home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

Kutki: कुटकी क्या है?

परिचय |सावधानियां और चेतावनी|साइड इफेक्ट्स|रिएक्शन|डोसेज
Kutki: कुटकी क्या है?

परिचय

कुटकी क्या है?

यह एक पौधा है जो हिमालय के पहाड़ों में पाया जाता है। लोग, विशेष रूप से आयुर्वेदिक चिकित्सक, उपचार के लिए इसकी जड़ और प्रकंद (भूमिगत तने) का उपयोग करते हैं। यह पौधा विलुप्त होने के कगार पर पहुंच चुका है।

कुटकी आयुर्वेदिक जड़ी बूटी के नाम से भी प्रसिद्ध है। कुटकी का उपयोग विभिन्न प्रकार की बीमारियों के इलाज में किया जाता है। कुटकी को हिलालय से प्राप्त किया जाता है, इसलिए इसे हिमालय कुटकी के नाम से भी जानते हैं। कुटकी पाउडर विभिन्न प्रकार की समस्याओं से छुटकारा दिलाता है। कुटकी चूर्ण के रूप में लोग उपयोग करते हैं।

कुटकी (Picrorhiza) का उपयोग किसलिए होता है?

इसका इस्तेमाल निम्नलिखित स्थितियों में होता है:

कुटकी (Picrorhiza) कैसे कार्य करता है?

कुटकी के कार्य करने को लेकर पर्याप्त शोध उपलब्ध नही हैं। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से सलाह लें। हालांकि, माना जाता है कि कुटकी में ऐसे रसायन होते हैं, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करते हैं और कैंसर वाली कोशिकाओं को मारते हैं। यह सूजन में भी राहत देता है।

और पढ़ें : Mistletoe (European): मिसलटो क्या है?

सावधानियां और चेतावनी

कुटकी का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

निम्नलिखित स्थितियों में कुटकी का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें:

  • यदि आप प्रेग्नेंट या ब्रेस्टफीडिंग करा रही हैं। दोनों ही स्थितियों में सिर्फ डॉक्टर की सलाह पर ही दवा खानी चाहिए।
  • यदि आप अन्य दवाइयां ले रही हैं। इसमें डॉक्टर की लिखी हुई और गैर लिखी हुई दवाइयां शामिल हैं, जो मार्केट में बिना डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के खरीद के लिए उपलब्ध हैं। तो इस हर्ब का उपयोग करने से पहले इस बारे में डॉक्टर को जानकारी दें।
  • यदि आपको कुटकी के किसी पदार्थ से एलर्जी है या अन्य दवा या औषधि से एलर्जी है।
  • यदि आपको कोई बीमारी, डिसऑर्डर या कोई अन्य मेडिकल कंडिशन है।
  • यदि आपको फूड, डाई, प्रिजर्वेटिव्स या जानवरों से या अन्य प्रकार की एलर्जी है।

अन्य दवाइयों के मुकाबले आयुर्वेदिक औषधियों के संबंध में रेग्युलेटरी नियम अधिक सख्त नहीं हैं। इनकी सुरक्षा का आंकलन करने के लिए अतिरिक्त अध्ययनों की आवश्यकता है। कुटकी का इस्तेमाल करने से पहले इसके खतरों की तुलना इसके फायदों से जरूर की जानी चाहिए। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से सलाह लें।

और पढ़ेंः Oak Bark: शाहबलूत की छाल क्या है?

कुटकी (Picrorhiza) कितनी सुरक्षित है?

एक साल तक मौखिक रूप से कुटकी का सेवन करना ज्यादातर लोगों के लिए सुरक्षित माना जाता है।

कुटकी का उपयोग करते समय विशेष सावधानियां और चेतावनी

  • प्रेग्नेंसी और ब्रेस्टफीडिंग: प्रेग्नेंसी और ब्रेस्टफीडिंग के दौरान कुटकी का सेवन करना कितना सुरक्षित है? इस संबंध में पर्याप्त जानकारी मौजूद नहीं है। यदि आप गर्भवती या शिशु को स्तनपान करा रही हैं तो कुटकी का सेवन ना करें।
  • ‘ऑटो इम्यून डीजेज’: (Auto-immune diseases) जैसे मल्टीपल स्कलरोसिस (multiple sclerosis), ल्यूपस (Lupus) (बॉडी में सूजन की एक बीमारी, जिसका जिम्मेदार इम्यून सिस्टम खुद होता है।), रूमेटाइड आर्थराइटिस (rheumatoid arthritis) या अन्य दिक्कतें जैसे कुटकी प्रतिरक्षा प्रणाली को अतिरिक्त रूप से सक्रिय कर देती है। इससे ऑटो इम्यून डिजीज के लक्षणों का खतरा बढ़ जाता है। यदि आपको इनमें से कोई भी परेशानी है तो कुटकी का सेवन ना करें।
  • डायबिटीज: कुटकी कुछ लोगों के शुगर लेवल को कम कर सकती है। ऐसे में हाइपोग्लायसेमिया (hypoglycemia) के लक्षणों पर नजर रखें और यदि आपको डायबिटीज है तो सावधानी पूर्वक ब्लड शुगर को मॉनिटर करें।
  • सर्जरी: कुटकी कुछ लोगों में ब्लड शुगर को कम कर सकती है। सैद्धांतिक रूप से कुटकी सर्जरी या इसके बाद ब्लड शुगर कंट्रोल में हस्तक्षेप कर सकती है। तय सर्जरी से कम से कम दो सप्ताह पहले कुटकी का सेवन बंद कर दें।
और पढ़ें : Hazelnut : हेजलनट क्या है?

साइड इफेक्ट्स

कुटकी (Picrorhiza) से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

कुटकी से उल्टी, लालिमा पड़ना, अरुची (anorexia), डायरिया और खुजली हो सकती है।

हालांकि, हर व्यक्ति को यह साइड इफेक्ट्स नहीं होते हैं। उपरोक्त दुष्प्रभाव के अलावा भी कुटकी के कुछ साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं, जिन्हें ऊपर सूचीबद्ध नहीं किया गया है। यदि आप इसके साइड इफेक्ट्स को लेकर चिंतित हैं तो अपने डॉक्टर या हर्बालिस्ट से सलाह लें।

और पढ़ें : Melatonin: मेलाटोनिन क्या है?

रिएक्शन

कुटकी (Picrorhiza) से मुझे क्या रिएक्शन हो सकता है?

कुटकी आपकी मौजूदा दवाइयों के साथ रिएक्शन कर सकता है या दवा का कार्य करने का तरीका परिवर्तित हो सकता है। इसका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर या हर्बालिस्ट से संपर्क करें।

निम्नलिखित दवाइयां या प्रोडक्ट्स कुटकी के साथ रिएक्शन कर सकते हैं:

इम्यून सिस्टम को कम करने वाली दवाइयां (Immunosuppressants), वहीं कुटकी इम्यून सिस्टम को बढ़ा सकती है। इस स्थिति में कुटकी को इन दवाइयों के साथ लेने से उन दवाइयों की प्रभाविकता कम हो सकती है।

[mc4wp_form id=”183492″]

निम्नलिखित दवाइयां इम्यून सिस्टम को कमजोर करती हैं:

  • एजाथिप्राइन (azathioprine)
  • इम्यूरान (Imuran)
  • बासिलिक्सिमेब (basiliximab)
  • सिमुलेक्ट (Simulect)
  • साइक्लोस्पोराइन (cyclosporine)
  • निओरल (Neoral)
  • सेंडिइम्यून (Sandimmune)
  • डेक्लिजुमेब (daclizumab)
  • डेनापेक्स (Zenapax)
  • मुरोमोनाब (muromonab-CD3)
  • ओकेटी3, ओर्थोक्लोन, ओकेटी3 (OKT3, Orthoclone OKT3)
  • मायकोफेनोलेट (mycophenolate)
  • सेलसेप्ट (CellCept)
  • टेक्रोलिमुस (tacrolimus)
  • एफके, प्रोग्राफ (FK506, Prograf)
  • सिरोलिमुस (sirolimus)
  • रेपाम्यून (Rapamune)
  • प्रेडिंसोन (prednisone)
  • डेल्टासोन, ओरासोन (Deltasone, Orasone)
  • कोर्टिकोस्टेरॉयड्स (corticosteroids)
  • ग्लूकोकोर्टिस्टेरॉयड्स (glucocorticoids)
  • अन्य दवाइयां

और पढ़ें: Spinach: पालक क्या है?

डोसेज

उपरोक्त जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं हो सकती। इसका इस्तेमाल करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से सलाह लें।

कुटकी (Picrorhiza) का सामान्य डोज क्या है?

वैज्ञानिक अध्ययनों में निम्नलिखित डोसेज पर शोध किया गया है:

त्वचा की समस्या में कुटकी का सामान्य डोज:

त्वचा की बीमारी विटिलिगो (vitiligo), जिससे स्किन पर सफेद पैचेस पड़ जाते हैं, इसमें कुटकी का 200mg रिजोम पाउडर दिन में दो बार। इसका सेवन मेथोक्सालेन (methoxsalen) के साथ मौखिक रूप से करें और त्वचा पर भी लगाएं।

आमतौर पर वयस्क की खुराक 400 – 1500 मिलीग्राम / दिन होती है, जिसकी खुराक 3.5 ग्राम / दिन तक होती है जो कभी-कभी बुखार के लिए अनुशंसित होती है।

हालांकि, हर मरीज के मामले में कुटकी का डोज अलग हो सकता है। जो डोज आप ले रहे हैं वह आपकी उम्र, हेल्थ और दूसरे अन्य कारकों पर निर्भर करता है। औषधियां हमेशा ही सुरक्षित नहीं होती हैं। कुटकी के उपयुक्त डोज के लिए अपने डॉक्टर या हर्बालिस्ट से सलाह लें।

कुटकी किन रूपों में आती है?

कुटकी निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध हो सकती है:

  • कच्ची कुटकी
  • कुटकी के शाकाहारी कैप्सूल
  • कुटकी के कैप्सूल (अन्य औषधियों या इनग्रीडिएंट मिले कैप्सूल)
  • कुटकी चूर्ण

हमें उम्मीद है कि कुटकी पर लिखा यह आर्टिकल आपको लिए उपयोगी साबित होगा। यहां हमने इस हर्ब से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी देने की कोशिश की है। अगर आपको यहां बताई गई कोई स्वास्थ्य संबंधी परेशानी है तो डॉक्टर की सलाह से आप इस हर्ब का यूज कर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए हर्बलिस्ट से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Picrorhiza : https://journals.plos.org/plosone/article?id=10.1371/journal.pone.0144546  Accessed November 16, 2017

Picrorhiza Kurroa –http://www.bsienvis.nic.in/CITES/Picrorhiza%20kurrooa.pdf Health Benefits and Side EffectsAccessed November 16, 2017

A study of standardized extracts of Picrorhiza kurroa Royle ex Benth in experimental nonalcoholic fatty liver disease/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3087357/ Accessed April 5, 2020

Picrorhiza kurroa. Monograph/
https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/11410077/Accessed April 5, 2020

Picrorhiza kurroa: An ethnopharmacologically important plant species of Himalayan region/https://www.researchgate.net/publication/293645433_Picrorhiza_kurroa_An_ethnopharmacologically_important_plant_species_of_Himalayan_region/Accessed April 5, 2020

लेखक की तस्वीर badge
Sunil Kumar द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 08/07/2020 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड