क्या कम उम्र में गर्भवती होना सही है?

Medically reviewed by | By

Update Date जून 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

एक्सपर्ट और रिसर्च के अनुसार 20 से 30 साल की उम्र को गर्भवती होने के लिए सही उम्र माना जाता है। किसी भी महिला के लिए यह उम्र गर्भवती होने के लिए सही है। 20 से 30 वर्ष की कम उम्र में गर्भवती होना बायोलॉजिकली भी सही माना जाता है, लेकिन यही वह उम्र है जब लड़कियां करियर की शुरुआत करती हैं। परिवार में एक नए सदस्य को लाना या इसे साफ शब्दों में कहें तो बच्चे की परवरिश के लिए शारीरिक, मानसिक और आर्थिक स्थिति मजबूत होनी चाहिए।

बदलती लाइफ स्टाइल में आजकल की ज्यादातर लड़कियां आत्मनिर्भर बनना चाहती हैं। खुद उस मुकाम तक पहुंचना चाहती हैं जहां वे किसी जिम्मेदारी न बनकर परिवार को सहयोग कर सकें। ऐसे में 20 से 30 साल की आयु में शादी करने के साथ ही मां बनना महिलाओं के लिए चुनौतियों को ज्यादा बढ़ा देता है।

क्या कम उम्र में गर्भवती होना सही है?

 इस आर्टिकल में हम इस बारे में बताएंगे कि क्या 20 से 30 साल की महिलाओं के लिए गर्भवती होना सही है? कम उम्र में गर्भवती होने के क्या-क्या फायदे हैं और क्या-क्या नुकसान हैं? यह भी जानेंगे कि इतनी कम उम्र में अगर कोई महिला गर्भधारण कर रहीं हैं, तो किन-किन बातों का ख्याल रखें?

और पढ़ें- प्रेग्नेंसी के दौरान तनाव का असर हो सकता है बच्चे पर, ऐसे करें कम

डिलीवरी डेट कैलकुलेटर

कम उम्र में गर्भवती होना सेहत के लिए अच्छा क्यों है?

30 साल से कम उम्र की महिलाओं के मां बनने (कम उम्र में गर्भवती होना) के निम्नलिखित फायदे हैं:

  • सबसे पहले तो कम उम्र में गर्भवती होना किसी भी शारीरिक परेशानी को कम करने सहायक होता है
  • ब्लड प्रेशर की समस्या कम होगी
  • जेस्टेशनल डायबिटीज का खतरा न के बराबर होगा
  • गायनेकोलॉजिकल परेशानी जैसे यूटेराइन फाइब्रॉइड्स जैसी समस्या कम होगी
  • नवजात का वजन संतुलित रहेगा
  • गर्भावस्था के बावजूद शरीर फ्लेक्सिबल रहेगा
  • समय से पहले डिलिवरी का खतरा नहीं रहेगा
  • मिसकैरेज का खतरा कम रहता है
  • सिजेरियन डिलिवरी की तुलना में नॉर्मल डिलिवरी की संभावना ज्यादा होती है
  • जेनेटिक प्रॉब्लम्स की संभावना न के बराबर होती है

और पढ़ें: प्रेग्नेंसी के पहले ट्राइमेस्टर में व्यायाम करें या नहीं?

कम उम्र में गर्भवती होना किन कारणों से हो सकता है नुकसानदायक?

  • कम उम्र में गर्भवती होना पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ दोनों पर प्रभाव डाल सकता है।
  • कम उम्र में गर्भवती होना, डिप्रेशन जैसी परेशानी शुरू कर सकता है।
  • प्रेग्नेंसी की जानकारी ज्यादा न होने के कारण मिसकैरेज का खतरा बना रहता है।
  • बच्चों के पालन पोषण की सही जानकारी न होने के कारण दोनों (पति-पत्नी) ही ठीक से देखभाल नहीं कर पाते हैं।
  • कम उम्र में गर्भवती होना प्रीमैच्योर डिलिवरी का कारण बन सकता है।

अमेरिका जैसे देशों में 20 से 30 वर्ष उम्र की जगह 30 साल या इसके बाद मां बनना बेहतर समझते हैं। क्योंकि इसके दो फायदे होते हैं पहला की कपल्स अपने-अपने करियर पर फोकस कर पाने के साथ-साथ एक-दूसरे को समझने के लिए समय निकाल पाते हैं, तो वहीं बच्चे को संभालने के लिए भी उनमें ज्यादा समझदारी आ जाती है।

और पढ़ें: प्रेग्नेंसी में पीनट बटर खाना चाहिए या नहीं? जाने इसके फायदे व नुकसान

कम उम्र में गर्भवती होना है, तो किन-किन बातों का ख्याल रखना चाहिए?

  • गर्भधारण करने वाली मां शारीरिक रूप से फिट होनी चाहिए।
  •  कपल को मानसिक रूप से मजबूत होना चाहिए।
  • आर्थिक स्थिति ठीक होने के साथ-साथ शिशु के जन्म के बाद की फाइनेंशियल प्लानिंग होनी चाहिए।

गर्भधारण के निर्णय लेने से पहले एक बार इसके फायदे और नुकसान दोनों के बारे में अच्छी तरह समझ लें। ज्यादा बेहतर होगा कि आप अपने पार्टनर और डॉक्टर से सलाह जरूर लें। इससे प्रेग्नेंसी में आने वाली समस्याओं से निपटने में मदद मिल सकती है।

कम उम्र में गर्भवती होना या अगर आपकी उम्र 20 साल से ज्यादा है और 30 साल से कम है, तो बायोलॉजिकल दृष्टिकोण से तो मां बनने के लिए ठीक है, लेकिन इस दौरान भी गर्भवती महिला को अपने आहार पर विशेष ध्यान देना चाहिए।

हैलो स्वास्थय की टीम ने इस बारे में पुणे की रहने वाली 26 वर्षीय वर्षा देशमुख एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर से बात की। वर्षा कहती हैं कि, “मेरी शादी 20 साल की उम्र में ही हो गई थी और उस वक्त मैं पढ़ाई भी कर रही थी। 21 साल की उम्र में मैं प्रेग्नेंट हो गई और मां बन गई। प्रेग्नेंसी के दौरान जॉब जॉइन किए हुए सिर्फ 2 से 3 महीने ही हुए थे। ऐसे में ऑफिस में अच्छा करने की चाह की वजह से मैं कई बार खाना स्किप करने लगी तो देर रात तक जाग-जाग कर काम करने लगी। जिस वजह प्रेग्नेंसी के दौरान मुझे शारीरिक परेशानी जैसे कमजोरी महसूस होना सुस्त होना और यहां तक कि सबकुछ एक साथ होने की वजह से मैं डिप्रेशन में रहने लगी थी।

स्थिति को समझते हुए मेरे लाइफ पार्टनर से देर न करते हुए डॉक्टर को सारी बात बताई। मुझे आराम करने की सलाह दी गई, तो मैंने पार्ट टाइम घर से ही काम करना शुरू किया और अपने ऊपर ध्यान रखना भी। मेरी नॉर्मल डिलिवरी हुई और इस वक्त मैं एक 5 साल की बेटी की मां भी हूं।”

और पढ़ें- गर्भावस्था के दौरान स्ट्रेच मार्क्स: इन घरेलू उपचार से मिलेगा आराम

किसी भी उम्र में गर्भधारण करने पर आहार और आराम का विशेष ध्यान रखना आवश्यक है। ऐसे में गर्भवती महिला को निम्नलिखित आहार का सेवन करना चाहिए। जैसे-

  • गर्भवती महिला को सर्दियों के मौसम में 2 से 3 लीटर पानी का सेवन करना चाहिए। वहीं अगर आप गर्मी के मौसम में गर्भवती हैं, तो शरीर को डीहाइड्रेशन से बचाने के लिए 3 लीटर से ज्यादा पानी का सेवन करना चाहिए।
  • रोजाना हरी पत्तेदार सब्जियों के साथ-साथ मौसमी फलों का भी सेवन रोजाना करें। हरी सब्जियों के सेवन से शरीर को प्रचुर मात्रा में फोलिक एसिड की प्राप्ति होती है।
  • साबुत अनाज जैसे गेहूं की रोटी, दाल और चावल का सेवन रोजाना करें। मैदे से बनी चीज या बिस्कुट जैसे खाद्य पदार्थों का सेवन न करें। यह सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है।
  • गर्भावस्था के दौरान शरीर में प्रोटीन का लेवल सही बना रहे इसलिए अंडे का सेवन लाभकारी हो सकती है। अगर आप अंडा नहीं खाती हैं तो इसकी जगह आप पनीर का सेवन कर सकती हैं।
  • प्रेग्नेंसी के दौरान कैल्शियम की कमी भी शरीर में नहीं होनी चाहिए। इसलिए दूध का सेवन रोजाना करें। दूध के नियमित सेवन से गर्भ में पल रहे शिशु की हड्डियां मजबूत होती हैं।
  • कम उम्र में गर्भवती होना या उम्र के किसी अन्य पड़ाव में ड्राय फ्रूट्स का सेवन रोजाना करें। इस दौरान अखरोट का सेवन बेहद लाभकारी माना जाता है। प्रेग्नेंसी में स्नैक्स भी जरूर लें

अगर आप कम उम्र में गर्भवती होना या इससे जुड़े किसी तरह के कोई सवाल जानना चाहती हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Autrin: ऑट्रिन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

ऑट्रिन दवा की जानकारी in hindi. डोज, साइड इफेक्ट्स, उपयोग, सावधानियां और चेतावनी के साथ रिएक्शन जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 24, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Ovral L: ओवरल एल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

ओवरल एल की जानकारी in hindi वहीं इस दवा के साइड इफेक्ट के साथ चेतावनी, डोज, किन बीमारी और दवाओं के साथ कर सकता है रिएक्शन, स्टोरेज कैसे करें के लिए पढें।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 12, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

क्यों प्लेसेंटा और प्लेसेंटा जीन्स को समझना है जरूरी?

प्लेसेंटा जीन्स का क्या पड़ता है बेबी बॉय या बेबी गर्ल पर असर? जन्म लेने वाले बेबी गर्ल या बेबी बॉय में कौन होता है ज्यादा स्ट्रॉन्ग?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Nidhi Sinha
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी जून 1, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

प्रेग्नेंसी के दौरान अल्फा फिटोप्रोटीन टेस्ट(अल्फा भ्रूणप्रोटीन परीक्षण) करने की जरूरत क्यों होती है?

अल्फा भ्रूणप्रोटीन परीक्षण करना क्यों है जरूरी? जानिये अल्फा फिटोप्रोटीन टेस्ट अगर पोजिटिव आये तो क्या है निदान। Alpha fetoprotein test in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Mousumi Dutta

Recommended for you

मिफेजेस्ट किट

Mifegest Kit : मिफेजेस्ट किट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shikha Patel
Published on जुलाई 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
लिवोजेन एक्सटी टैबलेट

Livogen XT tablet : लिवोजेन एक्सटी टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shikha Patel
Published on जुलाई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Pregnancy in Period- सेक्स के लिए सुरक्षित अवधि

पीरियड सेक्स- क्या सेक्स के लिए सुरक्षित अवधि है?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Kanchan Singh
Published on जून 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
सेक्स के बाद गर्भावस्था के लक्षण

सेक्स के बाद कितनी जल्दी हो सकती हैं प्रेग्नेंट? जानें यहां

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
Published on जून 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें