती है।

बोन ग्राफ्टिंग के प्रकार क्या हैं?

बोन ग्राफ्टिंग के दो सबसे आम प्रकार हैं:

एलोग्राफ्ट (allograft) :  मृतक दाता या कैडवर से बोन ली जाती है। इस प्रकार एकत्रित किए गए ड्राफ्ट को अच्छे से साफ करके उसे ऊतक बैंक में संग्रहीत किया जाता है।

ऑटोग्राफ़्ट (autograft):  यह आपके शरीर के अंदर की बोन से आता है, जैसे कि आपकी पसलियां, कूल्हे, श्रोणि, या कलाई। उपयोग किए जाने वाले ग्राफ्ट, मरम्मत की जाने वाली चोट के प्रकार पर निर्भर करता है। एलोग्राफ्ट्स का उपयोग आमतौर पर कूल्हे, घुटने या लंबी बोन के पुननिर्माण में किया जाता है। लंबी हड्डियों में हाथ और पैर शामिल हैं। इसका लाभ यह है कि बोन को प्राप्त करने के लिए कोई अतिरिक्त सर्जरी की आवश्यकता नहीं है।

एलोग्राफ्ट बोन ट्रांसप्लांट में वह बोन शामिल होती है जिसमें कोई जीवित कोशिकाएं नहीं होती हैं ताकि अंग इंप्लाट में अस्वीकृति का जोखिम कम से कम हो। चूंकि प्रत्यारोपित बोन में जीवित मज्जा नहीं होती है, इसलिए दाता और प्राप्तकर्ता के बीच रक्त के प्रकारों के मिलान करने की आवश्यकता नहीं होती है।

यह भी पढ़ें- दांत में दर्द क्यों होता है?

बोन ग्राफ्टिंग क्यों की जाती है?

चोट और बीमारी सहित कई कारणों से बोन की ग्राफ्टिंग की जाती है। एक बोन ग्राफ्ट का उपयोग कई जटिल फ्रैक्चर के मामले में या उन लोगों के लिए किया जा सकता है जो प्रारंभिक उपचार के बाद ठीक नहीं होते हैं। हड्डी की बीमारी, संक्रमण या चोट लगने के बाद इसे किया जाता है। इसमें बोन की गुहाओं या हड्डियों के बड़े हिस्से में बोन की छोटी मात्रा का उपयोग करना शामिल हो सकता है। एक बोन ग्राफ्टिंग का उपयोग सर्जिकल रूप से प्रत्यारोपित उपकरणों के आसपास बोन को ठीक करने में मदद करने के लिए किया जा सकता है, जैसे संयुक्त प्रतिस्थापन, प्लेट्स या स्क्रू (screws)

यह भी पढ़ें- बार-बार होने वाले मुंह के छाले की वजह से हो सकता है कैंसर?

बोन ग्राफ्टिंग के जोखिम

सभी शल्य चिकित्सा प्रक्रियाओं में रक्तस्राव, संक्रमण और एनेस्थिसिया के जोखिम शामिल हैं। बोन ग्राफ में अन्य जोखिम जैसे-

  • दर्द
  • सूजन
  • तंत्रिका की चोट
  • बोन ग्राफ्ट की अस्वीकृति
  • ग्राफ्ट का पुन: अवशोषण
  • डोनेटेड हड्डी से संक्रमण (हालांकि यह बहुत दुर्लभ है)
  • शरीर के उस जगह पर दर्द होना जहां से हड्डी निकाली गई है
  • बोन ग्राफ्टिंग क्षेत्र के पास की नसों में चोट आना
  • बोन ग्राफ्टिंग एरिया के आस पास कठोरता आना

एक जोखिम यह भी है कि आपकी हड्डी बोन ग्राफ्ट से भी ठीक न हो। बोन ग्राफ्ट के सटीक कारण के अनुसार अलग -अलग तरह के रिस्क हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आप स्मोकिंग (धूम्रपान) करते हैं या यदि आपको डायबिटीज है, तो आपके बोन ग्राफ्ट के ठीक होने की संभावना कम होती है। अपनी सभी चिंताओं के बारे में अपने हेल्थ एक्सपर्ट्स से बात करें। अपने डॉक्टर से इन जोखिमों के बारे में पूछें कि इन्हें कैसे कम किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें- ओरल हाइजीन मिस्टेक: कहीं आप भी तो नहीं करते ये 9 गलतियां?

बोन ग्राफ्टिंग की तैयारी कैसे करें?

  • आपका डॉक्टर आपकी सर्जरी से पहले एक पूर्ण चिकित्सा इतिहास और शारीरिक परीक्षण करेगा। अपने चिकित्सक को किसी भी दवाओं, ओवर-द-काउंटर दवाओं या आपके द्वारा ली जा रही खुराक के बारे में बताएं।
  • सर्जरी से पहले आपको उपवास करने की आवश्यकता होगी।
  • आपका डॉक्टर सर्जरी के दिन और उससे पहले के दिनों में क्या करना है, इसके बारे में पूरा निर्देश देगा। उन निर्देशों का पालन करना महत्वपूर्ण है।

यह भी पढ़ें- क्या ल्यूकोप्लाकिया (Leukoplakia) या मुंह में सफेद दाग हो सकता है ओरल कैंसर?

बोन ग्राफ्ट कैसे किया जाता है?

