home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

बच्चों की बॉडी शेमिंग: पैरेंट्स कैसे बचाएं इससे अपने बच्चों को

बच्चों की बॉडी शेमिंग: पैरेंट्स कैसे बचाएं इससे अपने बच्चों को

3 बच्चों की मां सना खत्री जब अपनी 8 साल की बेटी उजमा के लिए ‘XL’ साइज के कपड़े खरीद रही थी, तो उसे महसूस हुआ कि यह सही समय है अपनी बेटी का वजन चेक करने का। वह जानना चाहती थी कि उसकी बेटी का वजन हेल्दी है या फिर कोई चिंता की बात है। बता दें कि, सना की तरह कई माएं बच्चों की बॉडी शेमिंग (Body shaming) के दौर से गुजरती हैं।

बच्चों की बॉडी शेमिंग का निगेटिव इफेक्ट (Negative effects of body shaming in children)

सना को हमेशा लगता था कि उसके पति की हैवी बॉडी की वजह से ही उसकी बड़ी बेटी का शरीर भी इतना भारी है। इसलिए उसने बच्चों की बॉडी शेमिंग (Body shaming) पर विचार ही नहीं किया। सना ने आस-पड़ोस के बाकी बच्चों को भी देखा था कि लंबाई की बजाय उनकी चौड़ाई जल्दी बढ़ रही है। वह सोचने लगी कि क्या होगा अगर उजमा का वजन बहुत तेजी से बढ़ रहा हो? बेटी के मोटापे, सेहत संबंधी चिंताओं और उसके कारण बढ़ रहे बच्चों की बॉडी शेमिंग से निपटना सना के लिए चुनौतीपूर्ण था। वह चाहती थी कि उसकी बेटी वजन कम करके स्वस्थ बनें, लेकिन उसे समझ नहीं आ रहा था कि बेटी से बच्चों की बॉडी शेमिंग के बारे में कैसे बात करे जिससे उसे अपने शरीर को लेकर शर्मिंदगी महसूस न हो। वह बॉडी शेमिंग के बिना बेटी को हेल्दी बनाना चाहती थी।

और पढ़ेंः बच्चे का टूथब्रश खरीदते समय किन जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए?

बच्चों की बॉडी शेमिंग से होने वाली शारीरिक समस्याएं (Children’s physical problems caused by body shaming)

सना ने इस बारे में अपनी बहन रुखसार से बात की, उसने सना को बच्चों की साइकोलॉजी समझने के लिए बाल रोग विशेषज्ञ से मिलने की सलाह दी। सना डॉक्टर से मिली और उसे पता चला कि किस तरह से रोजमर्रा की जीवनशैली बच्चों की सेहत को प्रभावित करती है। मोटापे का मतलब सिर्फ शरीर के शेप से नहीं है, दरअसल, यह शरीर में अधिक मात्रा में जमा फैट है जिससे स्वास्थ्य खराब होता है। हर बच्चे के शरीर का आकार अलग होता है, ऐसे में पैरेंट्स समझ नहीं पाते कि उनके बच्चे का वजन अधिक है या उनकी सेहत को खतरा है। अधिक वजन से बच्चों को कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा रहता है, जैसे टाइप 2 डायबिटीज, स्लीप डिसऑर्डर (नींद की समस्या) और मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याएं आदि।

एक दिन उजमा स्कूल से घर आई और शिकायत की कि कैसे स्कूल में उसे सबसे धीमा बच्चा बोला जाता है। इस वाक्य के बाद से उसे दौड़ने से नफरत हो गई और उसने दूसरी एक्टिविटी भी बंद कर दी। उसने फुटबॉल खेलना बंद कर दिया और हमेशा एक कोने में अकेली बैठी रहती। उजमा ने अपने बढ़े हुए वजन के बारे में टीचर से बात की और कहा कि वह वजन कम करना चाहती है। टीचर ने उसकी मां को इस बारे में बताया, इसके बाद सना खत्री बाल रोग विशेषज्ञ से मिली और जाना कि अधिक वजन से बच्चों को कितना खतरा होता है और बेटी की इस समस्या को कैसे हैंडल करना है। उजमा और उसकी मां सना की काउंसलिंग की गई। उजमा को हेल्दी डायट प्लान के साथ ही उपयुक्त फिजिकल एक्टिविटी के लिए भी कहा गया। अब उजमा का वजन सामान्य है और वह स्कूल में हर तरह की फिजिकल एक्टिविटीज और खेल में भाग लेती है।

बच्चों की बॉडी शेमिंग

और पढ़ेंः बच्चों में कान के इंफेक्शन के लिए घरेलू उपचार

बच्चों की बॉडी शेमिंग का सबसे बड़ा कारण अधिक वजन होना (Being overweight is the biggest reason for body shaming of children)

मोटा या अधिक वज़न वाले बच्चों को कई तरह की बीमारियों का खतरा रहता है, जैसे- हाई ब्लड प्रेशर, लिवर की बीमारी, हाय कोलेस्ट्रॉल लेवल (High Cholesterol), सांस संबंधी बीमारी जैसे अस्थमा आदि। मोटापे (Obesity) का बच्चे के मानसिक स्वास्थ्य पर भी बहुत गहरा असर पड़ता है। यह देखकर हैरानी होती है कि मध्यम से अधिक वज़न वाले बच्चों के जीवन की गुणवत्ता कैंसर के इलाज से गुजरने वाले लोगों से भी कम होती है। मोटे बच्चों का आत्मविश्वास भी कम होता है और उनके दोस्त और साथी हमेशा उन्हें चिढ़ाते हैं। जिस वजह से बच्चा चिड़चिड़ा और गुस्सैल हो जाता है और जब उसके माता-पिता उसे बढ़े वजन को लेकर चिंता ज़ाहिर करते हैं तो वह बुरी तरह से प्रतिक्रिया देता है। जबकि इस उम्र में एक्सरसाइज करके अतिरिक्त वजन को आसानी से कम किया जा सकता है, मगर बहुत से बच्चे ऐसा करते नहीं है। एक बार टीनेज में वजन बढ़ने पर बिना प्रयास के वजन सामान्य नहीं किया जा सकता।

बच्चों की बॉडी शेमिंग से कैसे बचाएं? (How to protect children from body shaming?)

हर कोई चाहता है कि उसका बच्चा स्वस्थ रहे, लेकिन अच्छी सेहत का कोई एक विशेष पैमाना नहीं है। आप कैसे पता करेंगी कि बच्चे का वज़न चिंता की बात है या नहीं? आप अपने डॉक्टर से बच्चे का (BMI) कैलक्यूलेट करने को कह सकती हैं। वैसे बच्चे के आकार और वजन की परवाह किए बिना आपको पोषक तत्वों से भरपूर हेल्दी डायट, सक्रिय जीवनशैली और फिजिकल एक्टिविटी पर ध्यान देना होगा।

इस बारे में डॉक्टर से बात करें, लेकिन बच्चे को न बताएं ताकि उस पर अपने बढ़े वज़न को लेकर अतिरिक्त दबाव न पड़े। सिर्फ बच्चे के वज़न पर फोकस करने से उसका आत्मसम्मान कम हो जाएगा और वह अपनी बॉडी इमेज को लेकर अधिक सचेत हो सकता है। इससे खाने को लेकर वह या तो बहुत निगेटिव हो जाते हैं या ज़रूरत से ज़्यादा पॉज़िटिव यानी या तो वह खाना बंद कर देते हैं या निराशा में और ज़्यादा खाने लगते हैं

आपके बच्चे की लंबाई और वज़न के आधार पर डॉक्टर बीएमआई की गणना करेगा। यदि यह बताता है कि बच्चे का वज़न अधिक है तो आपको निश्चित रूप से आपको बच्चे का डेली डायट रूटीन बदलना होगा और बच्चे का साथ देने के लिए आपको भी उसके साथ कसरत करनी होगी।

और पढ़ेंः बच्चों के लिए एसेंशियल ऑयल का इस्तेमाल करना क्या सुरक्षित है?

स्वस्थ परिवार के लिए किन सकारात्मक बदलावों की जरूरत है?

  1. परिवार के सभी सदस्यों के लिए पोषक तत्वों से भरपूर भोजन (Healthy Food) बनाएं। डेली रूटीन को दिलचस्प बनाने के लिए एक जैसी चीज़ों से अलग-अलग हेल्दी रेसिपी बनाएं।
  2. बच्चे से घर के काम में मदद करने के लिए कहें, जैसे- कपड़े रखना, सब्ज़ियां काटना, ग्रोसरी शॉपिंग आदि। इससे बच्चों को पता चलेगा कि बाहर लोगों से कैसे बात करनी है और वह ज़िम्मेदार बनेंगे। ऐसा करने से बच्चों की बॉडी शेमिंग की समस्या दूर हो सकती है।
  3. छुट्टी के दिन फुटबॉल, स्विमिंग जैसे ग्रुप एक्टिविटी प्लान करें और परिवार के सभी सदस्यों को इसमें शामिल करें।
  4. पैक्ड और मीठे खाद्य पदार्थों की मात्रा बिल्कुल सीमित कर दें।
  5. हेल्दी रहने के लिए अपने डेली रुटीन में वर्कआउट को शामिल करे जिससे न सिर्फ आपको, बल्कि बच्चों को भी फायदा हो।
  6. कम मात्रा में खाने की प्रैक्टिस करें, साथ ही हर खाद्य पदार्थ में मौजूद पोषक तत्वों के बारे में जानें।

पैरेंट्स होने के नाते आपको पहले बच्चों की बॉडी शेमिंग से जुड़ी इन सकारात्मक बदलावों को खुद अपनाकर मिसाल कायम करनी होगी, तभी बच्चा बिना बॉडी शेमिंग के हेल्दी रहने के लिए प्रेरित होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Think hard before shaming children. https://www.health.harvard.edu/blog/think-hard-before-shaming-children-2020012418692. Accessed on 18 May, 2020.

Weight Shame, Social Connection, and Depressive Symptoms in Late Adolescence. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5981930/. Accessed on 18 May, 2020.

Preventing Weight-Based Bullying. https://www.stopbullying.gov/blog/2018/11/05/preventing-weight-based-bullying. Accessed on 18 May, 2020.

Body image – tips for parents. https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/healthyliving/body-image-tips-for-parents. Accessed on 18 May, 2020.

Body image in childhood/https://www.mentalhealth.org.uk/publications/body-image-report/childhood/ Accessed in 15th July 2021

Ayesha Curry Responds To Body-Shaming Comments About 10-Month-Old Son. https://www.womenshealthmag.com/life/a27569761/ayesha-curry-baby-body-shaming-instagram/. Accessed on 18 May, 2020.

Tia Mowry Shuts Down Mom Body Shaming: ‘I Have No Time for It’. https://www.whattoexpect.com/news/family/tia-mowry-mom-body-shaming/. Accessed on 18 May, 2020.

How a Plus-Size Mom-to-Be Fought Back Against Body Shaming. https://www.parents.com/pregnancy/everything-pregnancy/how-a-plus-size-mom-to-be-fought-back-against-body-shaming/. Accessed on 18 May, 2020.

 

लेखक की तस्वीर badge
Kanchan Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 15/07/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड