home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

क्या बच्चों के लिए फ्लू और कोविड वैक्सीन एक ही है : जानें इस पर एक्सपर्ट की राय

क्या बच्चों के लिए फ्लू और कोविड वैक्सीन एक ही है : जानें इस पर एक्सपर्ट की राय

कोविड (COVID) की दूसरी लहर का सकंट अभी टला नहीं है और तीसरी लहर की खबरे सुनने को मिल रही हैं, जोकि बच्चों के लिए ज्यादा खतरनाक साबित हो सकती है। ऐसे में सभी अभिभावकों के लिए यह चिंता का विषय है। इसलि ए भी जरूरी है कि बच्चों के लिए खास सावधानी बरती जाए। इस महामारी से बचने से लिए जरूरी है कि आप भी पहले से ही अपने आप को तैयार रखने की जरूरत है। इसके लिए बच्चों के खानपान (Child diet) का विशेष ध्यान रखना आवश्यक है। बच्चों में बढ़ रहे केसेज चिकित्सकों के लिए एक बड़ा चिंता का विषय है। जबकि अध्ययनों से पता चला है कि बच्चों में वायरस से गंभीर संक्रमण विकसित होने की संभावना कम होती है, लेकिन केस बढ़ते जा रहे हैं। तो इस संकट से बचाव के तौर पर बच्चों के लिए फ्लू और कोविड वैक्सीन (Flu and COVID Vaccine For Children) जरूरी है। इससे उनमें कोविड के रिस्क फैक्टर कम देखने को मिल सकते हैं। आइए जानें कि बच्चों के लिए फ्लू और कोविड वैक्सीन (Flu and COVID Vaccine For Children) क्यों जरूरी है:

और पढ़ें: कोरोना वायरस के ट्रांसमिशन फैक्टर: मास्क पहनने के साथ, इन छोटी-छाेटी बातों की तरफ भी गौर करें!

बच्चों को महामारी की तीसरी लहर के लिए फ्लू का टीकाकरण (Flu vaccination) है जरूरी

बच्चों के लिए फ्लू और कोविड वैक्सीन के बारे में जानने से पहले सभी का फ्लू वैक्सीन के बारे में भी जानना जरूरी है। बच्चों में कोविड के बढ़ रहे COVID मामलों में लगातार वृद्धि चिंता काफी चिंता का विषय है। इसके अलावा, अभी भी इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि बच्चे पूरी तरह से वायरस से सुरक्षित हैं या नहीं। कई अध्ययन से यह भी पता चलता है कि पहली लहर ने 60 वर्ष से ऊपर के लोगों को गंभीर रूप से प्रभावित किया था , दूसरी लहर ने युवा पीढ़ी को प्रभावित किया है। दूसरे लहर सबसे अधिक वयस्कों को टीकाकरण (Vaccination of adults) भी हुआ है, तो यह उम्मीद की जा सकती है कि बच्चों को तीसरी लहर में अधिक जोखिम हो सकता है। इसलिए, उन तरीकों को देखने की तत्काल आवश्यकता है, जिनके द्वारा हम बच्चों की रक्षा कर सकते हैं या जिससे वो कम से कम प्रभावित होते हैं।

और पढ़ें: कोरोना में सेल्फ मेडिकेशन हो सकता है खतरनाक, सलाह के बाद ही करें इनका इस्तेमाल!

बच्चों में कोराेना (Corona in children’s) के संक्रमण के खतरे को कम करने के लिए बच्चों में भी टीकाकरण (Vaccination in children) जरूरी है। इंडियन अकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स (Indian Academy of Pediatrics) के अनुसार पांच साल से कम उम्र के सभी बच्चों को वार्षिक फ्लू शॉट (Flu shot) देने की आवश्यकता है। अमेरिका में महामारी के दौरान किए गए अध्ययन में पाया गया कि जिन बच्चों को बच्चों को फ्लू के दौरान इन्फ्लुएंजा वैक्सीन का टीका लगाया गया था, उनमें COVID19 से संक्रमित होने का खतरा कम पाया गया था।

और पढ़ें: क्यों कोरोना वायरस वैक्सीनेशन हर एक व्यक्ति के लिए है जरूरी और कैसे करें रजिस्ट्रेशन?

बच्चों के लिए फ्लू और कोविड वैक्सीन: जटिलताओं से कैसे बचाता है?

बच्चों के लिए फ्लू और कोविड वैक्सीन उनमें किस से जटिलताओं से बचाता है, यह भी जानना जरूरी है। चल रहे COVID19 संकट के साथ, अतिरिक्त इन्फ्लुएंजा संक्रमण महामारी को ‘ट्विनडेमिक’ स्थिति में बदल सकता है; तो ऐसे में जिन बच्चों को फ्लू शॉट्स वैक्सीनेशन वाले बच्चों में वायरल और इंफेक्शन के रिस्क काफी कम देखने को मिलते हैं। टीकाकरण बच्चों को कोरोना की तीसरी लहर में बचाव (Prevention in the third wave of Corona) की तरह काम कर सकता है। इसी के साथ ही, टीकाकरण द्वारा बच्चों में इन्फ्लुएंजा संक्रमण की रोकथाम के खतरे कम देखे गए हैं। बच्चों में फ्लू की वैक्सीन लेने से उनकी इम्यूनिटी को बढ़ाने में मददगार हैं। ऐसे में कोविड का संक्रमण (COVID Infection) उन वैक्सीनेटड बच्चे पर अपना खतरनाक प्रभाव नहीं दिखा पाएगा। यानि कि यदि किसी बच्चे का फ्लू का टीकाकरण हो गया है और वह कोविड के संक्रमण से प्रभावित हो गया है, तो उस दौरान वैक्सीनेटेड बच्चे (Vaccinated children)के लिए, बिना वैक्सीन वाले कोविड से प्रभावित बच्चे की तुलना में कम रिस्क (Risk) होंगे। वैक्सीन लिए हुए बच्चों में काेरोना के बुखार और खांसी जैसे लक्षण नजर आएंगे, लेकिन जान का जोखिम कम होगा। बच्चों के लिए फ्लू और कोरोना का वैक्सीन जरूरी है। वैक्सीन के अलावा डायट का भी विशेष ध्यान दें। जितनी हेल्दी डायट होगी, उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी उतनी अच्छी होगी। आप उन्हें एंटी-ऑक्सिडेंट वाले फूड भी अधिक दें, ताकि शरीर में संक्रमण टिक न पाए।

और पढ़ें: ब्रिटेन में जल्‍द शुरू होगा कोरोना का वैक्‍सीनेशन (COVID-19 vaccine), सरकार ने दिया ग्रीन सिग्नल

बच्चों के लिए फ्लू और कोविड वैक्सीन (Flu and COVID Vaccine For Children) : क्या दोनों एक साथ ले सकते हैं?

बच्चों के लिए फ्लू और कोविड वैक्सीन दोनों ही एक साथ लेना सही है, क्या? यह सवाल अधिक पेरेंट्स के मन में है। पर यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि फ्लू का टीका औरकोविड वैक्सीन (COVID Vaccine) दोनों ही अलग हैं। इन दाेनों टीकों के बीच 4 सप्ताह का अंतराल बनाए रखने की आवश्यकता है, ताकि बच्चे को एंटीबॉडी (Antibodies in Children) विकसित करने और सभी प्रकार के वायरल के खिलाफ प्रतिरक्षा बनाने के लिए पर्याप्त समय मिल सके। इन दोनों टीकों के बीच समय का अंतराल डाॅक्टर ही निर्धारित करेंगे। दोनों के बीच सही अंतर बहुत जरूरी है। टीकाकारण बच्चे को तीसरी लहर से बचाने में मदद कर सकता है। इन दोनों की टीकों का शरीर में अलग-अगल भूमिका है। बच्चों के लिए फ्लू और कोविड वैक्सीन दोनों ही जरूरी है।आप इन दोनों को एक समझने की गलती न करें। हां, बस जिन बच्चों में पहले से फ्लू का टीका लग चुका था, उनमें बस कोरोना के रिस्क (Corona’s Risk) कम देखे गए हैं। टीकाकरण (Vaccination) के बाद हो सकता है कि बच्चे में बुखार (Fever) जैसे लक्षण भी देखने को मिलें। लेकिन इससे आपको घबराने की जरूरत नहीं है। लेकिन हां, उस दौरान उसकी खास देखभाल की जरूरत है। ऐसे में उसका डायट और आराम करना दोनों की महत्वपूर्ण हैँ। वैक्सीनेशन (Vaccination) के बाद हो सकता है कि डॉक्टर कुछ दिन कुछ बातों में थोड़ा सा परहेज भी बोल दें। जिससे मानना बहुत जरूरी है। इसलिए जैसा आपको डॉक्टर, केयर की लिए सलाह दें, आप वही ही फॉलो करें। यदि आप उसे फॉलो कर रहे हैं, तो बच्चे में रिस्क (Risk in children) काफी कम होता है। बच्चों के लिए फ्लू और कोविड वैक्सीन दोनों ही उनके बचाव के रूप में सुरक्षा कवच की तौर पर काम करता है।

और पढ़ें: HPV के लिए वैक्सीनेशन को न करें नजरअंदाज, क्योंकि वैक्सीनेशन में ही है प्रिवेंशन

बच्चों के लिए तीसरी लहर (Third Wave) जैसा कि काफी खतरनाक साबित हो सकती है। जैसा कि बच्चों के लिए फ्लू और कोविड वैक्सीन, दोनों ही बहुत जरूरी है। इसलिए उनका टीकाकरण समय रहते होना जरूरीर है। पैरेंट्स को इसकी तरफ जल्दी ध्यान देना चाहिए। इसके लिए डॉक्टर से मिलकर उसके वैक्सीनेशन की डेट लें। यदि आप बच्चे का टीका पहले ही लगवा चुके हैं, तो डाॅक्टर को उसके बारे में भी बता दें, ताकि वो समय दोनों के बीच के अंतराल को देखते हुए वैक्सीनेशन की डेट (Date of vaccination) दें। इसक अलावा बच्चों की डायट की भी विशेष ध्यान रखें कि ताकि उनकी इम्यूनिटी अच्छी बनी रहे। उनकी डायट में हरी सब्जियां, फल और नट्स आदि सभी पोषक तत्वों का ध्यान रखें। इसके अलावा अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
डॉ. ब्रजेश कुंवर द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 29/05/2021 को