home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

सेल्फ मसाज कैसे करें? जानिए इसके फायदे

सेल्फ मसाज कैसे करें? जानिए इसके फायदे

मसाज का नाम सुनते ही मन को सुकुन सा मिलता है। अंधेरा कमरा, ऑइल की भीनी-भीनी खुशबू और दर्द और थकान से मिलती राहत। इन लाइनों को पढ़कर आप जरूर मसाज करवाने के ख्यालों में खो गए होंगे, लेकिन उससे बाहर आइए। हम मसाज के लिए ऐसा ही सोचते आए हैं कि इसके लिए हमेशा किसी प्रोफेशनल की जरूरत होगी ,लेकिन ऐसा नहीं है। आप सेल्फ मसाज भी कर सकते हैं। ये पढ़ते ही आपके दिमाग में ये सवाल आए होंगे कि सेल्फ मसाज कब की जाती है? सेल्फ मसाज कैसे की जाती है? इसका सही तरीका क्या है और इसके फायदे क्या हैं? तो आपको इस आर्टिकल में ही सारे जवाब मिलेंगे। सेल्फ मसाज के लिए आपको बस कुछ टेक्नीक जाननी होंगी। जो काफी आसान हैं। सबसे पहले जान लेते हैं सेल्फ मसाज के फायदे।

सेल्फ मसाज के फायदे (benefits of self massage)

अगर आप टेंशन में या दुखी हैं तो मसाज थेरिपी बेस्ट है। यह फिजिकल और मेंटल दोनों तरह से फायदा पहुंचाती है। आप इसे आसानी से घर पर कर सकते हैं। इससे सिरदर्द, चिंता और मसल्स स्ट्रेन से राहत पाई जा सकती है। अगर हम इसे प्रॉपर तरीके से करते हैं तो इससे अर्थराइटिस में भी राहत मिल सकती है। आप गले, सिर, पीठ, हिप्स और शोल्डर की मसाज सेल्फ मसाज तकनीक से कर सकते हैं। यह मसल्स पेन में राहत पहुंचाता है, लेकिन अगर नर्व पेन मसल्स प्रेस के कारण हो रहा है तो यह उसे भी ठीक कर सकता है। सेल्फ मसाज के साथ ही रेकी टेक्नीक के द्वारा भी आप दर्द से राहत प्राप्त कर सकते हैं

सेल्फ मसाज के लिए ऑयल और लोशन

सेल्फ मसाज

मसाज को एंजॉय करने के लिए आप मसाज प्रोडक्ट्स भी खरीद सकते हैं। मार्केट में कई तरह के मसाज ऑइल उपलब्ध हैं। इसके अलावा मार्केट में कूलिंग जेल भी उपलब्ध हैं जो कूल सेंसेशन देने के साथ ही दर्द से राहत पहुंचाते हैं। इसके अलावा कई लोशन भी उपलब्ध हैं जिनका यूज भी आप कर सकते हैं।

सेल्फ मसाज टूल्स (benefits of self massage tools) का भी कर सकते हैं उपयोग

आप सेल्फ मसाज को इनहांस करने के लिए सेल्फ मसाज टूल्स का उपयोग भी कर सकते हैं। फोम रोलर्स और ग्रिड रोलर्स बैक पेन और लेग पेन में रिलीफ दिलाने में मदद करते हैं। आप इन्हें जहां दर्द है उस एरिया पर रोल करके उपयोग कर सकते हैं। मसाज टूल में ट्रिगर पॉइंट केन भी होता है। यह शोल्डर टेंशन और दर्द को कम कर सकता है। आप इन रोलर्स को पैर, थाइज, नेक, आर्म और पैर पर यूज कर सकते हैं। इसके लिए आप लेक्रोस बॉल का भी यूज कर सकते हैं। ऐसे कई टूल मौजूद हैं जो सेल्फ मसाज में आपकी मदद कर सकते हैं। अब जानते हैं कि आप किन बॉडी पार्ट्स पर सेल्फ मसाज कर सकते हैं।

और पढ़ें: इन 7 होममेड हेयर मास्क से घर पर करें हेयरस्पा

एब्डॉमिन की सेल्फ मसाज (Abdominal Self Massage)

पेट पर सेल्फ मसाज करने से स्टूल को कोलन से मूव करने में मदद मिल सकती है। यह टाइटनेस, प्रेशर, क्रैम्पिंग और ब्लॉटिंग के लक्षणों को दूर करने में मदद कर सकती है।

कैसे करना है एब्डॉमिन मसाज

  • पेट के राइट साइड से शुरू करें और पेल्विस तक हाथ को ले जाएं।
  • हल्के हाथ से राइट साइड में सर्कुलेशन मोशन में रब करें जब तक आप रिब बोन तक नहीं पहुंच जाते।
  • अब लेफ्ट साइड में सीधा मूव करें।
  • अब लेफ्ट साइड में हाथ को हिप बोन के पास लेकर जाएं और फिर बेली बटन तक लाएं। ऐसा दो से तीन मिनट तक करें।
  • फिंगरटिप से सर्कुलर मोशन में रब करें। आप अपने फिंगर्स से थोड़ा और दबाव डाल सकते हैं। राइट हिप बोन से राइट रिब्स तक जाएं ऐसा एक मिनट तक करें।
  • अब राइट हिप बोन से राइट रिब्स तक आएं। ऐसा भी एक मिनट तक करें।
  • हमेशा क्लॉकवाइज मोशन में रबिंग को रिपीट करें

और पढ़ें: कई तरह से लाभदायक है चेहरे की मालिश, जानिए इसके फायदे

गर्दन की सेल्फ मसाज (self massage for neck)

खराब पॉश्चर नेक पेन का सबसे बड़ा कारण होता है। यह लैपटॉप या मोबाइल पर लंबे समय तक काम करने या लेटकर बिना सही सपोर्ट के बुक पढ़ने के कारण हो सकता है। यह तकनीक आपकी मदद करती है जब आपको गर्दन एकदम अकड़ जाए। अपनी गर्दन और पीठ को सीधा करते हुए अपने कंधों को अपने कानों से दूर करते हुए मसाज शुरू करें। पेनफुल एरिया पता चलने के बाद वहां जोर से दबाएं। वहां पर सर्कुलर मोशन में हाथ घुमाएं और अपोजिट डायरेक्शन में रिपीट करें।

बैक पेन के बारे में जानने के लिए देखें ये 3D मॉडल

सिर की सेल्फ मसाज (self massage)

मालिश आपको तनाव से राहत देने और रिलैक्स करने में मदद करती है। यह टेक्नीक बहुत उपयोगी हो सकती है अगर तनाव आपके सिरदर्द का कारण है। अपने कंधों को नीचे करें और अपनी गर्दन और पीठ को सीधा करें। दोनों हाथों की मिडिल फिंगर गर्दन के बीच में रखें। थोड़ा सा प्रेशर डालें और अपनी उंगलियों को ऊपर और नीचे घुमाएं। अपनी उंगलियों को सर्कुलर मोशन में घुमाएं। इससे सिर दर्द में राहत मिलती है।

पैरों की सेल्फ मसाज

सिंपल सी फुट मसाज आपको रिलैक्स करने के साथ ही इमोशन को भी बैलेंस कर सकती है। ऑयल को लगाने बाद अपने पेर के सोल की हाथ के फिंगरटिप से मसाज करें। आठ का शेप बनाते हुए पूरे पैर को कवर करें। इसके बाद पैर की हील से स्टार्ट करें इंडेक्स फिंगर को ऊपर की और ले जाएं। लाइट सर्कुलर मोशन में हाथ को घुमाते हुए अंगूठे को कवर करें। फाइनली अपने पैर को हथेली में रखें पैर के दोनों साइड पर मालिश करें। यह आपके स्पाइन और पैरे के दर्द और तनाव को दूर करेगा।

सेल्फ मसाज के फायदे जानने के बाद आपको मसाज के जोखिमों के बारे में भी बता देते हैं।

और पढ़ें: शिशु की मालिश से हो सकते हैं इतने फायदे, जान लें इसका सही तरीका

मालिश के जोखिम (Risks of massage)

ज्यादातर लोग न्यूरोपैथी के लिए मालिश से लाभ उठा सकते हैं। मसाज थेरिपी में कुछ गंभीर जोखिम दिखाई दे सकते हैं। अगर आप किसी दूसरे से मसाज करवा रहे हैं तो यह उचित रूप से प्रशिक्षित चिकित्सक द्वारा किया जाना चाहिए। कई बार मसाज के किसी फॉर्म आपको अगले दिन थोड़ा परेशानी महसूस हो सकती है, लेकिन आमतौर पर यह दर्दनाक या असहज नहीं होना चाहिए। मसाज के दौरान अगर आपको बॉडी के किसी पार्ट पर सही नहीं लगता है या दर्द होता है, तो अपने प्रोफेशनल को तुरंत बताएं। कई बार ऑयल से एलर्जी हो सकती है।

मसाज थेरिपी के दौरान निम्नलिखित सावधानियां रखनी चाहिए

  • ब्लीडिंग डिसऑर्डर या कम ब्लड प्लेटलेट काउंट वाले लोगों और रक्त को पतला करने वाली दवाओं के सेवन से लोगों को ज्यादा प्रेशर वाली मालिश से बचना चाहिए।
  • शरीर के किसी भी क्षेत्र में रक्त के थक्के, फ्रैक्चर, घाव, त्वचा में संक्रमण, कमजोर हड्डियों (जैसे ऑस्टियोपरोसिस या कैंसर से) वाले लोगों मालिश को नहीं करवानी चाहिए।
  • जिनकी हाल ही में सर्जरी हुई है उन्हें भी इससे बचना चाहिए।
  • मसाज थेरिपी कैंसर के रोगियों के लिए सुरक्षित होती है, लेकिन उन्हें मालिश या स्वीडिश मसाज कराने से पहले अपने ऑन्कोलॉजिस्ट से परामर्श करना चाहिए।
  • गर्भवती महिलाओं को मसाज थेरिपी का उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

और पढ़ें: रुटिन बॉडी मसाज के हैं इतने फायदे, क्या जानते हैं आप?

सेल्फ मसाज आप कैसे कर सकते हैं इसके बारे में अब आप समझ गए होंगे। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और सेल्फ मसाज से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

 

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 08/03/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x