आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

ब्लीडिंग हेमोरॉयड्स की हो गई है समस्या, तो अपनाए जा सकते हैं ये ट्रीटमेंट!

ब्लीडिंग हेमोरॉयड्स की हो गई है समस्या, तो अपनाए जा सकते हैं ये ट्रीटमेंट!

बवासीर या फिर हेमोरॉयड्स की समस्या (Hemorrhoids) होने पर स्टूल (Stool) पास करते समय दिक्कत का सामना करना पड़ता है। ऐसा रेक्टम (Rectum) और एनस की वेंस में सूजन आ जाने के कारण होता है। कुछ लोगों में हेमोरॉयड्स के लक्षण (Symptoms of Hemorrhoids) नजर नहीं आते हैं, वहीं कुछ लोगों तो ईचिंग, जलन के साथ ही ब्लीडिंग की समस्या भी हो जाती है। पाइल्स की समस्या (Piles problem) होने पर व्यक्ति को बैठने में बहुत दर्द महसूस होता है। स्टूल पास करने के दौरान भी बहुत परेशानी महसूस होती है। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से ब्लीडिंग हेमोरॉयड्स का इलाज (Treatment of bleeding hemorrhoids) कैसे किया जाता है, इस बारे में जानकारी देंगे।

और पढ़ें: बवासीर या पाइल्स का क्या है आयुर्वेदिक इलाज

ब्लीडिंग हेमोरॉयड्स का इलाज (Treatment of bleeding hemorrhoids)

ब्लीडिंग हेमोरॉयड्स का इलाज (Treatment of bleeding hemorrhoids)इंटरनल पाइल्स (Internal Piles) की समस्या रेक्टम के अंदर डेवलप होती है, जबकि एक्सटरनल पाइल्स (External Piles) की समस्या रेक्टम के ऊपर स्थित होती है। कुछ लोगों को पाइल्स की समस्या अधिक गंभीर नहीं होती है और कुछ ही दिनों में अपने आप ही ठीक हो जाती है, वहीं कुछ व्यक्तियों में ये गंभीर रूप ले लेती हैं। दोनों प्रकार के पाइल्य या हेमोरॉयड्स थ्रोम्बोस्ड हेमोरॉयड्स (thrombosed hemorrhoids) का रूप ले सकते हैं। थ्रोम्बोस्ड हेमोरॉयड्स (thrombosed hemorrhoids) आमतौर पर खतरनाक नहीं होते हैं लेकिन इनके कारण जलन और दर्द की समस्या हो सकती है। एक्सटरल और इंटरनल हेमोरॉयड्स के कारण ब्लीडिंग हो सकती है। ऐसा हार्ड स्टूल पास होने के कारण भी हो सकता है। जब थ्रोम्बोस्ड हेमोरॉयड्स बर्स्ट (burst) हो जाता है, तो ब्लीडिंग की समस्या होने लगती है। जानिए कैसे किया जाता है ब्लीडिंग हेमोरॉयड्स का इलाज (Treatment of bleeding hemorrhoids)।

और पढ़ें: Exercise For GERD: आसान हैं गर्ड के लिए एक्सरसाइज की लिस्ट में शामिल 5 वर्कआउट!

ब्लीडिंग हेमोरॉयड्स का इलाज : अपनाएं होम ट्रीटमेंट (Home treatment for hemorrhoids)

टॉपिकल क्रीम (topical cream) – टॉपिकल क्रीम (Topical cream) का इस्तेमाल एक्सटरनल हेमोरॉयड्स के ट्रीटमेंट में किया जा सकता है। मेडिकेटेड सपोसिटरी (medicated suppository) का इस्तेमाल आप इंटरनल हेमोरॉयड्स के ट्रीटमेंट में कर सकते हैं। बेहतर होगा कि आप इस बारे में डॉक्टर से जानकारी जरूर प्राप्त करें।

गीली वाइप्स का इस्तेमाल (Use moist wipes) – जब भी आप वाशरूम जाएं, हमेशा गीली वाइप्स का इस्तेमाल करें। अगर आप टॉयलेट पेपर का इस्तेमाल करेंगे, तो आपको जलन का एहसास हो सकता है। ये आपको आसानी से ऑनलाइन उपलब्ध हो सकता है।

सिट्ज बाथ (Take a sitz bath)- सिट्ज बाथ के दौरान आपको कुछ समय के लिए हल्के गर्म पानी में बैठना होता है। इससे एनल एरिया को बहुत राहत मिलती है। आप चाहे तो इसमें कुछ एप्सोम नमक का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। आप चाहे तो इस बारे में डॉक्टर से भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

कोल्ड पैक (cold pack) – ब्लीडिंग हेमोरॉयड्स का इलाज (Treatment of bleeding hemorrhoids) करते समय आप कोल्ड पैक का इस्तेमाल कर सकते हैं। कोल्ड पैक को टॉवल में लपेट लें और कुछ समय के लिए इसके ऊपर बैठ जाए। ऐसा करने से आपको सूजन और जलन की समस्या से राहत मिलेगी। आप कोल्ड पैक में 20 मिनट के लिए बैठ सकते हैं।

आप उपरोक्त ट्रीटमेंट लेने से पहले अपने डॉक्टर से एक बार परामर्श भी कर सकती हैं, तो बेहतर होगा।

और पढ़ें: पाइल्स में डायट पर ध्यान देना होता है जरूरी, इन फूड्स का करें सेवन

स्टूल को सॉफ्ट करने के लिए (Soften your stools) अपनाएं ये तरीके

ब्लीडिंग हेमोरॉयड्स का इलाज (Treatment of bleeding hemorrhoids) तभी संभव है, जब आप अपने खानपान पर ध्यान देंगे। स्टूल अगर टाइट होगा, तो आपको स्टूल पास करते समय बहुत दर्द और जलन होगी। ऐसे में आपको स्टूल को सॉफ्ट करने के तरीके अपनाने चाहिए। जानिए किन उपायों को अपनाया जा सकता है।

  • आपको खाने में फाइबर युक्त आहार शामिल करना चाहिए, क्योंकि ये स्टूल को सॉफ्ट बनाकर कब्ज की समस्या से राहत दिलाने का काम करता है। आप चाहे तो फाइबर सप्लिमेंट्स भी ले सकते हैं।
  • जिस तरह से शरीर को पौष्टिक आहार जरूरी होता है, ठीक उसी तरह से शरीर के लिए पानी भी बहुत जरूरी है। आपको दिन में सात से आठ ग्लास पानी जरूर पीना चाहिए।
  • आप स्टूल को सॉफ्ट करने के लिए ओवर-द-काउंटर स्टूल सॉफ्टनर ( stool softener) का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।
  • आप खानपान के साथ ही फिजिकल एक्टिविटी भी करनी चाहिए।
  • आप पॉलीइथाइलीन ग्लाइकॉल (polyethylene glycol) का इस्तेमाल कर स्टूल को सॉफ्ट बना सकते हैं। आप चाहे तो इस बारे में डॉक्टर से भी सलाह कर सकते हैं। पॉलीइथाइलीन ग्लाइकॉल का सेवन सुरक्षित माना जाता है।

और पढ़ें: Hemorrhoids: हिमोरॉइड्स (पाइल्स) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

ब्लीडिंग हेमोरॉयड्स का इलाज : मेडिकल ट्रीटमेंट (Medical treatment for hemorrhoids)

रबर बैंड लिगेशन (Rubber band ligation) – इंटरनल हेमोरॉयड्स में छोटी से रबर को बांधकर (Rubber band ligation) ब्लड के ब्लो को रोका जाता है। ऐसा करने से ब्लीडिंग नहीं होती है और राहत मिलती है।

स्क्लेरोथेरिपी (Sclerotherapy) – इस ट्रीटमेंट के दौरान मेडिकेटेड सॉल्युशन को हेमोरॉयड्स वाले स्थान में इंजेक्ट किया जाता है। इस कारण से ब्लीडिंग को रोकने में मदद मिलती है।

इलेक्ट्रोकोएग्यूलेशन (Electrocoagulation) – इलेक्ट्रिकल करेंट की हेल्प से हेमोरॉयड्स को सुखाया जाता है, जिससे वो सूख कर गिर जाता है और ब्लीडिंग बंद हो जाती है।

और पढ़ें: अल्सर कैसे बन जाता है ब्लीडिंग अल्सर, जानिए रोकथाम के उपाय

जब ब्लीडिंग हेमोरॉयड्स बड़ा होता है और नॉर्मल सर्जरी से भी खत्म नहीं होता है, तो एक्सटेंसिव सर्जरी की जाती है। प्रोलेप्स्ड हेमोरॉयड्स (Prolapsed hemorrhoid) की समस्या होने पर भी एक्सटेंसिव सर्जरी की जाती है। जानिए कुछ सर्जरी के बारे में।

हेमोरॉयडक्टमी (Hemorrhoidectomy)- प्रोलेप्स्ड इंटनल और कॉम्प्लीकेटेड एक्सटरनल हेमेरॉयड्स की समस्या से छुटकारे के लिए हेमोरॉयडक्टमी सर्जरी की जाती है। ब्लीडिंग हेमोरॉयड्स का इलाज (Treatment of bleeding hemorrhoids) समस्या से निजात दिलाने में सहायता करता है।

हेमोरॉइडोपेक्सी (Hemorrhoidopexy) – सर्जिकल स्टेपल की हेल्प से सर्जन प्रोलेप्स्ड हेमोरॉयड्स को वापस रेक्टम में जोड़ते हैं। इस कारण से हेमोरॉयड्स में होने वाले ब्लड फ्लो में परिवर्तन आता है और वो सिकुड़ जाते हैं।

डीएच-एचएएल (Doppler guided hemorrhoid artery ligation) – इस प्रोसीजर के दौरान अल्ट्रासाउंड का इस्तेमाल किया जाता है, ताकि ब्लड फ्लो के बारे में जानकारी मिल जाए। फिर हेमोरॉयड्स में होने वाले ब्लड फ्लो को रोक दिया जाता है, ताकि वो सूख जाए।

अगर आपको बवासीर की समस्या है और ब्लड नहीं आ रहा है, तो बेहतर होगा कि आप घरेलू उपाय जरूर अपनाएं। ब्लीडिंग की समस्या को नजरअंदाज न करें और तुरंत मेडिकेटेड ट्रीटमेंट लें। कई बार समस्या अधिक गंभीर भी हो सकती है। आपको कोलोरेक्टल कैंसर (colorectal cancer) का खतरा भी हो सकता है। डॉक्टर जांच के बाद ट्रीटमेंट शुरू कर देंगे। आपको ट्रीटमेंट के साथ ही अपने खानपान में सुधार करने की भी जरूरत है। खाने में अधिक फैट और प्रोसेस्ड फूड से दूरी बना लें। आपको वजन को भी नियंत्रण में रखने की आवश्यकता है। एनल पेन को इग्नोर न करें और तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

हम उम्मीद करते हैं कि आपको ब्लीडिंग हेमोरॉयड्स का इलाज (Treatment of bleeding hemorrhoids) कैसे कर सकते हैं, इससे संबंधित ये आर्टिकल पसंद आया होगा। हैलो हैल्थ ग्रुप किसी प्रकार की चिकित्सा और उपचार प्रदान नहीं करता है। आप स्वास्थ्य संबंधी अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है, तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं और अन्य लोगों के साथ साझा कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट एक हफ्ते पहले को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड