home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

कम उम्र में अल्जाइमर के कारण क्या हैं ?

कम उम्र में अल्जाइमर के कारण क्या हैं ?

अल्जाइमर एक ऐसी बीमारी है जिसमें स्मरणशक्ति कम हो जाती है। अगर सामान्य भाषा में इस समझें तो इस बीमारी का अर्थ है लोग भूलने लगते हैं। इससे पीड़ित व्यक्ति रोजमर्रा में की जाने वाले काम को भी करना भूल जाते हैं। अल्जाइमर की समस्या बढ़ती उम्र के लोगों में होती है लेकिन, यह बीमारी कम उम्र में भी हो सकती है। कुछ रिसर्च के अनुसार 30 वर्ष की आयु के व्यक्ति भी इस बीमारी से पीड़ित हो सकते हैं। जिसे कम उम्र में अल्जाइमर की समस्या कहा जाता है। जब कम उम्र में अल्जाइमर की परेशानी समझ आने लगे तो सतर्क हो जाना चाहिए।

और पढ़ें : कई बीमारियों को दावत देता है हाई कोलेस्ट्रॉल, जानिए इससे बचने के उपाय

कम उम्र में अल्जाइमर(Alzheimer’s disease) के कारण क्या हैं?

यह बीमारी शुरुआत में अल्जाइमर से पीड़ित कुछ लोगों में बीमारी का सबसे आम रूप है। विशेषज्ञों को यह नहीं पता कि दूसरों की तुलना में कम उम्र में इन लोगों को यह बीमारी क्यों होती है।

  • लेकिन शुरुआत में अल्जाइमर से ग्रसित अन्य लोगों को फैमिली अल्जाइमर नामक बीमारी का एक प्रकार है। उनके माता-पिता या दादा-दादी को ये बीमारी होने की संभावना है जिन्हें कम उम्र में अल्जाइमर हुआ है।
  • शुरुवाती अल्जाइमर जो परिवारों में चलता आ रहा है। जैसे एपीपी, पीएसईएन 1 ​​और पीएसईएन 2 – यह एपीओई जीन से अलग है। जो सामान्य रूप से अल्जाइमर के जोखिम को बढ़ा सकता है।
  • इसके लिए आनुवंशिक परीक्षण उपलब्ध है, लेकिन जो कोई भी इस पर विचार कर रहा है, उसे आनुवांशिक रिजल्ट की जांच करनी चाहिए।
  • उदाहरण के लिए, यह विचार करने में मददगार हो सकता है कि सकारात्मक परीक्षण दीर्घकालिक देखभाल, विकलांगता और जीवन बीमा के लिए आपकी पात्रता को कैसे प्रभावित कर सकता है।
  • दूसरी ओर, यदि आप जानते हैं कि आप प्रारंभिक-शुरुआत जीन का एक रूप रखते हैं, तो आप बीमारी के प्रभावों से निपटने के लिए आपके और आपके प्रियजनों के लिए इसे आसान बनाने के लिए कदम उठा सकते हैं।
  • यदि आपके पास शुरुआती जीन अल्जाइमर तीन जीनों में से एक से जुड़ा हुआ है या लक्षणों के बिना इन जीनों का एक रूप है, जांच के लिए अपने डॉक्टर से बात करें। अल्जाइमर के शुरुआती टेस्ट करके रोग के कारणों और प्रगति के बारे में अधिक जानने और नए उपचार विकसित करने की उम्मीद की है।
  • सटीक निदान महत्वपूर्ण
  • प्रारंभिक शुरुआत अल्जाइमर का एक सटीक निदान मेडिकल कारणों के साथ अन्य संभावित मुद्दों, व्यक्तिगत और व्यावसायिक कारणों के लिए महत्वपूर्ण है। आपके और आपके परिवार के लिए, निदान महत्वपूर्ण है। यह आपको और आपके परिवार को वित्तीय और कानूनी मुद्दों के बारे में महत्वपूर्ण निर्णय लेने के लिए अधिक समय दे सकता है।

और पढ़ें : जानिए डिमेंशिया के लक्षण पाए जाने पर क्या करना चाहिए

[mc4wp_form id=”183492″]

कम उम्र में अल्जाइमर के लक्षण (Alzheimer’s Symptoms) क्या हैं?

कम उम्र में अल्जाइमर के शुरुआती दौर में बातों का भूलना या हल्का भ्रम जैसे लक्षण हो सकते हैं। वक्त के साथ धीरे-धीरे इस रोग में याद्दाश्त कमजोर होती जाती है। इस बीमारी के लक्षण हर व्यक्ति में भिन्न होते हैं। कम उम्र में अल्जाइमर से ग्रसित लोगों में ये लक्षण नजर आ सकते हैं:

  • एक ही बात को बार-बार दोहराना और इस बात का बिल्कुल एहसास न होना कि वह पहले भी यह बात कर चुके हैं।
  • चीजों को रखकर भूल जाना और उन्हें ढूंढने में असमर्थ होना
  • कम उम्र में अल्जाइमर की समस्या होने पर पीड़ित व्यक्ति अपने ही घर को नहीं पहचान पाता है
  • परिवार के सदस्यों को पहचानने में असमर्थ होते हैं कम उम्र में अल्जाइमर के पेशेंट
  • कम उम्र में अल्जाइमर के पेशेंट छोटी-छोटी बातों का भी निर्णय नहीं ले पाते हैं
  • परिवार के लोगों या सामान का नाम भूल जाना
  • कुछ लोगों में इस रोग के कारण ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई होती है
  • जरूरी बातें जैसे अपॉइंटमेंट या कोई इवेंट भूल जाना
  • संख्याओं को पहचानने में दिक्कत होना

कम उम्र में अल्जाइमर होने पर ये लक्षण नजर आ सकते हैं। वक्त के साथ जैसे-जैसे यह बीमारी बढ़ती है पीड़ित को और मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। पेशेंट अपना पसंदीदा खेल खेलने में ही दिक्कतों का सामना करने लगता है। वह खाना नहीं बना पाता। स्तिथि इतनी बुरी हो जाती है कि अल्जाइमर वाले लोग कपड़े पहनना और नहाने जैसे कार्यों को कैसे करना है यह भी भूल जाते हैं।

योग कर मानसिक समस्या से पा सकते हैं निजात, वीडियो देख एक्सपर्ट की लें राय

और पढ़ें : कैसे प्लान करें अपने लिए एक हेल्दी और हैप्पी रिटायरमेंट?

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

यदि आपको ऊपर बताए गए लक्षण में से कोई दिखाई दे रहा है तो आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

शुरुआती दौर में ही बीमारी का पता लगने पर एल्जाइमर के पेशेंट्स को नियमित व्यायाम करना चाहिए। रोजाना सैर करने से मूड बेहतर होता है। इसके साथ ही यह अच्छी नींद को भी बढ़ावा देता है। ये लोग भोजन करना भूल सकते हैं। ऐसा भी हो सकता है कि ये खाना बनाने में रुचि खो दें। ऐसा होने से ये स्वस्थ डायट रखने में असमर्थ हो सकते हैं। पर्याप्त पानी न पीने के कारण इन्हें डिहाइड्रेशन हो सकता है। इसलिए इनके खानपान का खास ख्याल रखें। इन्हें समय समय पर पानी, जूस और हेल्दी ड्रिंक देते रहें।

और पढ़ें : जानें एल्डर एब्यूज को कैसे पहचानें और कैसे इसे रोका जा सकता है

कम उम्र में अल्जाइमर से ग्रसित पेशेंट्स (Alzheimer Patients)

शुरुआत में इसका सामना कैसे करें

  • कम उम्र में अल्जाइमर से पीड़ित व्यक्ति शुरुआत में अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों को कुछ अनोखी चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है।
  • वे बीमारी के बारे में कलंक और रूढ़ियों का सामना कर सकते हैं। उनकी कम उम्र के कारण, लोगों को विश्वास नहीं हो सकता है कि उन्हें बीमारी है या निदान पर सवाल उठता है।
  • शुरुआत में अल्जाइमर से पीड़ित लोग इस गलतफहमी के कारण रिश्तों या नौकरियों को खो सकते हैं बजाय इसके कि वे मानसिक रूप से बीमार या विकलांग के रूप में पहचाने जाएं।
  • उन्हें काम करते समय भी निदान होने से होने वाली खुद की हानि का सामना करना पड़ सकता है।
  • इससे पहले कि आपकी स्थिति आपके काम करने की क्षमता को काफी प्रभावित करे, अपने नियोक्ता से बात करें। आप क्या कर सकते है:
  • अपने लाभ के साथ अपने और अपने जीवनसाथी, साथी या देखभाल करने वाले को पहचानें और पता करें कि क्या कर्मचारी सहायता कार्यक्रम उपलब्ध है।
  • यदि आप खुद को व्यस्त महसूस करते हैं, तो अपने घंटे कम करने या समय निकालने पर विचार करें।

लें एक्सपर्ट की राय

यदि आप भी मानसिक स्वास्थ्य संबंधी इन्हीं समस्याओं को झेल रहे हैं तो बेहतर यही होगा कि सही समय पर डॉक्टरी सलाह लेकर इलाज करवाएं। सबसे सही यही होगा कि आप लक्षणों की पहचान करें। यदि आपके परिवार में कोई इस बीमारी से ग्रसित है तो सबसे पहले उसके लक्षणों की पहचान करें, स्वभाव व अन्य गतिविधियों को भांपते हुए नोटिस करें। वहीं एक्सपर्ट की सलाह लें। मनोचिकित्सक इस बीमारी के इलाज में आपकी सहायता कर सकते हैं। ऐसे में बेहतर यही होगा कि उनसे परामर्श लिया जाए और इलाज करवाया जाए।

हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में कम उम्र में अल्जाइमर से जुड़ी जानकारी दी गई है। यदि आप इससे जुड़ी अन्य कोई जानकारी पाना चाहते हैं तो आप अपना सवाल कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

What to know about Alzheimer’s disease/https://www.medicalnewstoday.com/articles/159442/Accessed on 05/05/2020

Young-onset Alzheimer’s: When symptoms begin before age 65/https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/alzheimers-disease/in-depth/alzheimers/art-20048356 /Accessed on 05/05/2020

What Are the Signs of Early Onset Alzheimer’s Disease (AD)?/https://www.healthline.com/health/alzheimers-disease/signs-of-early-onset-alzheimers /Accessed on 05/05/2020

What Is Early-Onset Alzheimer’s Disease?/https://www.webmd.com/alzheimers/guide/early-onset-alzheimers#1/Accessed on 05/05/2020

Alzheimer’s at Age 30: An ‘Old-Person’s Disease’ Hits a Young Family/https://www.everydayhealth.com/columns/my-health-story/alzheimers-at-age-30-an-old-persons-disease-hits-a-young-family/Accessed on 05/05/2020

 

लेखक की तस्वीर badge
Shilpa Khopade द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 25/02/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड