home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

जानिए दिल और दिमाग के लिए अखरोट क्यों है फायदेमंद

जानिए दिल और दिमाग के लिए अखरोट क्यों है फायदेमंद

अखरोट (Walnut) मस्तिष्क के जैसा दिखने वाला ड्राय फ्रूट है जिसके कई स्वास्थ्य लाभ हैं। इसमें मौजूद विटामिन (Vitamins) और मिनरल (Minerals) सेहत के लिए फायदेमंद होता है। इसमें विटामिन-ए, विटामिन-के, विटामिन-सी, विटामिन-ई, विटामिन-बी 6, मैग्नेशियम, पोटैशियम, फॉस्फोरस, कॉपर जैसे अन्य तत्व सेहत को सम्पूर्ण पोषण प्रदान करताे हैं।

और पढ़ें : बॉडी पार्ट जैसे दिखने वाले फूड, उन्हीं अंगों के लिए होते हैं फायदेमंद भी

अखरोट सेहत से जुड़ी किन-किन समस्याओं में है फायदेमंद?

1.धड़कते दिल का रखें ख्याल

नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI) के अनुसार दिल को स्वस्थ्य रखने के लिए अखरोट (Walnut) बेहद लाभकारी माना जाता है। दरअसल अखरोट में मौजूद अल्फा लिनोलेनिक एसिड (Alpha linolenic acid) ब्लड क्लॉट होने से बचाता है। वहीं अखरोट में मौजूद पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड (PUFA) भी हृदय के लिए लाभकारी माना जाता है, क्योंकि पॉलीअनसेचुरेटेड बैड कोलेस्ट्रॉल को भी कम किया जा सकता है, जो गुड कोलेस्ट्रॉल (Good Cholesterol) में भी सहायक होता है। इसलिए अखरोट को अपने डायट में शामिल करें और दिल को स्वस्थ्य रखें।

2. अखरोट से बढ़ाएं याददाश्त (Boost memory)

अखरोट में मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड (Omega 3 fatty acid) मस्तिष्क के लिए बेहद लाभकारी माना जाता है। ओमेगा-3 फैटी एसिड (Omega 3 fatty acid) के साथ-साथ इसमें मौजद पोलीअनसैचुरेटेड याददाश्त बढ़ाने में सहायक होता है।

और पढ़ें : वेट लॉस के लिए डायट के साथ वेट लॉस ड्रिंक्स भी आजमाएं

3.हड्डियां होंगी मजबूत (Strong bone)

हड्डियों को स्ट्रॉन्ग बनाने के लिए अखरोट का सेवन बेहद लाभकारी माना जाता है। अखरोट में मौजूद अल्फा लिनोलेनिक एसिड हड्डियों को मजबूती प्रदान करने में बेहद लाभकारी माना जाता है। यही नहीं अखरोट में अल्फा लिनोलेनिक एसिड के अलावा कैल्शियम (Calcium) और फास्फोरस (Phosphorus) की उपस्थिति ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) जैसी गंभीर हड्डियों की बीमारियों (Bone disease) से भी आपको बचाये रखने में आपकी मदद करता है। बोन मिनरल डेनसिटी की पूर्ति के लिए कॉपर की भी उपस्थिति अखरोट (Walnut) में होती है। रिसर्च के अनुसार हड्डियों की सुरक्षा और मजबूती बनाये रखने के लिए अखरोट का सेवन बेहद लाभकारी माना जाता है।

4.डायबिटीज में संतुलन (Manage diabetes)

नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI) के रिसर्च के अनुसार इसके नियमित सेवन से डायबिटीज टाइप-2 (Diabetes Type 2) का खतरा कम हो सकता है। वहीं बीजिंग की यूनिवर्सिटी द्वारा किये गए रिसर्च के अनुसार अखरोट के पेड़ और पत्ते भी डायबिटीज पेशेंट्स के लिए लाभकारी होता है, क्योंकि इनमें एंटी डायबिटिक गुण मौजूद होते हैं। इसके सेवन से ब्लड में ग्लूकोज लेवल (Glucose level) भी बैलेंस रहता है।

