backup og meta

विटामिन ई की कमी के लिए इन चीजों को तुरंत खाएं

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड Dr. Pooja Bhardwaj


Pawan Upadhyaya द्वारा लिखित · अपडेटेड 16/09/2020

विटामिन ई की कमी के लिए इन चीजों को तुरंत खाएं

विटामिन-ई एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट है। शरीर के सामान्य रूप से काम करने के लिए सही मात्रा में विटामिन-ई का होना आवश्यक हैं। यदि शरीर में विटामिन ई की कमी होगी तो आपका शरीर विभिन्न प्रकार के संक्रमण की चपेट में आ सकता है। आपको देखने में परेशानी से लेकर मांसपेशियों में कमजोरी का अनुभव भी हो सकता है। अगर आपको पहले से ही पता हो कि विटामिन-ई के स्त्रोत क्या हैं, किन फल और सब्जियों से विटामिन ई की कमी दूर होती है तो आपके लिए विटामिन-ई की कमी से लड़ना आसान हो जाएगा।

विटामिन ई क्या है?

विटामिन-ई एक फैट सॉल्युबल विटामिन है। साथ ही यह एक कारगर एंटीऑक्सीडेंट भी है। विटामिन-ई बॉडी के टिश्यू को फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाता है। विटामिन-ई की कमी से फ्री रेडिकल्स कोशिकाओं, टिश्यू और अंगों को हानि पहुंचा सकते हैं। शरीर की रोग-प्रतिरोधक के लिए भी विटामिन-ई की आवश्यकता होती है। यह शरीर को वायरस और बैक्टीरिया से होने वाले संक्रमण से भी बचाता है।

और पढ़ें : Acai: असाई क्या है?

विटामिन-ई के स्त्रोत

विटामिन ई की कमी को दूर करने के लिए अपने आहार में नीचे बताई गई चीजों को शामिल करें जैसे-

सूरजमुखी के बीज

सूरजमुखी के बीज विभिन्न प्रकार के पोषक तत्वों से भरे होते हैं। सूरजमुखी के बीज खाने से पाचन तंत्र को मदद मिल सकती है। सूरजमुखी के बीज को कई लोग दही, दलिया या सलाद पर भी छिड़कते हैं। अगर आप 100 g (ग्राम) सूरजमुखी के बीजों का सेवन करते हैं तो उसमें आपको 35.17 mg (मिलीग्राम) विटामिन-ई होता है।

क्विज खेलें और जानें : विटामिन-सी कितना फायदेमंद, जानिए पूरा ज्ञान

बादाम

बादाम विटामिन-ई का बहुत ही अच्छा स्रोत है। अगर आप 100 ग्राम बादाम का सेवन करते हैं तो उसमें आपको 25.63 मिलीग्राम विटामिन-ई मिलता है। बहुत से लोग भुने हुए बादाम का भी  नाश्ता करते हैं। आप सीरीयल्स के साथ भी बादाम खा सकते हैं। इतना ही नहीं आप बादाम का दूध पी सकते हैं।

और पढ़ें : Sweet Almond: मीठा बादाम क्या है?

एवोकाडो

एवोकाडो एक ऐसा फल है जिसके फायदे अनेक है। एवोकाडो में चीनी का स्तर बहुत ही कम होता है। इसके अलावा एवोकाडो में बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं। एक 100 ग्राम के एवोकाडो  में 2.07 मिलीग्राम विटामिन-ई होता है और 10 मिलीग्राम विटामिन-सी भी होता है। एवोकाडो में विटामिन-सी के होने से भोजन को पचाने में मदद मिलती है। इतना ही नहीं, एवोकाडो में एक केले से भी अधिक पोटेशियम होता है।

और पढ़ें : Aloe Vera : एलोवेरा क्या है?

पालक

हरी पत्तेदार सब्जियों को स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी कहा जाता है। पालक कई आवश्यक विटामिन और मिनरल का स्रोत है, विशेष रूप से विटामिन-ई का। बस 100 ग्राम पालक में 2.03मिलीग्राम विटामिन-ई मिलता है जो कि दैनिक आवश्यकता का 16% है। आप पालक को सलाद के रूप में कच्चा भी खा सकते हैं।

ब्रोकोली

गोभी परिवार का यह सदस्य प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है और विटामिन-ई से भरपूर है। ब्रोकोली खराब कोलेस्ट्रॉल (एल.डी.एल) को कम करता। आप सूप या सलाद के रूप में ब्रोकोली का सेवन कर सकते हैं। उबली हुई ब्रोकोली का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है। कम तापमान पर ब्रोकोली पकाने से इसके पोषण से भरे तत्व बरकरार रहते हैं।

सूखे खुबानी (Dried Apricots)

विटामिन ई की कमी को दूर भगाने के लिए सूखे खुबानी को डायट में शामिल करें। इसमें फाइबर के साथ-साथ कई आवश्यक विटामिन होते हैं, जिनमें विटामिन-ई भी शामिल है। सूखे खुबानी का सेवन डायरेक्ट किया जा सकता है।

और पढ़ें : बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए बचपन से ही दें उनकी डायट पर ध्यान

कीवी

विटामिन ई की मात्रा प्रति 100 ग्राम कीवी में लगभग 1.46 मिलीग्राम होती है। इसके अलावा इसमें विटामिन-सी भी पाया जाता है। कीवी के इस्तेमाल से विटामिन ई की कमी दूर होती है। कीवी का इस्तेमाल जूस, सलाद और स्मूदी के रूप में किया जा सकता है।

और पढ़ें : Vitamin B12: विटामिन बी-12 क्या है?

ऑलिव या जैतून

जैतून के तेल के साथ ऑलिव फ्रूट भी लाभकारी हो सकता है। इसके सेवन से विटामिन-ई की कमी दूर होती है इसलिए यह सेहत के लिए फायदेमंद हो सकता है। जैतून के तेल को खाना बनाने के लिए उपयोग किया जा सकता है। 100 ग्राम ऑलिव में लगभग 3.81 मिलीग्राम विटामिन ई मौजूद होता है।

विटामिन-ई लगभग सभी खाद्य पदार्थों में कुछ हद तक पाया जाता है। इस वजह से ज्यादातर लोगों को इसकी कमी का खतरा नहीं होता है। ऊपर बताए गए किसी भी खाद्य पदार्थ से अगर आपको को एलर्जी हो, तो उस खाद्य पदार्थ का सेवन न करें। अगर किसी को विटामिन-ई युक्त खाद्य पदार्थ के सेवन के बाद असहजता महसूस हो, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। फिर भी आप अगर अपने विटामिन-ई के स्तर के बारे में परेशान हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर या किसी पेशेवर आहार विशेषज्ञ से अपनी डाईट में विटामिन-ई को बढ़ाने के बारे में बात कर सकते हैं। 

विटामिन ई की कमी से होने वाले रोग

ये थे विटामिन ई युक्त कुछ खाद्य पदार्थ। अब जानते हैं कि शरीर में अगर विटामिन ई (vitamin e) की कमी हो, तो कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती हैं-

क्रोहन रोग (Crohn’s Disease)

विटामिन ई की कमी से पाचन तंत्र में सूजन की समस्या हो सकती है। इसके लक्षणों में दस्त, बुखार और वजन घटना शामिल है।

सिस्टिक फाइब्रोसिस (Cystic Fibrosis)

विटामिन ई की कमी से फेफड़ों की होने वाली एक बीमारी सिस्टिक फाइब्रोसिस है। यह वंशानुगत है और अगर परिवार के किसी सदस्य को यह समस्या है, तो उसी परिवार के किसी दूसरे व्यक्ति को भी यह हो सकती है। इसमें विटामिन (ए, ई, के और डी) के सप्लीमेंट दिए जा सकते हैं।

और पढ़ें : ऑटोइम्यून प्रोटोकॉल डायट क्या है?

त्वचा संबंधी समस्याएं

विटामिन ई में कमी के कारण त्वचा में सूखापन, एजिंग प्रभाव जल्दी दिखना और झुर्रियां बढ़ जाती हैं।

  • विटामिन ई की कमी से प्रतिरक्षा प्रणाली भी कमजोर हो सकती है।
  • विटामिन ई की कमी से तंत्रिका और मांसपेशियों की समस्या भी हो सकती है।
  • देखने की क्षमता में कमी विटामिन ई की कमी से आ सकती है।

विटामिन ई के फायदे शरीर को बीमारियों से बचाने में उपयोगी होते हैं। लेकिन, रहे कि जरूरत से ज्यादा किसी भी चीज का सेवन नुकसानदायक होता है। इसलिए, सही तरीके से और डॉक्टर की सलाह के अनुसार विटामिन ई का सेवन करें। विटामिन-ई की कमी से बचाव के लिए विटामिन-ई युक्त खाद्य पदार्थों और ड्राई फ्रूट्स का सेवन करें। अगर किसी भी विटामिन ई युक्त खाद्य पदार्थ से इंसान को एलर्जी हो, तो उस विशेष खाद्य पदार्थ का सेवन न करें। विटामिन ई की कमी को दूर करने के लिए डॉक्टर से सलाह करें। डॉक्टर विटामिन ई के कैप्सूल या विटामिन ई सप्लिमेंट्स के उपयोग की भी सलाह दे सकते हैं।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

Dr. Pooja Bhardwaj


Pawan Upadhyaya द्वारा लिखित · अपडेटेड 16/09/2020

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement