home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

मोदी के फिटनेस मूवमेंट पर लटकती तलवार

मोदी के फिटनेस मूवमेंट पर लटकती तलवार

एक तरफ पीएम मोदी ने ‘फिट इंडिया’ मूवमेंट चला रहे हैं तो दूसरी तरफ सेहत ही सीलिंग की तलवार चल रही है। दरअसल, दिल्ली के सभी नॉन-कमर्शियल फिटनेस सेंटर्स पर सीलिंग के आदेश है। मॉनिटरिंग कमेटी ने 2008 के बाद जिम, योगा और फिटनेस सेंटरों को सील करने का आदेश दिया है। दिल्ली जिम एसोसिएशन के मुताबिक इस आदेश की वजह से लगभग 90 फीसदी जिम आ सकते हैं। कमिटी के सदस्यों ने तीनों एमसीडी और डीडीए अफसरों को कहा है कि उन सभी जिम, योग सेंटर सील किए जाएं, जो 2008 के बाद बने हैं। क्योंकि इनमें मास्टरप्लान के नियमों का पालन नहीं हो रहा है। अब लोगों ने शारीरिक फिटनेस के लाभ पाने के लिए नए साधनों की तलाश में लग गए हैं।

शारीरिक फिटनेस के लाभ : पीएम मोदी के फिट इंडिया मूवमेंट पर पड़ेगा असर

सेहत और फिटनेस के लिए जिम जाना और व्यायाम करना बहुत ही आवश्यक है। एक तरफ पीएम फिट और स्वस्थ रहने के लिए लोगों को प्रोत्साहित कर रहे हैं तो दूसरी तरफ फिटनेस सेंटरों को बंद करने की कोशिश मोदी जी के फिट इंडिया मूवमेंट को प्रभावित कर सकती है। यदि ये सभी जिम और योगा सेंटर बंद हो गए तो फिट इंडिया मूवमेंट पर भी नकारात्मक असर पड़ेगा। साथ ही आम नागरिकों को शारीरिक फिटनेस के लाभ नहीं मिल पाएंगे और उन्हें बहुत नुकसान होगा, क्योंकि ज्यादातर सेंटरों में तीन महीने, छह महीने या एक साल की मेंबरशिप फी पहले ही जमा करा ली जाती है। ऐसे लोगों को शारीरिक फिटनेस के लाभ मिलने में दिक्कत आ सकती है।

और पढ़ें : जिम एक्सरसाइज, जिन्हें आसानी से कर सकते हैं

लोन लेकर खोला जिम, अब चिंता में अंतरराष्ट्रीय एथलीट

अंतरराष्ट्रीय एथलीट बिंदिया शर्मा ने तीन महीने पहले लोन लेकर मालवीय नगर में जिम खोला। अब मॉनिटरिंग कमेटी के आदेश से सीलिंग का खतरा मंडरा रहा है। बिंदिया बताती हैं कि जिम सील हुआ तो हम सड़क पर आ जाएंगे। जिम में 15 लोगों का स्टाफ है, उनका रोजगार छिन जाएगा। उन्होंने कहा कि जिम से जुड़े मेंबर अब फी लौटाने के लिए दबाव डाल रहे हैं।

और पढ़ें : फिटनेस के बारे में कितना जानते हैं, इस क्विज को खेलें और जानें।

बिजनेस पर भी पड़ेगा असर

दिल्ली बेस्ड ऑनलाइन फिटनेस कोच रचित दुआ का कहना है कि “एक महीने पहले जहां फिट इंडिया मूवमेंट की हर तरफ वाहवाही हो रही थी, उसके एक महीने बाद दिल्ली की मॉनिटरिंग कमेटी का यह आर्डर अपने आप में एक धोखा सा है। इससे न सिर्फ फिटनेस सेंटर्स को नुकसान पहुंचेगा बल्कि फूड सप्लिमेंट्स स्टोर से लेकर फिटनेस मील कैफे चलाने वालों व्यापारी वर्ग को भी नुकसान होगा।”

और पढ़ें : जानें ऐसी 7 न्यूट्रिशन मिस्टेक जिनकी वजह से वेट लॉस डायट प्लान पर फिर रहा है पानी

क्या कहते हैं जिम ओनर्स?

एनीटाइम फिटनेस चेन के एमडी विकास जैन का कहना है कि सभी लोग मॉल में जिम जाना अफोर्ड नहीं कर सकते हैं, इसलिए दूसरी जगहों में खुले हुए फिटनेस सेंटर्स के खिलाफ कार्रवाई सही कदम नहीं है। सभी को शारीरिक फिटनेस के लाभ उठाने के लिए सस्ते से सस्ते साधन उपलब्ध कराए जाने चाहिए।

शारीरिक फिटनेस के लाभ कैसे मिलेंगे फिटनेस लवर्स को

वहीं, शारीरिक फिटनेस के लाभ उठाने के लिए जिम में वर्कआउट करने वाले फिटनेस फ्रीक लोगों की भी इस पर प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है। एक इंस्टा यूजर का कहना है कि हेल्थ सेंटर्स को सील करने का यह आदेश काफी चिंताजनक है। एक ओर हमारे प्रधानमंत्री स्वस्थ और फिट इंडिया के लिए योग और अन्य फिटनेस सेंटरों को बढ़ावा दे रहे हैं। सब लोग शारीरिक फिटनेस के लाभ उठाएं इसके लिए जागरूक कर रहे हैं। दूसरी तरफ यह फिटनेस सेंटर्स को सील करने का आदेश निराशाजनक है। वे कहते हैं हम इसके लिए मूवमेंट करेंगे।

और पढ़ें : मेटाबॉलिज्म और वजन बढ़ने के बीच क्या है कनेक्शन?

शारीरिक फिटनेस के लाभ

  • नियमित रूप से वर्कआउट करने से मेटाबॉलिज्म बढ़ता है और व्यायाम के बाद आराम करते समय भी कैलोरी बर्न होती है, जिससे वजन कम होता है। इसके अलावा व्यायाम आपकी बढ़ती उम्र की गति को भी धीमा करती है।
  • वर्कआउट ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में भी मददगार होता है। शारीरिक फिटनेस के लाभ के लिए प्रतिदिन व्यायाम करना जरूरी है। इससे हाई ब्लड प्रेशर लगभग 75 प्रतिशत तक कम हो सकता है।
  • शारीरिक फिटनेस के लाभ में सबसे अहम है कि व्यायाम करने से नई ब्रेन सेल्स बनने में भी मदद मिलती है। नियमित रूप से वर्कआउट करने से मांसपेशियों को स्वस्थ रखें में मदद मिलती है और ब्लड सर्कुलेशन भी बेहतर होता है।
  • वर्कआउट करने से बॉडी पेन से निजात मिलती है। इससे बैक पेन और हाथ पैरों में दर्द और खिंचाव की समस्या से भी छुटकारा मिलता है। इसके अलावा यह शरीर में उर्जा के स्तर को बढ़ाकर इम्युनिटी को भी बढ़ावा मिलता है।
  • आपको शायद यकीन न हो लेकिन, एक्सरसाइज करने से स्ट्रेस और अवसाद के साथ ही और भी कई तरह की मानसिक समस्याएं खत्म हो सकती हैं। एक शोध के अनुसार नियमित व्यायाम का असर एंटीडिप्रेशन दवा की तरह होता है।

उम्मीद करते हैं कि आपको यह ‘शारीरक फिटनेस के लाभ’ से जुड़ा यह आर्टिकल पसंद आया होगा। हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। साथ ही अगर आपका इस विषय से संबंधित कोई भी सवाल या सुझाव है तो वो भी हमारे साथ शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Benefits of Exercise. https://medlineplus.gov/benefitsofexercise.html Accessed On 01 Oct 2019

Physical activity – it’s important. https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/healthyliving/physical-activity-its-important Accessed On 01 Oct 2019

Exercise: 7 benefits of regular physical activity. https://www.mayoclinic.org/healthy-lifestyle/fitness/in-depth/exercise/art-20048389 Accessed On 01 Oct 2019

The Top 10 Benefits of Regular Exercise. https://www.healthline.com/nutrition/10-benefits-of-exercise Accessed On 01 Oct 2019

The Mental Health Benefits of Exercise. https://www.helpguide.org/articles/healthy-living/the-mental-health-benefits-of-exercise.htm Accessed On 01 Oct 2019

https://www.hindustantimes.com/delhi-news/gym-owners-cry-foul-after-sc-panel-orders-closure-by-october-18/story-DsvtfMD3C10Jrm74u5WXOI.html Accessed On 01 Oct 2019

लेखक की तस्वीर
Shikha Patel द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 06/05/2021 को
Dr. Shruthi Shridhar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x