29 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए मुझे किन जानकारियों की आवश्यकता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट May 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

विकास और व्यवहार

29 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए जानें जरूरी बातें

2 सप्ताह के शिशु की देखभाल के दौरान उसका विकास ​कैसा होना चाहिए ?

29 सप्ताह के शिशु की देखभाल के दौरान वे कई तरह की गतिविधियां करने लगते हैं। 29 सप्ताह के शिशु में आप पाएंगे कि अब वो काफी कुछ हरकतें करने लगा है। उनकी ये आदतें आपको खूब भाएंगी। नीचे जानिए 29 सप्ताह के शिशु क्या क्या करने लगते हैं :

आपका बच्चा यह सब करने लगेगा:

  • अगर आप बच्चो को बिस्किट देंगे, तो बच्चा खुद ब खुद उसे खाने लगेगा। 29 सप्ताह के शिशु को अब आपको अपने हाथ से खिलाने की जरूरत कम पड़ सकती है।
  • 29 सप्ताह के शिशु हंसने लगते हैं।
  • खुश होते वक्त बुदबुदा सकता है।
  • आपसे बात करते समय ज्यादातर हंसना

यह भी पढ़ेंः अगर आपका भी बच्चा नाखून चबाता है कैसे छुड़ाएं यह आदत?

29 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए मुझे  क्या करना चाहिए?

इस स्टेज पर,आपको अपने बच्चे को कप सेट से पानी पीने के लिए देना चाहिए। अच्छा होगा कि उनके लिए दोनों तरफ से पकड़ने वाली ग्लास ले आएं। अगर आपका बच्चा पानी की ग्लास से पानी न पी पाए और रोने लगे तो, उसके लिए उस गिलास का ढक्कन निकाल के दे दीजिए। आपको उन्हें यह भी समझाना होगा की उन्हें गिलास को कैसे उल्टा करना है ताकि उससे पानी आ सके। ऐसा करने से बच्चा जल्दी चीजें सीखना शुरू कर सकता है।

स्वास्थ्य और सुरक्षा

29 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए मुझे डॉक्टर से क्या बात करनी चाहिए?

29 सप्ताह के शिशु ज्यादातर डॉक्टर इस महीने में चेकअप के लिए नहीं बुलाएंगे। इसका यही मतलब हो सकता है कि,आपको ज्यादा फिक्र करने की जरूरत नहीं है। आप अगले महीने जब चेकअप के लिए जाए तो सारे सवाल अपने डॉक्टर से पूछ सकते हैं, ध्यान में रख लें।

26 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए मुझे किन बातों की जानकारी होनी चाहिए?

चूंकि बच्चों की इम्यूनिटी काफी लो होती है, इसलिए आपको उसकी सेहत का खास ध्यान रखना चाहिए। 29 सप्ताह के शिशु के लिए आपको कुछ बातों की जानकारी होनी चाहिए।

यह भी पढ़ेंः बच्चों में स्किन की बीमारी, जो बन सकती है पेरेंट्स का सिरदर्द

29 सप्ताह के शिशु को बुखार आने पर क्या करें?

जब आपका बच्चा सात महीने का हो जाएगा,आपको उसके साथ क्या हो रहा है इस बात का ज्यादा ज्ञात होने लगेगा। अगर वो आपको रोज के मुकाबले ज्यादा गरम लगे तो थर्मामीटर से उनके बॉडी का तापमान माप लीजिए। आमतौर पर बच्चे की बॉडी का टेम्परेचर 36-38 डिग्री सेल्सियस के बीच का होना चाहिए।

आपको यह सुनके हैरानी होगी की कभी कभार बच्चे को बुखार आना अच्छा होता है, क्योंकि उसका मतलब यहां होता है उसकी बॉडी इन्फेक्शन से लड़ रही है। छोटे बच्चो का बॉडी टेम्परेचर बड़े बच्चों के तुलना में ज्यादा होता है, लेकिन उनको बुखार है यह तभी होगा अगर:

  • सर का तापमान 38° से ज्यादा है
  • कान के ऊपर का तापमान 37.8 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा हो
  • एक्सिलरी तापमान 37.2 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा हो

आपका शिशु सिर्फ सात महीने का है, वो आपसे नहीं अत सकता अगर उसे कोई तकलीफ है या नहीं। इसलिए बेहतर यही होगा कि अगर आपके बच्चे का बॉडी टेम्परेचर ज्यादा है तो आप डॉक्टर के पास जाए या उनसे इस बारे में बात जरूर करे।

अगर बुखार के साथ आपके बच्चे को और भी कुछ हो रहा है जैसे की सांस लेने में दिक्कत, त्वचा पर नीले या लाल रंग के धब्बे हो जाए तो, भूक काम लगने लगे,थूक ज्यादा आना,चिड़चिड़े रहना या और भी कुछ अलग बदताव करने लगे तो आपको डॉक्टर को बताना चाहिए। ये सभी लक्षण अगर किसी समस्या के हुए, तो डॉक्टर बच्चे को दवा दे सकते हैं।

बुखार से राहत पाने के लिए,बच्चे को गरम पानी के टब में नहला दे या सिर्फ स्पंज से साफ़ कर ले और थोड़े ठंडे रूम में सुलाने की कोशिश करे। ध्यान रहे ज्यादा ठंडी जगह भी न सुलाए उसे ठण्ड लगेगी,और डिहाइड्रेशन से बचने के लिए थोड़ी थोड़ी देर से स्तनपान या बोतल से दूध पिलाते रहे। अगर इन सभ से बुखार में फर्क न पड़े तो आप अपने डॉक्टर से पूछकर उसे दवाई दे। आपके बच्चे की दवाई का दोज उसके हाइट और वजन अपर निर्भर करता है। कभी भी अपने बच्चे को जरुरत से ज्यादा दवा न दे।

यह भी पढ़ेंः बच्चों में डर्मेटाइटिस के क्या होते है कारण और जानें इसके लक्षण

महत्वपूर्ण बातें

29 सप्ताह के शिशु की देखभाल के दौरान उसकी आदत न बिगड़े:

जब बच्चे छोटे है, वे ज्यादातर आपके हाथ में रहते है। लेकिन अब वे जितना आपके हाथ में या गोदी में न रहे उतना ही अच्छा है। अगर वो ज्यादा वक़्त आपके ही हाथो में रहेंगे तो वो खुद से खलेना, यहां और चीजों को समझ नहीं पाएंगे। उन्हें हर बार बस आदत हो जाएगी कि वे बस आपके पास आपके हाथ में ही रहे। कभी कभार वे बिना बात के ही रोने लगते है और इशारा करते है की आप उन्हें उठा ले। लेकिन आपको उनकी बात नहीं माननी चाहिए।

इससे उनका ध्यान हटाने के लिए उनका ध्यान हटाने या किसी और चीज़ पर लगाने की कोशिश करे। बच्चे आपका ध्यान उनकी तरह आकर्षित करने के लिए रोने लगते है, ताकि आप उनकी तरफ ध्यान दे और उन्हें चुप करने के लिए गोदी में उठा ले। लेकिन ऐसा नहीं की आप बिल्कुल ध्यान ही न दे,देख ले की कही उसे भूख तो नहीं लगी है या पानी चाहिए क्या? उसके डायपर उसे परेशां तो नहीं कर रहा? थक तो नहीं गया?

यह भी पढ़ेंः बच्चों को मच्छरों या अन्य कीड़ों के डंक से ऐसे बचाएं

इन सब के आलावा भी अगर वो वैसे ही कर रहा है तो,उसे कुछ और दिखाइए ताकि उसका ध्यान हटकर कही और लगे। उनके खिलोने में से कुछ न कुछ बताने लगे,कोई नया खेल दिखने की कोशिश करे।

उन्हें कही और व्यस्त कर,आप उनके सामने से हट जाए ताकि उनका ध्यान आप पर वापस न आ सके। अगर वो रोने लगे तो कुछ गण गाकर या कोई नयी आवाज निकल कर उसे चुप कराए,उससे वो जरूर चुप हो जाएगा। ऐसा करते करते आपको उसे गोद में लेने का समय कम कर देना चाहिए,क्योंकि तो ही वो खुद से खेलना सिख पाएगा।

ऐसा न सोचे कि आपका बच्चा बिचारा अकेले खेल रहा है। वो अकेले खेलेगा तो ही चीज़ो को अच्छी तरह समझ पाएगा। लेकिन इन सब में यह भी न भूले की आपके बच्चे को अभी आपके प्यार और ध्यान दोनों की जरुरत है। आपके नज़दीक आने का मौका आपका बच्चा छोड़ेगा नहीं और न ही आपको छोड़ना चाहिए।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

उम्मीद है आपको हमारा ये लेख पसंद आएगा। अगर आपका शिशु भी इस उम्र का है, तो वो कैसी गतिविधियां करता है, इस बारे में हमें जरूर जानकारी दें और अपना एक्सपीरिएंस शेयर करें।

और पढ़ेंः-

बच्चों का लार गिराना है जरूरी, लेकिन एक उम्र तक ही ठीक

बच्चे को कैसे और कब करें दूध से सॉलिड फूड पर शिफ्ट

क्यों है बेबी ऑयल बच्चों के लिए जरूरी?

बेबी पूप कलर से जानें कि शिशु का स्वास्थ्य कैसा है

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

बच्चे का मल कैसे शिशु के सेहत के बारे में देता है संकेत

बच्चे का मल काला, हरा, लाल, सख्त, सॉफ्ट तो कभी पानी की तरह हो सकता है, हर मल की अपनी विशेषता है, जानें क्या करें व क्या नहीं, पढ़ें यह आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Satish singh
बेबी की देखभाल, बेबी, पेरेंटिंग July 17, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें

क्या है अन्नप्राशन संस्कार, कब और किस तरीके से करना चाहिए, क्या है इसके नियम

अन्नप्राशन संस्कार से जुड़ी हर अहम जानकारी के लिए पढ़ें यह आर्टिकल, पेरेंट्स क्या करें व क्या न करें ताकि आपका शिशु असहज महसूस न करें, जानें आर्टिकल में।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
बेबी की देखभाल, बेबी, पेरेंटिंग July 6, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Fetal Ultrasound: फेटल अल्ट्रासाउंड क्या है?

फेटल अल्ट्रासाउंड (Fetal Ultrasound) की जानकारी मूल बातें, टेस्ट कराने से पहले जानने योग्य बातें, Fetal Ultrasound क्या होता है, फेटल अल्ट्रासाउंड के रिजल्ट और परिणामों को समझें |

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
स्वास्थ्य, मेडिकल टेस्ट May 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट का कैसे करे चुनाव

टूथपेस्ट क्या होता है, बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट कौन सा होता है और बच्चों को किस उम्र में ब्रश करना शुरू कर देना चाहिए। Baccho ke liye sahi toothpaste.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi

Recommended for you

बेबी की पहली स्माइल (Baby's first smile)

बेबी स्माइल ना करे, तो पेरेंट्स क्या करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ February 11, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
शिशु में गैस की परेशानी

शिशुओं में गैस की परेशानी का घरेलू उपचार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ August 5, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
How to Care for your Newborn during the First Month - नवजात की पहले महीने में देखभाल वीडियो

पहले महीने में नवजात को कैसी मिले देखभाल

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
प्रकाशित हुआ August 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
नवजात के लिए जरूरी टीके – Vaccines for Newborns

नवजात के लिए जरूरी टीके – जानें पूरी जानकारी

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
प्रकाशित हुआ August 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें