क्यों बादाम को भिगोकर खाने की दी जाती है सलाह? जानें भीगे हुए बादाम के फायदे

Medically reviewed by | By

Update Date मई 25, 2020
Share now

आपने अक्सर दादी नानी को कहते हुए सुना होगा कि बादाम खाया करो अक्ल आएगी। मां मुझे हमेशा भीगे हुए बादाम खिलाया करती थी और मैं यही सोचकर खाती थी कि अब तो मैं सबसे अक्लमंद बन जाऊंगी। उस समय मैंने कभी नहीं सोचा कि बादाम खाने से अक्ल कैसे आएगी, लेकिन जब थोड़ी बड़ी हुई तो पता चला कि बादाम में कुछ ऐसे तत्व खासकर प्रोटीन पाया जाता है जो ब्रेन फंक्शन को बेहतर बनाता है। प्रोटीन न सिर्फ ऊर्जा देता है बल्कि यह हमारे ब्रेन सेल्स को रिपेयर भी करता है।

फिर मेरा दूसरा सवाल था कि बादाम तो हम ऐसे भी खा सकते हैं। मम्मी हमेशा भीगे हुए बादाम क्यों खिलाती हैं? मम्मी रात को मेरे और भाई के लिए 2-2 बादाम भिगोती थी और सुबह खाली पेट खाने के लिए कहती थी।
इसका जवाब भी अब मुझे मिल गया, लेकिन मुझे लगता है कि अभी भी बहुत सारे लोग शायद ये नहीं जानते होंगे कि भीगे हुए बादाम को ड्राई बादाम की तुलना में ज्यादा गुणकारी क्यों कहा जाता है। चलिए आपके इस सवाल का जबाव आज हम दे देते हैं।

जवाब- दरअसल ऐसा इसलिए होता है क्योंकि बादाम के ब्राउन छिलके में टैनिन होता है जो कि न्यूट्रिशन के अवशोषण को रोकता है। जब आप बादाम को भिगोते हैं तो यह छिलका आसानी से उतर जाता है और नट को सभी पोषक तत्वों को आसानी से रिलीज करने देता है। जिससे इसके गुण और बढ़ जाते हैं। इसके साथ कच्चे बादाम की तुलना में यह पचने में आसान होता है, तो अब मेरी तरह आप भी समझ ही गए होंगे कि भीगे हुए बादाम को क्यों ज्यादा फायदेमंद कहा जाता है।

अब आता है तीसरा और आखिरी सवाल। भीगे हुए बादाम को खाली पेट ही क्यों खाया जाता है? मैं अक्सर मम्मी से कहती थी कि मैं ब्रेकफास्ट के बाद ये बादाम खा लूंगी, लेकिन वो मुझे लगभग डांटते हुए कहती थी कि नहीं चुपचाप पहले बादाम खाओ फिर नाश्ता करना। चलिए इसका जबाव भी आपको बता ही देते हैं।

जवाब-  दरअसल अगर जब हम भीगे हुए बादाम को खाली पेट खाते हैं तो यह हमारी डायजेस्टिव हेल्थ को इम्प्रूव करता है साथ ही आपके पेट के पीएच लेवल को नॉर्मल रखता है। सिर्फ बादाम ही नहीं दूसरे नट्स भी खाली पेट खाने पर फायदा पहुंचाते हैं।

और पढ़ें: जानें ऐसी 7 न्यूट्रिशन मिस्टेक जिनकी वजह से वेट लॉस डायट प्लान पर फिर रहा है पानी

बादाम को कैसे भिगोएं?

यह प्रॉसेस बेहद आसान है। मैं मम्मी वाली ही प्रॉसेस बताती हूं। एक मुठ्ठी या आधी मुठ्ठी बादाम लीजिए। इन्हें आठ घंटे या रातभर के लिए भिगोकर रखिए। सुबह छिलका उतारक खा लीजिए। आप चाहे तो इन्हें छीलकर प्लास्टिक कंटेनर में रखकर 3-4 दिन के लिए रख सकते हैं। बादाम तो भीगो दिए चलिए अब जानते हैं भीगे हुए बादाम खाने के फायदे। इससे दिमाग ही तेज नहीं होता बल्कि दिल की बीमारी से भी बचाव होता है। साथ ही कई फायदे भी आपको मिलेंगे।

वजन कम करने में करता है मदद

जो लोग वजन कम करना चाहते हैं उन्हें बादाम जरूर खाना चाहिए। अब आप सोच रहे होंगे कि वजन काम करने में भीगे हुए बादाम का क्या काम? दरअसल बादाम फाइबर का हाई सोर्स होते हैं। इसलिए इनको खाने से हमें पेट भरा होना का अहसास होता है। एनसीबीआई के अनुसार एक स्टडी में यह बात सामने आई है कि जो लोग वीक में दो बार नट्स खाते हैं उनका वजन बढ़ने की संभावना जो नट्स नहीं खाते से कम होती है। इस स्टडी में 937 लोगों को शामिल किया गया था। तो अगर आप वजन कम करना चाहते हैं तो आज से ही भीगे हुए बादाम को अपनी डायट का हिस्सा बना लें।

और पढ़ें: उचित नूट्रिशन (आहार-पोषण) के बारे में जानने के लिए क्विज खेलें

हड्डियों और दांतों को करता है मजबूत

कई लोगों को यह जानकर बहुत आश्चर्य होगा कि बादाम मजबूत दांत और हड्डियों के निमार्ण में मदद करते हैं। इनमें पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है। कैल्शियम विटामिन डी के साथ मिलकर आपकी हड्डियों को मजबूत बनाने और बॉडी के परफॉर्मेंस सुधारने में मदद करता है। यह आपके लिए अच्छा पोस्ट वर्कआउट स्नैक भी साबित हो सकता है।

दिल की बीमारियों से बचाता है

कई स्टडीज में इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि जो लोग रेगुलरली नट्स स्पेशली बादाम खाते हैं उनकी मौत हार्ट डिजीज, रेस्पिरेटरी डिजीज और कैंसर से होने की संभावना काफी कम होती है। साथ ही वे लंबा जीवन व्यतीत करते हैं। एक स्टडी के मुताबिक 7 हजार महिला और पुरुषों में हाई कार्डियोवैस्कुलर रिस्क के चलते उन्हें दो डायट ग्रुप में बांटा गया। एक ग्रुप को चार साल तक हर वीक 220 ग्राम के लगभग नट्स दिए गए। उनमें दूसरे वाले ग्रुप की तुलना में उनमें स्ट्रोक का रिस्क आधा हो गया। इसलिए अगर आप दिल की बीमारियों से बचना चाहते हैं तो अपनी डायट में भीगे हुए बादाम को जरूर शामिल करें।

अर्थराइटिस में भी देता है राहत

बादाम एंटीऑक्सिडेंट विटामिन ई का एक अच्छा सोर्स हैं। रिसर्च से पता चलता है कि मोनोसैचुरेटेड फैट्स जो भीगे हुए बादाम से मिलते हैं इंफ्लामेशन को रोकने में मदद करते हैं। इसे अर्थराइटिस के दर्द में राहत मिलती है। अनसैचुरेटेड फैट सेरोटोनिन के लेवल को बूस्ट करते हैं जिससे रात में अच्छी नींद आती है।

और पढ़ें: संतुलित आहार और भारतीय व्यंजनों का समझें कनेक्शन

डायबिटीज टाइप 2 के मरीजों के लिए फायदेमंद

बादाम में पाए जाने वाले फाइबर की मात्रा टाइप 2 मधुमेह के रोगियों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। फाइबर आपके रक्त शर्करा को अधिक स्थिर रखता है, जिससे स्पाइक होने का खतरा कम हो जाता है। यह ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाने में भी मदद करता है, यह भी मधुमेह रोगियों के लिए महत्वपूर्ण है , लेकिन अगर आप कैलोरी में कटौती करने की कोशिश कर रहे हैं, तो बादाम से थोड़ी बनाकर रखें। फाइबर प्राप्त करने के लिए आपको केवल एक मुट्ठी भर की आवश्यकता है। एक कप भीगे हुए बादाम से आपको लगभग 530 कैलोरी मिलेगी।

ग्लोइंग स्किन के लिए खाएं भीगे बादाम

स्वस्थ, चमकती त्वचा चाहते हैं? तो बादाम खाएं! बादाम विटामिन ई और एंटीऑक्सिडेंट का एक बड़ा स्रोत हैं, जो फ्री रेडिकल्स से लड़ते हैं और सूजन को कम करते हैं, जिससे आपकी त्वचा स्वस्थ और यंग रहती है। शोध से पता चला कि बादाम में उच्च मात्रा में एपेटेचिन, कैटेचिन, क्वेसेटिन, आइसोरामनेटिन और केम्पफेरोल होते हैं; ये सभी एंटीऑक्सिडेंट हैं, जो आपकी त्वचा पर यूवी किरणों, प्रदूषण और खराब आहार से उत्पन्न नुकसान से लड़ सकते हैं। मजबूत एंटीऑक्सिडेंट होने के नाते, ये पदार्थ त्वचा के कैंसर से लड़ते हैं और रोकते हैं।

बादाम के फायदे जानने के बाद यह सवाल लोगों के दिमाग में आ सकता है।

यह भी पढ़ें: रेड टी के फायदे जानकर, आप भी जरूर चाहेंगे इसे ट्राई करना

क्या बादाम की तरह ही इसका ऑइल भी इतना ही गुणकारी होता है?

बादाम का तेल भी पोषक तत्वों का एक अच्छा स्रोत हैं, लेकिन इसमें बादाम में पाए जाने वाले फाइबर की कमी होती है। बादाम के तेल में ओमेगा-3s सबसे अधिक पाया जाता है। घर में बने सलाद की ड्रेसिंग या खाना पकाने में बादाम के तेल का उपयोग किया जा सकता है। बादाम या अखरोट के तेल के साथ खाना बनाते समय, याद रखें कि वे हीट के संपर्क में आने पर वेजिटेबल ऑयल की तुलना में अलग तरह से प्रतिक्रिया करते हैं। अगर गरम किया जाए तो ये तेल कड़वे हो सकते हैं। ये तेल वसा और कैलोरी में उच्च होते हैं। इसलिए इनका उपयोग सावधानी से करें।

हमें उम्मीद है कि अब मेरी तरह आप भी भीगे हुए बादाम के फायदे समझ गए होंगे। अगर आप मां हैं तो आज से ही अपने बच्चों को बादाम खिलाना शुरू करें और अगर आप युवा हैं तो इसे खुद ही अपनी डायट में शामिल कर लें। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान और उपचार प्रदान नहीं करता। यह भी पढ़ें:

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

पढ़ें मखाना खाने के फायदे, शायद नहीं होगा पता

जानिए मखाना खाने के फायदे in Hindi, मखाने के फायदे, Benefits of Makhana, प्रेगनेंसी में मखाना खाने के फायदे, दूध और मखाने खाने के फायदे, खाली पेट मखाने खाने के फायदे, मखाने खाने का तरीका।

Medically reviewed by Dr. Pooja Bhardwaj
Written by Aamir Khan

Recommended for you

what-is-pecans-in-hindi

Pecan: भिदुरकाष्ठ फल या पेकान क्या है?

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Shivam Rohatgi
Published on अप्रैल 20, 2020
इंग्लिश अखरोट-English Walnut

English Walnut: इंग्लिश अखरोट क्या है?

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Sunil Kumar
Published on नवम्बर 5, 2019
पालक

Spinach: पालक क्या है?

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Mona Narang
Published on अक्टूबर 15, 2019
अखरोट

दिल और दिमाग के लिए खाएं अखरोट, जानें इसके फायदे

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Nidhi Sinha
Published on जुलाई 10, 2019