5.अस्थमा (Asthma) के मरीजों को होगा फायदा

इसमें मौजूद फैटी एसिड अस्थमा, अर्थराइटिस (Arthritis) और एग्जिमा (Eczema) जैसी समस्याओं को ठीक करने या कम करने में मददगार होता है।

और पढ़ें : वेट लॉस फूड्स को डायट में शामिल करके भी कर सकते हैं वजन कम

6. डायजेशन (Digestion) होगा ठीक

डायजेशन या पेट संबंधी परेशानी से बचने के लिए अखरोट का सेवन लाभकारी माना जाता है। दरअसल इसमें फाइबर की मात्रा अधिक होती है, जो भोजन पचाने (डायजेशन) के साथ कब्ज ठीक करता है। नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI) के अनुसार इसमें मौजूद फायबर कॉन्स्टिपेशन की समस्या से बचाने में सहायक होता है। इसके साथ ही इसमें रिबोफ्लेविन यानी विटामिन-बी2 (Vitamin B2) भी बेहतर डायजेशन में सहायक होता है।

7.वजन बढ़ाने या घटाने में सहयोग

इसमें फाइबर (Fiber) की मात्रा आपके उम्र और वजन के अनुसार संतुलित लेने पर वजन बढ़ाने और घटाने दोनों में सहायक है।

8.हाय ब्लड प्रेशर (High blood pressure) रहेगा नार्मल

हाय ब्लड प्रेशर की समस्या शुरू होने पर हार्ट प्रॉब्लम का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए हाय ब्लड प्रेशर की समस्या न हो इसपर विशेष ध्यान देना चाहिए। एक रिसर्च के अनुसार अखरोट का सेवन करने से हाय ब्लड प्रेशर की समस्या से बचा जा सकता है, जिससे हार्ट प्रॉब्लम से भी बचा जा सकता है। इसलिए अखरोट का नियमित सेवन से शरीर में ब्लड फ्लो ठीक होता है और ये हाय ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करता है।

और पढ़ें : Aloe Vera : एलोवेरा क्या है?

9.तनाव (Tension) होता है कम

लोगों की बढ़ती भाग-दौड़ की वजह से कहीं न कहीं तनाव या टेंशन में रहना आज के वक्त में आम परेशानी है, लेकिन तनाव की वजह से कई शारीरिक और मानसिक परेशानी घर कर लेती है। ऐसी किसी भी परिस्थिति से बचने के लिए अखरोट सबसे बेहतर विकल्पों में से एक है। अखरोट में मौजूद विटामिन-बी6 (Vitamin B6), फोलिक एसिड (Folic acid), प्रोटीन (Protein) एवं ट्रिप्टोफैन स्ट्रेस को कम कर अच्छी नींद आने में सहायता करता है या यूं कहें कि साउंड स्लीप के लिए यह बेस्ट ऑप्शन है। सिर्फ यही नहीं अखरोट में एंटीडिप्रेसेंट गुण भी तनाव को कम करने में सहायता प्रदान करता है। दरअसल अखरोट (Walnuts) खाने से मेलाटोनिन हॉर्मोन का स्राव सही मात्रा में होता है। मेलाटोनिन अनिंद्रा की समस्या दूर करने के साथ-साथ तनाव मुक्त करता है।

10.रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ती है

अगर आपकी इम्यून पवार (Immune power) कमजोर है और अपनी इम्यूनिटी बूस्ट करना चाहते हैं, तो आपके लिए अखरोट सबसे लाभकारी विकल्प है। दरअसल इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट शरीर को रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ाने में सक्षम है, जो आपकी किसी भी बीमारी से लड़ने में आपकी मदद करता है। रिसर्च के अनुसार इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट के अलावा इसमें मौजूद इम्यूनोमॉड्यूलेटरी, जो प्रोटीन (Protein) में मौजूद होता है। वह बेहद लाभकारी माना जाता है।

11. गर्भावस्था में अखरोट (Walnuts) है बड़े काम की चीज

यह कई पोषक तत्वों से भरपूर होता है। गर्भावस्था में नट्स के उपयोग करने के लिए डॉक्टर्स विशेष रूप से अखरोट का सेवन करने के लिए कहते हैं। यह गर्भावस्था में हार्ट और मेटाबॉलिज्म को भी लाभ पहुंचाता है। एक शोध में कहा गया है कि गर्भावस्था के दौरान अखरोट खाने से बच्चे के मस्तिष्क की क्षमता और याददाश्त बढ़ाने में मदद मिलती है।

और पढ़ें : इन 3 चाइनीज सूप रेसिपी से घटाएं अपना वजन

12. त्वचा और बालों के लिए जरूरी है अखरोट

  • त्वचा से जुड़ी कई समस्या अखरोट से ठीक हो सकती है। बस आपको कुछ घर की सामग्रियों जैसे अखरोट का पाउडर और शहद (Honey) को मिक्स करके इसका लेप चेहरे पर लगाकर कुछ देर सूखने के बाद पानी से धो लें । ऐसा नियमित करने से चेहरे की रौनक बढ़ जाती है।
  • बालों से जुड़ी समस्या जैसे बाल झड़ना, डैंड्रफ, बालों का बेजान होना या फिर स्केल्प पर कोई समस्या है तो आपको अखरोट के तेल का इस्तेमाल करना चाहिए। इसके इस्तेमाल से बालों की परेशानियों से निजात पाया जा सकता है।

और पढ़ें : नेचुरल रूप से घटाना है वजन, तो फॉलो करें इंटरमिटेंट फास्टिंग (Intermittent fasting) डायट, जानिए एक्सपर्ट से

13. महिलाओं के लिए अखरोट (Walnuts) खाना है बेहद जरूरी

भारत में महिलाओं में को होने वाले कैंसर में सबसे आम है स्तन कैंसर। यूनियन हेल्थ मिनिस्ट्री की ओर से जारी की गई एक रिपोर्ट में तो ये भी कहा गया है की साल 2020 तक भारत में 17,97,900 महिलाएं स्तन कैंसर (Breast cancer) से पीड़ित हो सकती हैं। नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन (NCBI) के अनुसार अखरोट में मौजूद खनिज तत्व स्तन कैंसर से लड़ने में सहायक होते हैं।

14. अखरोट बालों (Hair) के लिए भी है फायदेमंद

बालों को हेल्दी बनाने के लिए हमसभी कई विकल्प अपनाते हैं, लेकिन अखरोट के फायदे आपको हेल्दी

बालों के लिए अखरोट के फायदे हो सकते हैं। इसमें कई तरह के पोषक तत्व (बायोटीन) पाए जाते हैं, जो बालों को स्वस्थ बनाए रखने में मदद कर सकते हैं। फिलहाल, बालों को लेकर अखरोट खाने के फायदे के संबंध में और शोध करने की जरूरत हैं।

कैंसर के प्रति बढ़ाएं जागरुकता

थोड़ी सी जागरुकता अपना कर कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से लड़ने में मदद कर सकती है। कैंसर या स्तन कैंसर का नाम सुनते ही ये कल्पना करना कि अब तो जिंदगी खत्म हो गई ये गलत है क्योंकि हमारे सामने ऐसे कई लोग (महिला और पुरुष) हैं, जिन्होंने कैंसर को मात देकर आज हमारे करीब सेहतमंद हैं। लेकिन महिलाओं को खासकर 18 साल से अधिक उम्र की महिलाओं को अपने स्तन के जांच (Breast checkup) करनी चाहिए।

आप खुद से अपने स्तन की जांच (Self breast examination) कर समझ सकती हैं की आपकी स्तन या स्तन के बगल के हिस्से में कोई गांठ या स्तन के आकर में किसी तरह का बदलाव तो नहीं हो रहा। स्तन में किसी भी तरह के हो रहे बदलाव को नजरअंदाज न करें। कैंसर से जुड़े एक्सपर्ट्स का कहना है कि किसी भी कैंसर का इलाज फर्स्ट या सेकंड स्टेज में करने की वजह से इस बीमारी से निकलने में आसानी होती है। साथ ही एक्सपर्ट्स का ये भी कहना है कि अक्सर महिलाएं डरतीं भी हैं क्यूंकि कभी-कभी कैंसर के ज्यादा फैल जाने की वजह से स्तन हटा दिए जाते हैं और इस दौरान कीमोथेरिपी (Chemotherapy) होने की वजह से बाल भी झड़ जाते हैं। वैसे महिलाओं को इससे डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि झड़े हुए बाल कुछ समय बाद फिर पहले जैसे हो जाते हैं।

कैसे करें अखरोट (Walnuts) का सेवन जिससे होगा फायदा

एक्सपर्ट्स के अनुसार सुबह खाली पेट में नियमित रूप से 2 अखरोट खाने से लाभ मिलता है। खाली पेट में अखरोट खाने से अखरोट में मौजूद पोषक तत्व शरीर को पूर्ण पोषण देने में सहायक होते हैं। अखरोट में मौजूद फाइटोस्टेरॉल ट्यूमर के खतरे को भी कम करने में मददगार होता है। अमेरिका के मार्शल विश्वविद्यालय के एक रिपोर्ट के अनुसार अगर स्तन कैंसर पीड़ित महिला को लगातार दो सप्ताह तक सही मात्रा में अखरोट (Walnut) खिलाया जाता है, तो कैंसर (Cancer) के जीन में बदलाव आता है और ये बदलाव सकारात्म होता है। अमेरिकी मार्शल विश्वविद्यालय में सबसे पहले ये रिसर्च चूहे पर किया गया और स्तन कैंसर पीड़ित महिलाओं के लिए गुड न्यूज बनकर सामने आई।

और पढ़ें : प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए प्रेग्नेंसी डायट चार्ट, जानें क्या और कितना खाना है?

अखरोट के अन्य फायदे (Benefits of Walnuts)

  • दूध या दही के साथ अखरोट (Walnuts) को कुछ देर तक रखने के बाद सेवन करने से भी लाभ मिलता है।
  • अखरोट का पाउडर बनाकर सलाद में मिक्स कर के खाने से भी लाभ मिलता है।
  • ओट्स (Oats) और दलिया में अखरोट डालकर खाने से सेहत को लाभ मिलता है और साथ ही स्वाद भी बढ़ता है।

और पढ़ें : गाय, भैंस ही नहीं गधे और सुअर जैसे एनिमल मिल्क में भी छुपा है पोषक तत्वों का खजाना

अखरोट के साइड इफेक्ट्स क्या है? (Side effects of Walnuts)

ज्यादा अखरोट खाने से निम्नलिखित साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं :

हालांकि, हर व्यक्ति को यह साइड इफेक्ट्स नहीं होते हैं। लेकिन यह ध्यान रखें कि अखरोट की तासीर गर्म होती है अगर इसका सेवन ज्यादा किया जाए, तो इससे आपको परेशानी महसूस हो सकती है। इसलिए संतुलित मात्रा में ही इसका सेवन करें। अगर इसके सेवन से आपको कोई परेशानी महसूस होती है, तो इसका सेवन न करें और हेल्थ एक्सपर्ट से संपर्क करें।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Health benefits of walnuts https://www.health.harvard.edu/blog/health-benefits-of-walnuts-2018081314526/Accessed on 21/12/2020

Protein Hydrolyzates from Changbai Mountain Walnut (Juglans mandshurica Maxim.) Boost Mouse Immune System and Exhibit Immunoregulatory Activities/https://www.hindawi.com/journals/ecam/2018/4576561/Accessed on 21/12/2020

Protein Hydrolyzates from Changbai Mountain Walnut (Juglans mandshurica Maxim.) Boost Mouse Immune System and Exhibit Immunoregulatory Activities/https://www.hindawi.com/journals/ecam/2018/4576561/Accessed on 21/12/2020

Walnut/https://www.cityofwalnut.org/my-government/financial-reports/investment-reports/Accessed on 21/12/2020

Walnut/https://walnuts.org/Accessed on 21/12/2020

 

 

लेखक की तस्वीर badge
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 18/08/2021 को
और Admin Writer द्वारा फैक्ट चेक्ड
x