आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज के लिए HCHF डायट के बारे में यह इंफॉर्मेशन है बड़े काम की

बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज के लिए HCHF डायट के बारे में यह इंफॉर्मेशन है बड़े काम की

डायबिटीज यानी वो समस्या, जिसमें रोगी के शरीर में ब्लड शुगर लेवल बहुत अधिक बढ़ जाता है। डायबिटीज के मुख्य प्रकारों में टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज शामिल है। इसमें, टाइप 2 डायबिटीज को सबसे सामान्य और गंभीर माना जाता है। जबकि, टाइप 1 डायबिटीज अधिकतर बच्चों को होती है। अगर आपके बच्ची को टाइप 1 डायबिटीज है, तो मील प्लानिंग बेहद जरूरी है। क्योंकि, जिस भी चीज का आपका बच्चा सेवन करता है, उससे उसकी ब्लड शुगर पर प्रभाव पड़ सकता है। आज हम आपको जानकारी देने वाले हैं, बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज के लिए HCHF डायट (HCHF diet in Children with Type 1 Diabetes) के बारे में। किंतु, बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज के लिए HCHF डायट (HCHF diet in Children with Type 1 Diabetes) के बारे में जानने से पहले टाइप 1 डायबिटीज (Type 1 diabetes) और HCHF डायट क्या है, यह जान लेते हैं।

टाइप 1 डायबिटीज किसे कहा जाता है? (Type 1 Diabetes)

टाइप डायबिटीज को जुवेनाइल डायबिटीज (Juvenile diabetes) या इंसुलिन- डिपेंडेंट डायबिटीज (Insulin-dependent diabetes) भी कहा जाता है। यह एक क्रॉनिक कंडीशन है, जिसमें रोगी का पैंक्रियाज कम मात्रा में या बिलकुल भी इंसुलिन का प्रयोग नहीं कर पाते हैं। इंसुलिन वो हॉर्मोन है, जो शुगर यानी ग्लूकोज को सेल्स में एंटर करने में मदद करते हैं, ताकि एनर्जी प्रोड्यूस हो सके। कुछ अन्य फैक्टर्स जैसे जेनेटिक्स और कुछ वायरस भी इस समस्या का कारण हो सकते हैं।

अधिकतर टाइप 1 डायबिटीज (Type 1 diabetes) के लक्षण बचपन या किशोरावस्था में नजर आते हैं। इस समस्या का कोई इलाज नहीं है। इसके उपचार का फोकस ब्लड शुगर लेवल को इंसुलिन, डायट और लाइफस्टाइल में बदलाव आदि होता है। अब बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज के लिए HCHF डायट (HCHF diet in Children with Type 1 Diabetes) के बारे में जान लेते हैं।

और पढ़ें: टाइप 1 डायबिटीज और हेरिडिटी: जानिए पेरेंट्स को डायबिटीज होने पर बच्चों में कितना बढ़ जाता है इसका रिस्क

बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज के लिए HCHF डायट : क्या कहती हैं स्टडीज ? (HCHF diet in Children with Type 1 Diabetes)

HCHF का फुल फॉर्म है हाय कार्बोहायड्रेट हाय फाइबर। यानी HCHF डायट मतलब ऐसी डायट जिसमें कार्बोहायड्रेट और फाइबर की मात्रा हाय हो। इसे हाय कार्बोहायड्रेट और हाय फाइबर डायट भी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि टाइप 1 डायबिटीज (Type 1 diabetes) से पीड़ित बच्चों को यह डायट फॉलो करने से लाभ होता है। नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन (National library of medicine) द्वारा कुछ बच्चों पर एक स्टडी की गयी।

यह बच्चे टाइप 1 डायबिटीज (Type 1 diabetes) से पीड़ित थे। इन बच्चों पर हाय कार्बोहायड्रेट और हाय फाइबर के प्रभावों को जांचा गया। इन सब बच्चों को लगभग पांच सालों से इस डायबिटीज की परेशानी थी और उनका मीन ग्लायकोसिलेशन हीमोग्लोबिन (Mean glycosylated hemoglobin) 12.4% था, जबकि सामान्य मीन ग्लायकोसिलेशन हीमोग्लोबिन (Mean glycosylated hemoglobin) को 5-9% तक माना जाता है।

इसके साथ ही कुछ बच्चों को छोड़कर उन सब में सी-पेप्टाइड वर्चुअल अनडेटेक्टेबल (Virtually undetectable) था। इन सभी बच्चों को घर पर दस दिनों तक हाय कार्बोहायड्रेट और हाय फाइबर डायट दी गयी जबकि चौदह दिनों तक अस्पताल में उन्हें यह डायट फॉलो करने के लिए कहा गया। इस डायट में 60% कार्बोहायड्रेट थी और 1000 Cal पर 30 g फाइबर थी। उनकी इस डायट में फल, सब्जियां, अनाज और हाय फाइबर क्रैकर्स आदि को शामिल किया गया था।

घर पर आहार से पहले और बेड टाइम में उनके केपिलरी ब्लड ग्लूकोज लेवल्स (Capillary blood glucose levels) को मॉनिटर किया गया। अस्पताल में हर मील से पहले और बाद में व रात में उनका वेनस प्लाज्मा ग्लूकोज लेवल्स (Venous plasma glucose levels) को मापा गया।

हर एक डायट के साथ प्लाज्मा ग्लूकोज को भी क्रमिक रूप से मापा गया। ऐसा पाया गया कि आहार से पहले, आहार के बाद और दो डायट की फास्टिंग के दौरान ब्लड ग्लूकोज के लेवल में कोई खास फर्क नहीं था। दोनों डायट्स के दौरान प्राप्त किये 24-आर्स प्रोफाइल्स और पोस्टेस्ट मील प्रोफाइल्स (Posttest meal profiles) भी एक जैसे थे। यानी, इस स्टडी में यह पाया गया है कि टाइप 1 डायबिटीज (Type 1 diabetes) से पीड़ित वो बच्चे जिनमें रिजुअल बीटा-सेल फंक्शन (Residual beta-cell function) नहीं है, उनमें हाय कार्बोहायड्रेट और हाय फाइबर की लिमिटेड एप्लीकेशन है (Limited application) है।

यह तो थी इस डायट के बारे में की गयी स्टडी के बारे में जानकारी। अब बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज के लिए HCHF डायट (HCHF diet in Children with Type 1 Diabetes) के बारे में और जानकारी प्राप्त कर लेते हैं और जान लेते हैं कि इस समस्या से पीड़ित लोगों का आहार कैसा होना चाहिए?

बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज के लिए HCHF डायट

और पढ़ें: टाइप 1 डायबिटीज में एंटीडिप्रेसेंट का यूज करने से हो सकता है हायपोग्लाइसिमिया, और भी हैं खतरे

टाइप 1 डायबिटीज के रोगियों के लिए आहार कैसा होना चाहिए?

टाइप 1 डायबिटीज (Type 1 diabetes) में रोगी का शरीर इंसुलिन बनाना बंद कर देता है। ऐसे में उन्हें रोजाना इंसुलिन लेने की सलाह दी जाती है। इंसुलिन के साथ ही डायट और एक्सरसाइज, ब्लड ग्लूकोज लेवल को स्टेबल करने के लिए जरूरी है। हल्दी फूड चॉइसेस और कंसिस्टेंट अमाउंट में आहार का सेवन करने भी ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है। इससे डायबिटीज रिलेटेड प्रॉब्लम्स जैसे हार्ट डिजीज, किडनी डिजीज और नर्व डैमेज आदि की संभावना भी कम हो सकती है।

बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज के लिए HCHF डायट (HCHF diet in Children with Type 1 Diabetes) के साथ ही कुछ खास चीजों का भी ध्यान रखना चाहिए। एक्सपर्ट्स के अनुसार इस समस्या से पीड़ित बच्चों को चीनी युक्त और अन्य चीजों का सेवन करना पूरी तरह से छोड़ना होगा। इसके साथ ही इन चीजों का भी ध्यान रखना बेहद जरूरी है:

अनहेल्दी फैट्स का कम सेवन करें (Limit unhealthy fats)

टाइप 1 के रोगियों के आहार में सैचुरेटेड फैट्स सीमित मात्रा में होने चाहिए। यानी उन्हें अपना आहार में फुल-फैट डेयरी जैसे दूध, बटर आदि की मात्रा को सीमित कर देना चाहिए।

बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज के लिए HCHF डायट में पर्याप्त फाइबर का सेवन करें (Eat enough fiber)

इससे आपको ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में मदद मिलेगी। आप फाइबर साबुत अनाज, फल और सब्जियों से प्राप्त कर सकते हैं।

और पढ़ें: करना है टाइप 1 डायबिटीज में कीटो डायट फॉलो, तो रखें इन बातों का ध्यान!

कार्बोहायड्रेट की सही मात्रा के बारे में जानें (Right amount of carbohydrates)

कार्बोहायड्रेट हमारे शरीर की एनर्जी का मुख्य स्त्रोत है जिसे हम कई चीजों से प्राप्त कर सकते हैं जैसे अनाज, फल, सब्जियां, डेयरी उत्पाद आदि। आप कितने और किस तरह के कार्बोहायड्रेट फूड्स का सेवन करते हैं, इससे रोगी के डायबिटीज को मैनेज करने में मदद मिल सकती है। डॉक्टर और डायटीशियन की मदद से यह जानें कि आपके बच्चे को कितनी मात्रा में कार्बोहायड्रेट लेने चाहिए। इसके साथ ही यह भी जानें कि कौन से कार्बोहायड्रेट्स उनके आहार में शामिल किये जा सकते हैं। बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज के लिए HCHF डायट (HCHF diet in Children with Type 1 Diabetes) के बारे में यह जानकारी भी जरूरी है।

और पढ़ें: डायबिटीज टाइप 1 की रिवर्स वैक्सीन क्यों मानी जाती है असरदार?

बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज के लिए HCHF डायट में शुगर और शुगर सब्स्टीट्यूट (Sugar and Sugar Substitutes)

कुछ लोग सोचते हैं कि शुगर डायबिटीज का कारण है। लेकिन टाइप 1 डायबिटीज (Type 1 diabetes) जेनेटिक और अन्य फैक्टर्स के कारण होती है। हालांकि, कई स्वीट फूड्स में कई तरह के कार्ब्स होती है और इससे ब्लड शुगर लेवल प्रभावित हो सकती है। अगर कोई आहार शुगर फ्री है तो इसका अर्थ यह नहीं है कि इसमें कार्ब्स या कैलोरीज कम मात्रा है। इसलिए, किसी भी चीज का सेवन करने से पहले इसके लेबल को अवश्य जांचें और डॉक्टर की सलाह ले लें।

डायबिटीज होने का अर्थ यह नहीं हैं कि आपके बच्चे को कुछ खास खाद्य पदार्थों को पूरी तरह से छोड़ देना चाहिए। लेकिन, उन्हें कुछ चीजों का सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए और कुछ चीजों को अपने आहार का हिस्सा बना लेना चाहिए। अपने बच्चे के लिए ऐसे आहार का चुनाव करें जो ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल में रखें। यह फूड्स ऐसे होने चाहिए जो आपके बच्चे को पर्याप्त कैलोरीज प्रदान करें और उसके साथ ही रोगी का वजन भी संतुलित रहें।

और पढ़ें: टाइप 1 डायबिटीज में सीलिएक डिजीज: दोनों के बीच आखिर क्या है लिंक?

उम्मीद है कि बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज के लिए HCHF डायट (HCHF diet in Children with Type 1 Diabetes) के बारे में यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। अगर आपके बच्चे को यह समस्या है, तो यह कंडिशन आपके लिए भी परेशानी भरी हो सकती है। लेकिन, कुछ सावधानियों को बरत कर और कुछ चीजों का ध्यान रख कर आपका बच्चा सामान्य जीवन जी सकता है। इसके लिए आपको उसके खाने पीने का ध्यान रखना है और उसके वजन को संतुलित बनाए रखना है। इसके साथ ही, उसे रोजाना फिजिकल एक्टिविटीज के लिए प्रेरित करना भी आवश्यक है।

इसके साथ ही उनकी नियमित जांच और डॉक्टर की सलाह का पूरी तरह से पालन करना न भूलें। अगर बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज के लिए HCHF डायट (HCHF diet in Children with Type 1 Diabetes) के बारे में आपके मन में कोई भी सवाल है तो डॉक्टर से इस बारे में बात जरूर करें। आप हमारे फेसबुक पेज पर भी अपने सवालों को पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

High-carbohydrate, high-fiber diet in children with type I diabetes mellitus.https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/6323107/ 

 

High-Carbohydrate, High-Fiber Diet in Children with Type I Diabetes Mellitus. https://diabetesjournals.org/care/article/7/1/63/30841/High-Carbohydrate-High-Fiber-Diet-in-Children-with .Accessed on 25/12/21

Early Nutrition and Risk of Type 1 Diabetes. https://www.frontiersin.org/articles/10.3389/fnut.2020.612377/full .Accessed on 25/12/21

Management of Type 1 Diabetes With a Very Low–Carbohydrate Diet. https://publications.aap.org/pediatrics/article/141/6/e20173349/37619/Management-of-Type-1-Diabetes-With-a-Very-Low .Accessed on 25/12/21

Ketogenic diets in the management of type 1 diabetes. https://www.ccjm.org/content/88/10/547 .Accessed on 25/12/21

What Is Type 1 Diabetes?. https://www.cdc.gov/diabetes/basics/what-is-type-1-diabetes.html .Accessed on 25/12/21

Diabetes in Children and Teens. https://medlineplus.gov/diabetesinchildrenandteens.html .Accessed on 25/12/21

लेखक की तस्वीर badge
AnuSharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 27/12/2021 को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड