home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Sulfur Burps: खट्टी डकार क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

परिचय|लक्षण|कारण|रोकथाम|निदान|उपचार
Sulfur Burps: खट्टी डकार क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

परिचय

खट्टी डकार (Sour Burps) क्या है?

डकार सबको आती है। हर कोई दिन में लगभग 20 बार गैस पास करता है। डकार आने के पीछे भी एक कारण होता है। इससे हमारे पाचन तंत्र में फंसी गैस पास हो जाती है। हम दिन भर जो खाते हैं उसके साथ हमारे डायजेस्टिव सिस्टम में हवा भी जाती है और ये कहीं से तो निकलेगी। जब गैस एनस (anus) से निकलती है तो उसे फ्लैटुलेंस (flatulence) कहते हैं। पाचन तंत्र द्वारा अतिरिक्त गैस को जारी करता है या आसान शब्दों में समझाएं तो जब गैस मुंह से पास होती है तो इसे डकार (burping) कहते हैं। खट्टी डकार को रिफ्लक्स डिसआर्डर भी कहा जा सकता है।

कई बार गैस के साथ एक बदबू आती है। इसे खट्टी डकार कहते हैं। बहुत बार इसके चलते दूसरों के सामने शर्मिंदा होना पड़ जाता है। इसे सल्फर बर्प भी कहा जाता है। इसमें आने वाली गंध हाइड्रोजन सल्फाइड की होती है। इस बदबू की तुलना कई लोग सड़े हुए अंडों से करते हैं। खट्टी डकार तब आती है जब गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक में अत्यधिक मात्रा में हाइड्रोजन सल्फाइड एकत्रित हो जाती है।

आमतौर पर खट्टी डकार हानिरहित होते हैं। यह बस पेट में अधिक गैस होने का संकेत देते हैं। आपने कुछ ऐसा खाया है जिसमें सल्फर अधिक मात्रा में हो तब आपको खट्टी डकार आ सकती है। कई बार खट्टी डकार किसी अंतर्निहित बीमारी या पाचन संबंधी समस्या का लक्षण भी हो सकती है।

और पढ़ें: Gallbladder Stones: पित्ताशय की पथरी क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लक्षण

खट्टी डकार (Sulfur Burps) या रिफ्लक्स डिसआर्डर के लक्षण क्या हैं?

खट्टी डकार की परेशानी आमतौर पर रिफ्लक्स रोग से ग्रसित लोगों में देखी जाती है। इन लोगों को हार्टबर्न, ब्लॉटिंग, जी मिचलाना, शरीर में गैस बनना, पेट फूलना (Bloating), मुंह से बदबू आना आदि लक्षण हो सकते हैं। ये लक्षण खाना खाने के बाद या रात के समय बिगड़ भी सकते हैं।

आमतौर पर इस परेशानी को आसानी से दूर किया जा सकता है। यदि खट्टी डकार के साथ आपको जी मिचलाना, उल्टी या डायरिया की शिकायत है और यह आपको अक्सर होता रहता है तो हो सकता है यह किसी गंभीर परेशानी के लक्षण हो। इसके लिए आपको बिना देरी करे डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए।

और पढ़ें: Broken (fractured) upper back vertebra- रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर क्या है?

कारण

खट्टी डकार (Sulfur Burps) या रिफ्लक्स डिसआर्डर के क्या कारण हैं?

डायजेस्टिव सिस्टम के लिए एक निश्चित मात्रा में गैस का उत्पादन करना सामान्य है। ये गैस डकार या रेक्टम के जरिए शरीर से निष्कासित होती है। यह गैस हमारे द्वारा अतिरिक्त हवा निगलने के कारण होती है। बहुत लोग दिन में 14 से 23 बार गैस पास करते हैं। यह हेल्दी और नॉर्मल है। हालांकि जब गैस में से अजीब गंध आए तो हो सकता है यह किसी परेशानी का लक्षण हो। आमतौर पर सल्फर बर्प की परेशानी आपकी गलत खानपान की आदतों के कारण होती है। जो लोग जल्दी खाते और पीते हैं उन्हें यह दिक्कत हो सकती है।

सल्फर बर्प के कई कारण हो सकते हैं, जैसे:

  • कार्बोनेटेड ब्रेवरेजेस और फूड में सल्फर की मात्रा अधिक होती है। इनको खाने और पीने से खट्टी डकार की समस्या हो सकती है। जरूरी नहीं ऐसा सबके साथ हो। कुछ लोगों में इन चीजों का सेवन करने से कोई दिक्कत नहीं होती। ऐसा इसलिए क्यों हर किसी के शरीर में अलग तरह के इंटेस्टाइनल बैक्टीरिया होते हैं। बता दें, हाई प्रोटीन फूड, बीयर, अंडे, चीज और मिल्क में सल्फर होता है। इन चीजों का सेवन करने से खट्टी डकार आने की संभावना अधिक होती है।
  • कुछ चीजें जैसे ब्रोकली, फूलगोभी, कैबेज, बींस आदि में सल्फर नहीं होता लेकिन इनका सेवन करने से गैस की समस्या हो सकती है। क्योंकि इनमें शुगर, स्टार्च और सॉल्यूबल फाइबर की मात्रा अधिक होती है। इनका सेवन करने से गैस और ब्लोटिंग की परेशानी हो सकती है।
  • खट्टी डकार आने का कारण डायजेस्टिव संबंधित कोई परेशानी भी हो सकता है। इरिटेबल बाउल सिंड्रोम (IBS), गैस्ट्रोइसोफेगल रिफल्कस डिजीज (GERD) के कारण पेट में गैस बन सकती है।
  • कुछ बैक्टीरिया ऐसे होते हैं, जो पाचन तंत्र को प्रभावित कर सकते हैं। इससे खट्टी डकार की परेशानी हो सकती है। एच फिलोरी बैक्टीरियम (H. pylori bacterium) के कारण अपर गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट में इंफेक्शन हो सकता है जिससे ब्लोटिंग, हार्टबर्न और खट्टी डकार की परेशानी हो सकती है।

खट्टी डकार आने के निम्नलिखित कारण भी हो सकते हैं:

इन चीजों का सेवन करने से भी हो सकती है खट्टी डकार की परेशानी:

  • प्रोटीन: रेड मीट, अंडे, सी फूड, डेयरी प्रोडक्ट
  • ड्रिंक्स: कॉफी, बीयर, कोला
  • सब्जियां: ब्रोकोली, गोभी, फूलगोभी, केल, लहसुन और प्याज
  • काजू और केले भी खट्टी डकार को ट्रिगर करते हैं

और पढ़ें: खुद ही एसिडिटी का इलाज करना किडनी पर पड़ सकता है भारी!

रोकथाम

खट्टी डकार (Sulfur Burps) या रिफ्लक्स डिसआर्डर की रोकथाम के उपाय

खट्टी डकार की समस्या को कुछ आदतों में सुधार कर ठीक किया जा सकता है।

  • अगर आपका पसंदीदा खाना बना है तो जरूरी नहीं है आप उसे बहुत ज्यादा खा लें। खाना अगर पसंदीदा है तो आप भूख के अनुसार ही खाएं। साथ ही ऐसे फूड बिल्कुल भी ज्यादा न खाएं जो डकार का कारण बन सकते हैं।
  • अगर आप एल्कोहॉल की अधिक मात्रा लेते हैं तो भी ये खट्टी डकार का कारण बन सकता है। अधिक कॉफी का सेवन या फिर कोल्ड ड्रिंक भी आपके लिए समस्या खड़ी कर सकती है। आपको पेय पदार्थों में पानी के साथ ही फलों का जूस ले सकते हैं।
  • अगर आप किसी प्रकार की हेल्थ कंडीशन से परेशान या फिर आपको भूख बहुत ज्यादा लगती है तो खाने को एक साथ न खाकर उसे कुछ समय अंतराल में खाना सीखें।

खट्टी डकार की परेशानी को दूर रखने में ये टिप्स मदद करेंगे:

  • खाने को हमेशा धीरे धीरे खाएं। खाना खाते समय पेट में अधिक हवा ले जाने से बचें।
  • च्यूइंग गम का सेवन करने से बचें। स्मोकिंग को एवॉइड करें। ये दोनों एक्टिविटी अधिक हवा निगलने का काम करती हैं।
  • सल्फर युक्त चीजों का सेवन न करें।
  • ओवरइटिंग करने से बचें। ज्यादा खाना एक साथ खाने की बजाय दिनभर में छोटे-छोटे टुकड़ों में कई बार खाना खाएं।
  • एल्कोहॉल का सेवन कम करें
  • डायट से कार्बोनेटेड ड्रिंक्स को बाहर करें।
  • डायट में शुगर की मात्रा कम करें
  • पैकज्ड फूड, रेडी टू ईट फूड और फास्ट फूड का सेवन न करें।

अगर आपर उपरोक्त बातों को अपनाएंगे तो आप खट्टी डकार की समस्या से बच सकते हैं। अगर फिर भी आपको डकार की समस्या होती है तो आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। कई बार डकार के कारण कई समस्याओं का सामना भी करना पड़ सकता है।

निदान

खट्टी डकार के लिए परिक्षण

आपने महसूस किया होगा कि जब भी आपको खट्टी डकार ने परेशान किया होगा तो आपने अपनी खान-पान की आदतों में सुधार किया होगा और आपको राहत मिल गई होगी। ऐसा ज्यादातर लोगों के साथ होता है। खट्टी डकार की समस्या कुछ समय बाद अपने आप ही ठीक हो जाती है। अगर आपको लग रहा है कि खट्टी डकार की समस्या काफी समय से आपको परेशान कर रही है तो आपको डॉक्टर से परीक्षण कराने की जरूरत है।

डॉक्टर जांच से पहले आपसे हेल्थ के बारे में कुछ सवाल पूछेगा। कुछ सवाल जैसे कि आपको क्या किसी प्रकार की हेल्थ कंडीशन है। आप खाने में क्या शामिल करते हैं आदि। इन बातों की जानकारी लेने के बाद डॉक्टर कुछ परिक्षण भी कर सकते हैं। कुछ टेस्ट जैसे कि एंडोस्कोपी या एक्स-रे माध्यम से जांच की जाती है। डॉक्टर अन्य विधियों का प्रयोग भी कर सकता है। आप इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से परामर्श कर सकते हैं। हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

और पढ़ें : Cancer: कैंसर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपचार

उपचार

खट्टी डकार (Sulfur Burps) का उपचार कैसे किया जाता है?

खट्टी डकार का इलाज इसके कारण पर निर्भर करता है। आमतौर पर डायट में बदलाव कर इससे राहत पाई जा सकती है। आमतौर पर यह परेशानी एक हफ्ते में ठीक हो जाती है। डॉक्टर आपको कुछ ओवर-द-काउंटर मेडिकेशन जैसे एंटासिड्स रिकमेंड कर सकते हैं। ये दवा अतिरिक्त गैस को कम करने में मदद करती है।

खट्टी डकार के घरेलू इलाज:

अगर आप कुछ घरेलू उपाय अपनाकर देखती हैं तो आपको कुछ ही समय में फर्क नजर आने लगेगा। अगर आपको घरेलू उपाय अपनाने के बाद भी खट्टी डकार की समस्या हो रही है तो बेहतर होगा कि आप डॉक्टर से जांच कराएं। कुछ ओवर-द-काउंटर भी खट्टी डकार में राहत प्रदान करती हैं।

उपरोक्त जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अगर आपको लग रहा है कि आपको अपच की समस्या है या फिर डकार अधिक आ रही हैं तो तुरंत इस बारे में डॉक्टर से बात करें। डॉक्टर आपको कुछ मेडिसिन देने के साथ ही लाइफस्टाइल में सुधार की सलाह दे सकता है। बिना जानकारी किसी भी मेडिसिन का सेवन न करें। हम आशा करते हैं कि इस आर्टिकल के माध्यम से आपको खट्टी डकार के बारे में जाकारी मिल गई होगी। आप स्वास्थ्य संबंधि अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Sulfurous burps: https://www.axappphealthcare.co.uk/health-information/gut-health/sulfur-burps/ Accessed June 12, 2020

The Truth About Gas: https://www.unitypoint.org/livewell/article.aspx?id=f4ac971f-95a4-49ad-b08d-2be2467257e0 Accessed June 12, 2020

Use of probiotics in gastrointestinal disorders: https://journals.sagepub.com/doi/10.1177/1756283X10373814

Gas: https://my.clevelandclinic.org/health/diseases/7314-gas Accessed June 12, 2020

Hydrogen sulfide and nonalcoholic fatty liver disease: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5934130/ Accessed June 12, 2020

This Is What Your Excessive or Foul-Smelling Gas Could Mean: https://www.keckmedicine.org/this-is-what-your-excessive-or-foul-smelling-gas-could-mean/ Accessed June 12, 2020

लेखक की तस्वीर badge
Mona narang द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 20/01/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x