पेरेंट्स आपके काम की बात, जानें शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन को कैसे करें कंट्रोल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन को कैसे कंट्रोल किया जा सकता है, इस सवाल का जवाब लगभग हर माता-पिता जानना चाहते होंगे। नवजात बच्चों से लेकर बड़े उम्र के बच्चों को भी मीठा स्वाद सबसे ज्यादा पसंद आता है। आपने देखा भी होगा कि एक रोते हुए बच्चे को अगर मीठी कैंडी या कोई मीठी चीज दे दी जाए, तो वह तुरंत शांत हो जाता है। शायद माता-पिता की ऐसी ही कई और आदतें शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन को बढ़ावा देने की एक वजह बनती होंगी। आप हमारे इस आर्टिकल में शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन की आदत को कम करने की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

और पढ़ें : किडनी ट्रांसप्लांट के बाद सावधानी रखना है बेहद जरूरी, नहीं तो बढ़ सकता है खतरा

कैसे कम करें शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन की आदत

सबसे पहले हम आपको एक रिसर्च की जानकारी देने वाले हैं। इस रिसर्च के मुताबिक शिशु में चीनी के सेवन की आदत को लेकर कुछ तरह के माता-पिता जिम्मेदार पाए गए हैं। जिनमें शामिल हैंः

  • शुगर और अन्य मीठी चीजों के एकदम खिलाफ और बच्चों को सिर्फ हेल्दी फूड्स ही खाने के लिए देते हैं।
  • अक्सर मिडिल ग्राउंड के माता-पिता बच्चों से अपनी बात मनवाने के बदले उन्हें मीठी चीजें खाने का ऑफर करते हैं। ऐसे माता-पिता की संख्या सबसे अधिक देखी जाती है।
  • ऐसे माता-पिता तो बच्चों के खाने-पीने की आदत को लेकर एक तय नियम बनाना पसंद करते हैं और उन्हें दिन के कुछ समय में तय मात्रा में चीनी का सेवन करने की अनुमति भी देना पसंद करते हैं।
  • और, अंत में ऐसे माता-पिता भी हैं, जो शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन को लेकर सतर्क नहीं हैं। अक्सर ऐसे माता-पिता अपने बच्चों को सभी तरह का स्वाद चखने की पूरी अनुमति देना पसंद करते हैं। हालांकि, इनमें से अधिक पैरेंट्स इस बात का ख्याल रखते हैं कि कहीं बहुत ज्यादा मीठा खाने की वजह से उनके बच्चों के दांत न सड़ने लगे।

और पढ़ें : एक्टर आमिर खान बर्थडे स्पेशल : क्या आप पर भी कहानियों का जल्दी पड़ता है असर?

शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन के दुष्प्रभाव क्या हो सकते हैं?

शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन की आदत के कारण बच्चे के स्वास्थ्य में कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं, जिनमें शामिल हैंः

मोटापे की समस्या

अक्सर, कई माता-पिता सोचते हैं कि बच्चों में मोटापे का सबसे बड़ा कारण जंक फूड होता है, लेकिन बता दें कि शिशु में चीनी की मात्रा भी मोटापे का एक कारण बन सकती है। अक्सर बचपन में ही उम्र के मुकाबले बहुत ज्यादा वजनदार बच्चे होने से उन्हें कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं होने का खतरा रहता है। जो बढ़ती उम्र के साथ ही और भी ज्यादा गंभीर हो सकती हैं। विशेषज्ञों का मानें, तो जन्म के बच्चों के दांत मीठे होते हैं। यही वजह है कि बच्चे पहली बार में ही मीठी चीजों के प्रति आदी हो जाते हैं। भारत समेत अमेरिका जैसे कई बड़े विकासशील और विकसित देशों में बच्चों में मोटापे की समस्या अधिक देखी जा रही है। अगर किसी बच्चे का बॉडी मास इंडेक्स यानी BMI 95 प्रतिशत से अधिक होता है, तो उसे मोटापे से ग्रस्त मानते हैं। अगर आप अपने बच्चे के बॉडी मास इंडेक्स के बारे में नहीं जानते हैं, तो अपने डॉक्टर से इसके बारे में परामर्श कर सकते हैं। साथ ही, हमारे बॉडी माक्स इंडेक्स टूल की मदद से आप अपने बच्चे का BMI पता कर सकते हैं। अपने बच्चे का BMI पता करने के लिए आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर सकते हैं।

