अगर आपका भी बच्चा नाखून चबाता है कैसे छुड़ाएं यह आदत?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट फ़रवरी 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

क्या आपका बच्चा नाखून चबाता है? अधिकतर बच्चों में नाखून चबाने या अंगूठा चूसने की आदत होती है, जिससे पेरेंट्स परेशान रहते हैं। ऐसा तब होता है जब बच्चे इसमें स्वाद को महसूस करने लगते हैं या उनके दांत आने लगते हैं, तब बच्चे ये आदत पकड़ लेते हैं। नाखून चबाने से वैसे तो कोई बहुत अधिक नुकसान तो नहीं होता है, लेकिन पेट की समस्या और गंदगी की शिकायत हो सकती है। नाखून को चबाना सेहत के लिए हानिकारक भी साबित हो सकता है। अगर आप बच्चे के नाखून चबाने की आदत से परेशान हैं, तो  इस लेख में जानें नाखून चबाने से होने वाले नुकसानों  को-

क्या आपका बच्चा नाखून चबाता है, क्या है कारण?

आपने महसूस किया होगा कि, जब बच्चे शिशु अवस्था में होते हैं, तब उनमें यह आदत नहीं होता। लेकिन, जैसे-जैसे बड़े होते हैं, बच्चों में नाखून चबाने की आदत लगने लगती है। कुछ बच्चे तनाव के कारण नाखून चबाते हैं। कई बार इस आदत के बढ़ने में माता-पिता भी जिम्मेदार होते हैं। इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान पटना में शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ श्रीनिवास कहते हैं, कि कई बार पेरेंट्स बच्चों को नाखून या अंगूठा चबाने से मना करते हैं और अंगूठा बाहर निकाल देते हैं, जिससे बच्चा कोई दूसरा तरीका ढूंढ लेता है।

यह भी पढ़ें: जानें बच्चे में होने वाली आयरन की कमी को कैसे पूरा करें

बच्चा नाखून चबाता है, तो इससे क्या नुकसान हो सकते हैं?

बढ़े हुए नाखूनों में मैल और गंदगी का भरमार होता है, जिसे लगातार चबाने से बच्चों को इंफेक्शन हो सकता है। नाखून लगातार चबाने के कारण यह गंदगी सीधे बच्चे के पेट में चली जाती है। जिससे पेट की कई प्रकार की समस्याएं हो सकती हैं, जैसे – पेट खराब, उल्टी और दस्त आना नाखून चबाने से होने वाली आम समस्याएं हैं।

बच्चा नाखून चबाता है, तो इस आदत को कैसे छुड़ाएं?

निचे कुछ आसान से टिप्स दिए गए हैं, जिनसे आप बच्चों की नाखून खाने की आदत को कम कर सकते हैं।

जानने की कोशिश करें कि यह आदत क्यों होती है

किसी भी आदत को समय रहते उस पर अम्ल किया जाए तो वह खत्म किया सकता है। बच्चों के इस आदत का अभ्यास करने के मूड को जानने की कोशिश करें और इसका कोई हल निकालें। डांटने से ऐसी आदत कतई दूर नहीं हो सकेगा। आपके बच्चे को नाखून चबाने की आदत लग गई है, तो आप उसे किसी खेल में व्यस्त कर सकते है ताकी वो नाखून चबाने के बारे में सोचे ही ना।

शुरुआत में ही रोक लगाएं

बच्चे बहुत छोटे हों या थोड़े बड़े, बुरी आदत वह धीरे-धीरे ही सीखता है। इसलिए बच्चों के नाखून चबाने और खाने की आदत को खत्म करने के लिए शुरुआत में ही उसे इस पर टोकें और प्यार से समझाएं कि यह गंदी आदत उनके लिए कैसे नुकसानदायक है। इसके लिए आप उन्हें नाखून की गंदगी और उसके संक्रमण के बारे में बता सकते हैं। इसलिए अगर आपका बच्चा नाखून चबाता है, तो शुरुआत से ऐसा करने से माना करें।

ये भी पढ़ें: Strep-throat: स्ट्रेप थ्रोट/गले का संक्रमण क्या है?

हाथों को मुंह से हटाने की बजाए उसे बिजी रखें

अपने यह फील किया होगा कि जब बच्चे फ्री होते हैं, या किसी काम में बिजी नहीं होते तो अपना वो नाखून चबाने लगते हैं। इससे बचने के लिए बच्चों पर ध्यान दें व उनके हाथों को व्यस्त रखने में मदद करें। इसके लिए आप अपने बच्चों को कोई खिलौना ला कर दे सकते हैं, जिससे वे खिलौनों में ही बिजी रहेंगे और नाखून चबाना भूल जाएगा।

बच्चे को बुरी आदतों को लेकर अवेयर रहें

नाखून चबाना बुरी आदत है लेकिन, इसके अलावा भी अगर आपका बच्चा कई तरह की आदतों को अपना रहा है, तो आप बच्चे को इन आदतों से होने वाली नुकसानों के बारे में समझा सकते हैं। उसे आपका बार-बार नाखून चबाने से मना करना बुरा लग सकता है, इसलिए बच्चे को सही और प्यार से नाखून चबाने के नुकसान बताएं। धीरे-धीरे वह आपकी बातों को समझ सकेगा और नाखून चबाना बंद कर देगा।

बच्चा नाखून चबाता है, इस आदत के साथ-साथ बच्चों में कुछ अन्य आदत भी हो सकते हैं। इन बुरी आदतों में शामिल है-

  • उंगली या अंगूठा चूसने की आदत
  • किसी भी खेलने में वाली चीजों को मुंह में डालने की आदत या उसे चूसने की आदत
  • बालों को खींचने की आदत
  • नोज पिकिंग करना
  • होठों या गालों के अंदर के हिस्से को चूसना
  • पेंसिल या कपड़ा चबाने की आदत
  • दांत पीसना या दांत रगड़ना

(यह लेख हेलो स्वास्थ्य के सदस्य और इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान, पटना में बाल रोग विभाग में चिकित्सा पदाधिकारी डॉ श्रीनिवास द्वारा साझा किए गए जानकारी पर आधारित है।)

ये भी पढ़ें: शिशुओं की सुरक्षा के लिए फॉलो करें ये टिप्स, इन जगहों पर रखें विशेष ध्यान

बच्चा नाखून चबाता है, तो उससे होने वाली परेशानी क्या है?

बच्चा नाखून चबाता है, तो उससे निम्नलिखित परेशानी हो सकती है। जैसे-

  • कई बार हम यह सोच लेते हैं कि बच्चे की नाखून छोटी है और उनमें गंदगी नहीं है लेकिन, ऐसा नहीं होता है। दरअसल आप कितनी बार भी बच्चे की हाथ धोएं लेकिन, नाखून के अंदर ये जर्म्स छुप जाते हैं और बच्चों के नाखून चबाने, उंगली या अंगूठा चूसने के दौरान ये जर्म्स पेट तक आसानी से पहुंच जाते हैं। ऐसी स्थिति में बच्चा बीमार पड़ सकता है। इसलिए अगर बच्चा नाखून चबाता है या उसकी कोई अन्य आदत ऐसी है, तो उसे समझकर इस आदत से दूर रखें।
  • नाखून चबाने की वजह से परोनिचिया (Paronychia) की समस्या हो सकती है। परोनिचिया के लक्षण आसानी से समझे जा सकते हैं। परोनिचिया की समस्या होने पर नाखून के हिस्सों का लाल होना, सूजन आना या स्किन निकलने की समस्या हो सकती है। ऐसी स्थिति में भी अगर आप या आपका बच्चा नाखून चबाता है, तो संक्रमण का खतरा अत्यधिक बढ़ जाता है और आपको शारीरिक परेशानी महसूस हो सकती है।
  • कई बार महिलाएं खुद नेलपेंट का इस्तेमाल करने के दौरान बच्चों की उंगलियों पर भी नेलपेंट लगा देती हैं। ऐसी स्थिति में बच्चा अगर नाखून चबाता है, तो उसके पेट में केमिकल्स आसानी से पहुंच सकते हैं। जिस वजह से बच्चा बीमार पड़ सकता है।

अगर आपका बच्चा नाखून चबाता है और कई बार प्रयास करने के बावजूद वह अपनी यह आदत नहीं छोड़ पा रहा हो तो इससे जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें:

नवजात शिशु का मल उसके स्वास्थ्य के बारे में क्या बताता है?

मां और शिशु दोनों के लिए बेहद जरूरी है प्री-प्रेग्नेंसी चेकअप

गर्भनिरोधक दवा से शिशु को हो सकती है सांस की परेशानी, और भी हैं नुकसान

मल्टिपल गर्भावस्था के लिए टिप्स जिससे मां-शिशु दोनों रह सकते हैं स्वस्थ

बेबी पूप कलर से जानें कि शिशु का स्वास्थ्य कैसा है

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    क्या है अन्नप्राशन संस्कार, कब और किस तरीके से करना चाहिए, क्या है इसके नियम

    अन्नप्राशन संस्कार से जुड़ी हर अहम जानकारी के लिए पढ़ें यह आर्टिकल, पेरेंट्स क्या करें व क्या न करें ताकि आपका शिशु असहज महसूस न करें, जानें आर्टिकल में।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish singh
    पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग जुलाई 6, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    क्या आप जानते हैं बच्चों को खुश रखने के टिप्स?

    बच्चों को खुश रखने के टिप्स क्या हैं आइए जानते हैं। जिससे आपका बच्चा खुश रहेगा और आप भी। कुछ छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखकर आप अपने बच्चे को खुश रख सकती हैं।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Shruthi Shridhar
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
    पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग मई 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    जानें बच्चे को बिजी रखने के टिप्स, आसानी से निपटा सकेंगी अपना काम

    जानिए बच्चे को बिजी रखने के टिप्स क्या-क्या हैं? कैसे बच्चे को बिजी रखने के टिप्स को अपनाने के साथ-साथ आपके बच्चे हो जाएंगे और भी स्मार्ट।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Shruthi Shridhar
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
    पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग मई 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Fetal Ultrasound: फेटल अल्ट्रासाउंड क्या है?

    फेटल अल्ट्रासाउंड (Fetal Ultrasound) की जानकारी मूल बातें, टेस्ट कराने से पहले जानने योग्य बातें, Fetal Ultrasound क्या होता है, फेटल अल्ट्रासाउंड के रिजल्ट और परिणामों को समझें |

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
    के द्वारा लिखा गया Anu sharma
    मेडिकल टेस्ट A-Z, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मई 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    शिशु में गैस की परेशानी

    शिशुओं में गैस की परेशानी का घरेलू उपचार

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish singh
    प्रकाशित हुआ अगस्त 5, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
    How to Care for your Newborn during the First Month - नवजात की पहले महीने में देखभाल वीडियो

    पहले महीने में नवजात को कैसी मिले देखभाल

    के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
    प्रकाशित हुआ अगस्त 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
    नवजात के लिए जरूरी टीके – Vaccines for Newborns

    नवजात के लिए जरूरी टीके – जानें पूरी जानकारी

    के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
    प्रकाशित हुआ अगस्त 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
    बच्चे का मल

    बच्चे का मल कैसे शिशु के सेहत के बारे में देता है संकेत

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Satish singh
    प्रकाशित हुआ जुलाई 17, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें