इन ऑयल्स से करें शिशु की मसाज, मिलेंगे बेहतर रिजल्ट

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

शिशु की त्वचा बेहद संवदेनशील होती है। मसाज के लिए गलत तेल का इस्तेमाल उसकी त्वचा को नुकसान पहुंचा सकता है। सही तेल इस्तेमाल करने से शिशु की मस्क्युलर एक्टिविटी अच्छी रहती है। साथ ही शिशु की बॉडी में ब्लड फ्लो भी सही रहता है। मस्क्युलर एक्टिविटी न होने से शिशु की मसल्स कमजोर हो जाती हैं।

शिशु की मसाज में इस्तेमाल होने वाले ऑयल्स को लेकर हमने पंजाब के बटाला में स्थित शिव शक्ति आयुकेर क्लीनिक की डॉक्टर सुनीता कुंद्रा से खास बातचीत की। 15 वर्षों से अधिक समय का अनुभव रखने वालीं फैमिली फिजिशियन डॉक्टर सुनीता कुंद्रा बीएएमएस हैं। उन्होंने दिल्ली के सफदरजंग, हिंदु राव और एयूटीसी हॉस्पिटल के साथ काम किया है।

शिशु की मालिश किन ऑयल्स से करें? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ‘आयुर्वेदिक ऑयल्स से शिशु की मालिश की जानी चाहिए।’ उन्होंने बताया कि महिलाओं को बाजार में मिलने वाले ब्रांडेड ऑयल्स का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इस प्रकार के ऑयल्स पैट्रोलियम ऑयल से मिलकर बने होते हैं। जानते हैं डॉक्टर ने किन आयॅल्स को रिकमंड किया है।

और पढ़ें: शिशु की मालिश से हो सकते हैं इतने फायदे, जान लें इसका सही तरीका

शिशु की मसाज के लिए इन ऑयल्स का कर सकते हैं यूज

नारियल तेल से करें शिशु की मसाज (Coconut oil for baby massage)

उन्होंने कहा कि महिलाओं को ऑर्गेनिक नारियल तेल ही इस्तेमाल करना चाहिए। ऑर्गेनिक नारियल तेल में सैचुरेटेड फैट्स होते हैं, जो शिशु की त्वचा से नमी को निकलने से रोकते हैं। इससे त्वचा कोमल और मुलायम रहती है। नारियल तेल को शिशु की त्वचा आसानी से सोख लेती है। इसमें ओलेइक एसिड के साथ लिनोलिक एसिड होता है। नारियल तेल का करीब 48% हिस्सा ल्युरेइक एसिड से बना होता है, जो बीमारियों से लड़ता है।

ऑलिव ऑयल से करें शिशु की मसाज (Olive oil for baby massage)

शिशु की मालिश के लिए ऑलिव ऑयल बेहद गुणकारी है। शिशु के चार माह पूरा कर लेने के बाद ही इसका इस्तेमाल बेहतर होगा। ऑयल्स का चुनाव करते वक्त महिलाओं को प्रोटीन कंटेंट वाले ऑयल लेने चाहिए। हालांकि, शिशु की ऑलिव ऑयल से मालिश करने पर होने वाले नुकसान को लेकर अभी पुख्ता अध्ययन नहीं किए गए हैं। इनमें से ज्यादा शोध ओलेइक एसिड के त्वचा पर प्रभाव पर किए गए हैं ना कि ऑलिव ऑयल पर। कुछ जानकारों का मानना है कि ऑलिव ऑयल में ओलेइक एसिड होता है, जो बच्चे की स्किन के लिए नुकसानदायक है। ऑलिव ऑयल से शिशु की मालिश करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।

और पढ़ें : बच्चों में हाई ब्लड प्रेशर के कारण और इलाज

शिशु की मसाज के लिए बादाम तेल  (Almond oil for baby massage)

बादाम तेल में विटामिन ई और विटामिन डी होता है। यह शिशु की त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद होता है। यह शिशु की त्वचा को हेल्दी और कोमल रखता है। बादाम तेल की मालिश सालभर की जा सकती है। बादाम तेल में एंटी-इंफ्लमेंट्री गुण होते हैं। यह डैमेज्ड और रूखी त्वचा को ठीक करने का कार्य करते हैं। सर्दियों में बादाम तेल से मसाज का अतिरिक्त फायदा मिलता है। यह एक नैचुरल मॉश्चराइजर है। बादाम तेल की मालिश करने से शिशु की त्वचा रूखी नहीं होती है।

सनफ्लावर ऑयल से करें शिशु की मसाज (Sunflower oil for baby massage)

कुछ महिलाएं सनफ्लावर ऑयल से शिशु की मालिश करती हैं। सनफ्लावर ऑयल में ओमेगा-3 होता है, जो शिशु के लिए फायदेमंद होता है। हाल ही में किए गए एक शोध में पता चला कि कुछ समय बाद इसका स्किन बैरियर पर बुरा असर पड़ता है। हालांकि, यह बात एक छोटे ट्रायल में सामने आई है। इस संबंध में अभी व्यापक अध्ययन किया जाना बाकी है। फिर भी इस तेल का उपयोग करने से पहले डॉक्टर से कंसल्ट जरूर करें।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

शिशु की मसाज के लिए सरसों का तेल (Mustard oil for baby massage)

सरसों के तेल में ओमेगा-3 और ओमेगा-6 फैटी एसिड्स होते हैं। इसमें सैचुरेटेड फैट्स का स्तर कम होता है। अक्सर महिलाएं शिशु की मालिश सरसों के तेल से करती हैं। वहीं, कुछ जानकारों का मानना है कि सरसों का तेल स्किन के बैरियर पर गलत असर डालता है, जिससे जलन और शिशु की कोमल त्वचा को नुकसान पहुंच सकता है।

ये भी पढ़ें : छोटे बच्चे का ज्यादा रोना हो सकता है कॉलिक, ऐसे करें हैंडल

डॉक्टर सुनीता बताती हैं कि, ”महिलाएं गर्मियों में नारियल तेल से शिशु की मालिश कर सकती हैं। वहीं, सर्दियों में बादाम तेल से मालिश की जा सकती है। कुछ ब्रांडेड तेल भी शिशु की सेहत के लिए बढ़िया रहते हैं।” शिशु की मसाज के लिए किसी भी तेल का इस्तेमाल करने से पहले अपने आयुर्वेदिक डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

शिशु की मसाज करने के फायदें (Benefits of baby massage)

अक्सर देखा जाता है कि घर की महिलाएं बच्चों को नहलाने से पहले बच्चों की रगड़-रगड़ के मालिश करती हैं। कई मामलों में यह भी देखा जाता है कि बच्चों की मांसपेशियों की समस्या या फिर शरीर के किसी हिस्से में दर्द होने पर बच्चों को मालिश से ही आराम मिल जाता है। ऐसे ही बच्चों की मालिश के फायदे हैं। बच्चों की मालिश से उनकी थकी हुई मांसपेशियों को राहत मिलती है। बच्चों की मालिश से उन्हें  कई समस्याओं में राहत मिलने के साथ-साथ अच्छी नींद भी आती है। साथ ही बच्चों को मांसपेशियों के दर्द और थकान में भी आराम मिलता है। इसके अलावा बच्चों की मालिश करने से उनका ब्लड प्रेशर ठीक बना रहता है।

और पढ़ें: कई तरह से लाभदायक है चेहरे की मालिश, जानिए इसके फायदे

मालिश से बच्चों के शरीर के विकास में भी मदद मिलती है। भारत में सदियों से घर की महिलाएं बच्चों की मालिश करती आई हैं लेकिन आज महिलाएं बच्चों की मालिश को लेकर उतनी सजग नहीं दिखती हैं जबकि कई शोधों में इस बात की पुष्टि भी हो चुकी है कि मालिश से बच्चों को कई फायदे होते हैं। लेकिन आज के दौर की मां बच्चे को थोड़ा ही रोता देख घबरा जाती हैं। वही मालिश करते समय बच्चे का रोना स्वभाविक होता है। साथ ही आज कि महिलाएं इस बात से भी घबराती हैं कि मालिश करते समय बच्चे को कुछ न हो जाए। वहीं यह भी समझ लें कि मालिश अगर ठीक ढ़ंग से की जाए, तो इससे कोई खतरा नहीं होता है। भारत के कई हिस्सों में तो आटे और तेल को मिलाकर भी मालिश की जाती है। इससे बच्चे के अनचाहे बाल तो साफ होते ही हैं और साथ ही उनका ब्लड सर्कुलेशन भी ठीक बना रहता है।

शिशु की मसाज के फायदे जानकर आप समझ ही गए होंगे कि बच्चों के शुरुआती सालों में उनके लिए मालिश कितनी जरूरी है। साथ ही अब आप शिशु की मसाज करते हुए तेल भी आसानी से चुन सकते हैं। यदि आप इससे जुड़ी अन्य कोई जानकारी पाना चाहते हैं तो बेहतर होगा कि इसके लिए अपने चिकित्सक से कंसल्ट करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

टाइफाइड का आयुर्वेदिक इलाज कैसे करें? जानिए दवा और प्रभाव

टाइफाइड का आयुर्वेदिक इलाज कैसे करें, टाइफाइड का आयुर्वेदिक इलाज इन हिंदी, टाइफाइड के घरेलू उपाय, Ayurvedic Medicine and Treatment for typhoid.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन जून 8, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

सेल्फ मसाज कैसे करें? जानिए इसके फायदे

सेल्फ मसाज कैसे की जाती है? सेल्फ मसाज करने का तरीका क्या है? सेल्फ मसाज की सही टेक्नीक के लिए पढ़ें ये आर्टिकल ताकि आप भी घर पर अकेले मसाज कर सकें। self massage benefits in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
ब्यूटी/ ग्रूमिंग, स्वस्थ जीवन मई 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

वजन कम करने से लेकर बीमारियों से लड़ने तक जानिए आयुर्वेद के लाभ

आयुर्वेद का लाभ के साथ आयुर्वेदिक पद्दिति की जानकारी। मानव शरीर के लिए है कितना उपयोगी, इसका सेवन करन से कैसे रहा जा सकता है स्वस्थ।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Satish singh
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अप्रैल 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

नाभि में तेल लगाने के अलग-अलग फायदे जिनके बारे में जानना है जरूरी

नाभि में तेल लगाने के फायदे, नाभि में तेल क्यों लगाते हैं, Oiling your navel, नाभि कें अंदर तेल कैसे लगाएं, नाभी के लिए कितना फायदेमंद है तेल, जानें और

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Lucky Singh
फन फैक्ट्स, हेल्थ सेंटर्स नवम्बर 14, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

आयुर्वेदिक डिटॉक्स क्विज

QUIZ : आयुर्वेदिक डिटॉक्स क्विज खेल कर बढ़ाएं अपना ज्ञान

के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अगस्त 25, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
नवजात शिशु की मालिश के लाभ/new born baby massage benefits

नवजात शिशु की मालिश के लाभ,जानें क्या है मालिश करने का सही तरीका

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ जुलाई 27, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
चिकनपॉक्स का आयुर्वेदिक इलाज

चिकनपॉक्स का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानें क्या करें और क्या नहीं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जून 18, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
सोरायसिस का आयुर्वेदिक इलाज - ayurvedic treatment of psorasis

सोरायसिस का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानें क्या करें और क्या नहीं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जून 9, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें