home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

मास्क पर एक हफ्ते से ज्यादा एक्टिव रह सकता है कोरोना वायरस, रिसर्च में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

मास्क पर एक हफ्ते से ज्यादा एक्टिव रह सकता है कोरोना वायरस, रिसर्च में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

कोरोना वायरस से होने वाली बीमारी कोविड-19 के बारे में हर दिन नई जानकारी सामने आ रही है, जिसने लोगों को हैरान किया हुआ है। हाल ही में कोरोना वायरस से बचने को लेकर लगाए जा रहे मास्क को लेकर एक स्टडी की गई है। इस शोध में दावा किया गया है कि जिस मास्क को आप अपनी सुरक्षा के लिए लगा रहे हैं, उस पर भी कोरोना वायरस एक हफ्ते तक जिंदा रह सकता है। इस शोध में मास्क पर कोरोना वायरस से लेकर कई अन्य जानकारी भी दी गई है। आइए एक नजर डालते हैं इस अध्ययन के मुख्य बिंदुओं पर…

यह भी पढ़ें: कोरोना के मिथ और फैक्ट : क्या विटामिन-सी बचाएगा कोरोना से?

मास्क पर कोरोना वायरस: इस अध्ययन की बड़ी बातें

कोरोना वायरस पर हुए अध्ययन को यूनिवर्सिटी ऑफ हांगकांग के शोधकर्ताओं ने किया है। हांगकांग के साउथ चाइना मार्निंग पोस्ट के मुताबिक, हांगकांग विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने कमरे के तापमान पर विभिन्न सतहों पर कोविड-19 की सक्रियता का पता लगाने के लिए शोध किया। इसमें उन्होंने पाया कि कोरोना वायरस कपड़े और लकड़ी पर एक दिन तक सक्रिय बना रहा। वहीं कांच और बैंक नोट पर यह चार दिन तक सक्रिय रहा। स्टील के बर्तनों और प्लास्टिक की सतह पर भी यह चार दिन तक एक्टिव रहा। शोधकर्ताओं के अनुसार, सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात यह थी कि, संक्रमित व्यक्ति द्वारा इस्तेमाल किए गए मास्क पर कोरोना वायरस का सफाया सात दिन बाद हो पाया। अखबार और टिशू पेपर पर यह वायरस तीन घंटे में खत्म हो जाता है। इस अध्ययन में यह भी जानने की कोशिश की गई कि यह खतरनाक वायरस किस तरह के तापमान में किन चीजों पर कितनी देर जिंदा रहता है।

हांग कांग यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के अनुसंधानकर्ता लियो पून लितमैन और मलिक पेरीज ने बताया, ‘यह वायरस अनुकूल वातावरण में लंबे समय तक सक्रिय बना रह सकता है लेकिन यह रोगाणु मुक्त करने के मानक तरीकों के प्रति अतिसंवेदनशील भी है यानी इसका सफाया आसानी से किया जा सकता है।’

इन बातों का रखें खास ख्याल

इस रिपोर्ट में लोगों को सावधानी बरतने के लिए कहा गया है। कोरोना वायरस का खात्मा करने के लिए बर्तनों और प्लास्टिक की सतहों को क्लीनर, ब्लीच और साबुन का इस्तेमाल कर संक्रमण मुक्त करने की सलाह दी गई है। मास्क पर भी कोरोना वायरस हो सकता है इसलिए मास्क का उपयोग करने के बाद उसे नष्ट करने के लिए कहा गया है। इसके साथ ही मास्क को किसी भी स्थिति में दोबारा उपयोग न करें। मास्क का इस्तेमाल कर उसे डस्टबीन में फेंक दें।

यह भी पढ़ें: अमेरिका ने ऐसे की थी टीबी से लड़ाई, क्या इससे कोरोना भी हो जाएगा खत्म

लिओ लिटमैन और मलिक पेरिस के अनुसार, कोरोना वायरस की कोई वैक्सीन तैयार नहीं की गई है। फिलहाल इससे बचने का एक ही उपाय है वो यह कि बार बार हाथों को साफ करते रहें। हाथ साफ किए बगैर नाक और मुंह को बिल्कुल टच न करें। यह सलाह भी दी गई है कि बाहर से आने वाली चीजों को कुछ देर रखे रहने दें, फिर उन्हें साफ करें और इस्तेमाल करें। इससे वायरस को खत्म करने में मदद मिलेगी।

मास्क पर कोरोना वायरस की सक्रियता के बाद जानते हैं इसके सही इस्तेमाल के बारे में

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए जिसे देखो वो मास्क का इस्तेमाल कर रहा है। हाल यह है कि लोग घरों में भी मास्क लगाकर बैठे हैं लेकिन बहुत सारे लोगों को इसका सही इस्तेमाल की ही जानकारी नहीं है। फेस मास्क का इस्तेमाल करने के लिए आप विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी किए गए गाइड लाइन को फॉलो कर सकते हैं, जो इस तरह हैं:

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस वैक्सीन का ह्युमन ट्रायल, 60 लोग प्री-क्लीनिकल स्टेज में

  • फेस मास्क लगाने से पहले, अपने हाथों को एल्कोहॉल युक्त हैंड सैनिटाइजर या हैंड वॉश से साफ करें।
  • अब फेस मास्क से मुंह और नाक को कवर करें। ध्यान रखें कि मुंह और फेस मास्क के बीच कोई गैप न हो।
  • फेस मास्क लगाने के बाद बार-बार उसे छूने से बचें।
  • फेस मास्क खराब होने पर तुरंत एक नया मास्क पहनें।
  • एक फेस मास्क का इस्तेमाल सिर्फ एक ही व्यक्ति को करना चाहिए। घर के अन्य सदस्यों का किसी और के साथ इसे शेयर न करें।
  • चेहरे से फेस मास्क हटाने के लिए कानों के पीछे फंसे फंदे को पकड़ कर इसे हटाएं।
  • फेस मास्क को मुंह से सामने से न छुएं।

घर पर इस तरह बनाएं मास्क

घर पर मास्क को बनाने के लिए आपको सिर्फ ए4 साइज कपड़े, सुई धागे और रबर बैंड की जरूरत होगी। सबसे पहले कपड़े को चौकोर आकार (करीब 7 से 8 इंच) काट लें। इसके बाद कपड़े का निचला सिरा और ऊपरी सिरा मोड़ लें। एक रबर बैंड कपड़े के बाएं सिरे और दूसरा रबड़ बैंड कपड़े के दाहिने सिरे पर लगाकर सिलाई कर लें। मास्क बनाते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि रबर बैंड के बीच का हिस्सा आपके मुंह और नाक को ढंकने के लिए पर्याप्त हो। रबर बैंड को लगाकर चारों किनारों से अच्छी तरह से सिलाइ कर लें। आपका मास्क तैयार है।

यह भी पढ़ें: सच या झूठः क्या आपको भी मिला है कोरोना लॉकडाउन फेज का ये मैसेज?

आप अपने लिए दो मास्क तैयार करें। इसे जब आप एक मास्क को धोने डालेंगे तो आपके पास दूसरा मास्क होगा। बाहर से जब घर आए तो मास्क को साबुन से अच्छे से साफ करें। घर पर तैयार किए गए मास्क साफ-सफाई बनाए रखने में भी मदद करते हैं। मास्क को तैयार करने से पहले इस बात का भी ध्यान रखें आप जिस कपड़ें का इस्तेमाल कर रहे है वह बिल्कुल साफ हो। मास्क ऐसा होना चाहिए जो आपके मुंह और नाक को पूरी तरह से ढके। इसे बांधना आसान हो।

हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में मास्क पर कोरोना वायरस को लेकर हुए शोध से जुड़ी जानकारी दी गई है। यदि आप मास्क पर कोरोना वायरस से जुड़ी अन्य कोई जानकारी चाहते हैं तो आप अपना सवाल कमेंट कर पूछ सकते हैं। हम अपने एक्सपर्ट्स द्वारा आपके सवालों का जवाब दिलाने की पूरी कोशिश करेंगे।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Mona narang द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/06/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x