आपका डॉक्टर यह तय करेगा कि आपकी सर्जरी से पहले किस प्रकार का बोन ग्राफ्ट इस्तेमाल करना है। आपकोल जनरल एनेस्थिसिया दिया जाएगा। जिसके बाद आपको गहरी नींद आ जाएगी। एक एनेस्थेसियोलॉजिस्ट आपके ठीक होने की निगरानी करेगा। आपका सर्जन ऊपर की त्वचा में एक चीरा लगाएगा जहां ग्राफ्ट की जरूरत होती है। फिर दान की गई बोन को आकार देते हैं। निम्नलिखित में से किसी एक का उपयोग करके बोन ग्राफ्टिंग कि जाएगी:

  • पिंस (pins)
  • प्लेट (plates)
  • स्क्रू (screw)
  • तार (wire)
  • केबल (cable)

एक बार जब ग्राफ्ट सुरक्षित रूप से जगह पर हो जाता है, तो सर्जन चीरा या घाव को टांके के साथ बंद कर देगा और पट्टी कर देगा। एक कास्ट या स्प्लिंट का उपयोग बोन का समर्थन करने के लिए किया जा सकता है।

यह भी पढ़ेंः जीभ की सही पुजिशन न होने से हो सकती हैं ये समस्याएं

बोन ग्राफ्ट के बाद रिकवरी

जब तक आपका सर्जन ना कहे, तब तक आपको भारी शारीरिक गतिविधि से बचने की आवश्यकता होगी। बर्फ लगाएं और सर्जरी के बाद अपने हाथ या पैर को ऊपर उठाएं। यह सूजन को रोकने में मदद कर सकता है, जो दर्द का कारण बनता है। जिसके कारण पैर में रक्त के थक्के बन सकते हैं। आपकी रिकवरी के दौरान उन मांसपेशियों को व्यायाम कराना चाहिए जो सर्जरी से प्रभावित नहीं थे। यह आपके शरीर को अच्छे आकार में रखने में मदद करेगा। आपको एक स्वस्थ आहार भी बनाए रखना चाहिए, ऐसा करने से रिकवरी जल्दी होगी। सर्जरी के बाद आप धूम्रपान छोड़ दे ऐसा करना आपके स्वास्थ्य में सुधार करेगा।

धूम्रपान से बोन की हीलिंग की रफ्तार धीमी हो जाती है। रिर्सचर से पता चला है कि धूम्रपान करने वालों में हड्डियों का ग्राफ उच्च दर पर विफल होता है। साथ ही, कुछ सर्जन धूम्रपान करने वाले लोगों पर वैकल्पिक बोन ग्राफ्टिंग करने के लिए भी मना करते हैं। हम आशा करते है कि आपको ये लेख पंसद आएगा। बोन ग्राफ्टिंग की और अधिक जानकारी के लिए आज ही अपने डॉक्टर से सर्पक करें।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

यह लेख केवल जानकारी के लिए है। हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें:-

दांत टेढ़ें हैं, पीले हैं या फिर है उनमें सड़न हर समस्या का इलाज है यहां

एक्ट्रेस की तरह दिखने के लिए करानी है लिप सर्जरी? जानें इसके प्रकार व साइड इफेक्ट्स

दांत निकालने से बेहतर विकल्प है रूट कैनाल(Root Canal)!

दांतों की समस्या को दूर करने के लिए करें ये योग

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Broken (fractured) lower leg : ब्रोकन लोअर लेग क्या है?

जानिए ब्रोकन लोअर लेग की जानकारी in hindi, निदान और उपचार, कारणैं, लक्षण, घरेलू उपचार, जोखिम फैक्टर, Broken lower leg fracture का खतरा, जरूरी बातें |

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मार्च 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Smith’s fracture : स्मिथ’स फ्रैक्चर क्या है?

जानिए स्मिथ'स फ्रैक्चर क्या है in hindi, स्मिथ'स फ्रैक्चर के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Smith's fracture को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मार्च 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Broken (fractured) forearm: फोरआर्म में फ्रैक्चर क्या है?

जानिए फोरआर्म में फ्रैक्चर क्या है in hindi, फोरआर्म में फ्रैक्चर के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, fracture forearm को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मार्च 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Broken (Colles fractured) wrist : कॉल’स फ्रैक्चर क्या है?

जानिए कॉल'स फ्रैक्चर क्या है in hindi, कॉल'स फ्रैक्चर के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Colles fractured को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मार्च 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

Hepatitis : हेपेटाइटिस

Hepatitis : हेपेटाइटिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
प्रकाशित हुआ जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
वर्टेब्रल कंप्रेशन फ्रैक्चर

Vertebral compression fracture : वर्टेब्रल कंप्रेशन फ्रैक्चर क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Poonam
प्रकाशित हुआ अप्रैल 12, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
ऑस्टियोकॉन्ड्राइटिस डिस्केन्स-Osteochondritis dissecan

जानिए ऑस्टियोकॉन्ड्राइटिस डिस्केन्स (Osteochondritis dissecans) क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Poonam
प्रकाशित हुआ अप्रैल 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
बॉक्सर'स फ्रैक्चर-Broken (Boxer's fracture) hand

Broken (Boxer’s fracture) hand: बॉक्सर’स फ्रैक्चर क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ मार्च 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें