बच्चों को बॉडी शेमिंग से कैसे बचाएं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

बॉडी शेमिंग क्या है?

हम मैगजीन में या टीवी चैनलों पर स्लिम होने, हाइट बढ़ाने, गोरे होने आदि के विज्ञापन देखते हैं। ये हम सब जानते हैं कि कोई भी इंसान परफेक्ट नहीं है। कई बार इन विज्ञापनों या अपने इर्द-गिर्द पेश आने वाली परिस्थितियों से मन में नकारात्मक भावनाएं आने लग जाती हैं, जिससे हम अपने शरीर को लेकर हीन भावना महसूस करने लगते हैं इसे ही बॉडी शेमिंग कहते है। हमारे अंदर कई कमियां हो सकती हैं जिनके बारे में दोस्‍त, रिश्तेदार, पड़ोसी आदि बुरा सोचते होंगे और शायद आपको कभी चिढ़ाते भी होंगे।

यदि आपको भी अपनी इन कमियों की जानकारी है तो इसे लेकर शर्मिंदगी महसूस न नहीं करें बल्कि इस समस्‍या को दूर करने की कोशिश करें। बॉडी शेमिंग की समस्या ज्यादातर बच्चों और महिलाओं को होती है।

यह भी पढ़ें: बच्चे के साथ फ्लाइट में सफर करने से पहले जाने ये 10 बातें

बच्चों में बॉडी शेमिंग होने के लक्षण क्या हैं?

  • यदि आपका बच्चा दूसरों के सामने खुद की मौजूदगी को नकारात्‍मक मानने लगा है तो यह बॉडी शेमिंग है। दूसरों के होने से मन में यह विचार आएंगे कि इन लोगों की फिटनेस आपसे अच्छी है।
  • दूसरों के शरीर से अपने शरीर की तुलना करना, दूसरों के कंधों को देखने के बाद बच्चा कहने लगे मेरे कंधे और बाहें कुछ ज्‍यादा ही मोटी या पतली हैं और मैं दूसरों की तरह सुडौल बॉडी हासिल नहीं कर पाऊंगा।
  • दूसरों की ड्रेस की फिटिंग और आकर्षित कर देने वाली ड्रेस को देखने के बाद बच्चे को यह महसूस होने लगें कि वह ऐसी ड्रेस पहने तो कभी खूबसूरत नहीं दिखेगा, क्‍योंकि उसे वह ड्रेस फिट नहीं आएगी।
  • अगर बच्चे इस तरह की किसी भी बात से परेशान रहते हैं तो वे बॉडी शेमिंग के शिकार हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें- बच्चों में आत्मविश्वास को बढ़ाने के लिए पेरेंट्स रखें इन बातों का ध्यान

बच्चों को बॉडी शेमिंग से कैसे बचाएं?

बच्चों को निम्नलिखित तरह से बॉडी शेमिंग से बचाया जा सकता है। जैसे:-

  • बच्चे को बताएं कि कभी भी अपना मुकाबला या तुलना किसी से न करें, क्‍योंकि हर किसी में कुछ न कुछ कमी होती ही है। अगर खामी है तो उसे दूर करने के तरीके बताएं।
  • बच्चे के लिए एक लक्ष्य तय कीजिए कि कैसे बच्चे का वजन कम या बढ़ाया जा सकें, इस पर बच्चे से गंभीरता से अमल भी करवाएं।
  • बच्चे की तारीफ करें और उसे भी खुद की तारीफ करने को कहें। बच्चे की तारीफ करेंगे तो उसमें मौजूद हीन भावना खत्म होकर कुछ करने के लिए आत्म-विश्वास जागेगा।
  • बच्चे को बताएं कि उनकी फिटनेस को लेकर कोई कमेंट करें तो उन कमेंट्स पर ध्‍यान न दें। उन्हें बताएं कि जब आप कुछ हासिल कर लेंगे तब ये हरकतें स्वतः ही बंद हो जाएगी।
  • बच्चों के कपड़ों का चयन सही तरह से और उनके शारीरिक बनावट के अनुसार करें।

यह भी पढ़ें- शरीर पर पॉजिटिव होता है मेडिटेशन का असर

बॉडी शेमिंग एक आम समस्या है जिससे बच्चे और बड़े कोई भी ग्रसित हो सकते हैं। जबकि हम जानते हैं कि कोई भी इंसान परफेक्ट नहीं है इसलिए समय रहते अपने आप को एक्सेप्ट करें और खुद से प्यार करना शुरू करें।

बच्चों में बॉडी शेमिंग की भावना दूर करने के साथ-साथ उन्हें फिट रहने के लिए प्रोत्साहित करें। इसलिए उनके डायट का ध्यान रखें। बच्चों के डायट में निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें। जैसे:-

प्रोटीन- बच्चों में प्रोटीन की कमी न हो इसलिए उन्हें सी-फूड, लीन प्रोटीन जैसे चिकेन, मछली दें। वहीं बच्चों के डायट में अंडे, बीन्स, मटर, सोया उत्पाद और अनसाल्टेड नट्स खाने के लिए दें। 

फल-  अपने बच्चे को विभिन्न प्रकार के डिब्बा बंद जूस के सेवन के लिए प्रोत्साहित न करें। बच्चों को ताजे और मौसमी फलों का सेवन करवाएं। यह उनके शरीर के विकास पर सकारात्मक असर डालेगा। 

सब्जियां- बच्चों को मौसमी और हरी सब्जियों का सेवन करने दें। कई बार बच्चे सब्जियों का सेवन नहीं करना चाहते हैं। ,लेकिन उन्हें सब्जियों में मौजूद पोषण की जानकारी दें और फिर उन्हें इसे खाने के लिए प्रोत्साहित करें। सब्जियों के साथ-साथ साग भी बच्चों को अवश्य खिलाएं। 

अनाज- बच्चों को साबुत आनाज अवश्य खिलाएं जैसे गेहूं की रोटी, दलिया, पॉपकॉर्न, पास्ता, क्विनोआ या चावल। 

डेयरी प्रोडक्ट- अपने बच्चे को फैट फ्री या कम वसा वाले डेयरी उत्पाद जैसे दूध, दही, पनीर या फोर्टीफाइड सोया पेय पदार्थ खाने और पीने के लिए प्रोत्साहित करें।

इन ऊपर बताए गए पौष्टिक आहार को अपने बच्चों के डायट में जरूर शामिल करें, लेकिन कुछ निम्नलिखित खाद्य पदार्थों के सेवन से दूरी भी रखें। जैसे:-

बच्चों को अत्यधिक मीठा खाने न दें।

सैचुरेटेड फैट का सेवन भी न करने दें।

दो से तीन साल के बच्चों (लड़का और लड़की) के लिए डायट प्लान 

कैलोरी- 1,000 से 1,400 या फिर बच्चे के शारीरिक विकास के अनुसार

प्रोटीन–  50-110 ग्राम

फ्रूट- एक से डेढ़ कप

सब्जी- एक से डेढ़ कप

ग्रेन- 80-130 ग्राम

दूध – दो कप

चार से आठ साल के बच्चों (लड़का और लड़की) के लिए डायट प्लान 

कैलोरी- 1200 से 1800 लड़की के लिए वहीं लड़कों को 1200 से 2000 या फिर बच्चे के शारीरिक विकास अनुसार

प्रोटीन- 85-150 ग्राम

फ्रूट- एक से डेढ़ कप

सब्जी- डेढ़ कप से ढ़ाई कप

ग्रेन- 100-170 ग्राम

दूध- ढ़ाई कप

नौ से तेरह साल के बच्चों (लड़का और लड़की) के लिए डायट प्लान 

कैलोरी- 1400 से 2200 लड़की के लिए वहीं लड़कों को 1600 से 2600 या फिर बच्चे के शारीरिक विकास अनुसार

प्रोटीन- 110-140 ग्राम लकड़ी के लिए वहीं लड़कों के लिए 110-170 ग्राम

फ्रूट-  डेढ़ कप से दो कप

सब्जी- डेढ़ कप से तीन कप लकड़ी के लिए वहीं लड़कों को ढ़ाई से पांच कप

ग्रेन- 140-200 ग्राम लड़कियों के लिए वहीं लड़कों को पांच से नौ कप

दूध- तीन कप

चौदह से अठारह साल के बच्चों (लड़की) के लिए डायट प्लान 

कैलोरी- 1800 से 2400 या फिर बच्चे के शारीरिक विकास अनुसार

प्रोटीन- 150-200 ग्राम

फ्रूट-  डेढ़ कप से दो कप

सब्जी- ढ़ाई से तीन कप

ग्रेन- 170-226 ग्राम

डेयरी- तीन कप

यह पढ़ें: Intussusception: इंटसेप्शन क्या है?

चौदह से अठारह साल के बच्चों (लड़कों) के लिए डायट प्लान 

कैलोरी- 2000 से 3200 या फिर बच्चे के शारीरिक विकास अनुसार

प्रोटीन- 150-200 ग्राम

फ्रूट-  दो से ढ़ाई कप

सब्जी- ढ़ाई से चार कप

ग्रेन- 170-300 ग्राम

दूध – तीन कप

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

इन ऊपर बताए गए चार्ट के अनुसार आप अपने बच्चे के लिए डेली डायट प्लान कर सकते हैं। अगर आप बॉडी शेमिंग से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें:

बच्चा बार-बार छूता है गंदी चीजों को, हो सकता है ऑब्सेसिव-कंपल्सिव डिसऑर्डर (OCD)

शैतान बच्चा है तो करें कुछ इस तरह से डील, नहीं होगी परेशानी

आपके बच्चे का दिल दाईं ओर तो नहीं, हर 12,000 बच्चों में से किसी एक को होती है यह कंडीशन

लड़का या लड़की : क्या हार्टबीट से बच्चे के सेक्स का पता लगाया जा सकता है?

बच्चे का टूथब्रश खरीदते समय किन जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

जब बच्चे स्कूल नहीं जाते तो पैरेंट्स क्या करें

जानें बच्चे स्कूल नहीं जाते हैं इसके पीछे क्या कारण हो सकते हैं। इसके साथ ही इस लेख में पढ़ें बच्चों को स्कूल भेजने के आसान टिप्स के बारे में।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग अप्रैल 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट का कैसे करे चुनाव

टूथपेस्ट क्या होता है, बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट कौन सा होता है और बच्चों को किस उम्र में ब्रश करना शुरू कर देना चाहिए। Baccho ke liye sahi toothpaste.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग अप्रैल 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

अगर आप सोच रहीं हैं शिशु का पहला आहार कुछ मीठा हो जाए…तो जरा ठहरिये

जानिए शिशु का पहला आहार शुरू कर रहें हैं, तो क्यों पानी, नमक, चीनी और घी देने से पहले किन बातों को जानें? कब शिशु का पहला आहार शुरू करना चाहिए, शिशु को चीनी का सेवन नहीं करवाना चाहिए? डेलीवरी के तुरंत बाद शिशु को दिए जाने वाला पहला आहार का नाम ?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
बच्चों का पोषण, पेरेंटिंग अप्रैल 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

प्रेग्नेंसी में नॉन-इनवेसिव प्रीनेटल टेस्ट क्यों करवाना है जरूरी?

प्रेग्नेंसी में नॉन-इनवेसिव प्रीनेटल टेस्ट क्यों करवाना है जरूरी? NIPT कब किया जाता है? नॉन-इनवेसिव प्रीनेटल टेस्ट किसे करवाना चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

Recommended for you

जिद्दी बच्चे को सुधारने के टिप्स कौन से हैं जानिए

बच्चों में जिद्दीपन: क्या हैं इसके कारण और उन्हें सुधारने के टिप्स?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अगस्त 20, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य

बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य की प्लानिंग कर रहे हैं जो इन जगहों का बनाए प्लान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 13, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
मानसिक मंदता

क्या मानसिक मंदता आनुवंशिक होती है? जानें इस बारे में सबकुछ

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अगस्त 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर क्यों होता है? जानें लंबाई से जुड़े रोचक फैक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ मई 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें