home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

छोटे बच्चों के लिए मेलाटोनिन सप्लिमेंट आखिर क्यों होते हैं जरूरी? पाइए इस सवाल का जवाब यहां!

छोटे बच्चों के लिए मेलाटोनिन सप्लिमेंट आखिर क्यों होते हैं जरूरी? पाइए इस सवाल का जवाब यहां!

जिस तरह से हमारे शरीर के लिए पौष्टिक आहार बहुत जरूरी है, ठीक उसी प्रकार से शरीर के लिए नींद भी बहुत महत्वपूर्ण है। जहां वयस्कों को एक दिन में आठ घंटे की नींद जरूरी होती है,वहीं बच्चों के लिए 12 से 16 घंटे की नींद शरीर के विकास के लिए जरूरी मानी जाती है। किन्हीं कारणों से कुछ बच्चों को नींद न आने की समस्या हो जाती है। इस समस्या को दूर करने के लिए डॉक्टर दिनचर्या में कुछ बदलाव करने की सलाह देते हैं। अगर ऐसा करने पर भी फर्क नहीं पड़ता है, तो डॉक्टर नींद की समस्या को दूर करने के लिए सप्लिमेंट्स भी दे सकते हैं। मेलाटोनिन (Melatonin) का इस्तेमाल स्लीप संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको छोटे बच्चों के लिए मेलाटोनिन सप्लिमेंट (Melatonin Supplement for Toddler)के बारे में जानकारी उपलब्ध कराएंगे। जानिए मेलाटोनिन बच्चों के लिए सुरक्षित होती है या फिर नहीं। अगर सप्लिमेंट का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो किन बातों का ध्यान रखने की जरूरत है।

और पढ़ें:नींद न आने की बीमारी कुछ ऐसे बढ़ा सकती है दिल की परेशानियों का रिस्क!

छोटे बच्चों के लिए मेलाटोनिन सप्लिमेंट (Melatonin Supplement for Toddler)

छोटे बच्चों के लिए मेलाटोनिन सप्लिमेंट

नेशनल सेंटर फॉर कॉम्प्लीमेंट्री एंड इंटिग्रेटिव हेल्थ, एफडीए (FDA) मेलाटोनिन को मेडिकल ड्रग के बजाय डायटरी सप्लिमेंट के रूप में मान्यता देता है। ऐसा नहीं है कि इस सप्लिमेंट का इस्तेमाल बिना डॉक्टर की सलाह के किया जा सकता है बल्कि बच्चों को इसे देने से पहले डॉक्टर से सलाह या परामर्श करना बहुत जरूरी है।

मेलाटोनिन (Melatonin) एक हार्मोन है, जो शरीर में प्राकृतिक रूप से पाया जाता है। ब्रेन में एक छोटी सी संरचना जिसे पीनियल ग्रंथि (Pineal gland) के रूप में जाना जाता है, मेलाटोनिन का प्रोडक्शन करती है और शरीर की सर्कैडियन रिदम (Circadian rhythm) को कंट्रोल करने का काम करती है। सर्कैडियन रिदम मनुष्य के मस्तिष्क की 24 घंटे की सायकल होती है, जिसमें मनुष्य एलर्ट या फिर नींद में स्विच करता है। सर्कैडियन रिदम सोने और खाने के पैटर्न को निर्धारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। जिन बच्चों में मेलाटोनिन (Melatonin) का प्रोडक्शन ठीक तरह से नहीं हो पाता है या फिर देरी से उत्पादन होता है, उन्हें नींद न आने की समस्या या फिर अनिद्रा हो सकती है।

और पढ़ें: पर्याप्त नींद न लेना हो सकता है स्वास्थ्य के लिए हानिकारक, जानिए कैसे करें इस समस्या को दूर

क्या छोटे बच्चों के लिए मेलाटोनिन सप्लिमेंट प्रभावी है?

जर्नल ऑफ चाइल्ड और ऐडोलेसेंट साइकोफॉर्मेकोलॉजी (Journal of Child and Adolescent Psychopharmacology) में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक साल 2013 में पांच स्टडीज की गई। स्टडी में उन बच्चों को शामिल किया गया जिन्हें एडीएचडी (Attention deficit hyperactivity disorder) की समस्या थी। रिचर्स में ये बात सामने आई कि छोटे बच्चों के लिए मेलाटोनिन सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से बच्चों में अनिद्रा (Insomnia in children) के लक्षणों में सुधार देखने को मिला है। शोधकर्ताओं ने ये भी कहा कि इस विषय में अभी भी अधिक शोध की जरूरत है।

साल 2017 में किए गए अध्ययन में क्रॉनिक स्लीप ऑनसेट इस्नोमिया (Chronic sleep onset insomnia) से पीड़ित बच्चों को शामिल किया गया और उन्हें 3 मिलीग्राम मेलाटोनिन सप्लिमेंट दिया गया। स्टडी में ये बात सामने आई कि मेलाटोनिन प्लेसीबो (Placebo) की तुलना में अधिक प्रभावी थी और इसका असर लाइट थेरिपी से अधिक था। एपिलेप्सी से पीड़ित बच्चों (children with epilepsy) में भी मेलाटोनिन (Melatonin) का बेहतर प्रदर्शन देखने को मिला। शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन बच्चों ने 9 मिलीग्राम सस्टेंन रिलीज मेलाटोनिन लिया, वे प्लेसीबो लेने वाले बच्चों की तुलना में 11.4 मिनट जल्दी सो गए।

और पढ़ें: बच्चों के लिए क्यों जरूरी है फोलेट सप्लिमेंट्स, जानिए कुछ सप्लिमेंट्स के बारे में

बच्चों के लिए मेलाटोनिन सप्लिमेंट सुरक्षित है?

ये बात मन में आना लाजमी है कि इस दवा का सेवन करने से क्या बच्चों को किसी समस्या का सामना तो नहीं करना पड़ता है। स्टडी में ये बात सामने आई है कि मेलाटोनिन (Melatonin) सप्लिमेंट भले ही प्रभावी रूप से बच्चों में असर डालती है लेकिन इसका प्रॉपर ट्रीटमेंट और डोज अभी भी स्पष्ट नहीं है। मेलाटोनिन मार्केट में कई रूप में मिलती है। बच्चों के लिए खासतौर पर फॉर्मुलेशन उपलब्ध है। ये लिक्विड के रूप में भी उपलब्ध है। चूंकि एफ डी ए ने इसे ड्रग के बजाय डायटरी सप्लिमेंट की श्रेणी में रखा है इसलिए इस दवा को लेकर ऑफिसियल गाइडलाइंस नहीं है।

अगर आपके बच्चे को नींद नहीं आ रही है, तो आपको इस बारे में डॉक्टर को जानकारी देनी चाहिए। डॉक्टर से परामर्श के बाद छोटे बच्चों के लिए मेलाटोनिन सप्लिमेंट देने के बारे में सोचना चाहिए। डॉक्टर आपसे बच्चे की नींद के बारे में कुछ जानकारी ले सकते हैं और उसके बाद ही वो दवा की खुराक के बारे में आपको जानकारी देंगे। बेहतर होगा कि जब बच्चा सोने वाला हो, उसके आधे से एक घंटे पहले ही बच्चे को दवा की खुराक दें।

और पढ़ें: छोटे बच्चों के लिए 9 बेस्ट ब्रेकफास्ट सीरियल्स, पोषण की कमी को करेंगे पूरा

छोटे बच्चों के लिए मेलाटोनिन सप्लिमेंट के साइड इफेक्ट

छोटे बच्चों के लिए मेलाटोनिन सप्लिमेंट (Melatonin Supplement for Toddler) का सेवन दुष्प्रभाव भी पैदा कर सकता है। दवा का सेवन करने से उसके कुछ साइड इफेक्ट नजर आना आम बात होती है। सभी को दवाओं का साइड इफेक्ट हो, ये जरूरी नहीं होता है। अगर आपके बच्चे को मेलाटोनिन का सेवन करने के बाद सिरदर्द, बेड वेटिंग (bed wetting), चक्कर आदि की समस्या होती है, तो आपको इस बारे में डॉक्टर को जानकारी देनी चाहिए। मेलाटोनिन का सेवन करने से बच्चे को एब्डॉमिनल पेन, अधिक मात्रा में पसीना निकलना (excessive sweating), देखने में समस्या महसूस होना (problems with vision), जी मिचलाना आदि समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। आप इस बारे डॉक्टर को जरूर बताएं और परामर्श करें।

नहीं आ रही है बच्चे को नींद, तो ये बातें रखें ध्यान

छोटे बच्चों के लिए मेलाटोनिन सप्लिमेंट की जरूरत तब पड़ती है, जब बच्चे को नींद न आने के पीछे हॉर्मोनल कारण हो। अगर आपके बच्चे को नींद नहीं आ रही है, तो इसके पीछे कई कारण भी शामिल हो सकते हैं। ऐसा जरूरी नहीं है कि बच्चे में हॉर्मोन का लेवल कम हो गया हो। कई बार नींद न आने के अन्य कारण भी हो सकते हैं। ऐसे में बेहतर होगा कि आप उन कारणों की पहचान करें और उसका समाधान करने की कोशिश भी करें। यहां हम आपको कुछ अहम टिप्स देने जा रहे हैं, जो आपके बच्चे को अनिद्रा की समस्या से बचाने में मदद कर सकती हैं।

  • बच्चे के सोने का समय सीमित करें। अगर बच्चा सही समय पर नहीं सोता है, तो भी स्लीप सायकल बिगड़ सकती है।
  • जब बच्चा सोने के लिए तैयारी कर रहा हो, तो उसे मोबाइल या फिर टीवी से दूर ही रखें। अगर बच्चा इनका इस्तेमाल करेगा, तो उसकी नींद गायब हो सकती है।
  • अगर बच्चों को रिलेक्स फील नहीं होता है, तो भी उन्हें नींद न आने की समस्या हो सकती है। आपको ऐसे में बच्चों को रिलेक्स फील करवाना चाहिए।
  • अधिक सर्दी या फिर अधिक गर्मी भी बच्चे की नींद में खलल डाल सकती है। आपको कमरे का तापमान सामान्य रखना चाहिए ताकि बच्चा आसानी से नींद ले सके।

डॉक्टर से परामर्श के बाद बताई गई मात्रा के अनुसार ही बच्चों को दवा देनी चाहिए। बिना परामर्श के बच्चों को दवा न दें वरना शरीर में बुरा असर पड़ सकता है। हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार उपलब्ध नहीं कराता। इस आर्टिकल में हमने आपको छोटे बच्चों के लिए मेलाटोनिन सप्लिमेंट (Melatonin Supplement for Toddler) के संबंध में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्सर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Accessed on 9/6/2021

A systematic review of the literature of pharmacological treatments of insomnia in children and adolescents with attention-deficit/hyperactivity disorder. Journal of Child and Adolescent Psychopharmacology

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3870602/

leep-related melatonin use in healthy children. Canadian Family Physician,

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4830653/

Melatonin: In depth. 

https://nccih.nih.gov/health/melatonin

he ideal temperature for sleep.

https://www.sleep.org/articles/temperature-for-sleep/

 Behavioral Sleep Medicine

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4362749/

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 10/06/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड