home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Hib Vaccine: क्यों आवश्यक है शिशुओं को Hib वैक्सीन देना?

Hib Vaccine: क्यों आवश्यक है शिशुओं को Hib वैक्सीन देना?

हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी एक तरह का बैक्टीरिया है, जिसकी वजह से Hib डिजीज (Hib Disease) की समस्या बच्चों में हो सकती है। 5 वर्ष या इससे कम उम्र के बच्चों में Hib डिजीज का खतरा ज्यादा रहता है। हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी (Haemophilus influenzae type b) की वजह से उम्रभर डिसएब्लिटी यानी विकलांगता की समस्या हो सकती है। हालांकि ऐसा नहीं है कि एचआईबी डिजीज का इलाज संभव नहीं है, बल्कि Hib वैक्सीन (Hib Vaccine) से बच्चों को हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी के इंफेक्शन से दूर रखा जा सकता है। बच्चों के लिए Hib वैक्सीन (एचआईबी वैक्सीन) से जुड़ी सारी जानकारी आपके साथ शेयर करेंगे, लेकिन सबसे पहले हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी (Haemophilus influenzae type b) को समझते हैं।

  • हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी क्या है?
  • Hib वैक्सीन क्या है?
  • Hib वैक्सीन किस उम्र में दी जाती है?
  • हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी वैक्सीन की कीमत क्या है?
  • Hib वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स क्या हैं?

हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी एवं Hib वैक्सीन (Hib shot) से जुड़े इन सवालों का जवाब जानते हैं।

और पढ़ें : Pentavac vaccine: जानिए पेंटावेक वैक्सीन क्यों है बच्चों के लिए 5 इन 1 वैक्सीन

हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी (Haemophilus influenzae type b) क्या है?

Hib वैक्सीन (Hib Vaccine)

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (Center for Disease Control and Prevention) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी एक बैक्टीरियल इलनेस है, जो छोटे बच्चों में ब्रेन इंफेक्शन (Brain infection) का कारण बन सकते हैं। अगर शिशु में ऐसी समस्या होती है, तो शिशु के ब्रेन में इन्फ्लेमेशन (मस्तिष्क में अंदुरुनी सूजन) और स्पाइनल सूजन की समस्या हो सकती है। इसके अलावा ब्लडस्ट्रीम इंफेक्शन (Bloodstream infections), निमोनिया (Pneumonia), अर्थराइटिस (Arthritis) एवं शरीर के अन्य अंगों में इंफेक्शन (Infections) की समस्या हो सकती है। अब जैसा की हमने आर्टिकल की शुरुआत में लिखा की Hib डिजीज (Hib Disease) से बचाव संभव है और इसके लिए Hib वैक्सीन बच्चों को दी जाती है। Hib वैक्सीन के बारे में आगे समझेंगे।

और पढ़ें : बच्चों के लिए विटामिन ए सप्लिमेंट्स लेने के पहले डॉक्टर से कंसल्टेशन है जरूरी

Hib वैक्सीन (Hib Vaccine) क्या है?

Hib वैक्सीन (Hib Vaccine)
Portrait of baby girl receiving vaccination.

हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी के कारण होने वाली बीमारी जैसे टिटनेस (Tetanus), डिप्थेरिया (Diphtheria), काली खांसी (Hooping cough) एवं पोलियो (Polio) से बचाव में Hib वैक्सीन मददगार है। वहीं Hib वैक्सीन की पूरी डोज लेने के बाद शिशुओं किसी अन्य कारण से होने वाली मेनेंजाइटिस की समस्या से भी बचाव संभव है।

Hib वैक्सीन किस उम्र में दी जाती है? (Age for Hib Vaccine)

Hib वैक्सीन (Hib Vaccine)

दि नेमोर्स फाउंडेशन (The Nemours Foundation) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी वैक्सीन बच्चों के अलग-अलग उम्र पर दी जाने वाली वैक्सीन है। जैसे:

  • पहली डोज- 2 माह के शिशु को
  • दूसरी डोज- 4 माह के शिशु को
  • तीसरी डोज- 6 माह के शिशु को
  • चौथी डोज- हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी वैक्सीन की चौथी एवं आखरी डोज 12 से 15 महीने की बच्चों को दी जाती है। इसे बूस्टर डोज माना जाता है।

हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी वैक्सीन 5 साल से ज्यादा उम्र वाले बच्चों एवं वयस्कों को नहीं दी जाती है। हालांकि अगर सिकल सेल डिजीज, ऑपरेशन के दौरान स्प्लीन को निकालने से पहले या फिर बोन मैरो ट्रांसप्लांट (Bone marrow transplant) के बाद दी सकती है। वहीं नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ (National Institutes of Health) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार 5 से 18 वर्ष के बच्चों एवं किशोरों को एचआईवी (Human Immunodeficiency Virus) होने पर भी Hib वैक्सीन दिया जा सकता है।

नोट: अगर आप हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी वैक्सीन शिशु को दिलवाना किसी भी कारण से भूल जाते हैं या बच्चे को Hib वैक्सीन नहीं लग पाती है, तो ऐसी स्थिति में डॉक्टर से सलाह लें।

और पढ़ें : स्कूल के बच्चों के लिए हेल्दी हेबिट्स क्यों है जरूरी? जानें किन-किन आदतों को बच्चों को बताना है बेहतर

हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी वैक्सीन की कीमत क्या है? (Price of Haemophilus influenzae type b vaccine)

भारत में हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी वैक्सीन के अलग-अलग ब्रांड मौजूद हैं, जो इस प्रकार हैं-

  • हाइब (Hibe) – 385 रूपए
  • क्वॉड्रोवैक्स एसडी वैक्सीन (Quadrovax SD Vaccine) – 490 रूपए
  • कोम्बीफाइव इंजेक्शन (Combefive Injection) – 640 रूपए

नोट: Hib वैक्सीन की ऊपर बताई कीमत एवं नाम सिर्फ आपकी जानकारी के लिए साझा की गई है। वैक्सीन के नाम एवं कीमत दोनों अलग-अलग हो सकते हैं।

और पढ़ें : Mom & Dad, यहां जानिए टॉडलर के लिए इम्यून बूस्टर सप्लिमेंट्स की डिटेल्स!

Hib वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स क्या हैं? (Side effects of Hib Vaccine)

हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी वैक्सीन से कोई गंभीर समस्या नहीं होती है, लेकिन वैक्सीन लगने के बाद शिशु को निम्नलिखित शारीरिक हो सकती है। जैसे:

  • वैक्सिनेशन के बाद बुखार (Fever) आना।
  • इंजेक्शन लगने वाली जगह पर दर्द (Pain) होना, सूजन (Swelling) होना या लाल (Redness) पड़ना।
  • अगर Hib वैक्सीन बड़ों को दी गई है, तो व्यक्ति में बेहोशी जैसे लक्षण नजर आ सकते हैं।

हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी वैक्सीन (Haemophilus influenzae type b vaccine) के बाद ऊपर बताई गई परेशानी हो सकती है, लेकिन अगर Hib वैक्सिनेशन (Hib Vaccination) के बाद ज्यादा चक्कर आये, देखने में समस्या हो या फिर कानों में टिन-टिन की आवाज सुनाई दे, तो ऐसी स्थिति में डॉक्टर से जल्द से जल्द कंसल्ट करना चाहिए।

और पढ़ें : बच्चों के लिए मिनिरल सप्लिमेंट्स हो सकते हैं लाभकारी, लेकिन डॉक्टर से कंसल्टेशन के बाद

हिब टिका (Hib Vaccine) किसे नहीं लगवाना चाहिए?

हिब टिका 6 सप्ताह से कम उम्र के बच्चों को नहीं लगाई जाती है। इसके अलावा निम्नलिखित हेल्थ कंडिशन (Health Condition) होने पर भी हिब टिका (Hib Vaccine) नहीं लेना चाहिए। जैसे:

  1. हिब टिका लेने पर या पिछली वैक्सिनेशन के बाद गंभीर एलर्जी (Allergy) की समस्या होने पर नहीं दी जाती है।
  2. अगर वैक्सिनेशन डेट के दौरान कोई शारीरिक परेशानी होने पर डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही हिब टिका लगवाना चाहिए।

इन ऊपर बताये दो शारीरिक स्थितियों में हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी वैक्सीन (Haemophilus influenzae type b vaccine) नहीं लगाई जा सकती है।

ये हैं हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी वैक्सीन से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी। अगर आप Hib वैक्सीन (Hib Vaccine) या हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी (Haemophilus influenzae type b) से जुड़े किसी सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो हमें कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। हैलो स्वास्थ्य के हेल्थ एक्सपर्ट आपके सवालों का जवाब जल्द से जल्द देने की पूरी कोशिश करेंगे। वहीं अगर आपके घर में शिशु का जन्म हुआ है या होने वाला है, तो शिशु के जन्म के बाद (After delivery) डॉक्टर द्वारा प्रिस्क्राइब की गई दवाएं एवं वैक्सिनेशन डोज शिशु को समय-समय पर दें।

शिशु की देखभाल (Babies care) करने का क्या है बेस्ट तरीका जानिए नीचे दिए इस क्विज में।

बच्चों के विकास के साथ-साथ मां को अपना ख्याल रखना भी जरूरी है। नीचे दिए इस वीडियो लिंक पर क्लिक कर एक्सपर्ट से जानें न्यू मॉम अपना ध्यान कैसे रख सकती हैं और यह उनके लिए क्यों जरूरी है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Vaccine (Shot) for Hib/https://www.cdc.gov/vaccines/parents/diseases/hib.html/Accessed on 03/01/2022

Haemophilus Influenzae Type b (Hib) VIS/https://www.cdc.gov/vaccines/hcp/vis/vis-statements/hib.html/Accessed on 03/01/2022

Hib Disease (Haemophilus Influenzae Type b)/https://kidshealth.org/en/parents/hib.html/Accessed on 03/01/2022

Guidelines for the Prevention and Treatment of Opportunistic Infections in HIV-Exposed and HIV-Infected Children/https://clinicalinfo.hiv.gov/en/guidelines/pediatric-opportunistic-infection/figure-1-recommended-immunization-schedule-children/Accessed on 03/01/2022

Haemophilus lnfluenzae Type B (Hib, Haemophilus b)/https://www.health.ny.gov/diseases/communicable/haemophilus_influenzae/fact_sheet.htm/Accessed on 03/01/2022

Haemophilus lnfluenzae Type B/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK553112/Accessed on 03/01/2022

लेखक की तस्वीर badge
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड