home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

वैक्यूम डिलिवरी क्या है, क्यों पड़ती है इसकी जरूरत?

वैक्यूम डिलिवरी क्या है, क्यों पड़ती है इसकी जरूरत?

वैक्यूम एक्सट्रेक्शन को वैक्यूम असिस्टेड डिलिवरी भी कहते है। वैक्यूम डिलिवरी (vacuum delivery) के दौरान अपनाएं जाने वाले तरीकों में से एक है। वजायनल डिलिवरी के समय जब बच्चा मां के बर्थ कैनाल से आसानी से नहीं निकलता है तो कप जैसे शेप के वैक्यूम का यूज करना पड़ता है। वैक्यूम कप को बेबी के सिर में लगाया जाता है और बाहर की ओर खींचा जाता है। वैक्यूम डिलिवरी तब अपनाई जाती है जब होने वाली मां को कॉन्सट्रेक्शन महसूस हो रहा हो और वो बच्चे को पुश कर रही हो। वैक्यूम एक्सट्रेक्शन को लेबर की सेकेंड स्टेज में अपनाया जाता है। इसका प्रयोग ज्यादातर तब किया जाता है जब लेबर के दौरान कोई प्रोग्रेस नहीं दिखती है और साथ ही बच्चे की हेल्थ तुरंत डिलिवरी पर निर्भर हो। आज हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में हम आपको वैक्यूम डिलिवरी के बारे में जानकारी देंगे। जानिए ये क्यों की जाती है।

और पढ़ें : डिलिवरी के वक्त होती हैं ऐसी 10 चीजें, जान लें इनके बारे में

वैक्यूम डिलिवरी (Vacuum Delivery) क्यों की जाती है?

जब सामान्य डिलिवरी में समस्या उत्पन्न होती है तो है तो वैक्यूम डिलिवरी (vacuum delivery) की जरूरत पड़ती है। वैक्यूम डिलिवरी (vacuum delivery) को करने से पहले डॉक्टर्स कुछ बातों पर गौर करते हैं जैसे-

  • गर्भाशय ग्रीवा या सर्विक्स पूरी तरह से फैल गया हो।
  • मेंबरेन पूरी तरह से रप्चर हो चुकी हो।
  • बच्चे का सिर बर्थ कैनाल के पास आ गया हो।
  • इन सब कंडिशन के बाद जब मां बच्चे को पुश करने में पूरी तरह से सक्षम नहीं होती है तो वैक्यूम एक्सट्रेक्शन का यूज किया जाता है।
  • वैक्यूम डिलिवरी की जरूरत पड़ने पर ही हेल्थ सेंटर या अस्पताल में इस प्रॉसेस को अपनाया जाता है।

और पढ़ें :फॉरसेप्स डिलिवरी गाइडलाइन: क्यों जानना है जरूरी?

डॉक्टर वैक्यूम डिलिवरी (vacuum delivery) किन कंडिशन में करता है?

वैक्यूम डिलिवरी कराने का फैसला कई सिचुएशन के बाद लिया जाता है। हालांकि, डॉक्टर सबसे पहले महिला की डिलिवरी कराने के लिए सामान्य तरीके से प्रयास करते हैं, लेकिन अगर डॉक्टर को नीचे बताई गई सिचुएशन का आभास हो, तो डॉक्टर वैक्यूम डिलिवरी कराने का फैसला ले सकते हैं :

वैक्यूम से प्रसव: पुश करने पर भी लेबर में न हो प्रॉग्रेस

डिलिवरी के दौरान महिला को काफी पुश करना होता है। पुश करने से ही नॉर्मल डिलिवरी के दौरान शिशु बाहर आता है। लेकिन कई बार कुछ महिलाएं पुश करते करते इतना थक जाती हैं कि वो पुश करने में असमर्थ हो जाती हैं। ऐसे में जब मां पूरी तरह से थक जाती है या फिर पुश करने की कंडिशन में नहीं रहती है तब वैक्यूम डिलिवरी (vacuum delivery) को अपनाया जा सकता है।

वैक्यूम से प्रसव: बेबी की हार्टबीट नॉर्मल पर असर पड़ना

कुछ स्थितियों में डिलिवरी के दौरान बच्चे की हार्टबीट पर असर पड़ने लगता है। ऐसे में भी वैक्यूम डिलिवरी (vacuum delivery) का सहारा लिया जा सकता है। अगर आपके हेल्थ केयर प्रोवाइडर को ये महसूस होता है कि बच्चे की हार्टबीट में बदलाव आ रहा है तो वो तुरंत वैक्यूम एक्ट्रेक्शन की मदद लेते हैं।

वैक्यूम से प्रसव: मां को किसी प्रकार का हेल्थ इशू हो

प्रेग्नेंसी के दौरान हर महिला को काफी सारे शारीरिक बदलावों से होकर गुजरना पड़ता है। कई महिलाओं की शारीरिक स्थित प्रेग्नेंसी के शुरुआती समय से ही

होने वाली मां को अगर किसी प्रकार का हेल्थ इश्यू जैसे कि दिल की महाधमनी का संकुचन (narrowing of the heart’s aortic valve) रह चुका है तो डॉक्टर वैक्यूम एक्सट्रेक्शन को अपना सकते हैं।

और पढ़ें : डिलिवरी बैग चेकलिस्ट जिसे हर डैड टू बी को जानना चाहिए

वैक्यूम से प्रसव: इन बातों का भी रखा जाता है ध्यान

वैक्यूम डिलिवरी (vacuum delivery) के वक्त डॉक्टर कुछ बातों का ध्यान रखते हैं, अगर सभी कंडिशन फुल फिल नहीं होती हैं तो डॉक्टर वैक्यूम डिलिवरी नहीं करते हैं।

  1. आपको 34 सप्ताह से कम की प्रेग्नेंसी होगी तो डॉक्टर वैक्यूम डिलिवरी नहीं करते हैं।
  2. बच्चे कि कंडिशन जैसे ओस्टोजेनेसिस इम्पेक्टा के कारण हड्डियों की मजबूती में प्रभाव या ब्लीडिंग डिसऑर्डर, हीमोफीलिया आदि के कारण भी वैक्यूम डिलिवरी नहीं की जाती है।
  3. जब बेबी का सिर डिलिवरी के समय बर्थ कैनाल के मिड पाॅइंट से बाहर न आ रहा हो।
  4. जब बेबी की सही पुजिशन के बारे में जानकारी नहीं होती है तो वैक्यूम एक्सट्रेक्शन नहीं किया जाता है। बेबी का फेस स्लाइटली वन साइड हो सकता है या फिर बेबी का फेस फ्रंट की ओर भी हो सकता है।
  5. जब बेबी पेल्विस में ठीक से से न आ पा रहा हो। यानि बच्चे का साइज पेल्विस से बड़ा होने पर वैक्यूम एक्सट्रेक्शन नहीं किया जाता है।

और पढ़ें : डिलिवरी के दौरान कब और कैसे करें पुश?

वैक्यूम डिलिवरी (vacuum delivery) से कोई रिस्क हो सकता है?

वैक्यूम डिलिवरी (vacuum delivery) जरूरत पड़ने पर ही की जाती है। इससे होने वाली मां को रिस्क हो सकता है। मां को वैक्यूम डिलिवरी से होने वाले जोखिम हैं। नीचे जानिए वैक्यूम डिलिवरी (vacuum delivery) से क्या क्या रिस्क हो सकते हैं :

[mc4wp_form id=”183492″]

वैक्यूम डिलिवरी को एक ऑप्शन के तौर पर आजमाया जाता है। इस डिलिवरी से जुड़े हुए रिस्क भी होते हैं। आपको वैक्यूम डिलिवरी के जोखिम की जानकारी होनी चाहिए। वैक्यूम डिलिवरी में कई प्रकार के रिस्क होते हैं, लेकिन आपको इससे डरने की जरूरत नहीं है। कुछ कंडीशन में वैक्यूम डिलिवरी के दौरान कॉम्प्लीकेशन हो सकते हैं, लेकिन ये जरूरी नहीं है कि आपके साथ भी ऐसा ही हो। अगर आपको इससे संबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो बेहतर होगा कि आप एक बार डॉक्टर से परामर्श जरूर कर लें। ऐसा करने से आपकी चिंता दूर हो जाएगी। डिलिवरी के दौरान एक्टपर्ट डॉक्टर को ही रखा जाता है और डॉक्टर परिस्थितिवश ही वैक्यूम डिलिवरी का ऑप्शन चुनते हैं।

और पढ़ें : डिलिवरी के बाद कमर दर्द से राहत के लिए क्या करना चाहिए?

उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा और आपको वैक्यूम डिलिवरी (vacuum delivery) से जुड़ी सभी जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। इसके अलावा, अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं, तो हमसे हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया है, तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर जरूर करें, ताकि उन्हें भी इसकी जानकारी हो और वो इस डिलिवरी से घबराएं नहीं।

health-tool-icon

ड्यू डेट कैलक्युलेटर

अपनी नियत तारीख का पता लगाने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें। यह सिर्फ एक अनुमान है - इसकी गैरेंटी नहीं है! अधिकांश महिलाएं, लेकिन सभी नहीं, इस तिथि सीमा से पहले या बाद में एक सप्ताह के भीतर अपने शिशुओं को डिलीवर करेंगी।

सायकल लेंथ

28 दिन

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Operative Vaginal Delivery /https://www.rcog.org.uk/globalassets/documents/guidelines/gtg_26.pdf/Accessed on 12/12/2019

Vacuum extraction/https://www.mayoclinic.org/tests-procedures/vacuum-extraction/about/pac-20395232/Accessed on 12/12/2019

Assisted Vaginal Delivery Using the Vacuum Extractor/https://www.aafp.org/afp/2000/0915/p1316.html/Accessed on 12/12/2019

Vacuum-Assisted Vaginal Delivery/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2672989/Accessed on 12/12/2019

Vacuum-assisted delivery/https://medlineplus.gov/ency/patientinstructions/000514.htm/Accessed on 12/12/2019

Forceps or vacuum delivery/https://www.nhs.uk/conditions/pregnancy-and-baby/ventouse-forceps-delivery/Accessed on 12/12/2019

 

लेखक की तस्वीर
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 22/07/2020 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड