आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

null

Calf Pain: काल्फ पेन क्या है और इस परेशानी को कैसे करें दूर?

    Calf Pain: काल्फ पेन क्या है और इस परेशानी को कैसे करें दूर?

    लगातार एक ही पुजिशन (पोजीशन) में बैठे-बैठे बैक पेन या नेक पेन तक ही सीमित नहीं है। कई घंटे तक बैठने की वजह से काल्फ पेन (Calf Pain) की तकलीफ भी शुरू होने लगती है। काल्फ पेन को सामान्य भाषा में पिंडलियों में दर्द भी कहा जाता है। काल्फ मसल्स पैरों का घुटनों से पंजों के बीच के हिस्से को कहते हैं। लेकिन इसे मामूली पैर दर्द समझकर नजरअंदाज किया गया तो आपकी शारीरिक तकलीफ बढ़ सकती है। इस आर्टिकल में समझेंगे काल्फ पेन (Calf Pain) के कारण क्या हैं? काल्फ पेन के लक्षण क्या हैं? पिंडलियों में होने वाले दर्द को दूर करने के क्या है इलाज? और इससे जुड़े कई सवालों के जवाब।

    किसी भी शारीरिक या मानसिक परेशानी के शुरुआत के पहले कुछ बदलाव या अलार्मिंग साइन हो सकते हैं। अगर ऐसे वक्त में लापरवाही बरती गई, तो परेशानी बढ़ सकती है। इसलिए किसी भी शारीरिक परेशानी से बचने के लिए शरीर में होने वाले बदलाव को इग्नोर न करें और जल्द से जल्द हेल्थ एक्सपर्ट से संपर्क करें।

    और पढ़ें : सीने में दर्द, पैरों में सूजन और थकावट कहीं आपको दिल से बीमार न बना दे!

    काल्फ पेन के कारण क्या हैं? (Cause of Calf Pain)

    रिसर्च के अनुसार पिंडलियों में दर्द के दो मुख्य कारण होते हैं। सबसे पहला कारण यह माना गया है कि जो लोग जरूरत से ज्यादा काल्फ मसल्स का इस्तेमाल करते हैं, उन्हें ऐसे खिंचाव (क्रैम्प) आता है या फिर अगर कोई व्यक्ति अपने काल्फ मसल्स का बिल्कुल भी इस्तेमाल नहीं करते हैं। ऐसी स्थिति होने पर मांसपेशियों में सिकुड़न आ जाती है। इनदोनों कारणों के अलावा और भी अन्य कारण हो सकते हैं। जैसे:

    डेस्क जॉब- रोजाना कई-कई घंटों की डेस्क जॉब की वजह से इसका साइड इफेक्ट्स डायजेस्टिव सिस्टम (Digestive system) पर पड़ता है। डायजेशन से जुड़ी परेशानी होने पर बॉडी को न्यूट्रिशन ठीक तरह से नहीं मिल पाता है और शरीर में पौष्टिक तत्वों की कमी कई बीमारियों को इन्वाइट करने के काम करती है। ऐसे में कई बार एसिडिटी जैसी परेशानियों का भी कारण बन सकते हैं, जो कभी-कभी काल्फ पेन का कारण भी हो सकता है।

    हील- महिलाओं को हिल्स पहनना बेहद पसंद आता है। हील पहनने से होने होने वाले साइड इफेक्ट्स जैसे बैक पेन से तो हमसभी वाहकीफ है, लेकिन हील की वजह से काल्फ पेन की भी समस्या हो सकती है।

    ब्लड सर्क्युलेशन- घंटों-घंटों तक एक ही कुर्सी पर बैठे रहने की वजह से पैरों की मसल्स में ब्लड सर्क्युलेशन (Blood circulation) ठीक तरह से नहीं हो पाता है। इस कारण काल्फ की मसल्स में दर्द और ऐंठन जैसी परेशानी शुरू हो जाती है। कई बार तो पैर की नस चढ़ने की वजह से भी पैरों की मूवमेंट होने में परेशानी महसूस होती है।

    इन कारणों की वजह से भी काल्फ पेन की परेशानी शुरू हो सकती है। हालांकि कभी-कभी इन कारणों के अलावा और भी कारण हो सकते हैं।

    और पढ़ें : पैरों में सूजन से राहत पाने के लिए अपनाएं ये असरदार घरेलू उपाय

    काल्फ पेन के लक्षण क्या हैं? (Symptoms of Calf Pain)

    काल्फ पेन के लक्षण इस प्रकार हैं। जैसे:

    • काल्फ मसल्स (Calf muscles) में सूजन आना
    • काल्फ स्किन के रंग में बदलाव आना
    • काल्फ और पैरों में झुनझुनाहट महसूस होना या सुन्न होना
    • पैरों का कमजोर होना
    • काल्फ का लाल होना या गर्म होना
    • तरल पदार्थों का निर्माण ज्यादा होना

    इन लक्षणों के अलावा और भी अलग लक्षण देखे या महसूस किये जा सकते हैं। लेकिन इन लक्षणों के अलावा या शुरू होने से पहले बॉडी निम्नलिखित संकेत दे सकती है। इनमें शामिल है:

    • अगर पैरों और घुटनों के बीच प्रायः दर्द, ऐंठन या सुन्नता महसूस होना
    • ज्यादा देर तक काम नहीं कर पाना
    • पेट से जुड़ी परेशानियों की वजह से काल्फ पेन होना।
    • लगातार डेस्क पर बैठकर काम करना
    • गैस, अपच या खट्टी डकार आना

    और पढ़ें : अगर पैर दर्द की समस्या से हैं परेशान तो अपनाएं ये योग

    काल्फ पेन के दूर करने के क्या हैं इलाज? (Treatment for Calf Pain)

    काल्फ पेन (Calf Pain) दूर करने करने के लिए निम्नलिखित टिप्स अपनाये जा सकते हैं। जैसे:

    R.I.C.E. (रेस्ट, आइस, कम्प्रेशन एवं एलिवेशन)- अगर किसी व्यक्ति को काल्फ पेन की समस्या बनी रहती है, तो R.I.C.E विधि अपनाई जा सकती है। दरअसल यह एक बेहद आसान प्रक्रिया है, जिसके दौरान पेन वाली जगह यानी काल्फ पर आइस से सेक सकते हैं और इस दौरान आप पैर को एलिवेट करें। ध्यान रखें पहले तकरीबन 20 मिनट तक आइस पैक लगाएं।

    ओटीसी दवाएं- काल्फ पेन की तकलीफ को दूर करने के लिए आईब्रूफेन (Ibuprofen) या नेप्रोक्सेन (Naproxen) के सेवन की सलाह हेल्थ एक्सपर्ट द्वारा दी जाती है। लेकिन इन दवाओं का सेवन अपनी मर्जी से ना करें तो बेहतर होगा, क्योंकि इन दवाओं के सेवन से भविष्य में साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं।

    स्ट्रेचिंग- काल्फ को या पैरों को हल्का स्ट्रेच करना काल्फ पेन से राहत दिलाने में मददगार होता है। आप चाहें तो रेग्यूलर काल्फ एक्सरसाइज करें। ऐसा करने से काल्फ पेन की परेशानी नहीं होती है। लेकिन आवश्यकता से ज्यादा भी एक्सरसाइज करना दर्द का कारण बन सकता है।

    और पढ़ें : Broken (fractured) toe: जानिए पैर की उंगली में फ्रैक्चर क्या है?

    काल्फ पेन से बचने के क्या हैं उपाय? (Tips for Calf Pain)

    निम्नलिखित टिप्स को फॉलो कर काल्फ पेन से बचा जा सकता है। जैसे:

    हाइड्रेटेड रहें- शरीर में पानी की कमी कई शारीरिक परेशानियों को न्योता देने के लिए काफी है। नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI) के अनुसार डिहाइड्रेशन की वजह से भी काल्फ पेन की समस्या हो सकती है। इसलिए ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थों का सेवन करें या पानी पीएं।
    स्ट्रेचिंग करें- स्ट्रेचिंग करने से भी दर्द से छुटकारा पाया जा सकता है।
    एक्सरसाइज करें- काल्फ एक्सरसाइज करें और धीरे-धीरे एक्सरसाइज के समस्या बढ़ाएं।
    मसाज करें नियमित रूप से पैरों की मसाज करें। ऐसा करने से आप रिलैक्स करने के साथ-साथ दर्द से भी बचा जा सकता है। काल्फ के दर्द से निजात पाएं।
    डायट- नियमित रूप से हेल्दी डायट फॉलो करें। क्योंकि बॉडी में न्यूट्रिशन की कमी से भी कई बीमारियों का खतरा बना रहता है।
    स्मोकिंग न करें।
    हेल्दी बॉडी वेट मेंटेन करें।

    इन ऊपर बताये टिप्स को फॉलो करें और लोअर बॉडी को फिट रखें।

    और पढ़ें : स्टाइल के साथ-साथ पैरों का भी रखें ख्याल, फ्लिप-फ्लॉप फुटवेयर खरीदने में बरतें सावधानी!

    काल्फ पेन की तकलीफ दूर करने के लिए डॉक्टर से कब मिलना चाहिए?

    निम्नलिखित स्थितियों में डॉक्टर से संपर्क करना जरूरी है, जैसे –

    • चलने में या खड़ा होने में परेशानी महसूस होना
    • किसी इंजूरी की वजह से पैर का निचला हिस्सा कमजोर होना
    • आराम करने के दौरान या रात को सोने के दौरान काल्फ में दर्द होना
    • एंकल या काल्फ में सूजन आना
    • बार-बार इंफेक्शन (Infection) होना और इसके साथ बुखार आना, काल्फ का लाल होना और गर्म होना

    इन लक्षणों के अलावा और भी लक्षण नजर आने पर या परेशानी महसूस होने पर डॉक्टर से कंसल्ट करना बेहद जरूरी है। ध्यान रखें शरीर के हर एक अंग की तरह पैरों की भी अहम भूमिका होती है और शरीर का पूरा भार पैरों पर ही पड़ता है। अगर आप काल्फ पेन (Calf Pain) से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Leg pain/https://www.mayoclinic.org/symptoms/leg-pain/basics/when-to-see-doctor/sym-20050784/Accessed on 14/01/2021

    Calf Pain/https://www.foothealthfacts.org/conditions/calf-pain/Accessed on 14/01/2021

    Differential Diagnosis of Calf Pain and
    Weakness: ~lexor Hahcis Longus Strain/https://www.jospt.org/doi/pdfplus/10.2519/jospt.2000.30.2.78/Accessed on 14/01/2021

    Differential Diagnosis of a Soft Tissue Mass
    in the Calf/https://www.jospt.org/doi/pdf/10.2519/jospt.2005.0814/Accessed on 14/01/2021

    Leg pain/https://medlineplus.gov/ency/article/003182.htm/Accessed on 14/01/2021

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 28/06/2021 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड