वर्किंग वीमेन के लिए स्तनपान कराने के 7 टिप्स

Medically reviewed by | By

Update Date मार्च 5, 2020 . 4 mins read
Share now

अक्सर वर्किंग मॉम्स मैटरनिटी लीव खत्म होने के बाद सोच में पड़ जाती हैं कि अब बच्चे का पालन-पोषण कैसे होगा। ऐसे में महिलाओं को स्मार्ट तरीके से काम करना चाहिए। परेशान होने से कोई हल नहीं निकलता है। स्तनपान कराने वाली वर्किंग मां के लिए परेशानियों को कम करने के लिए कुछ टिप्स हैं। जिन्हें अपना कर आप स्तनपान को काफी आसानी से करा सकती हैं।

क्या आपके मन में भी है ये सवा‌‌ल? 

अक्सर कामकाजी मां के मन में ऑफिस जाने के बाद कई सवाल आते हैं, जैसे कि 

  • क्या बच्चे को भूख लगी होगी?
  • क्या ऑफिस में रहते हुए स्तनपान न करा पाने से मुझे दूध बनना तो नहीं कम हो जाएगा?
  • मेरे ऑफिस आने से बच्चे की दिनचर्या में होने वाला बदलाव क्या वह अपना पाएगा?
  • क्या बच्चे को स्तनपान के लिए रोज कोई ऑफिस ले कर आ सकता है?
  • ब्रेस्ट मिल्क पंप का इस्तेमाल करने के बाद बच्चे तक सही समय में दूध पहुंच पाएगा?
  • मुझे कैसे कपड़े पहनने चाहिए कि मैं ऑफिस में भी सही से स्तनपान करा सकूं या ब्रेस्ट पंप का इस्तेमाल कर सकूं?

जानिए वर्किंग महिलाओं के लिए ब्रेस्टफीडिंग टिप्स

ब्रेस्टफीडिंग टिप्स – अपने बॉस से बात करना है बेहतर विकल्प

मैटरनिटी लीव से लौटने के बाद सबसे पहले आपको तय करना होगा कि आप ऑफिस को कितना समय दे पाएंगी। क्योंकि आपको अपने बच्चे की भी चिंता रहेगी और काम की भी। ऐसे में आपको ही सामंजस्य बनाना होगा। आप अपने सुपरवाइजर से बात करें कि क्या आप दिन भर टुकड़ों में काम कर सकती हैं। जैसे कि तीन से चार घंटे के बाद आप 15 से 20 मिनट के लिए बच्चे की देखभाल करेंगी। अगर घर नजदीक है तो वक्त निकाल कर बच्चे को स्तनपान करा आएं। इसके अलावा आप सुपरवाइजर से घर पर रह कर काम करने की अनुमति मांग सकती हैं। अगर घर से काम करने की अनुमति न मिले तो हफ्ते में कम से कम दो दिन घर से काम करने की अनुमति जरूर लें। 

यह भी पढें ः पब्लिक प्लेस में ब्रेस्टफीडिंग कराने के सबसे आसान तरीके

ब्रेस्टफीडिंग टिप्स – ऑफिस के बाद डे केयर का पता करें

बच्चे को स्तनपान कराने का एक और आसान तरीका यह भी है कि आप ऑफिस के पास डे केयर का पता लगाएं। ऑफिस के पास डे केयर है तो आपके लिए काफी बेहतर है। वहां पर बच्चे को छोड़ कर आप निश्चिंत हो कर काम कर सकती हैं और बीच-बीच  में उसे स्तनपान कराने जा सकती हैं। जिससे आप बच्चे और काम दोनों पर ध्यान दे पाएंगी। 

ब्रेस्टफीडिंग टिप्स – ब्रेस्ट मिल्क पंप का करें इस्तेमाल

अगर आप काम में व्यस्त हो जाती है तो ऐसे में स्तनों में दूध भर जाने के कारण स्तन कड़े हो जाएंगे। साथ ही स्तनों से संबंधित और भी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। इसके लिए सबसे बेहतर तरीका है ब्रेस्ट मिल्क पंप (Breast Milk Pump) का इस्तेमाल कर के अपने काम के समय भी दूध को पंप कर के निकाल सकती हैं और रेफ्रिजरेटर में उसे सुरक्षित रख सकती हैं। फिर घर जा कर बच्चे को दूध दे सकती हैं। इलेक्ट्रिक ब्रेस्ट मिल्क खरीदते समय ध्यान रखें कि वह ज्यादा आवाज न करता हो। साथ ही घर से निकलते वक्त ब्रेस्ट मिल्क पंप को अच्छे से साफ कर के एक साफ बैग में रख कर ले आएं। 

ब्रेस्टफीडिंग टिप्स – ऑफिस में ब्रेस्ट मिल्क निकालने के लिए सही जगह का चुनाव करें

आजकल के ऑफिस वर्किंग मॉम के हिसाब से भी खुद को विकसित कर रहे हैं। एंप्लॉयर ऑफिस में मां को स्तनपान कराने के लिए अलग से कमरे बनवा रहे हैं। लेकिन, जहां स्तनपान कराने वाले कमरे नहीं हैं, वहां पर महिलाएं वॉशरुम का प्रयोग करती हैं। वॉशरुम में ब्रेस्ट मिल्क निकालने के लिए सुरक्षित स्थान नहीं है। ऐसी परिस्थिति में आप अपने एंप्लॉयर से बात करें और स्तनपान के लिए स्थान देने की मांग करें।

ब्रेस्टफीडिंग टिप्स – ऑफिस में बच्चे के स्तनपान के लिए मंगवा सकती हैं

अगर आपके परिजन आपका सहयोग करें तो आप ऑफिस में भी बच्चे को स्तनपान करा सकती हैं। दिन में दो से तीन बार बच्चे को लेकर आपके परिजन ऑफिस आते हैं तो आप स्तनपान कक्ष में जा कर बच्चे को स्तनपान करा सकती हैं। जिससे आप अपने काम और बच्चे दोनों पर ध्यान दे सकेंगी।

ब्रेस्टफीडिंग टिप्स – कपड़े ऐसे पहनें कि स्तनपान कराने में आसानी हो

मां बनने के लिए बहुत सारी आदतें बदलनी पड़ती है। गर्भावस्था से लेकर स्तनपान कराने तक आपको अपने वॉडरोब का मेकओवर करना पड़ता है। स्तनपान कराने वाली कामकाजी मां को ऑफिस ऐसे कपड़े पहन कर आना चाहिए जिससे उसे स्तनपान कराने में आसानी हो। आप चाहे तो शर्ट या ओपन नेक तरह के कपड़े पहन सकती हैं। इसे आपको उतारने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी और आप स्तनपान या ब्रेस्ट मिल्क पंपिंग भी कर सकती हैं। 

यह भी पढें : जानिए शिशु को स्तनपान या बोतल से दूध पिलाने के फायदे और नुकसान

ब्रेस्टफीडिंग टिप्स – अपने खानपान पर रखें विशेष ध्यान

मैटरनिटी लीव खत्म होने के बाद स्तनपान कराने वाली मां को ऑफिस जाने पर खानपान पर ध्यान रखना चाहिए। ऐसा न करने पर दूध उत्पादन में समस्या हो सकती हैं। इसलिए अनाज, प्रोटीन, ताजे फल, सब्जियां, दूध और ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने वाले फूड्स को अपनी डायट में शामिल करें। इससे आप ऑफिस में भी खुद को कमजोर महसूस नहीं करेंगी। साथ ही ऑफिस में हर दो से तीन घंटे पर आप कुछ न कुछ खाती रहें।

इन आसान सात टिप्स के साथ आप ऑफिस और बच्चे दोनों के बीच सही सामंजस्य बना सकेंगी। इसके साथ ही अपने काम पर भी ध्यान केंद्रित कर सकेंगी। इससे आपके दूध उत्पादन में मनोवैज्ञानिक तौर पर मदद मिलेगी। इसके अलावा, ऑफिस में चिंता मुक्त रहने की कोशिश करें।

उम्मीद है आपको हमारे दिए गए ब्रेस्टफीडिंग टिप्स काम आएंगे। अगर आप वर्किंग मॉम हैं, तो अपने बच्चे को ऊपर बताए गए ब्रेस्टफीडिंग टिप्स अपनाकर अपने बच्चे को स्तनपान करा सकते हैं। आशा करते हैं कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। हमने आपको इसमें वर्किंग महिलाओं के लिए काफी सारे ब्रेस्टफीडिंग के टिप्स दिए हैं, जो आपके काफी काम आ सकते हैं। अगर आपको इससे संबंधित कोई और सवाल का जवाब चाहिए, तो हमसे हमारे फेसबुक पेज पर कमेंट कर के पूछ सकते हैं। वहीं, इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर करें।

और पढ़ें :-

मां को हो सर्दी-जुकाम तो कैसे कराएं स्तनपान?

स्तनपान के दौरान मां-बच्चे को कितनी कैलोरी की जरूरत होती है ?

ब्रेस्ट कैंसर का खतरा कम करता है स्तनपान, जानें कैसे

स्तनपान छुड़ाने के बाद ब्रेस्ट को लूज होने से कैसे बचाएं?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    कई महीनों और हफ्तों तक सही से दूध पीने वाला बच्चा आखिर क्यों अचानक से करता है स्तनपान से इंकार

    स्तनपान से इंकार बच्चे आखिर क्यों करते हैं? स्तनों में दूध के स्वाद में बदलाव, दूध कम मिलना, फीडिंग में देरी....kids refusing breastfeeding causes in hindi

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel

    मां के स्तनों में दूध कम आने की आखिर वजह क्या है? जाने इससे निपटने के उपाय

    स्तनों में दूध कम आना दूर करने के प्राकृतिक तरीके क्या हैं? लो ब्रेस्ट मिल्क सप्लाई के कारन हैं?जानें क्या खाएं क्या नहीं? low breast milk supply in hindi

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel

    ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पीरियड्स रुकना क्या है किसी समस्या की ओर इशारा?

    ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पीरियड्स सेफ है या नहीं? डिलिवरी के बाद दोबारा पीरियड्स क्या पहले जैसे ही होते हैं? ..breastfeeding and periods in hindi

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel

    महिलाओं से जुड़े फन फैक्ट्स, जिन्हें जानकर आपको भी आ जाएंगे चक्कर

    जानिए महिलाओं से जुड़े फन फैक्ट्स क्या हैं, Womens fun facts in hindi, महिलाओं से जुड़े फन फैक्ट्स की लिस्ट, mahilaon se jude fun facts, mahilayon ke bare mein majedaar baatein, महिलाओं की हेल्थ से जुड़े फन फैक्ट्स।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    फन फैक्ट्स, स्वस्थ जीवन अप्रैल 15, 2020 . 4 mins read