home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

7 साल के बच्चे के मुंह से निकले 526 दांत, हैरान कर देगी पूरी खबर

7 साल के बच्चे के मुंह से निकले 526 दांत, हैरान कर देगी पूरी खबर

एक व्यक्ति के मुंह में आमतौर पर कितने दांत होते हैं? ज्यादातर जवाब होगा 32 दांत। लेकिन, क्या आपने कभी सोचा है कि किसी के मुंह में 526 दांत होंगे? यह सुनकर शायद आपको मजाक लगे, लेकिन यह सच है। एक बच्चे के मुंह में 526 दांत पाए गए हैं, जो सोशल मीडिया पर काफी वायरल भी हो रहा है।

ये मामला है चेन्नई के सविता डेंटल कॉलेज का, जहां एक सात साल के बच्चे के मुंह से 526 दांत निकले। डॉक्टर्स बताते हैं कि बच्चे को दांत दर्द और मसूड़ों में सूजन की शिकायत थी। ऐसे में मामले की गंभीरता को देखते हुए उन्होंने ऑपरेशन करने का फैसला लिया, तब जाकर सूजन और दर्द का कारण पता चल पाया। ऑपरेशन के दौरान, बच्चे के मुंह में पाउच जैसी चीज दिखाई दी, जिसमें 526 दांत थे।

ऑपरेशन के बाद जब दांतों को कैमरा के सामने लगाया तो, यह किसी गैलेक्सी से निकाले छोटे पत्थरों जैसे लग रहे थे। इस केस ने डॉक्टरों को भी हैरानी में डाल दिया। लेकिन, सवाल ये उठता है कि आखिर इस स्थिति को कहते क्या हैं। दरअसल, मेडिकल भाषा में इस स्थिति को ‘कंपाउंड ओडोनटोम’ (Compound odontoma) कहते हैं।

और पढ़ें – मुंह की बदबू का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? आयुर्वेद के अनुसार क्या करें और क्या न करें?

‘कंपाउंड ओडोनटोम क्या है? (What is Compound Odontoma?)

सर्जन मानते हैं कि 526 दांत आना या कंपाउंड ओडोनटोम की स्थिति जेनेटिक या फिर प्राकृतिक कारणों से पैदा हो सकती है। अस्पताल द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर निकाले गए सभी दांतों का आकार किसी आम दांत के जैसा नहीं था। इनकी लंबाई 1 mm से 15 mm तक की थी और ये इनेमल (enamel) क्राउन से ढके हुए थे। 526 दांत को एक-एक कर निकालने में लगभग पांच घंटे का समय लगा।

और पढ़ें – होंठों को आकर्षक बनाने के लिए करवाई जाती है लिप कॉस्मेटिक सर्जरी, जानें इसके फायदे और नुकसान

कंपाउंड ओडोनटोम का परीक्षण और इलाज?

डेंटल एक्सपर्ट मरीज के जबड़े के एक्सरे की मदद से कंपाउंड ओडोनटोम का पता लगा सकते हैं। यह बेहद नाजुक घाव होते हैं जिन्हें जरूरत पड़ने पर सर्जरी की मदद से ठीक किया जा सकता है। जिन ट्यूमर को सर्जरी की मदद से निकाल दिया जाता है वह फिर से नहीं आते हैं।

यदि मरीज को लक्षण महसूस नहीं होते हैं, लेकिन ट्यूमर दांतों सही जगह पर लगने से रोकता है तो ओडोनटोम को मॉनिटर कर के इस स्थिति को समझा जा सकता है।

आपके डेंटिस्ट और कुछ विशेष प्रकार के सर्जन आपको सही इलाज की प्रक्रिया और विकल्प के बारे में बताएंगे व साथ ही उसकी जटिलताओं और अन्य परेशानियों व सावधानियों के बारे में भी समझाएंगे।

और पढ़ें – होंठों पर पिंपल्स का इलाज ढूंढ रहे हैं? तो ये आर्टिकल कर सकता है आपकी मदद

बच्चे को पहले भी लेकर गए थे डॉक्टर के पास

526 दांत वाले बच्चे के मां-बाप ने बताया है कि तीन साल की उम्र में वे बच्चे को लेकर दांत की समस्या को दिखाने डेंटिस्ट के पास गए थे। तब बच्चे के डॉक्टर के साथ सही व्यवहार न करने पर में इलाज टल गया था। जब ज्यादा समस्या बढ़ने पर वे बच्चे को दोबारा सविता डेंटल अस्तपाल आए, तब उन्हें दर्द और सूजन का सही कारण पता चला।

न्यू इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के आधार पर ये बताया जा रहा है कि उसके बाकी दांतों की स्थिति पर इस सर्जरी खास असर नहीं हुआ है। हलांकि, मोलर (Molar) की स्थिति प्रभावित हुई है और 16 साल की उम्र के बाद बच्चे को मोलर इंप्लांट (Molar Implant) लगवाने पड़ सकते हैं।

वाकई में 526 दांत वाला ये डेंटिस्ट्री (Dentistry) में पढ़े जाने वाले दुर्लभ केसेस में से एक है। इस घटना ने सभी मेडिकल क्षेत्र से जुड़े लोगों को नए तथ्यों की खोज करने पर मजबूर कर दिया है।

और पढ़ें – मसूड़ों में सूजन के लिए घरेलू उपाय के साथ ही जानिए प्राकृतिक माउथवॉश के बारे में

जानिए दांतों की सेहत का कैसे रख सकते हैं ख्याल?

स्किन और दिल के साथ शरीर के अन्य आर्गेन्स की सेहत का ख्याल रखने में अधिकतर लोग दांतों की सेहत को भूल ही जाते हैं। जिसका नतीज उन्हें बढ़ती उम्र में देखा जा सकता है। दांतो की समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है। आमतौर पर छोटे बच्चे, बहुत ज्यादा मीठा खाने वाले या शरीर में आयरन और कैल्शियम की कमी के कारण भी दांतों की समस्या हो सकती है। सेंटर ऑफ डिसीज कंट्रोल (CDC) की मानें तो जो लोग ओरल हेल्थ का ध्यान नहीं रखते हैं, उनमें दिल संबंधी बीमारियां होने का खतरा 70 फीसदी अधिक बढ़ सकता है। डॉक्टर्स के मुताबिक मुंह की सफाई ठीक से नहीं की जाए तो मुंह के बैक्टीरिया खून में मिलकर दिल को भी क्षति पहुंचाने लगते हैं। इसलिए, ज्यादातर डेंटिस्ट प्रतिदिन दांतों की सफाई पर विशेष ध्यान देने की सलाह देते हैं। इस आर्टिेकल में ओरल हाइजीन को बनाए रखने के लिए जरूरी टिप्स दिए गए हैं।

बहुत कम लोग यह जानते होंगे कि हमारी ओरल हाइजीन यानी मुंह के साफ-सफाई का सीधा असर हमारे शरीर पर पड़ता है। यानी अगर आपका मुंह साफ नहीं है तो आपको मुंह के अलावा कई और बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है।

और पढ़ें – बच्चे हो या बुजुर्ग करें मुंह की देखभाल, नहीं हो सकती हैं कई गंभीर बीमारियां

जानिए ओरल केयर के बेसिक नियम

  • फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट से दांतों को ब्रश करें। दिन में कम से कम दो बार ब्रश करना चाहिए।
  • दांतों की सफाई के लिए ब्रश के साथ-साथ फ्लॉस या अन्य तरीकों का भी इस्तेमाल करें। क्योंकि, दांतों के बीच में फंसे खाने के टुकड़े ब्रश से पूरी तरह से नहीं साफ होते हैं। इसलिए जितना जरूरी दांतों के लिए ब्रश करना होता है, उतनी ही अहमियत फ्लॉश को भी दें।
  • शुगर युक्त खाद्य पदार्थ कम से कम खाएं।
  • फास्ट या जंक फूड से दूरी बनाएं।
  • हर बार खाना खाने या कुछ पीने के बाद साफ पानी से कुल्ला करें।
  • स्मोंकिग न करें। अगर स्मोकिंग की आदत है, तो उसे बंद करने के लिए उचित उपचार कराएं।
  • हर तीन से चार महीने के बीच एक बार अपने डेटिंस्ट से परामर्श करें और दांतों की सेहत का जायजा लें।
  • पानी की उचित मात्रा पीएं।
  • अगर आपके शरीर में कैल्शियम या आयरन की कमी है, तो शरीर में उसकी पूर्ति करने के लिए उचित आहार खाएं। साथ ही, अपने डॉक्टर से परामर्श कर सप्लीमेंट्स और दवाओं का भी सेवन कर सकते हैं।
  • ताजे और क्रंची फल खाएं। ऐसे फलों में फाइबर की अच्छी मात्रा होती है, जो दांत की सेहत का पूरा ख्याल रखती है। अधिकतर लोग सेब या अमरूद जैसे फल छोटे-छोटे टुकड़ों में करके खाते हैं। कोशिश करें कि हमेशा इन्हें पूरा ही खाएं। इनके छोटे-छोटे टुकड़े करने की दातों को थोड़ा मेहनत करने दें। इससे आपके दांतों की एक अच्छी एक्सरसाइज हो जाती है। दांतों के साथ-साथ जबड़े भी स्वस्थ्य बने रहते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

526 teeth removed from Chennai boy’s mouth. https://timesofindia.indiatimes.com/city/chennai/527-teeth-removed-from-chennai-boys-mouth/articleshow/70465546.cms. Accessed on 11 January, 2020.

This 7-Year-Old Had 526 (!!) Teeth Removed, and the Pictures Are Nightmare Fuel. https://www.cosmopolitan.com/lifestyle/a28581211/human-526-teeth-boy-india-500-tooth-mouth-pictures/. Accessed on 11 January, 2020.

Characteristics of Supernumerary Teeth in Nonsyndromic Population in an Urban Dental School Setting. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/29127774. Accessed on 11 January, 2020.

Oral Health. https://www.womenshealth.gov/a-z-topics/oral-health. Accessed on 11 January, 2020.

Dental Health. https://medlineplus.gov/dentalhealth.html. Accessed on 11 January, 2020.

Teeth and Gum Care. https://www.webmd.com/oral-health/guide/teeth-gum-care#1. Accessed on 11 January, 2020.

11 Ways to Keep Your Teeth Healthy. https://www.healthline.com/health/dental-and-oral-health/best-practices-for-healthy-teeth#1. Accessed on 11 January, 2020.

लेखक की तस्वीर
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Shivani Verma द्वारा लिखित
अपडेटेड 03/08/2019
x