बी एम आई कैलक्युलेटर

और पढ़ें : क्या प्रेग्नेंसी में सेल्युलाइट बच्चे के लिए खतरा बन सकता है? जानिए इसके उपचार के तरीके

जानिए शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन और मोटापे की समस्या के कनेक्शन पर आंकड़ों का हाल

साल 2015 में, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सिफारिश की है कि हर कोई, चाहे उनकी उम्र कुछ भी हो, उन्हें अपने आहार में सभी कैलोरी का 10 फीसदी से भी कम हिस्से में चीनी का सेवन करना चाहिए। खासकर बच्चों के लिए। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक बच्चों को एक दिन में लगभग 45 ग्राम से कम मात्रा या इससे भी कम मात्रा में चीनी का सेवन करना चाहिए। शोध में पाया गया कि अधिकतर माता-पिता चीनी के तौर पर सिर्फ कैंडी या चॉकलेट जैसे खाद्य पदार्थ ही आंकते हैं। शोध में 75 फीसदी से भी अधिक माता-पिता ने माना कि वो अपने बच्चे के खाद्य पदार्थों में कुकीज, ड्रिंक जैसे चीनी युक्त खाद्य पदार्थों की गणना नहीं करते हैं।

दांतों की समस्या

यह बात काफी आम है कि अत्यधिक मीठा खाने की वजह से दांत जल्दी सड़ने लगते हैं। हालांकि, कई बार शरीर में जरूरी कुछ कैल्शियम की कमी के कारण भी दांतों में कैविटी की समस्या शुरू हो सकती है। एक्सपर्ट्स की मानें, तो हमारे मुंह में बैक्टीरिया होते हैं जो पट्टिका बनाते हैं और जब हमारे पास शुगर युक्त भोजन और पेय होते हैं, तो पट्टिका में बैक्टीरिया चीनी को एसिड के रूप में बदल देता है, जो दांतों में कैविटी पैदा करने लगता है। एक दिन में लगभग 105 बच्चे अस्पताल में अपने खराब दांत निकलवाते हैं और इससे भी अधिक की संख्या में बच्चे नए दांत लगवाने आते हैं।

डायबिटीज की समस्या

अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त बच्चों और वयस्कों में टाइप -2 डायबिटीज (मधुमेह), हृदय रोग और कुछ कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। 10 से 11 साल के बच्चों में गंभीर मोटापे की समस्या आधुनिक दौर में सबसे अधिक देखी जा रही है। आंकड़ों के मुताबिक, लगभग हर 10वां बच्चा 18 साल का होने से पहले ही अधिकतम अनुशंसित चीनी का की मात्रा का सेवन पार कर लिया होता है। इस दौरान लगभग शिशु में चीनी के सेवन की मात्रा 2,800 से भी अधिक चीनी क्यूब्स प्रति साल की दर से खा ली होती है।

और पढ़ें : हुक्का पीने के नुकसान जो आपको जानना है बेहद जरूरी

शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन को कंट्रोल करने के लिए क्या करें?

शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन की आदत को कंट्रोल करने के लिए आपको बच्चे के शुरूआती आहार के दिनों में ही चीनी से परहेज करना शुरू कर देना चाहिए। इसके लिए आप निम्नलिखित बातों का ध्यान रख सकते हैंः

  • बच्चे को दिन में कम के कम दो बार फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट से ब्रश कराएं।
  • बच्चे को शांत कराने के लिए मीठी चीजों का सहारा न लें।
  • छोटे बच्चों को थोड़ी-थोड़ी देर में कुछ हेल्दी फ्रूट्स और भोजन खाने के लिए देते रहें। इससे बच्चा मीठी चीजें देखकर उसकी तरफ जल्दी आकर्षित नहीं होगा।
  • बच्चे को हमेशा बिना चीनी मिला दूध ही पिलाएं। इससे बच्चे की आदत भी इसी तरह का ही दूध पीने का बन सकती है।
  • घर में मीठे खाद्य पदार्थ बहुत ही सीमित मात्रा में लाएं। यह बच्चे के साथ-साथ परिवार के सभी सदस्यों के लिए हेल्दी आदत हो सकती है।
  • बच्चे की खाने-पीने की आदतों पर ध्यान रखें।
  • कोई भी पैक्ड खाद्य पदार्थ बच्चे को देने से पहले उसमें सम्मलित चीनी की मात्रा जरूर देखें।

एक बात का ख्याल रखें कि शुगर से लेकर नमक और मिर्च-मसालों की मात्रा भी बच्चों में काफी हद तक सीमित रखना चाहिए। ऐसे कई मामले भी देखें जाते हैं जिनमें शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन के कारण भी उनका स्वास्थ्य पूरी तरह से हेल्दी होता है और उनके दांत भी काफी चमकदार होते हैं, लेकिन चीनी के नुकसान सिर्फ दांत तक की सीमित नहीं है। शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन का प्रभाव बढ़ती उम्र के लक्षणों के साथ उभरकर सामने आ सकते हैं। इसलिए बच्चे के भविष्य की चिंता करते हुए आज से ही अपने शिशु में अत्यधिक चीनी के सेवन की आदत को कंट्रोल करें।

हमें उम्मीद है कि आपको यह आर्टिकल उपयोगी लगा होगा। हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

जानिए, मेटफार्मिन को वजन कम करने के लिए प्रयोग करना चाहिए या नहीं?

मेटफार्मिन क्या है, क्या मेटफार्मिन वेट लॉस का कारण बन सकती है, डायबिटीज में मेटफार्मिन लेने से वजन कम होता है या नहीं, Metformin Weight Loss in Hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
डायबिटीज, हेल्थ सेंटर्स अगस्त 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

जाने क्यों होता है डायबिटीज में किडनी फेलियर?

डायबिटीज होने पर किडनी फेलियर की सम्भावना बढ जाती है, जाने कुछ ऐसे उपाय जिसे अपना कर आप डायबिटीज होने पर कैसे रोकें किडनी फेलियर in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mishita Sinha
डायबिटीज, हेल्थ सेंटर्स अगस्त 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

घर पर डायबिटीज टेस्ट कैसे करें?

घर पर डायबिटीज टेस्ट कैसे करें, घर पर डायबिटीज टेस्ट करने का सही तरीका, जानिए ब्लड ग्लूकोज के बारे में पूरी जानकारी, Diabetes test in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
डायबिटीज, हेल्थ सेंटर्स अगस्त 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

क्या है डायबिटिक मैकुलर एडिमा, क्यों होती है यह बीमारी, इसके लक्षण, बचाव और ट्रीटमेंट जानने के लिए पढ़ें

डायबिटिक मैकुलर एडिमा क्या है, क्यों होती है यह बीमारी, इसका कैसे पता लगाए, इसके लक्षणों के साथ इससे कैसे बचा जाए जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
डायबिटीज, हेल्थ सेंटर्स अगस्त 14, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

टाइप-1 डायबिटीज क्या है

टाइप-1 डायबिटीज क्या है? जानें क्या है जेनेटिक्स का टाइप-1 डायबिटीज से रिश्ता

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 17, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें
वजन घटने से डायबिटीज का इलाज/diabetes and weightloss

क्या वजन घटने से डायबिटीज का इलाज संभव है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 15, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
डायबिटीज टेस्ट स्ट्रिप्स/Diabetes Test Strips

डायबिटीज टेस्ट स्ट्रिप्स का सुरक्षित तरीके से कैसे करें इस्तेमाल?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
हाथ और स्वास्थ्य के बारे में क्विज

Quiz : हाथ किस तरह से स्वास्थ्य स्थितियों के बारे में बता सकते हैं, जानने के लिए खेलें यह क्विज

के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अगस्त 25, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें