home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

माइग्रेन के दर्द से हैं परेशान, तो अपनाएं ये टिप्स

माइग्रेन के दर्द से हैं परेशान, तो अपनाएं ये टिप्स

42 वर्षीया माया जो एक कॉरपोरेट एडवाइज़र है, उसे अक्सर गंभीर सिरदर्द के कारण काम छोड़ना पड़ता था। पिछले 7 साल से माया को सिर के दाहिनी तरफ और चेहरे पर गंभीर रूप से दर्द होता है। माया हमेशा से एक्टिव व करियर ओरिएंटेड महिला रही है।

एक दिन मीटिंग के दौरान वह प्रेजेंटेशन दे रही थी तभी अचानक उसके सिर में तेज़ दर्द होने लगा और वह थोड़ी भी आवाज़ और रोशनी बर्दाशत नहीं कर पा रही थी। माया पसीने-पसीने हो गई और उसकी आंखों से पानी आने लगा, किसी तरह वह वहां से निकलकर घर पहुंची। दर्द पूरे दिन रहा। माया बिना किसी डिस्टर्बेंस के बस अंधेरे कमरे में सोना चाहती थी।

कुछ दिनों बाद जब वह अपनी सहेली समायरा के साथ शॉपिंग के लिए गई, तो फिर उसे उसी तरह का दर्द हुआ। उसकी हालत देखकर समायरा डर गई और वह माया को नज़दीकी अस्पताल ले गई। पूरी जांच और केस को विस्तृत रूप से देखने पर पता चला की उसे माइग्रेन है। ये सिरदर्द काम के तनाव और सूर्य के संपर्क में ज़्यादा रहने से होता है।

माया के माइग्रेन का इलाज होम्योपैथी से किया गया और एक महीने के अंदर वह पहले से बेहतर महसूस करने लगी। उसने उन कारणों की लिस्ट बनाई जिसकी वजह से सिरदर्द होता था, जैसे- नींद की कमी, प्रज़ेंटेशन बनाने से पहले बहुत तनाव लेना। साथ ही उसने यह भी देखा कि धूप में ज़्यादा देर रहने से भी सिरदर्द होता था। माया ने इन कारणों के बारे में अपने डॉक्टर से बात की और इनसे दूर रहने की कोशिश की। नियमित इलाज और कुछ परहेज करके माया को माइग्रेन अटैक से छुटकारा मिल गया और अब वह अपना काम ज़्यादा अच्छी तरह से कर पाती है।

और पढ़ें: माइग्रेन में खाना क्या चाहिए जिससे मिलेगी जल्दी राहत

माइग्रेन क्या है?

माइग्रेन न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर है, जिसके लक्षणों में तेज़ सिरदर्द, मतली, उल्टी, फोटोफोबिया (प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता) और फोनोफोबिया (आवाज़ के प्रति संवेदनशीलता) शामिल हैं। माइग्रेन अक्सर आनुवंशिक होता है और यह परिवार में किसी भी उम्र के सदस्य को हो सकता है।

माइग्रेन का निदान क्लिनिकल हिस्ट्री, लक्षणों और सिरदर्द के अन्य ज्ञात कारणों के आधार पर किया जाता है।

माइग्रेन का दर्द और इसके कारण क्या हैं?

माइग्रेन के सही कारण का पता नहीं चल पाया है, हालांकि ऐसा माना जाता है कि यह मस्तिष्क में असामान्य गतिविधियों की वजह से होता है। यह नसों के संचार के तरीके पर असर डालता है और इस तरह से मस्तिष्क के केमिकल्स और रक्त वाहिकओं को प्रभावित करता है। माइग्रेन के लिए ये कारण ज़िम्मेदार हो सकते हैं –

  1. हार्मोनल बदलाव

लगातार होने वाले हार्मोनल बदलावों की वजह से महिलाओं को पुरुषों की तुलना में माइग्रेन अधिक होता है।

  1. भावनात्मक कारण

भावनात्मक कारण जैसे, तनाव, डिप्रेशन, एंग्ज़ाइटी, उत्तेजना, सदमा आदि के कारण से भी माइग्रेन का अटैक आता है।

  1. शारीरिक कारण

बहुत ज़्यादा थकान, अपर्याप्त नींद, कंधा और गर्दन का तनाव, गलत पॉश्चर, बहुत ज़्यादा शारीरिक दबाव आदि के कारण भी माइग्रेन हो सकता है। लो बल्ड शुगर लेवल और जेट लैग भी माइग्रेन की वजह हो सकते हैं।

  1. पर्यावरण

तेज़ गंध, तेज़ रोशनी, फ्लिकरिंग स्क्रीन, धुआं, तेज़ आवाज़ आदि माइग्रेन के लिए ज़िम्मेदार हो सकते हैं।

  1. डायट

एलकोहॉल, चॉकलेट, चीज़, खट्टी चीज़ें आदि माइग्रेन की संभावना बढ़ा देती है। अनियमित खानपान, समय से न खाना और डीहाइड्रेशन भी माइग्रेन की वजह हो सकते हैं।

और पढ़ें: हर समय रहने वाली चिंता को दूर करने के लिए अपनाएं एंजायटी के घरेलू उपाय

माइग्रेन का दर्द झेल रहें हैं तो इसका इलाज कैसे करवाएं?

आधुनिक चिकित्सा में माइग्रेन का कोई इलाज नहीं है। चिकित्सा का उद्देशय इसके लक्षणों से राहत देना और माइग्रेन अटैक को रोकना है। होम्योपैथिक दवाओं से माइग्रेन से पूरी तरह छुटकारा पाया जा सकता है। लक्षणों और संकेतों के आधार पर आपके लिए कौन सा उपचार सही रहेगा, इस बारे में डॉक्टर से परामर्श करें।

माइग्रेन का दर्द या माइग्रेन अटैक से कैसे बचें?

माइग्रेन का दर्द या माइग्रेन अटैक से निम्नलिखित तरह से बचा जा सकता है। जैसे:-

  1. सिरदर्द के कारणों को पहचानें और इसके आधार पर सिरदर्द की तीव्रता और आवृत्ति पर नज़र रखें।
  2. संभावित वजहों से बचें। चीज़, कैफीन, चॉकलेट आदि से परहेज करें। यदि इनकी वजह से माइग्रेन अटैक आता है तो इन्हें एकदम कम मात्रा में खाने से सिरदर्द की तीव्रता और आवृत्ति कम हो जाती है।
  3. तनाव घटाएं और चीज़ें जैसी है उन्हें उसी तरह शांति से अपनाना सीखें। तनाव घटाने के लिए जो तरीका आपको अच्छा लगे अपना सकते हैं, साथ ही अपनी पसंद की कोई हॉबी चुनिए जो आपको खुश रखेगी।
  4. पर्याप्त मात्रा में तरल पादर्थ पीएं और खुद को हाइड्रेटड रखें
  5. नींद की नियमित दिनचर्या अपनाएं और पर्याप्त नींद लें।
  6. नियमित एक्सरसाइज़ से आपका दिमाग शांत रहेगा और शरीर फिट।

और पढ़ें: Metatarsalgia: तलवों में दर्द क्या है?

माइग्रेन का दर्द दूर करने के घरेलू नुस्खे क्या हैं?

माइग्रेन का दर्द दूर करने के लिए निम्नलिखित घरेलू नुस्खे अपनाये जा सकते हैं। जैसे:-

    • गर्दन पर आइस पैक (बर्फ) लगाएं, इससे दर्द से तुरंत राहत मिलेगी। आप फ्रोजेन जेल पैक या गीला कपड़ा भी सिर पर रख सकते हैं।
    • तेज रोशनी और आवाज़ से माइग्रेन अटैक आ सकता है। इसलिए शांत और अंधेरी जगह ढूंढ़कर वहां शांति से बैठ जाएं और मैडिटेशन करें। इससे जल्दी ठीक होने में मदद मिलेगी।
    • माइग्रेन का अटैक आने पर सो जाएं और अपनी सोने की आदत भी सुधारें। कम से कम 7-8 घंटे की नींद ज़रूर लें
    • रिलैक्सड रहना सीखें- खुद को रिलैक्सड रखने के लिए योगा, मेडिटेशन, सौम्य संगीत, जो भी आपको पसंद हो उसे अपनी दिनचर्या में शामिल करें।
    • सोंठ के पेस्ट को माथे पर लगाएं या अदरक वाली चाय पीएं इससे दर्द से राहत मिलेगी।

माइग्रेन का दर्द न करे आपको परेशान इसलिए क्या खाएं?

माइग्रेन का दर्द न हो इसलिए अपने आहार में निम्नलिखित खाद्य पदार्थ रोजाना शामिल करें। जैसे:-

  • ताजे और मौसमी फलों का सेवन
  • हरा पत्तेदार सब्जियां को अपने डायट में डेली शामिल करें
  • जुकिनी का सेवन करें
  • आलू खाएं
  • गाजर खाएं
  • फूलगोभी का सेवन भी लाभकारी होता है
  • सोयाबीन खाएं
  • लेग्यूम्स का सेवन करें

इन ऊपर बताये गए खाद्य पदार्थों के सेवन से माइग्रेन का दर्द दूर रह सकता है। लेकिन, इस दर्द को ज्यादा वक्त तक नजरअंदाज न करें।

अगर आप भी माइग्रेन का दर्द झेल रहें हैं और इससे जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Migraine is the most common and disabling neurological disorder in the UK./https://www.migrainetrust.org/Accessed on 18/05/2020

SHADES FOR MIGRAINE/https://www.migrainedisorders.org/Accessed on 18/05/2020

Migraine/http://www.migraines.org/Accessed on 18/05/2020

Migraine/https://headaches.org/Accessed on 18/05/2020

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Kanchan Singh द्वारा लिखित
अपडेटेड 30/12/2019
x