home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

ऊंचाई से डर लगना (एक्रोफोबिया) भी हो सकती है एक मानसिक बीमारी

ऊंचाई से डर लगना (एक्रोफोबिया) भी हो सकती है एक मानसिक बीमारी

हमारे मन में अक्सर किसी न किसी चीज का डर जरूर होता है। किसी को ऊंचाई से डर लगता है तो किसी को भीड़ में घबराहट होती है, तो कोई अंधेरे में डरता है। सामान्य सा लगने वाला यह डर कब फोबिया में बदल जाता है पता ही नहीं चल पाता। इंसान अपने फोबिया से इतना घबराता है कि इसे दूर करने के बजाय इससे बचने के उपाय ढूंढने लगता है। एक्रोफोबिया भी उन्हीं में से एक है, जिसमें लोगों को ऊंचे स्थानों पर जाने से डर लगता है। लेकिन इस डर पर काबू पाया जा सकता है। इस आर्टिकल में जानते हैं कि एक्रोफोबिया के कारण क्या हैं और इससे कैसे बचा जाए?

एक्रोफोबिया (ऊंचाई से डर लगना) क्या है?

एक्रोफोबिया या ऊंचाइयों का डर, एक चिंता और घबराहट का कारण बन सकता है। कुछ रिसर्च बताती हैं कि एक्रोफोबिया सबसे आम फोबिया में से एक हो सकता है। ऊंचे स्थानों में कुछ असुविधा महसूस करना असामान्य नहीं है। उदाहरण के लिए, गगनचुंबी इमारत की सबसे ऊपरी मंजिल से नीचे देखने पर आपको चक्कर या घबराहट महसूस हो सकती है। यदि आपको एक्रोफोबिया है, तो एक पुल को पार करने या पहाड़ और आसपास की घाटी की तस्वीर देखने के बारे में सोचने से भी भय और चिंता पैदा हो सकती है। यह संकट आम तौर पर आपके दैनिक जीवन को प्रभावित करने के लिए पर्याप्त होता है।

[mc4wp_form id=”183492″]

और पढ़ें: मानसिक रोगी रह चुकीं दीपिका ने कही ये बात

एक्रोफोबिया के लक्षण क्या हैं?

एक्रोफोबिया का मुख्य लक्षण घबराहट और चिंता और ऊंचाइयों से भयंकर डर है। कुछ लोगों के लिए, चरम ऊंचाइयां डर को ट्रिगर करती हैं। इस डर की अपनी शारीरिक और मनोवैज्ञानिक लक्षणों की एक श्रृंखला हो सकती है।

एक्रोफोबिया के शारीरिक लक्षणों में शामिल हैं:

  • ज्यादा पसीना आना, सीने में दर्द या जकड़न और उच्च स्थानों को देखने या विचार करने से दिल की धड़कन बढ़ जाती है।
  • जब आप देखते हैं या ऊंचाइयों के बारे में सोचते हैं, तो बीमार या प्रकाश ही प्रकाश महसूस करते हैं।
  • ऊंचाइयों का सामना करने के दौरान कांपना।
  • ऊंची जगह पर चक्कर आना या अपना संतुलन खोना
  • ऊंचाइयों से बचने के लिए दूसरे रास्तों का चयन। भले ही यह दैनिक जीवन को और अधिक कठिन बना दे।

मनोवैज्ञानिक लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

  • ऊंची जगहों को देखकर घबराहट का अनुभव करना या ऊंची जगह पर जाने से डरना।
  • कहीं ऊंचाई पर फंसे होने का डर होना।
  • जब आप सीढ़ियों पर चढ़ते हैं, तो अत्यधिक चिंता और भय का अनुभव करते हुए एक खिड़की से बाहर देखना या एक ओवरपास के साथ ड्राइव करना।
  • भविष्य में ऊंचाइयों का सामना करने के बारे में अत्यधिक चिंता करना।

और पढ़ें: दुनिया की 5 सबसे दुर्लभ मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं

एक्रोफोबिया का क्या कारण होता है?

  • एक्रोफोबिया कभी-कभी ऊंचाइयों से संबंधित दर्दनाक अनुभव के कारण भी विकसित होता है, जैसे ऊंचे स्थान से गिरना।
  • किसी को ऊंचे स्थान से गिरते हुए देखना।
  • उच्च स्थान पर रहने के दौरान पैनिक अटैक या अन्य नकारात्मक अनुभव होना।
  • एक्रोफोबिया ज्ञात या अज्ञात कारणों से भी विकसित हो सकता है। इन मामलों में, आनुवांशिकी या पर्यावरणीय कारक भूमिका निभा सकते हैं।

और पढ़ें: क्या है मानसिक बीमारी और व्यक्तित्व विकार? जानें इसके कारण

इसका निदान कैसे किया जाता है?

फोबिया, जिसमें एक्रॉफोबिया भी शामिल है का इलाज केवल एक मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट ही कर सकता है। आप किसी मनोचिकित्सक के बारे में अपने डॉक्टर से पूछ सकते हैं। वे निदान के साथ मदद कर सकते हैं। मनोचिकित्सक कुछ ऐसे सवाल आपसे पूछ सकते हैं, जैसे

  • क्या आप ऊंचाइयों से बचते हैं?
  • क्या आप ऊंचाइयों का सामना करने की चिंता में बहुत समय बिताते हैं?
  • क्या ऊंचाई की चिंता आपके दैनिक जीवन को प्रभावित करने लगती है?
  • आप ऊंचाइयों का सामना करते समय भय और चिंता के साथ क्या प्रतिक्रिया करें या आप करते हैं?
  • क्या छह महीने से अधिक समय तक ये लक्षण रहते हैं?

और पढ़ें: जानें कितना सुरक्षित है बच्चों के लिए वीडियो गेम

इसका इलाज कैसे किया जाता है?

फोबिया के लिए हमेशा उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। कुछ लोगों के लिए, डरने वाली वस्तु से बचना आसान है और इससे उनकी दैनिक गतिविधियों पर बड़ा प्रभाव नहीं पड़ता है, लेकिन अगर आपको लगता है कि आपका डर आपको उन चीजों को करने से पीछे खींच रहे हैं, जो आप चाहते हैं या करने की जरूरत है। जैसे कि एक दोस्त से मिलना, जो एक इमारत के शीर्ष तल पर रहता है। ऐसे में उपचार मदद कर सकता है।

चिकित्सा

  • एक्सपोजर थेरेपी को विशिष्ट फोबिया के लिए सबसे प्रभावी उपचारों में से एक माना जाता है। इस तरह की चिकित्सा में, आप एक चिकित्सक के साथ रहते हैं, जिससे आप धीरे-धीरे खुद को उजागर करते हैं कि आप किससे डरते हैं।
  • एक्रोफोबिया के दौरान आप किसी ऊंची इमारत को देखते हुए अपने इलाज का प्रथम कदम बढ़ा सकते हैं। गलियों में चढ़ते, संकीर्ण पुलों को पार करते हुए वीडियो क्लिप देखें।
  • आखिरकार, आप बालकनी पर जा सकते हैं या स्टेपलैडर का उपयोग कर सकते हैं। धीरे-धीरे ऐसे छोटे- छोटे टिप्स से आप डर से आजाद होने की तकनीक सीख लेगें।

संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी (सीबीटी)

यदि आप एक्सपोजर थेरिपी आजमाने के लिए तैयार नहीं हैं तो सीबीटी मदद कर सकता है। सीबीटी में, आप एक चिकित्सक के साथ ऊंचाइयों के बारे में नकारात्मक विचारों को दूर करेंगे। इस दृष्टिकोण में भी ऊंचाइयों का संपर्क हो सकता है, लेकिन यह आमतौर पर केवल एक चिकित्सा सत्र की सुरक्षित सेटिंग के भीतर किया जाता है।

और पढ़ें: असफलता का ‘डर’ भगाने से ही जाएगा, जानें इस डर को कैसे भगाएं दूर

कैसे सामना करें इस फोबिया का

  • आपको ऊंचाई पर जाने से या उसके बारे में सिर्फ सोचने से डर लगता है। इसके पीछे की वास्‍तविक वजह को जानने की कोशिश कीजिए। फिर उस कारण के बारे में बिलकुल न सोचें।
  • थेरेपिस्‍ट से परामर्श करें। अगर सामान्‍य प्रयोगों से डर भगाने वाले तरीके आप पर काम नहीं कर रहे हैं, तो थेरेपिस्‍ट से संपर्क करना ही आपके लिए बेहतर विकल्‍प हो सकता है। थेरेपिस्‍ट से विचार विमर्श करके आप इस डर का इलाज कर सकते हैं।
  • डर का सामना करें। आप जब तक ऊंचाई से डरेंगे आपको तब तक डर लगता रहेगा। इससे बाहर निकलने के लिए जरूरी है कि आप उसका सामना कीजिए।
  • यदि आपको हल्‍की ऊंचाई से भी डर लगता है, तो इन जगहों से घबराएं नहीं बल्कि तर्क लगाएं। एरोप्‍लेन में, ऊंची इमारतों से अगर आपको डर है, तो यह सोचिए कि ऐसी जगहें पूरी तरह से सेफ हैं और वहां जाने से कोई दुर्घटना नहीं घटेगी।
  • तकनीक जरूर सीखें। अपने डर को काबू करने की तकनीक के बारे में जरूर सीखें। जब भी थेरेपिस्‍ट से मिलने जाएं, उसके द्वारा बताए गए सभी तरीकों को नोट कर लें, फिर उन पर अमल करें।
  • होमवर्क जरूर करें। थेरेपिस्‍ट एक्रोफोबिया से बचने के लिए आपको कुछ तरकीब बताते हैं। ये होमवर्क आपको ऊंचाई के डर को दूर भगाने के लिए करने होते हैं।

कुछ अन्य आम फोबिया…

व्यक्ति को सिर्फ एक्रोफोबिया यानी ऊंचाई से ही डर नहीं लगता, बल्कि कई और प्रकार के फोबिया भी हैं। जो कि व्यक्ति को मानसिक रूप से परेशान कर सकते हैं। यह सभी डर भी ऊंचाई से लगने वाले डर की तरह ही बिल्कुल आम हैं। आइए, इनके बारे में भी कुछ हद तक जान लेते हैं, ताकि फोबिया से जुड़ी हमें अधिकतर जानकारी प्राप्त हो सके।

  • कुछ लोगों को अंधेरे से डर लगता है, जिसे मेडिकल भाषा में निक्टोफोबिया कहा जाता है। अंधेरे से डर लगना बिल्कुल आम और स्वाभाविक हो सकता है, लेकिन अगर यह आपके रोजमर्रा के जीवन को प्रभावित करने लगे, तो यह फोबिया कहा जा सकता है। इस डर के कारण आपको रात में अकेले सोने, अकेले कहीं जाने या बिल्कुल अंधेरे में कुछ भी कार्य करने से डर लगता है। इस स्थिति में मरीज को हमेशा ऐसा लगता है कि जैसे अंधेरे में उसके पीछे या आसपास कोई और भी है। बच्चों में यह डर काफी आम है। लेकिन बड़े लोगों को भी यह अपना शिकार बना सकता है।
  • कुछ लोगों को पानी से डर लगने लगत है। यह डर पानी वाली जगह जैसे तालाव, नदी, समुद्र या पानी से भरे टब के पास जाने से लगने लगता है। इस तरह के डर को एक्वाफोबिया कहा जाता है। इस डर से ग्रसित लोगों को लगता है जैसे कि वह पानी में डूब जाएंगे। यह डर आपके रोजमर्रा के जीवन को काफी हद तक प्रभावित कर सकता है। क्योंकि हमें रोजाना पानी का इस्तेमाल करना होता है। इसके उपचार के लिए आपको मनोचिकित्सक की सख्त जरूरत पड़ सकती है।
  • कई लोग अकेले रहने से बहुत डरते हैं। हालांकि, हर किसी को अकेले रहने से डर लगता है और कोई भी जीवन में अकेला नहीं रहना चाहता। लेकिन इस डर से ग्रसित लोग एक पल भी अकेले नहीं रह सकते हैं। इस तरह के डर को ऑटोफोबिया कहा जाता है। निक्टोफोबिया की तरह ही इस डर के शिकार लोगों को अकेले जाने, अकेले रहने या अकेले सोने से डर लगता है। हालांकि, यह निक्टोफोबिया की तरह सिर्फ रात के समय ही नहीं होता, बल्कि दिन में भी उन्हें यह डर लगता है। एक्रोफोबिया की तरह यह डर भी आपके जीवन को काफी प्रभावित कर सकता है। इसलिए इसके इलाज के लिए किसी मनोचिकित्सक की मदद जरूर लें।
  • यह डर थोड़ा कम देखने को मिलता है, लेकिन यह भी आपके जीवन को प्रभावित करता है। इसके अलावा यह फोबिया बच्चों में ज्यादा देखने को मिलता है। इस फोबिया के कारण आपको तेज आवाज से डर लगने लगता है, जिसे मेडिकल भाषा में फोनोफोबिया कहा जाता है। इसमें आपको किसी के तेज बोलने, तेज म्यूजिक आदि किसी भी तेज आवाज से डर लगने लगता है।

आशा करते है कि एक्रोफोबिया को लेकर आपके बहुत से प्रश्नों का समाधान इस लेख के माध्यम से हो गया है। अगर आप एक्रोफोबिया से पीड़ित हैं, तो बताए गए किसी भी उपचार से आपको अपने डर से बाहर निकलने में मदद मिल सकती है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

0Phobia – towards a virtual cure for acrophobia: study protocol for a randomized controlled trial – https://trialsjournal.biomedcentral.com/articles/10.1186/s13063-018-2704-6 Accessed on 07 Sep 2019

Specific Phobia – https://www.nimh.nih.gov/health/statistics/specific-phobia.shtml Accessed on 07 Sep 2019

Acrophobia, or why are some people are afraid of heights. https://psychlopaedia.org/health/republished/health-check-why-are-some-people-afraid-of-heights/. Accessed on 07 Sep 2019

Specific phobias, https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/specific-phobias/symptoms-causes/syc-20355156. Accessed on 07 Sep 2019

लेखक की तस्वीर badge
Smrit Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 28/10/2020 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड