home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

स्किन पर भी ग्लो लाने के अलावा और भी हैं विटामिन-ई के लाभ

स्किन पर भी ग्लो लाने के अलावा और भी हैं विटामिन-ई के लाभ

हमारी बॉडी के सिस्टम को ठीक ढंग से काम करने के लिए कई सारे पोषक तत्वों की जरुरत होती है। जैसे कि विटामिन्स, प्रोटीन, खनिज, कार्ब्स इत्यादि। विटामिन्स हमें बीमारियों से दूर रखने में मदद करते हैं। यह त्वचा के साथ- साथ सौंदर्य में भी निखार लाते हैं। ऐसे ही विटामिनों में से एक हैं विटामिन E । विटामिन-ई को ज्यादातर तो त्वचा के लिए उपयोगी माना जाता है लेकिन शायद बहुत कम लोगों को पता होगा कि इसके कई अन्य स्वास्थ्य संबंधित लाभ भी हैं। तो चलिए आज आपको बताते हैं विटामिन-ई के कुछ ऐसे ही लाभों के बारे में।

यह भी पढ़ें : Asafoetida : हींग क्या है?

शरीर के लिए विटामिन ई की कितनी मात्रा आवश्यक है
आपको प्रतिदिन कितने विटामिन ई की आवश्यकता है, यह आपकी उम्र और लिंग पर निर्भर करता है। इसके अलावा गर्भावस्था, स्तनपान और बीमारियां उस मात्रा को बढा देती हैं।

नवजात शिशु से छह माह: 4 मिलिग्राम प्रतिदिन

नवजात शिशु 7 से 12 माह: 5 मिलिग्राम प्रतिदिन

बच्चे 1 से 3 वर्ष: 6 मिलिग्राम प्रतिदिन

बच्चे 4 से 8 वर्ष: 7 मिलिग्राम प्रतिदिन

बच्चे 9 से 13 वर्ष: 11 मिलिग्राम प्रतिदिन

14 वर्ष और उससे बडे: 15 मिलिग्राम प्रतिदिन

स्तनपान कराने वाली महिलाएं: 17 मिलिग्राम प्रतिदिन

1. विटामिन ई के लाभ त्वचा के लिए

त्वचा आपके शरीर का सबसे बड़ा अंग है। इसलिए इसकी देखभाल भी उतनी ही ज़रूरी है। ऊपरी देखभाल के लिए आप बहुत सारे प्रोडक्ट इस्तेमाल करते हैं जैसे कि क्रीम,साबुन ,तेल इत्यादि लेकिन त्वचा की पूरी देखभाल के लिए इसको अंदर से निखारना भी उतना ही ज़रूरी है। जिसके लिए विटामिन E का इस्तेमाल किया जाता है। विटामिन E त्वचा में फ्री पार्टिकल्स के डैमेज को रोकता है और साथ ही साथ त्वचा को सूरज की हानिकारक यू वी किरणों से भी बचाता है। विटामिन E में सूजन-रोधी गुण होने के कारण यह त्वचा की अंदरूनी और बाहरी सूजन को भी खत्म करता है।

यह भी पढ़ें : Ashwagandha : अश्वगंधा क्या है?

2. विटामिन ई के लाभ हार्ट को फिट रखने के लिए

क्या आप जानते हैं विटामिन E हृदय संबंधित रोगों से आपका बचाव कर सकता है। जो लोग हाई- ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस का शिकार हैं और जो लोग डायबिटीज से जूझ रहे हैं ऐसे लोगों में हार्ट अटैक का खतरा ज्यादा होता है। विटामिन E ऐसे अनचाहे खतरों को आपसे दूर रखने में मदद कर सकता है। कई अध्ययनों में यह पाया गया है कि विटामिन E का प्रयोग हार्ट अटैक की सम्भावना लगभग 20 प्रतिशत तक कम कर देता है।

3. विटामिन ई के लाभ आंखों के लिए

एक अध्ययन से यह पता चलता है कि अगर विटामिन E को विटामिन C , विटामिन A और जिंक के साथ लिया जाए तो यह आंखों से संबंधित रोग जैसे कि एज रिलेटेड मैक्युलर डीजनरेशन (AMD) के दुष्प्रभावों में कमी ला सकता है। इसके अलावा विटामिन E का सही इस्तेमाल मोतियाबिंद के जोखिम को 60 प्रतिशत तक कम कर देता है।

4. विटामिन ई के लाभ इम्यून सिस्टम हेल्दी रखने के लिए

बढ़ती उम्र के साथ हमारी इम्यूनिटी तेजी से कम होने लगती है। विटामिन-ई इस कम होती इम्युनिटी को रोक सकता है। अध्ययनों की एक सीरीज में यह पाया गया कि वृद्धों द्वारा विटामिन E का सेवन किए जाने पर उनकी इम्यूनिटी काफी हद तक बढ़ गयी थी। इससे यह भी सिद्ध होता है कि विटामिन E शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाने में सहायक है।

इस तरह हम समझ सकते हैं की विटामिन E हमारे लिए कितना जरूरी है। बॉडी में इसकी कमी न होने पाए हमें इसका ध्यान रखना चाहिए। अगर आपको स्किन या आँखों से संबंधित कोई बीमारी है तो आप डॉक्टर की मदद लेकर अपने आहार में इसकी मात्रा बढ़ा सकते हैं।

5. विटामिन ई के लाभ क्लींजर के रूप में

विटामिन ई का उपयोग कई तरह के सौंदर्य प्रसाधनों में किया जाता है। इसका अहम कारण है, कि यह एक बेहतरीन क्लींचर है, जो त्वचा की सभी परतों पर जमी गंदगी और मृत कोशिकाओं की सफाई करने में सहायक है।

6. विटामिन ई के लाभ प्रेग्नेंसी के दौरान

शरीर में रेड ब्‍लड सेल्‍स यानि लाल रक्‍त कोशिकाओं का निर्माण करने में विटामिन-ई सहायक है। प्रेग्‍नेंसी के दौरान विटामिन- ई का सेवन बच्‍चे को एनीमिया यानि खून की कमी से बचाता है।

विटामिन ई की कमी को दूर करने के लिए अपने आहार में नीचे बताई गई चीजों को शामिल करें जैसे-

विटामिन ई के लाभ लेना चाहते हैं तो सूरजमुखी के बीज खाएं

सूरजमुखी के बीज विभिन्न प्रकार के पोषक तत्वों से भरे होते हैं। सूरजमुखी के बीज खाने से पाचन तंत्र को मदद मिल सकती है। सूरजमुखी के बीज को कई लोग दही, दलिया या सलाद पर भी छिड़कते हैं। अगर आप 100 g (ग्राम) सूरजमुखी के बीजों का सेवन करते हैं तो उसमें आपको 35.17 mg (मिलीग्राम) विटामिन-ई होता है।

क्विज खेलें और जानें : विटामिन-सी कितना फायदेमंद, जानिए पूरा ज्ञान

विटामिन ई के लाभ के लिए खाएं बादाम

बादाम विटामिन-ई का बहुत ही अच्छा स्रोत है। अगर आप 100 ग्राम बादाम का सेवन करते हैं तो उसमें आपको 25.63 मिलीग्राम विटामिन-ई मिलता है। बहुत से लोग भुने हुए बादाम का भी नाश्ता करते हैं। आप सीरीयल्स के साथ भी बादाम खा सकते हैं। इतना ही नहीं आप बादाम का दूध पी सकते हैं।

विटामिन ई के लाभ के लिए खाएं पालक

हरी पत्तेदार सब्जियों को स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी कहा जाता है। पालक कई आवश्यक विटामिन और मिनरल का स्रोत है, विशेष रूप से विटामिन-ई का। बस 100 ग्राम पालक में 2.03मिलीग्राम विटामिन-ई मिलता है जो कि दैनिक आवश्यकता का 16% है। आप पालक को सलाद के रूप में कच्चा भी खा सकते हैं।

विटामिन ई के लाभ लेने के लिए खाएं ब्रोकली

गोभी परिवार का यह सदस्य प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है और विटामिन-ई से भरपूर है। ब्रोकोली खराब कोलेस्ट्रॉल (एल.डी.एल) को कम करता। आप सूप या सलाद के रूप में ब्रोकोली का सेवन कर सकते हैं। उबली हुई ब्रोकोली का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है। कम तापमान पर ब्रोकोली पकाने से इसके पोषण से भरे तत्व बरकरार रहते हैं।

यह भी पढ़ें : तीसरी तिमाही की डायट में महिलाएं इन चीजों को करें शामिल

विटामिन ई के लाभ मिल सकते हैं सूखी खुबानी खाने से (Dried Apricots)

विटामिन ई की कमी को दूर भगाने के लिए सूखे खुबानी को डायट में शामिल करें। इसमें फाइबर के साथ-साथ कई आवश्यक विटामिन होते हैं, जिनमें विटामिन-ई भी शामिल है। सूखे खुबानी का सेवन डायरेक्ट किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : हेल्दी कुकिंग के लिए करें जैतून के तेल का इस्तेमाल

विटामिन ई के लाभ के लिए ऑलिव या जैतून का तेल यूज करें

जैतून के तेल के साथ ऑलिव फ्रूट भी लाभकारी हो सकता है। इसके सेवन से विटामिन-ई की कमी दूर होती है इसलिए यह सेहत के लिए फायदेमंद हो सकता है। जैतून के तेल को खाना बनाने के लिए उपयोग किया जा सकता है। 100 ग्राम ऑलिव में लगभग 3.81 मिलीग्राम विटामिन ई मौजूद होता है।

हम उम्मीद करते हैं कि विटामिन ई के लाभ पर आधारित यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। किसी प्रकार की अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर या डायटीशियन से संपर्क करें। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी प्रकार की चिकित्सा सलाह, उपचार और निदान प्रदान नहीं करते।

 

और पढ़ें:

Aloe Vera : एलोवेरा क्या है?

Sweet Almond: मीठा बादाम क्या है?

Aloe Vera : एलोवेरा क्या है?

Vitamin B12: विटामिन बी-12 क्या है?

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Vitamin E/https://www.webmd.com/diet/supplement-guide-vitamin-e#1

(Accessed on 31th January 2020)

Vitamin E Oil Is the Skincare Ingredient You’ve Been Overlooking/https://www.health.com/beauty/vitamin-e-oil-benefits

(Accessed on 31th January 2020)

20 Health Benefits of Vitamin E/https://veryhealthy.life/20-health-benefits-vitamin-e/

(Accessed on 31th January 2020)

Vitamin E/https://www.drugs.com/vitamin_e.html

(Accessed on 31th January 2020)

The Benefits of Vitamin E/https://www.healthline.com/health/all-about-vitamin-e

(Accessed on 31th January 2020)

 

लेखक की तस्वीर
Dr. Pooja Bhardwaj के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Pawan Upadhyaya द्वारा लिखित
अपडेटेड 11/07/2019
x