Stretch Marks During and after Pregnancy: जानिए प्रेग्नेंसी के दौरान और बाद में स्ट्रेच मार्क्स को दूर करने के उपाय!

    Stretch Marks During and after Pregnancy: जानिए प्रेग्नेंसी के दौरान और बाद में स्ट्रेच मार्क्स को दूर करने के उपाय!

    प्रेग्नेंसी … मां बनने के साथ-साथ शरीर में कई तरह के बदलाव भी होते हैं, तो त्वचा खासकर पेट पर कुछ मार्क्स भी नजर आते हैं, जिसे प्रेग्नेंसी स्ट्रेच मार्क्स कहते हैं। प्रेग्नेंसी के दौरान और बाद में स्ट्रेच मार्क्स (Stretch Marks During and After Pregnancy) होना सामान्य है और यह कोई बीमारी नहीं है, लेकिन एब्डॉमेन पर आये निशान से कुछ महिलाएं परेशान भी हो जाती हैं और प्रेग्नेंसी के दौरान और बाद में स्ट्रेच मार्क्स को हटाने के अलग-अलग उपाय भी तलाशने लगती हैं। आज इस आर्टिकल में प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेच मार्क्स और प्रेग्नेंसी के बाद स्ट्रेच मार्क्स (Stretch Marks During and After Pregnancy) से जुड़ी कई महत्वपूर्ण जानकारियां आपके साथ शेयर करेंगे और साथ ही जानेंगे स्ट्रेच मार्क्स हटाने के उपाय के बारे में।

    • प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेच मार्क्स की समस्या कब शुरू होती है?
    • प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेच मार्क्स के कारण क्या हो सकते हैं?
    • प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेच मार्क्स होने पर क्या करें?
    • प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेच मार्क्स से बचाव के लिए क्या करें?
    • क्या प्रेग्नेंसी के बाद स्ट्रेच मार्क्स अपने आप जा सकते हैं?

    चलिए अब स्ट्रेच मार्क्स से जुड़े इन सवालों का जवाब जानते हैं।

    प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेच मार्क्स की समस्या कब शुरू होती है?

    प्रेग्नेंसी के दौरान और बाद में स्ट्रेच मार्क्स (Stretch Marks During and After Pregnancy)

    प्रेग्नेंसी के दौरान और बाद में स्ट्रेच मार्क्स (Stretch Marks During and After Pregnancy) की समस्या कोई नई बात नहीं है, लेकिन इस मार्क्स को हटाने के लिए या कम करने के लिए कुछ लोग कड़ी मेहनत भी करती हैं, लेकिन क्या आपने कभी यह ध्यान दिया है कि प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेच मार्क्स की शुरुआत कब से होती है? तो चलिए प्रेग्नेंसी के दौरान और बाद में स्ट्रेच मार्क्स के बारे में समझते हैं। ब्रिटिश जर्नल ऑफ डर्मेटोलॉजी (British Journal of Dermatology) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार प्रेग्नेंसी के दूसरे ट्राइमेस्टर (Second trimester) के आखरी स्टेज एवं तीसरे ट्राइमेस्टर (Third trimester) के शुरुआती स्टेज से शुरू हो सकती है। इसे अगर आसान शब्दों में समझें तो प्रेग्नेंसी के छठे महीने से सातवें महीने के दौरान स्ट्रेच मार्क्स बनने लगते हैं। रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार 90 प्रतिशत महिलाओं में प्रेग्नेंसी के छठे या सातवें महीने के दौरान पिंक, रेड, ब्राउन या कभी-कभी पर्पल लकीरें नजर आने लगती हैं। प्रेग्नेंसी स्ट्रेच मार्क्स पेट, थाई या ब्रेस्ट पर या इनके आसपास नजर आ सकते हैं। अब ऐसे में यह जानना अत्यधिक जरूरी है कि स्ट्रेच मार्क्स की समस्या किन कारणों से शुरू होती हैं।

    प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेच मार्क्स के कारण क्या हो सकते हैं? (Cause of Stretch Marks During and after Pregnancy)

    नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार स्ट्रेच मार्क्स त्वचा में आई खिंचाव के कारण पड़ने वाले निशान हैं। ऐसा तेजी से बढ़ते वजन या कम होते वजन के कारण होने वाली समस्या है। वहीं अन्य रिसर्च रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि प्रेग्नेंसी हॉर्मोन के कारण स्किन में मौजूद फाइबर सॉफ्ट होने लगते हैं, जिससे स्ट्रेच मार्क्स आसानी से नजर आने लगते हैं। प्रेग्नेंसी के दौरान जैसे-जैसे गर्भ में पल रहे शिशु का विकास होता है वैसे-वैसे स्ट्रेच मार्क्स भी बढ़ने लगते हैं। हालांकि ऐसा जरूरी नहीं कि सभी गर्भवती महिलाओं में एक ही तरह से स्ट्रेच मार्क्स बनने लगे, लेकिन हां इसकी शुरुआत खुजली (Itching) से शुरू होती है।

    और पढ़ें : पावर पंपिंग (Power Pumping) कैसे मददगार है मां और बच्चे के लिए जानें

    प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेच मार्क्स होने पर क्या करें? (Tips to prevent Pregnancy Stretch Marks)

    प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेच मार्क्स को कम करने के लिए निम्नलिखित टिप्स फॉलो किये जा सकते हैं। जैसे:

    1. तेल से करें मसाज (Oil massage)

    प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेच को कम करने के लिए जैतून का तेल (Olive oil) या अरंडी का तेल (Castor oil) इस्तेमाल किया जा सकता हैं। इसके अलावा विटामिन ई ऑयल से भी मसाज करने से लाभ मिल सकता है। आप ऑयल को पहले हाथों पर अच्छे से रब करें और फिर हल्के हाथों से पेट की मालिश करें। रोजाना 10 से 15 मिनट तक मसाज करने से लाभ मिल सकता है।

    2. एलोवेरा (Aloevera)

    एलोवेरा का इस्तेमाल चेहरे और बालों की खूबसूरती बढ़ने के लिए और सेहतमंद रहने के लिए तो किया ही जाता है, लेकिन एलोवेरा का इस्तेमाल प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेच मार्क्स को दूर करने के लिए भी किया जा सकता है। एलोवेरा में मौजूद विटामिन-ए (Vitamin A) और विटामिन-ई (Vitamin E) जैसे कई अन्य प्रॉपर्टीज मौजूद होते हैं, जो स्ट्रेच मार्क्स को कम करने में सहायक हो सकते हैं। इसलिए आप एलोवेरा से स्ट्रेच मार्क्स वाली जगह पर हल्के हाथों से 15 से 20 मिनट तक मसाज करें और फिर इसे सूखने दें। जब एलोवेरा सूखने लगे तो ताजे पानी से उस हिस्से को क्लीन कर लें।

    3. शहद (Honey)

    प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेच मार्क्स (Stretch Marks During Pregnancy) की समस्या को दूर करने के लिए शहद का इस्तेमाल किया जा सकता है। दरअसल शहद में मौजूद एंटीसेप्टिक गुण (Antiseptic properties) स्ट्रेच मार्क्स को कम करने में सहायक है। शहद को एक साफ एवं सॉफ्ट कपड़े में डालें और स्ट्रेच मार्क्स वाले हिस्से में लगाएं और कुछ देर के लिए लगा रहने दें। जब शहद हल्का ड्राय पड़ने लगे तो हल्के गर्म पानी से क्लीन करें। ऐसा करने से भी स्ट्रेच मार्क्स को कम करने में मदद मिल सकती है। हालांकि यह जरूरी नहीं की स्ट्रेच मार्क्स पूरी तरह गायब हो जायें।

    इन तीन उपायों की मदद से प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले स्ट्रेच मार्क्स को हटाने में मदद मिल सकती है। प्रेग्नेंसी स्ट्रेच मार्क्स से छुटकारा पाने के लिए और इससे जुड़े विकल्पों के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लीक करें।

    और पढ़ें : स्ट्रेच मार्क्स से छुटकारा पाने के आसान उपाय, डिलिवरी के बाद आएंगे काम

    प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेच मार्क्स और प्रेग्नेंसी के बाद स्ट्रेच मार्क्स: प्रेग्नेंसी के बाद स्ट्रेच मार्क्स को कैसे दूर किया जा सकता है?

    प्रेग्नेंसी के बाद स्ट्रेच मार्क्स की समस्या को दूर करने के लिए निम्नलिखित एक्सरसाइज या योगासन का सहारा लिया जा सकता है। जैसे:

    1. स्क्वैट्स एक्सरसाइज (Squat Exercise)

    स्क्वैट्स एक्सरसाइज करने के लिए बॉडी को स्ट्रेट करने और घुटनों पर फोर्स लगाते हुए बॉडी को नीचे यानी कुर्सी पर बैठने की पोजीशन में लाएं। इस एक्सरसाइज को 10 से 15 बार किया जा सकता है या आप अपनी शारीरिक क्षमता को ध्यान में रखकर करें।

    2. साइड लेग लिफ्ट (Side leg left)

    साइड लेग लिफ्ट वर्कआउट करना बेहद आसान है। आप बॉडी को लेटने की अवस्था में लाएं और फिर बॉडी को टर्न करें। अब लेफ्ट लेग को ऊपर की ओर लेजाएं। ऐसा आप अपने राइट लेग से भी करें। इस एक्सरसाइज को 10 से 12 बार या अपनी क्षमता के अनुसार करें।

    3. नौकासन (Naukasan)

    नौकासन को भी आसानी से किया जा सकता है। बॉडी वेट अपने हिप पर डालें और पीठ को फ्लोर से टच ना होने दें। अब दोनों पैरों को भी घुटने से बैंड करते हुए ऊपर लाएं। पीठ को पीछे ले जाते हुए और दोनों हाथों को घुटनों के पैरलल लाएं। इस आसान को आप अपनी शारीरिक क्षमता या फिर 10 से 12 बार रिपीट कर सकती हैं।

    नोट: प्रेग्नेंसी के बाद एक्सरसाइज करने से पहले डॉक्टर से जरूर सलाह लें। डॉक्टर आपकी हेल्थ कंडिशन को ध्यान में रखकर एक्सरसाइज कब से करना बेहतर होगा इसकी सलाह देंगे।

    और पढ़ें : पोस्ट प्रेग्नेंसी वर्कआउट करने के दौरान रखें इन बातों का ख्याल

    क्या प्रेग्नेंसी के बाद स्ट्रेच मार्क्स अपने आप जा सकते हैं?

    प्रेग्नेंसी के दौरान और बाद में स्ट्रेच मार्क्स (Stretch Marks During and After Pregnancy)

    गर्भवथा के कारण होने वाले स्ट्रेच मार्क्स नहीं जाते हैं और ये स्ट्रेच मार्क्स बेबी डिलिवरी के बाद और ज्यादा नजर आते हैं यानी आप इसे आसानी से नोटिस कर सकती हैं। वैसे प्रेग्नेंसी स्ट्रेच मार्क्स से आपको परेशान नहीं होना चाहिए, क्योंकि कहते हैं कुछ दाग अच्छे होते हैं। 😇

    इस आर्टिकल में हमनें आपके साथ प्रेग्नेंसी के दौरान और बाद में स्ट्रेच मार्क्स (Stretch Marks During and After Pregnancy) की जानकारी शेयर की है। इसलिए इसके कारणों को ध्यान में रखें वहीं अगर आप प्रेग्नेंसी के दौरान और बाद में स्ट्रेच मार्क्स (Stretch Marks During and After Pregnancy) से जुड़े किसी तरह के सवालों का जवाब जानना चाहते हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

    प्रेग्नेंसी के दौरान गर्भवती महिला अपना ख्याल तो रखती हैं, लेकिन प्रेग्नेंसी के बाद भी गर्भवती महिला को अपने विशेष ख्याल रखना चाहिए। इसलिए नीचे दिए इस वीडियो लिंक पर क्लिक करें और एक्पर्ट से जानें न्यू मदर के लिए खास टिप्स यहां।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 30/03/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड