home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

अगर पैर दर्द की समस्या से हैं परेशान तो अपनाएं ये योग

अगर पैर दर्द की समस्या से हैं परेशान तो अपनाएं ये योग

भले ही आप योगा न करते हो,लेकिन आपने योग के फायदों के बारें में जरुर सुना होगा। हमारे तन और मन को संतुलित बनाए रखने की शक्ति हमें योगा से मिलती है।योगा हमें अपने शरीर को अंदर से जानने की शक्ति देता है। हमारे तमाम शारीरिक और मानसिक विकारों को दूर करने में योगा बहुत उपयोगी होता है। अक्सर लोगों को पैर दर्द की समस्या होती है। पैर दर्द किसी उम्र में नहीं बल्कि हर वर्ग के लोगों को होता है।आजकल छोटे बच्चों और वयस्कों में भी इसकी समस्या देखने को मिलती हैं। तो पैर दर्द के लिए योगा बहुत उपयोगी हो सकता है। आप योगा करके या पैर के लिए व्यायाम करके पैर दर्द से राहत पर सकते हैं। क्योंकि हर दर्द के लिए दवा खाना भी शरीरे के लिए अच्छा नहीं माना जाता है। ज्यादा पेनकिलर खाने से उसका दुष्प्रभाव सीधा हमारी किडनी पर पड़ता है। इसीलिए बेहतर है कि कुछ प्रकार के दर्द से निपटने के लिए हम योग या व्यायाम का तरीका अपनाएं।

और पढ़ेंः चमकदार त्वचा चाहते हैं तो जरूर करें ये योग

पैर दर्द के लिए योग कैसे हैं असरदार

बहुत से लोग पैरों और अन्य शरीर के अंगों में दर्द को कम करने के लिए दर्दरहित दवा, स्प्रे, जेल का उपयोग करते हैं। लेकिन यह दवा और बाकी इलाज कुछ समय के लिए ही असरदार होता है। इससे आपको लंबे समय तक के लिए आराम नहीं मिलता है। आपको ऐसे उपचार की जरुरत होती है जिससे आपको दीर्घकालिक समय के लिए आराम मिल सके। उसी प्रकार पैर दर्द के लिए योगा भी एक दीर्घकालिक उपचार है। आपके शरीर में दर्द के सभी हिस्सों के लिए अलग-अलग प्रकार के योगा निर्देशित किए गए हैं। आज हम जानेंगे आप किस प्रकार को योगा और व्यायाम से पैर के दर्द से राहत पा सकते हैं।

पंजो के बल खड़े हो

यह व्यायाम बहुत सरल है। इस व्यायाम से पैर के दर्द में आपको राहत मिल सकती है। यह करने में बहुत ही सरल है। इससे आपके पैरों पर खिचाव पड़ता है। आइए जानते हैं। इसे कैसे करना है।

  • अब सबसे पहले आप सीधे स्ट्रेट खड़े हो जाएं और अपने पैरों को एक साथ रखें।
  • जितना हो सके अपने पैर की उंगलियों के बल खड़े रहें और 30 सेकंड तक उसी मुद्रा में रहें।
  • फिर अपने पैरों को फर्श पर सपाट रखें।
  • 5-10 बार दोहराएं।
  • यह आपके पैरों और तलवो में आराम देने में सक्षम हैं।

[mc4wp_form id=”183492″]

और पढ़ेंः सर्वाइकल दूर करने के लिए करें ये योगासन

बाल-आसना

बालसाना आपकी रीढ़ के सीधे तरीके से फैलाता है। ये आपके कूल्हों, पैरों और पीठ के निचले हिस्से में लचीलापन और खुलेपन को बढ़ावा देता है। इसको करने के लिए ये स्टेप फॉलो करें।

  • सबसे पहले बैठकर अपने घुटनों को एक साथ लाएं।
  • अपने कूल्हों को अपनी एड़ी पर रखें।
  • अपनी बाहों को अपने सामने बढ़ाएं ।
  • अपने धड़ को पूरी तरह से आराम करने दें।
  • जकड़न या सनसनी के किसी भी क्षेत्र को आराम करने के लिए अपनी सांस को गहरा करने पर ध्यान दें।
  • इस मुद्रा को 5 मिनट तक रखें।
  • इससे आपके पैरों और जांघों के दर्द से आराम मिलता है।

दंडासन

  • इसको करने के लिए सबसे पहले आप दीवार से पीठ लगाकर बैठ जाओ।
  • अपने कूल्हे पूरी तरह से दीवार से टिका दें।
  • घुटने को ऐसे मोड़े जैसे कुर्सी पर बैठे हो।
  • आप इस आसन को दस से पंद्रह मिनट करें।
  • बीच में थकान महसूस होने पर पांव ढीले छोड़कर आराम की स्थिति में हो जाएं।

आनंद बालासना

पैर के दर्द के लिए योगा मुद्रा आनंद बालासना बहुत कारगर है। यह आपके पैरों पर हल्का खिचाव डालता है। इससे आपके पैर और पीठ के दर्द से आराम मिलता है। यह बिल्कुल जरुरी नहीं है कि यह योगा आपके पैर के दर्द के लिए ही कारगर होता है। प्रत्येक योगा आपके शरीर के कई दर्द से राहत दिलाने में कारगर होता है।

  • इसको करने के लिए सबसे पहले सपोर्टेड बटरफ्लाई से, अपने घुटनों को अपनी छाती के करीब लाएं।
  • अब अपने हाथों से अपने पैरों के बाहरी हिस्से को पकड़ें।
  • घुटनों के ऊपर एड़ियों को रखते हुए पैरों को ऊपर उठाएं।
  • जब आपके कूल्हे में दर्द महसूस होने लगे तब आप रेस्ट की मुद्रा में आ जाएं।
  • यह आपको लगभग 1 मिनट तक करना है।

और पढ़ेंः नेचुरल डिजास्टर से स्वास्थ्य पर पड़ता है बुरा असर, हो सकती हैं कई बीमारियां

पदंगुठासन

पैर दर्द के लिए योगा में पदंगुठासन बहुत राहत दे सकता है।

  • इसको करने के लिए आप सबसे पहले पलंग या जमीन पर लेट कर दोनों टांगें सीधी कर लें।
  • अपनी दोनों टांगें अपनी ओर मोड़े।
  • योग बेल्ट की मदद से टांग को सीधा ऊपर उठाते हैं।
  • पांव का पंजा अपनी ओर खींच कर रखें।
  • इस मुद्रा को आप एक से तीन मिनट के लिए कर सकते हैं।

पैरों को दीवार पर लगाएं

पैर दर्द के लिए योगा में यह बहुत उपयोगी है। यह बहुत आरामदायक और सरल मुद्रा है। जब आप बहुत थके होते हैं। उस समय ये बहुत फायदा कर सकता है। इसे आप कही भी योगा मैट पर या बिस्तर पर लेटकर कर सकते हैं।

  • इसको करने के लिए आप अपने नितंबों को दीवार के आधार को छूने के साथ फर्श पर लेट जाएं।
  • अपने पैरों को ऊपर की ओर रखें।
  • अब आप फर्श से लंबवत हो जाएं।।
  • अपनी भुजाओं को बग़ल की तरफ फैलाएं।
  • यह आसन पीठ के निचले हिस्से और पैर की मांसपेशियों को आराम देता है।

कंधे के बल खड़े हो

यह आपके पेशियों के ऐंठन को दूर करता है। आपकी नसों को आराम दिलाता है। ये करने के लिए ये स्टेप फॉलो करें।

  • इसको करने के लिए आप सबसे पहले, पीठ के बल लेट जाएं।
  • अब अपने दोनों पैरों को एक साथ उठाएं।
  • जब तक शरीर का भार कंधों, गर्दन और सिर पर न हो जाए, तब तक पैरों को उठाने की कोशिश करें।
  • कुछ देर तक इस स्थिति में रहें और फिर धीरे-धीरे आराम की स्थिति में लौट आएं।
  • यह मुद्रा आपके हृदय को रक्त की आपूर्ति को उत्तेजित करती है और पैर के तनाव को कम करती है। जिससे आपके पैर दर्द से राहत मिलता है।

स्फिंक्स मुद्रा

यह एक योग मुद्रा होती है। यह योग आपको पीठ और पैर के दर्द से आराम दिलाता है। यह आपके पैर की मांसपेशियों में तनाव को काफी हद तक कम करने में मदद करती है। इसको करने के लिए ये स्टेप फॉलो करें।

  • सबस पहले आप अपने पेट के बल लेट जाइए।
  • अपनी कोहनी कंधों के नीचे रखें।
  • अब आप अपनी हथेलियों पर दबाव बनाएं।
  • इसके साथ ही अपने पैरों के ऊपरी भाग पर भी दबाव बनाएं।
  • अब आप अपने सिर को ऊपर की ओर उठाएं और सांस लेते रहें।
  • कुछ समय के लिए इस स्थिति में रहें और फिर से लेट जाएं।
  • यह आप 3 से 4 बार कर सकते हैं।

और पढ़ेंः ये 5 बातें बताती हैं डिप्रेशन और उदासी में अंतर

दीवार पर जोर लगाएं

  • इसमें एक दीवार के पास आओ।
  • उसके ऑपोजिट खड़े होकर अपने हाथ रखो।
  • अपने दाहिने पैर को अपने पैर की उंगलियों पर वापस रखें।
  • अपने दूसरे पैर को 30 सेकंड के लिए फर्श पर रखें।
  • प्रत्येक पैर के लिए 3 बार दोहराएं।

जेन आसन

जेन आसन एक सरल आसन है। यह आप बिना किसी मदद के अकेले ही कर सकते हैं। यह योग मुद्रा पैरों में रक्त परिसंचरण को सुविधाजनक बनाने में मदद करती है और इस तरह धीरे-धीरे मांसपेशियों में ऐंठन को कम करती है।इसको करने के लिए इन स्टेप को फॉलो करें।

पैर को पंजो को मोड़े

  • सबसे पहले अपने दाहिने पैर को आगे रखें जैसे कि आप एक कदम उठा रहे हैं।
  • अपने बाएं पैर को अपने पैर की उंगलियों पर मोड़े और 30 सेकंड के लिए इस तरह खड़े रहें।
  • प्रत्येक पैर के लिए 5 बार दोहराएं
  • यह खासतौर पर पैर दर्द के लिए योगा है।

शव मुद्रा

शव मुद्रा एक प्रकार का योग है। कई चिकित्सक यह अभ्यास करने की सलाह देते हैं। इसका अभ्यास हर वर्ग के लोगों को करना चाहिए। यह शरीर के लिए बहुत आरामदायक योग है।

  • इसमें आपको सबसे पहले बस फर्श या बिस्तर पर लेट जाना है।
  • अपने दोनों पैरों को अलग-अलग कर ले।
  • जब आप इस आसन में होते हैं। तो अपने मन से आपको हर प्रकार का चिंतन निकालना होगा।
  • यह आसन शरीर की सभी मांसपेशियों को आराम देने में मदद करता है।

और पढ़ेंः बुजुर्गों का इम्यून सिस्टम ऐसे करें मजबूत, छू नहीं पाएगा कोई वायरस या फ्लू

री-हैंडेड टू-बिग-टू-पोज (सुप्टा पडंगुथासना)

यह मुद्रा न केवल घुटने के दर्द के लिए फायदेमंद है, बल्कि हमारे हैमस्ट्रिंग को खींचने और हमारे हिप फ्लेक्सर्स को जागृत करने के सामान्य स्वास्थ्य के लिए भी है। इस मुद्रा को करने के लिए इन स्टेप पर ध्यान दें।

  • इसको करने के लिए सबसे पहले आप पीठ के बल लेट जाएं।
  • एक कपड़े या सपाट रस्सी लें।
  • एक पैर बिल्कुल सीधा उठाएं।
  • कपड़ा या पट्टा पैर के तलवे पर डालें।
  • अब नीचे की दबाव बनाएं।
  • पैर बिल्कुल सीधा रखें। इस आपके घुटने सीधे होने चाहिए।
  • पंजों को भी सीधा रखना है।
  • इसे तब-तक करें जब तक आपको काठ में दर्द महसूस न होने लगे।
  • अब आप आराम की स्थिति में आ जाएं।
  • यह प्रक्रिया आप 3 बार कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Yoga for pain relief. https://www.health.harvard.edu/alternative-and-complementary-medicine/yoga-for-pain-relief.Accessed on 12-05-2020

yoga for pain. https://painhealth.csse.uwa.edu.au/pain-module/yoga/. Accessed on 12-05-2020

Perspectives on Yoga Inputs in the Management of Chronic Pain. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2936076/. Accessed on 12-05-2020

Benefits of Yoga for Pain Management. https://www.beaumont.org/services/pain-management-services/benefits-of-yoga-for-pain-management. Accessed on 12-05-2020

लेखक की तस्वीर badge
shalu द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 08/09/2020 को
डॉ. पूजा दाफळ के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड